कैसे मिलेगी मुझे मां लक्ष्मी की कृपा?
Grihshobha - Hindi|September First 2021
रतलाम की सविताजी की तरह आपके मन में भी यह सवाल उठता तो जरूर होगा?

आइए, आपकी मुलाकात करवाते हैं हैं सविताजी से. हिंदुस्तान के लाखों लोगों की तरह इनके मन में भी एक सवाल बार-बार उमड़ता रहता है, "जिस लक्ष्मी मैया ने अपनी कृपा से सैकड़ों लोगों को जमीन से उठा कर आसमान में पहुंचा दिया, गरीबी से निकाल कर मालामाल कर दिया, वह लक्ष्मी मां कभी हमारे द्वार क्यों नहीं पधारतीं?"

सोनी सब के नए शो 'शुभ लाभ... आपके घर में में आप मिलेंगे सविताजी यानी गीतांजलि टिकेकर से. इनकी आशाएं और आकांक्षाएं इतनी मनोरम और दिलचस्प हैं कि वे आपके दिल में घर कर लेंगी.

हिंदुस्तानी परिवारों की तमाम महिलाओं की तरह ही सविताजी अपने परिवार के भले के अलावा और कुछ सोच नहीं पातीं. दिन-रात भगवान से वे एक ही प्रार्थना किया करती हैं, 'हे भगवान, सबको तरक्की दो और मेरे घर को धन-धान्य से भर दो.' यह तमन्ना पूरी हो जाए इसके लिए वे लक्ष्मीजी को प्रसन्न करने के लिए उनके पूजापाठ में लगी रहती हैं. सवाल यह है कि क्या सचमुच कभी लक्ष्मी मैया उनकी पूजा से इतनी खुश हो जाएंगी कि उनकी झोली रुपए-पैसे से भर देंगी?

लक्ष्मीजी से इस तरह की तमाम धारणाएं जुड़ी हुई हैं. धन पाने के लिए लक्ष्मी पूजा की आस्था दिलों में न जाने कब से बसी हुई है. कितनी सही हैं ये धारणाएं? कितना महत्त्व है पूजा-पाठ का? सविताजी अपनी कहानी से ऐसे ही कई सवालों पर से परदा उठाएंगी इस बार. रतलाम की सविताजी के बहाने आप भी अपने आप से पूछने लगेंगे, 'कैसे मिले मुझे मां लक्ष्मी की कृपा' क्योंकि सविताजी तो हम सब में भी बसती हैं ना.

'शुभ-लाभ आपके घर में?' के बारे में कुछ बताइए.

इस शो की अवधारणा हिंदुस्तान की आम गृहिणियों की असल जिंदगी पर आधारित है. परिवार का केंद्रबिंदु वही होती है. उनके सपने, आशाएं, तमन्नाएं सभी कुछ सिर्फ परिवार को लेकर ही होता है. सारी ऊंच-नीच वे परिवार की खातिर झेल जाती हैं. हमारे सभी परिवार की गृहिणियों के साथ यही सब होता है. हम सब पैसे से जुड़ी परेशानी, बच्चों के करियर और पूरे परिवार की खुशियों को लेकर तनाव से गुजरते हैं, लेकिन इस शो से जुड़ी जो बात इसे दर्शकों से जोड़ेगी, वह है इसका अलग हटकर कॉन्सेप्ट. हम एक ऐसे समाज में रह रहे हैं, जो अपनी समस्याओं से छुटकारा पाने को छटपटा रहा है जबकि अनेक समस्याओं का निदान तो खुद आपके भीतर ही मौजूद है. जरूरत बस अपने आप को बदलने की है. इस शो का कॉन्सेप्ट हमारी जिंदगी की असलियत और परमात्मा की मौजूदगी के विश्वास के बीच की उस रेखा के बारे में सोचने पर मजबूर कर देगा जिसे हम या तो अमिट मान लेते हैं या फिर पूरी तरह उसकी अनदेखी करते रहते हैं.

सविता का आपका किरदार किन मायनों में अलग हटकर है? उसके बारे में ऐसी एक कौन-सी बात है, जो आपको सबसे ज्यादा पसंद है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM GRIHSHOBHA - HINDIView All

गर्ल्स पीजी में रहने से पहले

होस्टल या पीजी में रहने से पहले यह बेहद जरूरी है कि आप अपनी ओर से पूरी सावधानी बरतें...

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

पोस्ट कोविड तनाव को कहें गुडबाय

अगर आप भी पोस्ट कोविड तनाव से पीड़ित हैं, तो यह जानकारी आप के लिए ही है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

बजट में ब्यूटी शौपिंग टिप्स

त्योहारों में ब्यूटी प्रोडक्ट्स की खरीदारी करने से पहले यह जानना आप के लिए बेहद जरूरी है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

फैस्टिव मेकअप लुक

इस त्योहार अपनी खूबसूरती से लोगों की तारीफ बटोरना चाहती हैं, तो यह जानकारी आप के लिए ही है....

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

बॉडी लोशन से पाएं ग्लोइंग स्किन

बदलते मौसम त्वचा की नमी बनाए रखना कितना जरूरी है जानिए जरूर...

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

कामसूत्र टैबू नहीं

अपनी यौन इच्छाओं को खुल कर बताने में भारतीय महिलाएं आज भी हिचकती हैं. आखिर कामसूत्र के देश में सैक्स टैबू क्यों...

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

उत्सवी स्वाद

हमारा संतुलित आहार ही स्वस्थ जीवन का आधार है, क्योंकि खान-पान में गड़बड़ी होगी तो हमारे जीवन में उसका विपरीत प्रभाव पड़ेगा । पौष्टिक भोजन जीवन दान देता है , स्वस्थ शरीर प्रदान करता है ।

1 min read
Grihshobha - Hindi
October First 2021

महिलाओं के खिलाफ नया हथियार रिवेंज पोर्न

पितृसत्ता और महिलाओं पर नियंत्रण की घटिया सोच ने एक ऐसे अपराध को जन्म दिया है, जिस के बारे में जान कर रौंगटे खड़े हो जाएंगे...

1 min read
Grihshobha - Hindi
September Second 2021

फैस्टिव ब्यूटी ट्रिक्स

फैस्टिव सीजन में अपनी बेइंतिहा खूबसूरती से लोगों को दीवाना बनाना चाहती हैं, तो जरा यह भी जान लीजिए...

1 min read
Grihshobha - Hindi
September Second 2021

तो आसान होगी तलाक के बाद दूसरी शादी

तलाक के बाद आप अपनी खुशी फिर से चुन सकती हैं, बशर्ते यह एक ऐसा निर्णय हो जिस में प्यार भी हो और सम्मान भी...

1 min read
Grihshobha - Hindi
September Second 2021