नाभाजी का परिचय
Jyotish Sagar|December 2020
गोस्वामी नाभाजी कृत श्रीभक्तमाल (भाग-8 )
पं. अवनीश पाण्डेय

भक्तमाल के रचनाकाल निर्धारण में चतुर्भुजदासजी से सम्बन्धित निम्नलिखित छप्पय (123) भी प्रयुक्त किया जाता है :

'हरिवंश' चरनबल चतुर्भुज गोंडदेश तीरथ कियौ।

गायौ भक्ति प्रताप सबहिं दासत्व दृढ़ायौ।

राधा वल्लभ भजन अनन्यता वर्ग बढ़ायौ।।

'मुरलीधर' की छाप कबित अति ही निर्दूषन।

भक्तहिं की अंघ्रिरेनु वहै धारी सिरभूषन।

सतसंग महा आनन्द में प्रेम रहत भीज्यो हियो।

'हरिवंश' चरनबल चतुर्भुज गोंडदेश तीरथ कियौ।

वासुदेव गोस्वामी, नरेन्द्र झा

इत्यादि ने चतुर्भुजदास जी के उक्त छप्पय के आधार पर भक्तमाल का रचनाकाल निर्धारण करने का प्रयास किया है। वासुदेव गोस्वामी लिखते हैं कि “नाभादास ने अपने भक्तमाल में राधावल्लभ सम्प्रदाय के अनुयायी चतुर्भुजदास जी के परिचय में जो छप्पय लिखा है, उसमें भी इनके द्वारा भक्तिप्रताप गाए जाने का उल्लेख है। यद्यपि भक्तिप्रतापयश नामक रचना में उसका रचनाकाल नहीं दिया गया है, तथापि उसी द्वादश यश ग्रन्थ की दूसरी रचना 'धर्मविचारयश' में उसका रचनाकाल संवत् 1686 इस प्रकार दिया गया है :

संवत् सोरह सौ चौरासी अधिक द्वै बरस सिरानी जू।

मुरलीधर वर भक्त चतुर्भुजदास प्रताप बखानी जू।

इस द्वितीय यश के प्राप्त रचनाकाल से यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि तृतीय यश भक्ति प्रताप की रचना भी इसी के आसपास हुई होगी। फलतः नाभादास जी के उक्त छप्पय की रचना तिथि भी उस संवत् के पूर्व की नहीं मानी जा सकती। इस आधार पर भक्तमाल का रचनाकाल 1686 के पश्चात् ठहरता है।"

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM JYOTISH SAGARView All

गंगाद्वार हरिद्वार

हरिद्वार हिन्दुओं के जहाँ धार्मिक तीर्थ के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त है, वहीं भारत का महत्त्वपूर्ण सांस्कृतिक नगर भी है।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

भरत जी की चित्रकूट यात्रा

मानसपीठ (भाग-102)

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

कुम्भ पर्व हरिद्वार

इस वर्ष अप्रैल-मई माह में बृहस्पति कुम्भ राशि में तथा सूर्य मेष राशि में रहेंगे, फलतः हरिद्वार में कुम्भ महापर्व का आयोजन होगा।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

भारत भी खोज रहा है चाँद पर पानी!

भारत भी अपने मून मिशन चन्द्रयान के माध्यम से चन्द्रमा पर पानी एवं खनिजों की खोज कर रहा है। चन्द्रयान-2 के ऑर्बिटर ने चाँद के 60 प्रतिशत ध्रुवीय क्षेत्र का भ्रमण कर लिया है। इससे मिले आँकड़ों के आधार पर अगले एक साल में भारत यह अनुमान लगाने की स्थिति में होगा कि चाँद पर कहाँ, कितना पानी है।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

नक्षत्रीय आधार पर रुचकादि पंचमहापुरुष योगों का फल

स्वाति नक्षत्र में स्थित शश योग सर्वश्रेष्ठ फलकारक होता है। ऐसे योग में उत्पन्न जातक को इस योग के सभी शास्त्रोक्त शुभ फलों की प्राप्ति होती है। ऐसा जातक राजनेता, उच्च अधिकारी, निर्जन स्थान पर रहने वाले, कुशाग्र बुद्धि वाले तथा प्रत्येक कार्य को सोच-विचार कर करने वाले होते हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

प्रेम विवाह और उसकी सफलता के उपाय

चन्द्रकान्त मणि चन्द्रमा की किरणों को सोखकर धारणकर्ता के शरीर में प्रविष्ट करा देती है और उनके मन में प्रेम, समर्पण, कामुकता आदि का भाव जाग्रत कर देती है। ऐसी भी मान्यता चली आ रही है कि चन्द्रकान्त मणि को धारण करे लेने से प्रेम प्रसंगों में भी शीघ्र सफलता प्राप्त हो जाती है।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

मकर संक्रान्ति एक, रूप अनेक

भारतीय परम्परा के अन्तर्गत जनजीवन के साथ त्योहारों का घनिष्ठ रिश्ता रहा है। कृषि प्रधान देश होने की वजह से ज्यादातर त्योहारों की पृष्ठभूमि में कृषि रही है। विश्लेषण करने से विदित होता है कि भारतवर्ष के पर्वत्योहार मास तथा मौसम के ऊपर आधारित है। इन त्योहारों को विशेष रूप से सूर्य प्रभावित करता है। धरा पर रहने वाले मनुष्य, जीव-जंतु, पक्षी और कीड़े विभिन्न वजहों से सूर्य के प्रति ऋणी हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

कमला हैरिस अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति

सामान्यतः अमेरिकी राजनीति में उपराष्ट्रपति की प्रत्यक्ष भूमिका दृष्टिगोचर नहीं होती, परन्तु कमला हैरिस के ग्रहयोगों एवं दशाओं से यह परम्परा टूटती हुई दिखाई देगी।

1 min read
Jyotish Sagar
January 2021

जो बाइडेन चुनौतियाँ और ग्रह-स्थिति

उनके समक्ष जो चुनौतियाँ वर्तमान में दिखाई दे रही हैं, उनका वे बेहतर तरीके से सामना करने में सफल होंगे और अमेरिकी समाज, अर्थव्यवस्था तथा राजनीति को एक नई दिशा देने में सफल होंगे।

1 min read
Jyotish Sagar
December 2020

चाँद पर मिला पानी!

हाल ही में नासा ने घोषणा की है कि उन्हें चाँद की सतह पर पानी होने के निर्णायक साक्ष्य मिले हैं।

1 min read
Jyotish Sagar
December 2020