CATEGORIES

स्वास्थ्य बीमा लिया क्या

आम कोरोना की दूसरी लहर ने तो आम, खासे खातेपीते लोगों की भी कमर तोड़ दी है. इलाज के खर्च का भार कम करने के लिए स्वास्थ्य बीमा एक बेहतर विकल्प है.

1 min read
Sarita
June First 2021

अनाथ बच्चे गोद लेने में भी जातीयता

'2 साल की बेटी और 2 माह के बेटे के मातापिता कोविड के कारण नहीं रहे. इन बच्चों को अगर कोई गोद लेना चाहता है तो दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क करें. ये ब्राह्मण बच्चे हैं. सभी ग्रुपों में इस पोस्ट को भेजें ताकि बच्चों को जल्दी से जल्दी मदद मिल सके.' ऐसे मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

"भारत में हर चीज पौलिटिकल नजरिए से देवी जाती है" मनोज मौर्य

प्रतिभाशाली मनोज मौर्य लेखन, पेंटिंग, निर्देशन कुछ भी कह लो, हर काम में माहिर हैं. वे लघु फिल्मों के रचयिता के तौर पर भी जाने जाते हैं. उन की ख्याति विदेशों तक फैली है. बतौर निर्देशक, वे एक जरमन फिल्म बना कर अब फीचर फिल्म की तरफ मुड़े हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

इम्यूनिटी बढ़ाएं जीवन बचाएं

शरीर में इम्यूनिटी का होना वैसे तो हैल्थ के लिए हर समय जरूरी है लेकिन कोरोनाकाल में इस बात का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है कि इसे संतुलन में लगातार कैसे रखा जाए.

1 min read
Sarita
June First 2021

गर्भवती महिलाएं अपना और नवजात का जीवन बचाएं

कोविड संकट के दौर में गर्भवती महिलाओं को संक्रमण का अधिक जोखिम होता है. ऐसा इसलिए, क्योंकि इस समय ऐसी महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है, जिस से खतरा अधिक बना रहता है. ऐसे में गर्भवती महिलाएं कैसे खुद को सुरक्षित रख सकती हैं.आइए जानें?

1 min read
Sarita
June First 2021

धर्म और भ्रम में डूबा रामदेव का कोरोना इलाज

लड़ाई चिकित्सा पद्धतियों के साथसाथ पैसों और हिंदुत्व की भी है. बाबा रामदेव ने कोई निरर्थक विवाद खड़ा नहीं किया है, इस के पीछे पूरा भगवा गैंग है जिसे मरते लोगों की कोई परवा नहीं. एलोपैथी पर उंगली उठाने वाले इस बाबा की धूर्तता पर पेश है यह खास रिपोर्ट.

1 min read
Sarita
June First 2021

पत्रकारिता के लिए खतरनाक भारत

वर्ल्ड प्रैस फ्रीडम इंडैक्स के अनुसार पत्रकारिता के मामले में भारत से बेहतर नेपाल और श्रीलंका जैसे पड़ोसी मुल्क हैं. भारत में सरकार निष्पक्ष पत्रकारों की आवाज दबाने के लिए उन पर राजद्रोह जैसे गंभीर मामले लगा कर उन्हें शांत करने का काम कर रही है.

1 min read
Sarita
June First 2021

नताशा नरवाल- क्रूर, बेरहम और तानाशाह सरकार की शिकार

इस समय जितनी असंवेदनशील कोरोना महामारी है उतनी ही शासन व्यवस्था हो चली है. ऐसे समय में शासन द्वारा राजनीतिक कैदियों को अपने प्रियजनों से दूर करना, यातना देने से कम नहीं है. जबकि, कई तो सिर्फ और सिर्फ इसलिए बिना अपराध साबित हुए जेलों में हैं क्योंकि वे सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहे थे.

1 min read
Sarita
June First 2021

ब्लैक फंगस रंग बदलती मौत

ब्लैक फंगस इन्फैक्शन या म्यूकरमाइकोसिस कोई रहस्यमय बीमारी नहीं है, लेकिन यह अभी तक दुर्लभ बीमारियों की श्रेणी में गिनी जाती थी. भारतीय चिकित्सा विज्ञान परिषद के मुताबिक म्यूकरमाइकोसिस ऐसा दुर्लभ फंगस इन्फैक्शन है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. इस बीमारी से साइनस, दिमाग, आंख और फेफड़ों पर बुरा असर पड़ता है.

1 min read
Sarita
June First 2021

सर्वे और ट्विटर पर खुल रही है पोल प्रधानमंत्री की हवाहवाई छवि

कल तक जो लोग नरेंद्र मोदी के बारे में सच सुनने से ही भड़क जाया करते थे वे आज खामोश रहने पर मजबूर हैं और खुद को दिमागी तौर पर सच स्वीकारने व उस का सामना करने को तैयार कर रहे हैं. लोगों में हो रहा यह बदलाव प्रधानमंत्री की हवाहवाई राजनीति का नतीजा है जिस में 'काम कम नाम ज्यादा' चमक रहा था और अब इस का हवाई गुब्बारा फूट रहा है.

1 min read
Sarita
June First 2021

कोरोना मृतकों के परिजनों को मुआवजा क्यों नहीं

लाखों लोग बेमौत मर रहे हैं. इस से उन के घरवालों को खानेपीने के लाले पड़ने लगे हैं. देश में करोड़ों लोग बेरोजगार हो गए हैं, वहीं, कामधंधे व उद्योग-व्यापार के पटरी पर लौटने के आसार नजर नहीं आ रहे. ऐसे में सवाल यह है कि कोरोना से मरने वालों के घरवालों को सरकार द्वारा मुआवजा देने का ऐलान क्यों नहीं?

1 min read
Sarita
June First 2021

कोरोना का कहर- घरघर में मौतें हो रही हैं जबकि सरकार महल व मंदिर बनाने की जिद पर अड़ी है

अब हर घर कोरोना का शिकार है क्योंकि लाखों के अपने छिन गए हैं. जिस मुश्किल दौर में देश है, उस की कभी किसी ने कल्पना नहीं की थी, यह कोरोना का इलाज न मिलने की दहशत है. अफरातफरी और बुनियादी सहूलियतों का अभाव है, जिस ने सरकार की बेरहमी की कलई उधेड़ कर रख दी है. सत्ता का सुख भोगने के लिए सरकार चुनाव भी कराए जा रही है, संसद भवन बनाने में लगी है और मंदिर की ओर जा रही है.

1 min read
Sarita
May Second 2021

पैसे नहीं तो धर्म नहीं

कोरोना ने एक झटके में धार्मिक मान्यताओं की धज्जियां उड़ा दी हैं. कोरोना ने समझा दिया है कि घरपरिवारों में होने वाले सुखदुख के किसी भी अवसर को धर्म के साथ जोड़ने या हजारोंलाखों रुपए खर्च कर के धर्म के ठेकेदारों के हाथों कुछ करवाने की जरूरत नहीं है. यह बात जितनी जल्दी आम आदमी की समझ में आ जाए, एक बेहतर समाज व बेहतर देश बनाने के लिए उतना अच्छा होगा.

1 min read
Sarita
May Second 2021

भारतीय नारी और डेली सोप

क्या आप जानते हैं जिन सीरियलों को आप रोजाना टीवी पर देख रहे हैं वे कैसे महिलाओं के खिलाफ षड्यंत्र रच रहे हैं, कैसे हर समय महिलाओं के चालचलन, उठनेबैठने और चितचरित्र को पुरुषवादी एंगल से गढ़ने की कोशिश कर रहे हैं? नहीं न, तो पढ़ें यह लेख.

1 min read
Sarita
May Second 2021

नीरव मोदी- हीरा किंग से घोटालेबाज तक

नीरव मोदी कभी 'हीरा किंग' के नाम से मशहूर था, आज घोटालेबाज और भगोड़े के नाम से जाना जाता है. शानोशौकत और ऐशोआराम की जिंदगी गुजारने वाला नीरव आज लंदन की कालकोठरी के अंधेरे कोने में बैठा अपनी आजादी की भीख मांग रहा है और लंदन कोर्ट के हालिया फैसले के बाद अब उस के पास बच निकलने के मौके बहुत कम हैं.

1 min read
Sarita
May Second 2021

राजनीति के केंद्र में अब 'ममता फैक्टर'

पश्चिम बंगाल में भाजपा को मिली करारी हार ने मानो विपक्ष को संजीवनी ला कर दे दी हो. इस चुनाव ने यह दिखा दिया कि यदि सही रणनीति, कौशलता, सूझबूझ व कड़ी मेहनत से चुनाव लड़ा जाए तो भाजपा के धनबल, दमखम, मीडिया और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण जैसी चालों को बुरी तरह मात दी जा सकती है. यही कारण है कि विपक्ष के पास अगले चुनावों में ममता फैक्टर ही सब से अधिक काम आने वाला है जिस की शुरुआत यूपी फतह से संभव है.

1 min read
Sarita
May Second 2021

तलाक हर औरत का अधिकार

तलाक हर औरत का मौलिक अधिकार होना चाहिए. आखिर वह धर्म और समाज के इशारे पर गुलामी, हिंसा और प्रताड़ना क्यों झेले? उसे किन परिस्थितियों में और कब तक पति के साथ रहना है, यह उस का अपना फैसला होना चाहिए और यह केरल हाईकोर्ट के हालिया फैसले से भी साफ हो गया है.

1 min read
Sarita
May Second 2021

किस पर निकाल रहे हैं सलमान अपना गुस्सा

ऐसे ही नहीं सलमान खान को सभी बौलीवुड का भाईजान कहते हैं. वे मौजूदा मुश्किल घड़ी में अपनी हर संभव मदद लोगों तक पहुंचाने की कोशिश में लगे हैं, साथ ही दोटूक नसीहत उन्हें दे रहे हैं जो इस आपदा को अवसर बना रहे हैं.

1 min read
Sarita
May Second 2021

घरेलू महिला कामगारों पर कोरोना की डबल आफत

आज देश में स्थिति इतनी गंभीर है कि लोगों के सामने आगे कुआं पीछे खाई वाली बात है. अगर वे बाहर काम के लिए निकलते हैं तो कोरोना का खतरा और घर पर रुकते हैं तो भूख से मरने का खतरा. इस मार के बीच घरेलू महिला कामगार कैसे जीवन निर्वाह कर रही हैं, जानें.

1 min read
Sarita
May Second 2021

अंधभक्तों की नई नस्ल

डिजिटल युग में नए तरह के भक्तों की नस्ल पैदा हुई है. सुबहशाम आंख मलते ये भक्त ट्विटर, फेसबुक पर गालीगलौज करते दिख जाते हैं. थोकभाव में मिलने वाले ये भक्त ऐसेवैसे नहीं, बल्कि राजनीतिकभक्त हैं.

1 min read
Sarita
May Second 2021

सरकार,जज और साख खोती न्यायव्यवस्था

कानून के कई जानकार मोदीकाल में भारत की न्यायिक स्वतंत्रता को ले कर चिंता जता चुके हैं. यह बात तथ्यों से सामने भी आई है कि न्यायिक प्रणाली में केंद्र सरकार का हस्तक्षेप दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है. मोदी प्रशंसक जजों की नियुक्तियां प्रश्नचिह्न खड़ा कर रही हैं जबकि हालिया न्यायिक फैसले व अदालती टिप्पणियां की राजनीति को सूट करती हैं.

1 min read
Sarita
May Second 2021

लाशों पर लडी सत्ता और धर्म की लड़ाई

देश और सरकार उपदेशों व प्रवचनों के बजाय वैज्ञानिक व तकनीकी राह अपनाते तो कोरोना के हालात भयावह न होते. कुंभ और रैलियों ने कोरोना का कहर इतना बढ़ा दिया कि जगहजगह लाशों के अंबार लग गए जैसे महाभारत के युद्ध के बाद लगे थे. लड़ाई तब भी सत्ता की थी और आज भी है.

1 min read
Sarita
May First 2021

महंगाई डायन खाए जात है

देश एक बार फिर से कोरोना संकट में फंसा है. कोरोना की दूसरी लहर देश पर भारी पड़ रही है. जमाखोरी और मुनाफाखोरी की नीयत के चलते महंगाई चरम पर है. जेब में पैसा नहीं है, इस के बाद भी महंगाई और बेरोजगारी की चर्चा नहीं हो रही.

1 min read
Sarita
May First 2021

कुव्यवस्था से हाहाकार

देश में मौजूदा हालात बताते हैं कि सरकारें जनहितैषी कभी नहीं बन सकतीं. सरकारें गरीबों के बारे में कभी नहीं सोच सकतीं.सरकारें तो बनी ही जनता पर शासन करने को हैं. जनता को सिर्फ वोटबैंक समझने की जिद इन्हें उस की लाशों से खेलने की इजाजत देती है.

1 min read
Sarita
May First 2021

बरबाद होती फिल्म इंडस्ट्री

मार्च माह की शुरुआत से देश, खासकर फिल्म नगरी मुंबई में कोरोना की नई लहर हावी हो गई है. इस ने पहले से ही बरबाद हो चुकी फिल्म इंडस्ट्री को ऐसे मुकाम पर पहुंचा दिया है कि अब तो उस की कमर ही टूट सी गई है. कोरोना का फिर से जिस तरह का माहौल बना है उस से तो यही आभास हो रहा है कि शायद अब फिल्म इंडस्ट्री कभी उबर न पाए.

1 min read
Sarita
May First 2021

औरतों के लिए नवरात्रे त्योहार या अतिरिक्त बोझ

जिस देश को महिलाओं के लिए सब से असुरक्षित माना गया हो वहां नवरात्रे में कन्याओं की पूजा करना किसी ढोंग से कम नहीं. दुखद यह है कि पुरुष समाज के रचाए इस ढोंग को करने में भी महिलाएं ही पिसती हैं, उन के सिर ही तमाम तामझाम का अतिरिक्त बोझ पड़ता है.

1 min read
Sarita
May First 2021

पुजारियों को दानदक्षिणा क्यों

मध्य प्रदेश में आम लोग जाएं तेल लेने. युवाओं को न नौकरी न बेरोजगारी भत्ता, किसानों को राहत नहीं, कर्मचारियों को एरियर व महंगाई भत्ता नहीं और महिलाओं को सुरक्षा नहीं. लेकिन धर्म की दुकानदारी में बिलकुल भी कमी नहीं, इस के लिए पंडेपुजारियों को सरकारी दानदक्षिणा जारी है.

1 min read
Sarita
May First 2021

अमेरिका और मास शूटिंग

अमेरिका में मास शूटिंग बड़ी समस्या के तौर पर उभर रही है, जिस के लिए कहीं न कहीं नागरिकों को आर्स रखने की मंजूरी देने वाला कानून भी जिम्मेदार है. अमेरिका की जनता और नेताओं को मास शूटिंग रोकने की दिशा में कठोर कदम उठाने चाहिए वरना अमेरिका को ही नहीं, इस का दुष्प्रभाव अन्य देशों को भी झेलना पड़ सकता है.

1 min read
Sarita
May First 2021

गायत्री प्रजापति पर कस गया ईडी का शिकंजा

दलित समाज को उम्मीद होती है कि उस के बीच से उठा कोई युवक अगर देश की राजनीति में अपनी जगह बनाता है तो वह अपनी बिरादरी को गरीबी, अशिक्षा और जिल्लत की जिंदगी से उबारने के लिए कुछ करेगा. मगर अफसोस कि राजनीति में आने के बाद दलित नेता भी सवर्णों का चोला ओढ़ कर लूटकांड और दरिंदगी के झुंड का हिस्सा बन जाते हैं. उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति की कहानी इसी की बानगी है.

1 min read
Sarita
May First 2021

धर्म और राजनीति के वार रिश्ते तारतार

धर्म और राजनीति हमेशा से इंसान व समाज पर गहरा प्रभाव डालते रहे हैं. कभीकभी इन की प्रस्तुति मिथ्या के कारण भारी विवाद पैदा होते रहे हैं. लेकिन आपसी रिश्तों में भी जब धर्म और राजनीति का दखल अधिकाधिक घुसपैठ करने लगे तो क्या परिणाम निकल कर आते हैं, जानें इस खास रिपोर्ट में.

1 min read
Sarita
May First 2021

Page 1 of 12

12345678910 Next