कुण्डली में आजीविका कारक ग्रहयोग एवं तत्त्व समीक्षा
Jyotish Sagar|May 2021
लग्न कुण्डली पर सर्वाधिक प्रभाव रखने वाला ग्रह द्वारा सर्वप्रथम आजीविका का कारक होता है। आजीविका अर्थ प्राप्ति का वह साधन है, जिसके माध्यम से मनुष्य इस संसार में सुखी जीवन निर्वाह कर सकता है। किसी भी जातक की कुण्डली के आजीविका के स्वरूप को निश्चित करने के पश्चात् आजीविका के विषयों पर गम्भीरतापूर्वक विचार करना चाहिए।
डॉ. अमित कुमार 'राम'

1. आजीविका कारक ग्रह किन व्यवसायों का संकेत दे रहा है? वह ग्रह किस-किस भाव के कारक तथा भाव के स्वामी से युत या द्रष्ट है? आजीविका कारक ग्रह कितना बलवान् है? का विचार भी कर लेना आवश्यक है। इसमें व्यवसाय के उत्तम, मध्यम और अधम होने का पता लगता है।

2. कुण्डली में धनयोग कैसा है? इसका विचार करने के लिए द्वितीय भाव, धन स्थान है। इससे धन की मात्रा तथा संग्रह करने की शक्ति संकेत मिलता 'जातकपारिजात' के धनभाव में स्थित, धन भाव का द्रष्टा तथा धनेश ग्रह, इन तीनों की दशाअन्तर्दशा में अर्थ की प्राप्ति होती है।

3.एकादश स्थान, लाभ स्थान है। इससे अर्थलाभ के प्रकार का विचार होता है। यदि लाभ स्थान तथा धन स्थान दोनों उत्तम हों, तो अर्थ प्राप्ति सुगमता से होती है तथा उसका संचय भी उत्तम प्रकार से होता है। इसी प्रकार आजीविका कारक ग्रह का यदि धनेश-लाभेश से उत्तम आदि सम्बन्ध होने पर जातक अपने पराक्रम से अर्थप्राप्ति करता है।

4. चतुर्थ स्थान से राज्य का ग्राम (कॉलोनी इत्यादि), निवास स्थान, गृह क्षेत्र (कृषि), भवन, पशु, मातृ सम्पत्ति, वाहन सुख, माता आदि का विचार किया जाता है। यदि आजीविका कारक ग्रह का सम्बन्ध चतुर्थ स्थान तथा चतुर्थेश से हो, तो जातक को राज्य, गृह, क्षेत्र (कृषि), वाहन आदि की प्राप्ति सरलता से होती है। इसी प्रकार यदि आजीविका प्रदाता ग्रह का सम्बन्ध चतुर्थेश के साथ भाग्येश तथा भाग्य स्थान से हो, तो इन सबकी प्राप्ति सुगमता से होती है। 'जातकपारिजात' के अनुसार चतुर्थ, नवम, एकादश और द्वितीय के स्वामी लग्न से सम्बन्ध करें तथा बलवान् हों, तो उनकी दशा में क्रमशः राज्य प्राप्ति, भाग्योदय, धनलाभ तथा अर्थ-सिद्धि होती है।

5. लघुपाराशरी में उक्त राजयोगों के होने पर धन, सुख, सम्पत्ति आदि की प्राप्ति अतिमात्रा में होती है। लग्न, पंचम तथा नवम त्रिकोण स्थान है। लग्न, चतुर्थ, सप्तम तथा दशम केन्द्र स्थान है। बलवान् केन्द्रेश का बलवान् त्रिकोणेश से सम्बन्ध होने पर राजयोग होता है। उत्तरकालामृत के अनुसार लग्न से नवमेश तथा दशमेश यदि परस्पर युति, दृष्टि अथवा व्यत्य (नवमेश दशम में और दशमेश नवम में) द्वारा सम्बन्धित हो और बलवान् होकर एक-दूसरे से केन्द्र (चतुर्थ, सप्तम, दशम) में स्थित हो और लग्नेशाधिष्ठित राशि के स्वामी से युक्त हो, तो जातक उत्तम कोटि का धनी तथा राज्याधिकारी होता है। इससे स्पष्ट है कि पाराशरी राजयोगों की अधिकता होने पर धन की अधिकता होती है। इसी प्रकार लग्नाधि योग, चन्द्राधि योग, गजकेसरीयोग, नीचभंग-राजयोग के द्वारा लग्न दृष्ट-युत होने पर धन की प्राप्ति अधिक मात्रा में होती है, अतः आजीविका कारक ग्रह का इन शुभ योगों से सम्बन्ध हो, तो उसकी दशा में धन, पद, यश आदि की प्राप्ति होती है।

6. षष्ठ, अष्टम तथा द्वादश स्थान में अथवा इनके स्वामी से युत होने पर आजीविका कारक ग्रह की दशा में आजीविका की प्राप्ति कठिनता से होती है, किन्तु उत्तरकालामृतकार के अनुसार यदि अष्टमेश व्यय में हो, व्ययेश यदि षष्ठ अथवा अष्टम भाव में हो और इन नेष्ट भावों के स्वामियों का युति दृष्टि अथवा व्यत्य द्वारा परस्पर सम्बन्ध हो, परन्तु अन्य किसी ग्रह से युति अथवा दृष्टि द्वारा सम्बन्ध न हो, तो जातक वैभवशाली राजाधिराज होता है। इस योग में अशुभ ग्रहों का अशुभत्व दूर होने से शुभ की प्राप्ति सहज होती है।

7. सप्तम भाव में स्त्री आदि के अतिरिक्त वाणिज्य का भी विचार किया जाता है। बुध वाणिज्य का कारक है। इस प्रसंग में यह भी ज्ञातव्य है कि द्वितीय स्थान से विक्रय, वाणिज्य तथा सप्तम स्थान से क्रय वाणिज्य का विचार होता है, अतः आजीविका कारक ग्रह का सम्बन्ध बुध, सप्तम, द्वितीय से होने पर तथा इनके बलवान् होने पर जातक वाणिज्य (व्यापार) में कुशलता प्राप्त करता है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM JYOTISH SAGARView All

ब्लैक फंगस के ज्योतिषीय योग

पोस्ट कोविड कॉम्पलीकेशंस और ज्योतिष

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

राजर फेडरर- संन्यास अभी दर है!

18 मई, 2021 को जेनेवा ओपन में आठवीं वरीयता प्राप्त रोजर फेडरर लगभग अनजान खिलाड़ी 75वीं वरीयता प्राप्त पाब्लो एंडुजार से अपने पहले ही मैच में हार गए, तो जहाँ आलोचकों ने उनके कॅरिअर की समाप्ति की घोषणा कर दी, वहीं समर्थकों का तर्क था कि फेडरर का मुख्य लक्ष्य विंबलडन है जो कि जून-जुलाई में होने वाला है। क्लेकोर्ट की उनकी तैयारी नहीं थी।

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

बिल गेट्स- विवाह के 27 साल बाद तलाक की ओर कदम

दुनिया के चौथे सबसे अमीर बिल गेट्स ने वशिंगटन के किंग काउंटी कोर्ट में 27 साल तक दाम्पत्य जीवन बिताने के बाद तलाक की अर्जी दखिल की है।

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

प्राचीन भारत में स्वर्ण बनाने की कला!

प्राचीन भारत में रसायन विज्ञान में काफी उन्नति कर ली गई थी। ऋषि-मुनियों ने रसायन विज्ञान में कई तथ्यों को खोज निकाला था।

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

कोरोना से कभी नहीं पड़ेगा रोना यदि सीखा योगमय होकर जीना

कोरोना वायरस को आजकल कहर मचा हुआ है। यह आप सभी को ज्ञात है कि कोरोना वायरस का इफेक्ट हमारे शरीर पर कहाँ होता है और क्यों? फिर भी बता देते हैं इसका प्रभाव हमारे फेफड़ों और गले में होता है।

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

आँख का तारा बदनसीबी का मारा!

'मेरी बेटी मेरी आँखों का तारा है, लेकिन बदनसीबी की मारी भी है। जहाँ वह अच्छे से सारा बिजनस सम्भाल रही है, वहीं उसकी बदनसीबी तो देखो, उसका विवाह नहीं हो पाया। लोग मुझसे पूछते रहे कि इतनी सुन्दर सुशील, उत्तम कदकाठी की लड़की है आपकी, फिर भी अविवाहिता क्यों है?'

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

CLAT में सफलता के ज्योतिषीय योग

कन्सोर्टियम ऑव नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज CLAT 2021 के लिए 1 जून से 15 जून के मध्य आवेदन आमंत्रित कर रहा है। वर्तमान समय में युवाओं में CLAT अत्यधिक लोकप्रिय बन चुका है। लाखों की संख्या में परीक्षार्थी इस परीक्षा को देते हैं और इसके माध्यम से 22 राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों में एलएलबी में प्रवेश लेकर लॉ से सम्बन्धित कॅरिअर सुनिश्चित करते हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

शनि-ज्योतिष का व्यावहारिक स्वरूप

शनि जयन्ती (10 जून, 2021) पर विशेष ...

1 min read
Jyotish Sagar
June 2021

लक्ष्मीनृसिंह की उपासना से अभीष्ट सिद्धि

श्री नृसिंह जयन्ती (25 मई, 2021)

1 min read
Jyotish Sagar
May 2021

महर्षि अत्रि के आश्रम में श्रीराम

मुझपराधड़ों श्रीराम को देखकर शरभंग जी अति प्रसन्न हुए और बोले “हे कृपालु रघुवीर मैं ब्रह्मलोक को जा रहा था, इतने में ही मैंने सुना की आप वन में आ रहे हैं, तब से मैं आपकी राह देख रहा हूँ। आज आपको देखकर मेरी छाती शीतल हो गई। हे नाथ! मैं सब साधनों से हीन हूँ। आपने अपना दीन सेवक जानकर की है। अब इस दीन के कल्याण के लिए तब तक यहाँ ठहरिए, जब तक मैं शरीर को छोड़कर आपसे आपके धाम में न मिलूँ।"

1 min read
Jyotish Sagar
May 2021
RELATED STORIES

Hey Trader, What's Your Sign?

It’s tough to beat the market. Are you desperate enough to consult the stars?

10 mins read
Bloomberg Businessweek
July 30, 2018

शुक्र ग्रह और ज्योतिष

शुक्र के निकट जाने वाला पहला अंतरिक्ष यान मैरीनर 2 था, जिसने 1962 में यात्रा की। अभी तक लगभग 20 यानों का उपयोग शुक्र के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जा चुका है। रूसी यान 'वेनेरा' सबसे पहले शुक्र पर उतरा। हाल ही में अमेरिकी यान 'मैगेलन' ने रडार द्वारा शुक्र की सतह के विस्तृत चित्र उपलब्ध कराये हैं। शुक्र पर संभवतः किसी समय, पृथ्वी की तरह, अपार जल मौजूद था। मगर यह वाष्पन द्वारा समाप्त हो गया। अब शुक्र की सतह पूर्णतः शुष्क है।

1 min read
Sadhana Path
May 2021

खगोल और ज्योतिष विद्या में अग्रणी थे कश्मीरी पंडित

धरती पर स्वर्ग है कश्मीर, कश्यप ऋषि की तपोभूमि है कश्मीर और कश्मीरी पंडितों की जन्मस्थली है कश्मीर। लेकिन यह दुर्भाग्य है कि कश्मीर पर अधिकांश समय गैरकश्मीरियों का अधिकार रहा। वर्तमान में भी मूल निवासी कश्मीरी पंडितों को बलपूर्वक कश्मीर से भगा दिया गया। तत्कालीन केन्द्र सरकार मूक दर्शक बनकर देखत रही। आज वे अपनी जन्मस्थली से मानसिक पीड़ा झेलते हुए भारत में ही अन्य जगहों पर विस्थापित जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

1 min read
Kendra Bharati - केन्द्र भारती
April 2021

New York-based Humanscale sets up its first exclusive showroom in Bengaluru

The brand promises to be the best one-stop shopping destination in India for ergonomic products for the office and work-from-home setup

1 min read
Architect and Interiors India
February 2021

Written In The Stars

Find out how astrology can help you on your way to a happy and healthy home—and how it can’t!

2 mins read
SquareRooms
January 2021

ON THE menu

ON THE menu

2 mins read
African Birdlife
January - February 2021

Gemma Chan “La felicidad es compartir”

Conversamos con la guapísima actriz británica sobre cómo ha afrontado 2020, su rutina de belleza y de dónde proviene la alegría que refleja.

2 mins read
Vanidades México
Diciembre 24 -2020

Why Humans & Dogs Love Each Other

The science behind our relationship with dogs and how pets affect relationships.

2 mins read
Pets Magazine
December 2020 - February 2021

The state of hybrid home-offices

We are at a time where offices are being outfitted as homes and homes as offices. Commercial Design takes a look at the changing interior landscapes of our hybrid spaces

10 mins read
Commercial Design
December 2020

कुंडली मिलान

समाज को बांटे रखने का बड़ा हथियार

1 min read
Sarita
December First 2020