CATEGORIES

परीक्षा में अपेक्षित सफलता प्राप्त नहीं होने के कारण और निवारण

जन्मपत्रिका में शनि एवं चन्द्रमा के मध्य युति, परस्पर दृष्टि, राशिपरिवर्तन, नक्षत्र परिवर्तन इत्यादि सम्बन्ध का निर्माण हो रहा हो, तो शिक्षा एवं परीक्षा में योग्यता और परिश्रम के अनुरूप सफलता प्राप्त नहीं होती।

1 min read
Jyotish Sagar
February 2021

बोरिस जॉनसन चुनौति भरा समय!

गणतन्त्र दिवस पर भारत सरकार द्वारा मुख्य अतिथि रूप में निमन्त्रित किए जाने के कारण इंग्लैण्ड के प्रधानमन्त्री बोरिस जॉनसन यहाँ समाचार पत्रों की सुर्खियों में रहे। हालांकि इंग्लैण्ड में कोविड-19 के न्यू स्ट्रेन के कारण महामारी का जो विकराल स्वरूप आया है, उसके चलते उन्होंने प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी को फोन कर भारत आने में असमर्थता व्यक्त कर दी है।

1 min read
Jyotish Sagar
February 2021

ये बनते हैं सफल व्यवसायी

हस्तरेखाशास्त्रसन् 2013 में 40 लाख के पैकेज की नौकरी को छोड़कर स्वयं का स्टार्ट-अप आरम्भ करने का जब प्रतीक ने निर्णय लिया, तो उसके घरवालों ने उसका पूरा विरोध किया, परन्तु उसकी भाग्यरेखा एवं सूर्य रेखा इतनी स्पष्ट एवं प्रबल थी कि वह व्यवसाय में अधिक यश एवं समृद्धि प्राप्त कर सफल हो सकता था।

1 min read
Jyotish Sagar
February 2021

रत्न दिलाते हैं प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता!

सौंदर्य हो या भविष्य, रत्नों का प्रभाव अज्ञात नहीं है। ऋग्वेद के प्रथम मण्डल के प्रथम सूक्त के प्रथम मंत्र में अग्नि को 'रत्नधातमम्' अर्थात् रत्नों को धारण करने वाला सम्बोधित किया गया है।

1 min read
Jyotish Sagar
February 2021

चिदम्बरम का श्रीनटराज मन्दिर जहाँ महर्षियों ने की आराधना

दक्षिण भारत के प्रमुख तीर्थों में से एक है चिदम्बरम। तमिलनाडु राज्य के कुड्डालोर जिले का तहसील मुख्यालय चिदम्बरम नटराज शिव के विश्व प्रसिद्ध दुर्लभ विग्रह एवं शिव के पंचतत्त्व शिवलिंगों में से आकाशतत्त्व लिंग के कारण देशभर के शिवभक्तों की आस्था का केन्द्र है। इसी नटराज मन्दिर में भगवान् चिदम्बरम (शंकर) का मूल विग्रह है, जिसकी महर्षि व्याघ्रपाद और पतंजलि ने आराधना की थी।

1 min read
Jyotish Sagar
February 2021

गंगाद्वार हरिद्वार

हरिद्वार हिन्दुओं के जहाँ धार्मिक तीर्थ के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त है, वहीं भारत का महत्त्वपूर्ण सांस्कृतिक नगर भी है।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

भरत जी की चित्रकूट यात्रा

मानसपीठ (भाग-102)

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

कुम्भ पर्व हरिद्वार

इस वर्ष अप्रैल-मई माह में बृहस्पति कुम्भ राशि में तथा सूर्य मेष राशि में रहेंगे, फलतः हरिद्वार में कुम्भ महापर्व का आयोजन होगा।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

भारत भी खोज रहा है चाँद पर पानी!

भारत भी अपने मून मिशन चन्द्रयान के माध्यम से चन्द्रमा पर पानी एवं खनिजों की खोज कर रहा है। चन्द्रयान-2 के ऑर्बिटर ने चाँद के 60 प्रतिशत ध्रुवीय क्षेत्र का भ्रमण कर लिया है। इससे मिले आँकड़ों के आधार पर अगले एक साल में भारत यह अनुमान लगाने की स्थिति में होगा कि चाँद पर कहाँ, कितना पानी है।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

नक्षत्रीय आधार पर रुचकादि पंचमहापुरुष योगों का फल

स्वाति नक्षत्र में स्थित शश योग सर्वश्रेष्ठ फलकारक होता है। ऐसे योग में उत्पन्न जातक को इस योग के सभी शास्त्रोक्त शुभ फलों की प्राप्ति होती है। ऐसा जातक राजनेता, उच्च अधिकारी, निर्जन स्थान पर रहने वाले, कुशाग्र बुद्धि वाले तथा प्रत्येक कार्य को सोच-विचार कर करने वाले होते हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

प्रेम विवाह और उसकी सफलता के उपाय

चन्द्रकान्त मणि चन्द्रमा की किरणों को सोखकर धारणकर्ता के शरीर में प्रविष्ट करा देती है और उनके मन में प्रेम, समर्पण, कामुकता आदि का भाव जाग्रत कर देती है। ऐसी भी मान्यता चली आ रही है कि चन्द्रकान्त मणि को धारण करे लेने से प्रेम प्रसंगों में भी शीघ्र सफलता प्राप्त हो जाती है।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

मकर संक्रान्ति एक, रूप अनेक

भारतीय परम्परा के अन्तर्गत जनजीवन के साथ त्योहारों का घनिष्ठ रिश्ता रहा है। कृषि प्रधान देश होने की वजह से ज्यादातर त्योहारों की पृष्ठभूमि में कृषि रही है। विश्लेषण करने से विदित होता है कि भारतवर्ष के पर्वत्योहार मास तथा मौसम के ऊपर आधारित है। इन त्योहारों को विशेष रूप से सूर्य प्रभावित करता है। धरा पर रहने वाले मनुष्य, जीव-जंतु, पक्षी और कीड़े विभिन्न वजहों से सूर्य के प्रति ऋणी हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

कमला हैरिस अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति

सामान्यतः अमेरिकी राजनीति में उपराष्ट्रपति की प्रत्यक्ष भूमिका दृष्टिगोचर नहीं होती, परन्तु कमला हैरिस के ग्रहयोगों एवं दशाओं से यह परम्परा टूटती हुई दिखाई देगी।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

जो बाइडेन चुनौतियाँ और ग्रह-स्थिति

उनके समक्ष जो चुनौतियाँ वर्तमान में दिखाई दे रही हैं, उनका वे बेहतर तरीके से सामना करने में सफल होंगे और अमेरिकी समाज, अर्थव्यवस्था तथा राजनीति को एक नई दिशा देने में सफल होंगे।

1 min read
Jyotish Sagar
December 2020

चाँद पर मिला पानी!

हाल ही में नासा ने घोषणा की है कि उन्हें चाँद की सतह पर पानी होने के निर्णायक साक्ष्य मिले हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
December 2020

भरत जी की चित्रकूट यात्रा

सामान्य दिनों की तुलना में 21वें दिन की कथा लम्बी हो चली है, न स्वामी जी थक रहे हैं और न ही श्रोतागण ऊब या थक रहे हैं। वे भी पूर्ण तल्लीनता से कथा रसास्वादन कर रहे हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
December 2020

नाभाजी का परिचय

गोस्वामी नाभाजी कृत श्रीभक्तमाल (भाग-8 )

1 min read
Jyotish Sagar
December 2020

कौन बनेगा अमेरिका का राष्ट्रपति?

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों का विश्व राजनीति में विशेष महत्त्व होता है। सभी की निगाहें इन चुनावों पर रहती हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
November 2020

कैसा रहेगा भारत के लिए मकर का गुरु?

गुरु अपनी नीच राशि में गोचररत है, फलतः ऐसी स्थिति नहीं होगी, जिसमें राजनीतिक मूल्यों के हास में उल्लेखनीय कमी आए, राजनेताओं के आचरण में सुधार हो अथवा धन, धर्म, जाति, बाहुबल आदि का प्रयोग चुनावों में बहुत कम हो जाए।

1 min read
Jyotish Sagar
November 2020

दीपावली महापर्व का चतुर्थ त्योहार गोवर्धन पूजा (15 नवम्बर 2020, रविवार)

दीपावली महापर्व के पाँच त्योहारों में गोवर्धन पूजा एवं अन्नकूट उत्सब चौथा प्रमुख त्योहार है। यह त्योहार सूर्योदय व्यापिनी कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा पर मनाया जाता है।

1 min read
Jyotish Sagar
November 2020

क्यों होती है लक्ष्मी-गणेश की संयुक्त पूजा?

दीपावली पर लक्ष्मी जी के साथ भगवान् विष्णु की पूजा नहीं होती है, वरन गणेश जी की पूजा होती है। कभी आपने विचार किया है कि ऐसा क्यों होता है?

1 min read
Jyotish Sagar
November 2020

दीपावली महापर्व का प्रथम त्योहार धनत्रयोदशी (13 नवम्बर, 2020, शुक्रवार)

धनत्रयोदशी पंचत्योहारों के महापर्व दीपावली का प्रथम त्योहार है। इस वर्ष धनत्रयोदशी 13 नवम्बर, 2020 (शुक्रवार) को है। इस वर्ष इस दिन किए जाने वाले प्रमुख धार्मिक कर्म निम्नलिखित हैं :

1 min read
Jyotish Sagar
November 2020

दीपोत्सव एक प्राचीन लोकपर्व

दीपावली एक प्राकशमय लोकपर्व है जो कि अति प्राचीनकाल से भारत ही नहीं, वरन् विश्व के अनेक देशों में मनाया जाता रहा है। यह भारत का अत्यन्त प्राचीन सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय पर्व रहा है।

1 min read
Jyotish Sagar
November 2020

घट-स्थापन एवं दुर्गा-पूजन विधि

आश्विन शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक का महापर्व माँ भगवती के पर्व नवरात्र के नाम से जगप्रसिद्ध है। नवरात्र के प्रथम दिन जहाँ घट-स्थापन एवं दुर्गापूजन के माध्यम से इस महापर्व का आरम्भ होता है, वहीं इन नौ दिनों में प्रत्येक हिन्दूधर्मावलम्बी जगज्जननी माँ भगवती की पूजा, उपासना, व्रत, कीर्तन, जागरण इत्यादि करते हैं। इस वर्ष 17 अक्टूबर, 2020 को यह पावन पर्व आरम्भ हो रहा है। पाठकों की सुविधार्थ हम यहाँ घट-स्थापन एवं दुर्गा पूजन की शास्त्रोक्त विधि प्रस्तुत कर रहे हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
October 2020

नौकरी सम्बन्धी उपाय

हम सभी यह जानते है कि किसी व्यक्ति के कॅरिअर के विकास के लिए कड़ी मेहनत और धैर्य के साथ प्रतिस्पर्धा करने से बेहतर कुछ नहीं है।

1 min read
Jyotish Sagar
October 2020

देवताओं का मिलन-पर्व है कुल्लू दशहरा

अद्भुत लोक संस्कृति के प्रदेश हिमाचल में साल भर कोई न कोई लोक-उत्सव आयोजित होता ही रहता है। यहाँ के अलग-अलग क्षेत्रों की अपनी विशिष्ट परम्पराएँ, रीति-रिवाज, बोलियाँ तथा वेशभूषाएँ हैं, किंतु अपने लोक-उत्सव के प्रति आस्था तथा उमंग प्रत्येक के मन में समान रूप से परिलक्षित होती है।

1 min read
Jyotish Sagar
October 2020

रूप, जय और यश की अधिष्ठात्री माँ दुर्गा

मान्यता है कि जिस समय मौसम परिवर्तन हो रहा हो, उस समय व्यक्ति को आहार, दिनचर्या तथा जीवन शैली को लेकर कुछ ऐसे नियमों का पालन करना चाहिए, ताकि वह बदलते मौसम के अनुरूप स्वयं को ढाल सकें।

1 min read
Jyotish Sagar
October 2020

शक्ति तत्त्व

जिस प्रकार विष्णु और शिव एक हैं, उसी प्रकार शक्ति भी उनसे अभिन्न है। एक ही परमतत्त्व के विभिन्न नाम हैं। जैसाकि 'मुण्डमालातन्त्र' में कहा गया है जैसे शिव हैं, वैसे ही दुर्गा हैं और जो दुर्गा हैं, वहीं विष्णु हैं। इनमें जो भेद मानता है, वह दुर्बुद्धि मनुष्य मूर्ख है। देवी, विष्णु और शिव आदि में एकतत्त्व ही देखना चाहिए।

1 min read
Jyotish Sagar
October 2020

स्पन्दकारिका एवं स्पन्द की अवधारणा

भारतीय तन्त्र-दर्शन साहित्य-परम्परा

1 min read
Jyotish Sagar
September 2020

कैसा रहेगा राहु का गोचर भारत के लिए?

भारत की दृष्टि से राहु का गोचर परिवर्तन अधिक प्रभावशाली इसलिए माना जाता है, क्योंकि स्वतन्त्रताकालिक कुण्डली में अनन्तसंज्ञक कालसर्पयोग का निर्माण हो रहा है। इसके अतिरिक्त वर्तमान परिस्थितियों में राहु की महती भूमिका होने के कारण भी इस गोचर परिवर्तन के प्रति ज्योतिर्विद्वान् अपेक्षाकृत अधिक गम्भीर हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
September 2020

Page 1 of 6

123456 Next