CATEGORIES

गणपति-पूजन का तात्त्विक रहस्य

अपने-आपमें (आत्मस्वरूप में) 'मैं पना होना ही मुक्ति का मार्ग है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
August 2020

पाचनतंत्र ठीक करने की रहस्यमय कुंजी

शरीर में जितने अंश में वीर्य होगा उतने अंश में प्रसन्नता होगी।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
August 2020

स्वतंत्र शक्ति का मिथ्याभिमान त्यागो ब्रह्म की महिमा समझो

अपने दिलबर को पीठ देकर शरीर का अहं सजाओगे तो कहीं के नहीं रहोगे।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
August 2020

ॐकार का महत्त्व क्या और क्यों ?

ॐकार के जप से असाध्य मानसिक दुर्बलताएँ मिटती हैं।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
August 2020

महामारी ने इतने नहीं मारे तो किसने मारे?

विवेक-वैराग्य प्रखर होने पर निर्भयता तथा साहस स्वभाव बन जाता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
July 2020

जवानी में सुख-सुविधा का आग्रही होगा तो जल्दी बूढा बनेगा और जरा-जरा बात में बीमार हो जायेगा।

जवानी निकल गयी तो गये...

1 min read
Rishi Prasad Hindi
July 2020

रक्षाबंधन का यदि यह उद्देश्य हो तो...

आध्यात्मिक लाभ ही वास्तविक लाभ है, लौकिक लाभ तो धोखा है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
July 2020

विद्यार्थी संस्कार

अपने प्रति न्याय और दूसरों के प्रति उदारता यह सिद्धांत निर्दोषता की सुरक्षा करता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
July 2020

अनुसंधान एवं विश्लेषण है सफलता की कुंजी

व्यक्ति जिस किसी क्षेत्र में जितना एकाग्र होता है उतना ही चमकता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

अमृत को परोसने की परम्परा : गुरुपूनम महापर्व

गुरुपूनम माने बड़ी पूनम। प्रतिपदा का चाँद, द्वितीया का चाँद... ऐसे एक-एक कला बढ़ते हुए चाँद जब पूर्ण विकसित रूप में हमको दर्शन देता है तब पूनम होती है। ऐसे ही हमारे चित्त की कलाएँ बढ़ते-बढ़ते जब पूरे प्रभु की आराधना की तरफ लग जायें तो हमारे जीवन का जो उद्देश्य है वह सार्थक हो जाता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

पूर्णता किससे - कर्मकांड, योग या तत्त्वज्ञान से ?

अविद्या के बादल हटते ही ब्रह्मविद्या के बल से मति ब्रह्म-परमात्मा का प्रसाद पा लेगी।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

गुरुकृपा का ऐसा बल कि उन्मत्त हाथी हुआ निर्बल

चलती-फिरती सद्गुरुमूर्ति में श्रद्धा अटूट हो तब शिष्य का दिव्य ज्ञान प्रकट होता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

ध्यान के अभ्यास से करें आत्मस्वरूप से तदाकारता

ऐसा कोई दिव्य कर्म नहीं है जो परमात्मा के घड़ीभर ध्यान की भी बराबरी कर सके।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

ब्रह्मवाक्य से कैंसर हो गया कैंसल!

शुद्ध प्रेम तो उसे कहते हैं जो भगवान और सद्गुरु से किया जाता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

पूज्य बापूजी का स्वास्थ्य-प्रसाद

८४ लाख जन्म-मरण की बीमारियाँ तो भगवान के ज्ञान से और सद्गुरु के सत्संग से ठीक होती हैं।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
June 2020

संक्रामक बीमारियों से केसे हो सुरक्षा ?

आयुर्वेद में संक्रामक बीमारियों का वर्णन आगंतुक ज्वर (अर्थात् शरीर से बाह्य कारणों से उत्पन्न बुखार या रोग) के अंतर्गत आया है। यह किसीको होता है और किसीको नहीं, ऐसा क्यों?

1 min read
Rishi Prasad Hindi
April - May 2020

विद्यार्थी संस्कार

तुम भी बन सकते हो अपनी 21 पीढ़ियों के उद्धारक

1 min read
Rishi Prasad Hindi
April - May 2020

महामारी ने इतने नहीं मारे तो किसने मारे?

विवेक-वैराग्य प्रखर होने पर निर्भयता तथा साहस स्वभाव बन जाता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
April - May 2020

सेवाधारियों के नाम पूज्य बापूजी का संदेश

दूसरे का मन भगवान में लगे ऐसा काम करना यह दूसरे की भलाई है ।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
January 2020

संत-महापुरुषों की जयंती मनाने का उद्देश्य

गुरु को देख मानेंगे तो आप देह से परे नहीं जायेंगे।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
March 2020

शोक का कारण व उसके नाश का उपाय

राग, द्वेष, भय, शोक, चिंता आदि सब देहाध्यास के कारण ही होते हैं ।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
January 2020

यदि पुण्यात्मा, उत्तम संतान चाहते हैं तो...

यदि माता-पिता शास्त्र की आज्ञानुसार रहें तो उनके यहाँ दैवी और संस्कारी संतानें उत्पन्न होंगी।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
January 2020

भगवान बड़े कि भगवान का नाम बड़ा ?

ऐसा कोई सामर्थ्य नहीं जिसका भगवद्-विश्रांति से संबंध न हो।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
March 2020

बलानां श्रेष्ठं बलं प्रज्ञाबलम्

बुद्धिमान मनुष्य को तो मोक्ष का पुरुषार्थ ही सार लगता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
March 2020

पूज्य बापूजी द्वारा बताये गये गठिया रोग में अत्यंत लाभकारी प्रयोग

ब्रह्मचर्य के प्रभाव से मन की एकाग्रता एवं स्मरणशक्ति का तीव्रता से विकास होता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
January 2020

जितनी निष्कामता व प्रभु-प्रेम उतना सुख !

निर्मम और निष्काम होने से आपका आत्मभाव, आत्मसुख बढ़ता है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
January 2020

सूर्य का पूजन और अर्घ्य क्यों ?

अग्ने कविर्वेधा असि। ‘हे ज्ञानस्वरूप प्रभो ! तू क्रांतदर्शी (सर्वज्ञ) और कर्मफल-प्रदाता है।' (ऋग्वेद)

1 min read
Rishi Prasad Hindi
February 2020

महामुर्ख में से कैसे बने महाविद्वान ?

तुम्हारे भीतर इतना सामर्थ्य छुपा हुआ है कि जिसके आगे इन्द्र भी रंक जैसा है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
February 2020

पूज्य बापूजी का स्वास्थ्य-प्रसाद

ईश्वर की प्राप्ति में जो सहायक है वह करते हो तो वह सेवा है ।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
February 2020

उत्तरायण ध्यानयोग शिविर पर आया पूज्य बापूजी का पावन संदेश

जो शिविरार्थी हैं उन सभीको मेरी तरफ से धन्यवाद दे देना, ध्यान रखना उनके खाने-पीने, रहने का। यह उनको बता देना कि भगवान शिवजी पार्वतीजी को कहते हैं:

1 min read
Rishi Prasad Hindi
February 2020