टोक्यो ओलिंपिक: खिलाड़ी गाली के नहीं इज्जत के हकदार
Saras Salil - Hindi|August Second 2021
ओलिंपिक खेलों में शिरकत करना इज्जत और गौरव की बात है. ऐसे में अगर वंदना कटारिया और दूसरी महिला खिलाड़ी हौकी के सैमीफाइनल मुकाबले में अच्छा खेल नहीं दिखा पाईं, तो क्या किसी एक खिलाड़ी को उस की जाति को ले कर उसे या उस के परिवार वालों को गाली दी जानी चाहिए या फिर खिलाड़ी का जोश बढ़ाना चाहिए?
सुरेशचंद्र रोहरा

दरअसल, खिलाड़ी हमारे देश के गौरव हैं और खेल में हारजीत तो होती ही रहती है. इस के अलावा खेल को खेल भावना के साथ अंजाम देने की नसीहत भी दी जाती है. ऐसे में अगर 2-4 लोग बेकाबू हो कर किसी खिलाड़ी के घर के सामने ऊलजुलूल नारेबाजी करने लगें, तो यह बात पूरे देश के लिए शर्मनाक है. ऐसे लोगों को माफ नहीं किया जाना चाहिए.

इस से यह भी साबित होता है कि अभी भी हमारे देश के बहुत से इलाकों में जातपांत की छोटी सोच रखते हुए लोग अपनी जिंदगी बसर कर रहे हैं.

मामला कुछ यों है कि जातिसूचक शब्दों के इस्तेमाल और घर के सामने पटाके जला कर बेइज्जती करने के सिलसिले में पुलिस ने 5 अगस्त, 2021 को हरिद्वार जिले के रोशनाबाद इलाके में एक आदमी को गिरफ्तार कर भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया, जो एक सबक हो सकता है कि अब हमें जातपांत के भेदभाव से ऊपर उठना चाहिए.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARAS SALIL - HINDIView All

टोक्यो पैरालिंपिक, 2020 कल तक अनजान आज हीरो

भारत जैसे देश में जहां खेलों को सरकारी नौकरी पाने का जरीया माना जाता है, वहां खेल के प्रति इज्जत और खेल प्रेमी बहुत कम ही हैं. उन के लिए वही खिलाड़ी बड़ा है, जो ओलिंपिक खेलों में मैडल जीते.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

कांग्रेस: मुश्किल दौर में भी मजबूत

पिछले कुछ साल से कांग्रेस पार्टी में भीतरी कलह कुछ ज्यादा ही दिखाई दे रही है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव जीतने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने तो ठान ही लिया था कि वह देश को 'कांग्रेस मुक्त' कर देगी.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

फिल्म इंडस्ट्री में भाईभतीजावाद उभरते कलाकारों के लिए खतरनाक

फिल्म इंडस्ट्री एक ऐसी जगह है, जहां हर कोई अपने सपने पूरे करना चाहता है, लेकिन वहां की चकाचौंध के पीछे का अंधेरा वे लोग ही महसूस कर पाते हैं, जो यहां पर आ कर जद्दोजेहद करते हैं और सालों बाद मिली कामयाबी को भी ठीक से संभाल नहीं पाते. इस की साफ और सीधी वजह है यहां पर सालों से चल रही गंदी राजनीति, गुटबाजी और भाईभतीजावाद.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

रुमा देवी: झोपड़ी से यूरोप तक

फैंशन शो यानी तरहतरह के कपड़ों को नए अंदाज में पेश करने का जरीया. इसी तरह का एक फैशन शो चल रहा था, जिस में अनोखी कढ़ाई से सजे कपड़े पहन कर फैशनेबल मौडल रैंप पर आ कर सधी चाल में चल रही थीं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

पकड़ौवा विवाह बंदूक की नोक पर शादी

कहते हैं कि शादी ऐसा लड्डू है, जो खाए वह पछताए और जो न खाए वह भी पछताए. लेकिन वहां आप क्या करेंगे, जहां जबरन गुंडई से आप की मरजी के खिलाफ आप के मुंह में यह लड्डू टूंसा जाने लगे? हम बात कर रहे हैं 'पकड़ौवा विवाह' की, जो बिहार के कुछ जिलों में आज भी हो रहे हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

हिंदू धर्म में गोवर की पूजा इनसानों से छुआछूत

हिंदू धर्म में पेड़पौधे की पूजा की जाती है. तुलसी के पौधे में रोजाना जल दिया जाता है. पीपल के पेड़ के नीचे दीया जलाया जाता है और पूजा की जाती है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

गांव की औरतें: हालात बदले सोच वही

राज कपूर ने साल 1985 में फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली'बनाई थी, जो पहाड़ के गांव पर आधारित थी. इस में हीरोइन मंदाकिनी ने गंगा का किरदार निभाया था, फिल्म का सब से चर्चित सीन वह था, जिस में मंदाकिनी झरने के नीचे नहाती है. वह एक सफेद रंग की सूती धोती पहने होती है. पानी में भीगने के चलते उस के सुडौल अंग दिखने लगते हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
August Second 2021

टोक्यो ओलिंपिक: खिलाड़ी गाली के नहीं इज्जत के हकदार

ओलिंपिक खेलों में शिरकत करना इज्जत और गौरव की बात है. ऐसे में अगर वंदना कटारिया और दूसरी महिला खिलाड़ी हौकी के सैमीफाइनल मुकाबले में अच्छा खेल नहीं दिखा पाईं, तो क्या किसी एक खिलाड़ी को उस की जाति को ले कर उसे या उस के परिवार वालों को गाली दी जानी चाहिए या फिर खिलाड़ी का जोश बढ़ाना चाहिए?

1 min read
Saras Salil - Hindi
August Second 2021

लोकतंत्र का माफियाकरण

साल 2022 के 15 अगस्त को आजादी की 75वीं सालगिरह मनाई जाएगी. इस के लिए अमृत महोत्सव' की बड़े पैमाने पर तैयारी चल रही है. 26 जनवरी, 2022 को हमारा लोकतंत्र भी 72वें साल में दाखिल हो जाएगा.

1 min read
Saras Salil - Hindi
July Second 2021

गरीबों के लिए कौन अच्छा मायावती अखिलेश या प्रियंका

कांग्रेस हमेशा से राजनीति में सभी जाति, धर्म और गरीब व कमजोर तबके को साथ ले कर चलती रही है. समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने बीसी, एससी और कमजोर तबके की राजनीति की है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
August First 2021