Sarita Magazine - March Second 2023Add to Favorites

Sarita Magazine - March Second 2023Add to Favorites

Go Unlimited with Magzter GOLD

Read Sarita along with 9,000+ other magazines & newspapers with just one subscription  View catalog

1 Month $9.99

1 Year$99.99

$8/month

(OR)

Subscribe only to Sarita

1 Year $10.99

Save 57%

Buy this issue $0.99

Gift Sarita

7-Day No Questions Asked Refund7-Day No Questions
Asked Refund Policy

 ⓘ

Digital Subscription.Instant Access.

Digital Subscription
Instant Access

Verified Secure Payment

Verified Secure
Payment

In this issue

For more than 6 decades, Sarita has been one of the most trusted voices of social change.. The magazine features insightful commentary on social and political issues, thoughtful and entertaining fiction, as well as a distinctive mix of articles on subjects ranging from economy, travel, health, poetry, life and entertainment. It has remained one of most widely read Hindi magazines over the last seven decades.

पंजाब में फिर से आग चिंगारी किस ने लगाई

अलगाव की आवाजें चाहे अमृतसर से आएं या वाराणसी से, देश के लिए बड़ा खतरा हैं. चूंकि इन की जड़ में धर्म होता है इसलिए इन से निबट पाना आसान नहीं होता. न तो खालिस्तान की मांग नई है और न ही हिंदू राष्ट्र की. लेकिन अब दोनों समुदाय एकदूसरे को उकसा रहे हैं, जो कतई अच्छे संकेत नहीं हैं.

पंजाब में फिर से आग चिंगारी किस ने लगाई

10+ mins

महंगाई और धार्मिक यात्राओं ने बिगाड़ा बचत का गणित

एक तरफ महंगाई के चलते लोगों की बचत कम हो रही है, दूसरी तरफ वे अपनी मेहनत की कमाई धार्मिक स्थलों की भेंट चढ़ा देते हैं. यह इसलिए कि लोगों की चर्चाओं से उन के मूल मुद्दे गायब कर दिए गए हैं.

महंगाई और धार्मिक यात्राओं ने बिगाड़ा बचत का गणित

10+ mins

अडानी पर आंच

हिंडनबर्ग ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया कि अडानी समूह दशकों से शेयरों के हेरफेर और अकाउंट की धोखाधड़ी में लिप्त रहा. यही नहीं, मौरीशस से ले कर संयुक्त अरब अमीरात तक अनेक टैक्स हैवन देशों में अडानी परिवार ने कई मुखौटा कंपनियां खोल रखी हैं, जिन के तहत मनीलौंड्रिंग और भ्रष्टाचार का जबरदस्त खेल हो रहा है.

अडानी पर आंच

6 mins

बुलडोजरवाद लोकतंत्र को रौंदती विचारधारा

बुलडोजरवाद का उद्गम तथाकथित 'शीघ्र न्याय' से होते हुए महज कुछ वर्षों में राजनीतिक हथकंडे और न्यायिक प्रक्रिया को लांघ कर त्वरित न्याय करने के रूप में बदल गया है. बुलडोजर न्याय धीरेधीरे एक विचारधारा का रूप लेता जा रहा है जो ठोस न्यायिक उपायों के भाव में एक ऐसा विकल्प बन गया है जो प्राकृतिक न्याय के मूल्यों के विपरीत है.

बुलडोजरवाद लोकतंत्र को रौंदती विचारधारा

5 mins

स्कूलों के कल्चरल प्रोग्राम एक बोझ

अब स्कूल शिक्षा के मंदिर नहीं, बल्कि कमाई के अड्डे बन चुके हैं. मांबाप के लिए अपने बच्चों को शिक्षित करना सबकुछ दांव पर लगाने जैसा हो चुका है. हर साल मनमानी फीस वृद्धि और आएदिन कल्चरल प्रोग्राम के नाम पर पैसे और सामान की मांग पेरेंट्स के ऊपर एक बड़ा बोझ साबित हो रहा है.

स्कूलों के कल्चरल प्रोग्राम एक बोझ

6 mins

अंधविश्वास का भ्रमजाल

घरपरिवारों में बचपन से ही हमें अंधविश्वास के घेरे में ऐसे पालपोस कर बड़ा किया जाता है कि बड़े हो कर हम उस का पालन करने लगते हैं. समस्या यह है कि विज्ञान की देन से युवा आजकल मौडर्न और तकनीकी जरूर हो गए हैं पर वे अंधविश्वास के मामले में भी पीछे नहीं हैं, जिस का खमियाजा भुगतना पड़ रहा है.

अंधविश्वास का भ्रमजाल

9 mins

छाती में गोली लगने पर क्या करें

पहले जमीन, संपत्ति, धन को ले कर हुए फसादों में गोलीकांड की घटनाएं हो जाती थीं, अब तो सड़क पर अजनबियों से होने वाली तुनकबाजी तक में गोलीकांड की घटनाएं घट रही हैं. जरूरी यह है कि समझा जाए ऐसे मौके पर क्या किया जाए जब गोली छाती में लगी हो.

छाती में गोली लगने पर क्या करें

8 mins

अपने बच्चे को वैल बिहेव्ड बनाएं

बच्चा जो कुछ भी सीखता है, अपने परिवेश से सीखता है. इस में उस के मातापिता का व्यवहार सब से ज्यादा माने रखता है. बच्चा तभी वैल बिहेव्ड हो सकता है जब उस के सामने उदाहरण हो.

अपने बच्चे को वैल बिहेव्ड बनाएं

5 mins

जब पत्नी करे परेशान

पतिपत्नी में जब कभी झगड़ा होता है तो यह मान लिया जाता है कि सारी गलती पति की ही होगी. कानून भी उसी अनुसार बनाए गए हैं जिन में पत्नियों की आवाज को ज्यादा सुना जाता है पर क्या हो जब कोई पत्नी पति को टौर्चर करे?

जब पत्नी करे परेशान

4 mins

"पति की मौत के बाद डिप्रेशन का शिकार हो गई थी मैं" शांती प्रिया

90 के दशक की मशहूर व सुंदर अभिनेत्री शांती प्रिया लंबे ब्रेक के बाद फिल्मों में वापसी करने जा रही हैं. वे आगामी फिल्म में सरोजिनी नायडू की भूमिका में नजर आएंगी. फिल्मों से दूरी बनाने के लंबे अंतराल में उन का जीवन कई उठापटकों से गुजरा जिस पर उन्होंने खुल कर बात की.

"पति की मौत के बाद डिप्रेशन का शिकार हो गई थी मैं" शांती प्रिया

8 mins

Read all stories from Sarita

Sarita Magazine Description:

PublisherDelhi Press

CategoryNews

LanguageHindi

FrequencyFortnightly

Sarita Magazine is a fortnightly Hindi magazine published by the Delhi Press Group. It was first published in 1945. The magazine targets women, and embodies the ideology of social and familial reconstruction.

Sarita Magazine is known for its wide range of content, including:

* Family stories: Sarita Magazine features stories about family relationships, including parent-child relationships, husband-wife relationships, and sibling relationships.
* Social issues: Sarita Magazine also covers a variety of social issues, such as gender equality, women's empowerment, and child welfare.
* Culture and tradition: Sarita Magazine also features articles on Indian culture and tradition, including festivals, customs, and beliefs.
* Health and lifestyle: Sarita Magazine also covers health and lifestyle topics, such as nutrition, fitness, and beauty.
* Fashion and entertainment: Sarita Magazine also features articles on fashion and entertainment, including the latest trends in clothing, movies, and music.

Sarita Magazine is a valuable resource for women who are interested in a variety of topics, including family, society, culture, health, lifestyle, fashion, and entertainment. It is a must-read for any woman who is looking to stay informed about the latest trends and developments in these areas.

  • cancel anytimeCancel Anytime [ No Commitments ]
  • digital onlyDigital Only
MAGZTER IN THE PRESS:View All