हिंसक आर्थिकी का प्रतिरोध
Pratiman|July - December 2019
मशीन को उसके उचित स्थान पर बैठाना
नंदकिशोर आचार्य

गाँधी की मान्यता थी, 'सच्चा अर्थशास्त्र कभी उच्चतम नैतिक मानकों का विरोधी नहीं होता, ठीक उसी प्रकार जैसे कि सच्चा नीतिशास्त्र वही माना जा सकता है जो नीतिशास्त्र होने के साथ-साथ अच्छा अर्थशास्त्र भी हो। वह अर्थशास्त्र झूठा और निराशाजनक है जो कुबेर की पूजा को प्रश्रय देता हो और शक्तिशाली लोगों को दुर्बल लोगों की क़ीमत पर धन का संचय करने में मदद करता हो। वह तो मौत का पैग़ाम है। इसके विपरीत, सच्चा अर्थशास्त्र सामाजिक न्याय सुनिश्चित करता है, दुर्बलतम व्यक्तियों सहित सब की भलाई को बढ़ावा देता है और ढंग की जिंदगी जीने के लिए अपरिहार्य होता है।

सभ्यता को मूलतः एक नैतिक प्रक्रिया मानने के कारण जीवन के सभी पहलुओं और कार्य- व्यापारों की प्रेरणा और कसौटी में नैतिक बोध को केंद्रीय महत्त्व देना गाँधी के लिए स्वाभाविक ही था। आधुनिक अर्थशास्त्र मनुष्य को मूलतः उपभोग करने वाला प्राणी मान कर चलता है और इसलिए आश्चर्यजनक नहीं लगता कि इस धारणा पर आधारित अर्थव्यवस्था से उपजने वाली सभ्यता में अच्छे जीवन-स्तर का मतलब उपभोक्ता-सुविधाओं में उत्तरोत्तर वृद्धि है। लेकिन, गाँधी के लिए 'सभ्यता, वास्तविक अर्थों में, आवश्यकताओं के बहुलीकरण में निहित नहीं है, बल्कि उन में सोच-समझ कर स्वैच्छिक रूप से कमी करने में है।'2 गाँधी की दृष्टि में मनुष्य मूलतः उपभोक्ता नहीं बल्कि एक

नैतिक अस्तित्व है। यह सही है कि जीवन जीने के लिए कुछ साधनों की आवश्यकता होती है। इस अर्थ में वह उपभोक्ता भी है। लेकिन, गाँधी के अनुसार, उपभोग में भी उसे नैतिक मूल्यों का निर्वहन करना चाहिए। उसका उपभोग भी, अंततः उसके नैतिक विकास की प्रक्रिया का ही अंगभूत होना चाहिए। इसीलिए, गाँधी उपभोक्ता को भी सत्याग्रही बनने का आमंत्रण देते हुए कहते हैं कि शोषित श्रम द्वारा तैयार की गयी वस्तुओं को ख़रीदना और उनका इस्तेमाल करना पापयुक्त है। शोषित श्रम से उत्पादित वस्तुओं का बहिष्करण भी शोषण के ख़िलाफ़ एक प्रकार का सत्याग्रह है। इसी तरह जब वे उपभोक्ता को आवश्यकताओं के बहुलीकरण के प्रति जागरूक करते हैं तो एक ओर, उपभोक्ता को नैतिक विकास के लिए प्रेरित करते हैं क्योंकि यदि मनुष्य एक नैतिक प्राणी है तो अनावश्यक उपभोग से बचना उसके लिए ज़रूरी है, तो दूसरी ओर, अनावश्यक उपयोग के लिए अनावश्यक उत्पादन के कारण हो रही प्राकृतिक संसाधनों की हिंसक बरबादी को भी नियंत्रित करने की कोशिश करते हैं। उत्पादन में अनावश्यक वृद्धि ही आर्थिक संस्थाओं और राष्ट्रों के बीच आर्थिक होड़ और उससे प्रेरित क्रूर नैतिक और सैनिक कार्रवाइयों को जन्म देती है।

आधुनिक अर्थशास्त्र उपभोग-वृद्धि को एक जीवन-मूल्य के रूप में स्थापित करता है अर्थात् उपभोग ही सभ्यता का प्रमाण हो जाता है और अत्यधिक सभ्य होने के लिए यह ज़रूरी हो जाता है कि हम अपनी आवश्यकता बढ़ाते चलें। अर्थशास्त्र को माँग और आपूर्ति का शास्त्र माना जाता है, लेकिन 'विकास' के लिए जरूरी हो जाता है कि कृत्रिम माँगों की सृष्टि की जाए क्योंकि उसके बिना आर्थिक विकास की प्रक्रिया के रुक जाने का ख़तरा पैदा हो जाता है। जिसका तात्पर्य है सम्पूर्ण आधुनिक अर्थ-व्यवस्था का ढह जाना। 'माँग' और 'आपूर्ति' के सिद्धांतकार अल्फ्रेड मार्शल को भी यह मानना पड़ा था कि 'आर्थिक संगठन का उद्देश्य जरूरतों की पूर्ति करना ही नहीं, नयी ज़रूरतों की सृष्टि करना भी है।' मार्शल के ही शब्दों में, 'यद्यपि अपने विकास के प्रारम्भिक चरण में मनुष्य की ज़रूरतें ही उसे क्रियाशील करती हैं, किंतु अनंतर हर नया क़दम नयी ज़रूरतों के लिए नयी क्रियाशीलता के बजाय ऐसी क्रियाशीलता के रूप में सामने आता है जो नयी ज़रूरतों को पैदा करती है।' इसी प्रक्रिया ने सामाजिक-राजनीतिक हिंसा तो पैदा की ही, साथ ही पारिस्थितिकी और पर्यावरण की समस्याएँ भी उसी का परिणाम है। दुनिया भर के अर्थशास्त्री-समाजशास्त्री और नीति-नियंता आज जिन दो समस्याओं को लेकर सर्वाधिक चिंतित हैं, वे हैं रोज़गारविहीन विकास तथा पारिस्थितिकीय असंतुलन। उनका कोई स्थायी समाधान उन्हें नहीं सूझ रहा है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM PRATIMANView All

महाभारत और सौंदर्यशास्त्र की चरम अनुभूति

यथार्थ का अतिक्रमण : प्राचीन और आधुनिक आख्यानों का अंतर

1 min read
Pratiman
January - June 2020

भविष्य के महानायक या 'एक असम्भव सम्भावना'?

गाँधी एक अर्थ में अनूठे हैं भारत के इतिहास में। भारत के विचारशील व्यक्ति ने कभी भी समाज, राजनीति और जीवन के संबंध में सीधी कोई रुचि नहीं ली है। भारत का महापुरुष सदा से पलायनवादी रहा है। उसने पीठ कर ली है समाज की तरफ़। उसने मोक्ष की खोज की है, समाधि की खोज की है, सत्य की खोज की है, लेकिन समाज और इस जीवन का भी कोई मूल्य है यह उसने कभी स्वीकार नहीं किया। गाँधी पहले हिम्मतवर आदमी थे जिन्होंने समाज की तरफ़ से मुँह नहीं मोड़ा। वह समाज के बीच खड़े रहे और जिंदगी के साथ और जिंदगी को उठाने की कोशिश उन्होंने की। यह पहला आदमी था जो जीवनविरोधी नहीं था, जिसका जीवन के प्रति स्वीकार का भाव था।

1 min read
Pratiman
January - June 2020

भाषा परिवार और सभ्यता का नस्ली सिद्धांत

अठारहवीं से लेकर उन्नीसवीं सदी के दौरान युरोप के बौद्धिक मानस पर धर्म, समाज, राष्ट्र और नस्ल की श्रेष्ठता को भाषाओं की श्रेष्ठता के आईने में देखने का रुझान हावी था।

1 min read
Pratiman
January - June 2020

भय की महामारी

यह देखना एक त्रासद अनुभव है कि जिस कोविड-19 के भय से मानव इतिहास के सबसे बड़े परिवर्तनों में से एक के घटित होने की आशंका है, वह भय बेहद अनुपातहीन और अतिरेकपूर्ण है। इस बात के भी कोई प्रमाण उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं कि इन प्रतिबंधों से वायरस के संक्रमण या इससे होने वाली कथित मौतों को रोका जा सकता है। बेलारूस, निकारागुआ, तुर्की, स्वीडन, नार्वे, तंजानिया, स्वीडन, जापान आदि अनेक देशों ने डब्ल्यूएचओ की प्रत्यक्ष और परोक्ष सलाहों तथा मीडिया द्वारा बार-बार लानत-मलामत किये जाने के बावजूद या तो बिल्कुल लॉकडाउन नहीं किया, या फिर बहुत हल्के प्रतिबंध रखे। इनमें से किसी देश में कहीं अधिक मौतें नहीं हुई हैं। यह सही है कि बड़ी संख्या में लोगों के कोरोना-संक्रमण की पुष्टि हो रही है, लेकिन उससे बड़ा सच यह है कि यह वायरस उन संक्रमित लोगों में से अधिकांश लोगों को 'बीमार' तक कर पाने में सक्षम नहीं है।

1 min read
Pratiman
January - June 2020

औपनिवेशिक भारत में हिंदी का विज्ञान-लेखन

उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्ध में ब्रिटिश भारत में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों के खुलने और स्कूली शिक्षा के प्रसार के साथ ही भारतीय भाषाओं में विभिन्न विषयों की पाठ्य -पुस्तकों की ज़रूरत भी शिद्दत से महसूस की गयी।

1 min read
Pratiman
January - June 2020

हिंसक आर्थिकी का प्रतिरोध

मशीन को उसके उचित स्थान पर बैठाना

1 min read
Pratiman
July - December 2019

राजपूत और मुग़ल:संबंधों का आकलन

देशज इतिहासकारों की दृष्टि में

1 min read
Pratiman
July - December 2019

यौन-हिंसा और भारतीय राज्य

विसंगतियों के आईने में

1 min read
Pratiman
July - December 2019

मेरी अंग्रेज़ी की कहानी

अंग्रेज़ी जातिगत विशेषाधिकारों को मजबूत करती है, वर्गीय गतिशीलता के नियम तय करती है और व्यक्ति को एजेंसी से लैस करती है। क्या अंग्रेजों के सामाजिक इतिहास का कोई आत्मकथात्मक आयाम उसकी इस भूमिका की ख़बर दे सकता है? प्रस्तुत निबंध में इसी जोखिम से मुठभेड़ करने की कोशिश की गयी है।

1 min read
Pratiman
July - December 2019

भारोपीय भाषा परिवार, हिंदी और उत्तर-औपनिवेशिकता

समीक्ष्य कृति हिंदी की जातीय संस्कृति और औपनिवेशिकता के शीर्षक से ही स्पष्ट है कि इसे उत्तर-आधुनिक, सबाल्टर्न और उत्तर-औपनिवेशिक विमर्श के 'सैद्धांतिक निष्कर्षों' के प्रभाव में लिखा गया है।

1 min read
Pratiman
July - December 2019