शेयर बाजार में निवेश ग्रहों पर निर्भर है हार-जीत

Jyotish Sagar|July 2020

शेयर बाजार में निवेश ग्रहों पर निर्भर है हार-जीत
शेयर बाजार शीघ्र धन लाभ और शीघ्र सफलता देने वाला बाजार है। यही वजह है कि प्रत्येक व्यक्ति इसकी और शीघ्र आकृष्ट हो जाता है।
रेखा कल्पदेव

जल्दी सफलता पाने का यह सरल और सुविधाजनक मार्ग प्रतीत होता है। कुछ व्यक्ति इसमें थोड़ी मात्रा में और निरन्तर निवेश करना पसंद करते हैं, तो कुछ बहुत सारा धन लगा कर बहुत जल्दी धनी बनना चाहते है। जितना अधिक धन, उतना अधिक जोखिम। किसी व्यक्ति के लिए शेयर बाजार जीवन की उन्नति का कारक बन जाता है। शेयर बाजार जितनी जल्द सफलता देता है, उतनी ही जल्दी कई बार हानि देकर जमीन पर भी पटक देता है। स्टॉक मार्केट एक जोखिम भरा व्यवसाय है, इसे एक प्रकार का जुआ भी कहा जा सकता है। शेयर बाजार में व्यक्ति की आर्थिक स्थिति कुछ इस प्रकार बदल सकती है, जिस प्रकार समुद्र में ज्वारभाटा आने पर समुद्र के निकट के तटों का सबकुछ तहस-नहस हो जाता है, ठीक इसी प्रकार शेयर बाजार एक निवेशक को करोड़पति से भिखारी और भिखारी को करोड़पति बना सकता है।

शेयर मार्केट में जीतना और हारना कोई नहीं बात नहीं है। यहाँ एक की जीत दूसरे की हार होती है। इसमें धन लगाने वाला व्यक्ति कभी कभी जीतता है और अक्सर हार जाता है। यहाँ सफलता और असफलता एक सिक्के के दो पहलू कहे जा सकते हैं। इसीलिए यहाँ धन लगाते समय सावधान रहना चाहिए। शेयर बाजार जोखिम से भरा व्यवसाय होने के कारण इसमें स्थायी सफलता की उम्मीद नहीं की जा सकती। इस विषय में ज्योतिषशास्त्र क्या कहता है? आइए जानते हैं :

शेयर बाजार से सम्बन्धित भाव

शेयर बाजार अफवाहों और अटकलों पर आधारित बाजार भी है, यही कारण है की यह देश, राज्य और आस-पास की घटनाओं से इसमें उतार-चढ़ाव आते है। शेयर बाजार में धन-निवेश में सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम पंचम घर का विचार किया जाता है। पंचम भाव शेयर बाजार का भाव है और द्वितीय भाव धन भाव होने के कारण इसका विश्लेषण भी यहाँ किया जाता है। पंचम भाव बुद्धि, ज्ञान पवित्रता और सन्तान का भाव है। इस भाव से धन के सुख का विचार भी किया जाता है। पूर्व जन्म के अच्छे कर्मों के परिणामस्वरूप इस भाव की स्थिति बनती है। धन और समृद्धि का प्रत्यक्ष सम्बन्ध पूर्व जन्मों के कर्मों से होता है। यही वजह है कि कुछ लोग योग्यता और क्षमता न होने पर भी बहुत आसानी से धन अर्जित करते हैं, जबकि अन्य प्रतिभा और क्षमता होते हुए भी सफलता के लिए संघर्ष करते रहते है।

आप ऐसे व्यक्ति के विषय में क्या कहेंगे कि यदि उसका जन्म एक बहुत समृद्ध परिवार में हुआ है तो उसे धन अर्जन करने के लिए अधिक संघर्ष नहीं करना होगा। कुण्डली के 2, 5, 9, 8, 11 भाव वित्तीय क्षेत्र में सफलता के संकेतक हैं। पंचम भाव अन्तर्ज्ञान, शेयर बाजार, सट्टेबाजी, शेयर ट्रेडिंग, विदेशी मुद्रा, लॉटरी के माध्यम से लाभ का भाव है। कभी-कभी यह अन्तर्ज्ञान हमें धन कमाने में हमारी मदद करता है।शेयर बाजार से जुड़े भावों में नवम भाव भाग्य, फॉर्चुन या लक का भाव है। यह आपकी किस्मत बना या बिगाड़ सकता है। एकादश भाव लाभ, आय और सभी इच्छाओं की पूर्ति का भाव है। दशम भाव व्यावसायिक पेशे का भाव है, तो चतुर्थ भाव मानसिक संतुलन की व्याख्या करता है एवं सबसे अन्त में बारहवें भाव का विश्लेषण करना चाहिए।

शेयर बाजार से सम्बन्धित ग्रह

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

July 2020