दीवाली आधी मीठी आधी फीकी
Sarita|November First 2021
इस दीवाली लोगों का हाथ तंग है और अनापशनाप बढ़ती महंगाई ने त्योहार के उत्साह पर पानी फेर दिया है. इस के बाद भी मन में कहीं शुभलाभ की दबी इच्छा है जो हर हाल में खुश रहने का संदेश देती है. दीवाली का अपना एक आर्थिक व सामाजिक महत्त्व है लेकिन इस साल सबकुछ ठीकठाक नहीं है.
भारत भूषण श्रीवास्तव के साथ रोहित

सबकुछ वैसा ही दिख रहा और दिखाया जा रहा है जैसा एक आदर्श और परंपरागत दीवाली पर होना चाहिए. मसलन, देश रोशनी से नहाया हुआ है, गुलजार बाजारों में चहलपहल है, रियल एस्टेट में बूम आया हुआ है, औटो मोबाइल सैक्टर की बल्लेबल्ले हो रही है, सर्राफा बाजार पर लक्ष्मी बरस रही है, इलैक्ट्रोनिक्स के आइटम्स खरीदने के लिए भीड़ टूटी पड़ रही है, कपड़े की दुकानों में पांव रखने की जगह नहीं है और धनतेरस पर जम कर बरतनों की खरीदारी होने की संभावना है वगैरहवगैरह.

दिखाने के इन दांतों से परे खाने के दांतों की बात करें तो इस दीवाली आम लोगों का मूड उखड़ाउखड़ा सा है क्योंकि सब की जेबें खाली हैं, इसलिए उन के चेहरों पर पहले सी खुशी और मन में उत्साह नहीं है. एकदूसरे को देने को जबां पर शुभकामनाएं हैं पर मन में एक सफेद हैं झूठ बोलने का अपराधभाव भी है.

आतिशबाजी के बहिष्कार या उस के कम चलाने को प्रोत्साहित इसलिए नहीं किया जा रहा कि उस से कोई ध्वनि प्रदूषण की चिंता किसी को सताने लगी हो बल्कि इसलिए कि यह उन मदों में से एक है जिन में कटौती करना मजबूरी हो चली है.

मिठाई से शुगर यानी डायबिटीज होने की दलील लोग देने लगे हैं तो सहज समझा जा सकता है कि हम दीवाली मना नहीं रहे हैं, बल्कि मनाने का स्वांग कर रहे हैं.

भार बना त्योहार

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

तलाक से परहेज नहीं

मुसलिम समाज में तलाक को ले कर हकीकत से ज्यादा हल्ला मचाया गया, आज मुसलिम महिलाएं पढ़लिख रही हैं, अपने अधिकार जान रही हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

धर्म और बेवकूफी का शिकार श्रीलंका

श्रीलंका में इन दिनों भारी उथलपुथल मची हुई है, लोग महंगाई से त्रस्त हैं और आम जनजीवन ठप है. सड़कों पर लोगों के भारी प्रदर्शन बता रहे हैं कि श्रीलंका में कुछ भी ठीक नहीं. इस स्थिति का जिम्मेदार चीन को ठहराया जा रहा है, पर जितना जिम्मेदार चीन है उस से कहीं ज्यादा राजपक्षे ब्रदर्स की नीतियां हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

सीयूईटी परीक्षा पिछडों पर भारी रभ ऊंचों की चतुराई

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में अब दाखिले के लिए 12वीं के अंकों की जगह एंट्रेंस एग्जाम को लागू किया गया है. सतही तौर पर देखने में यह फैसला क्रांतिकारी लग रहा है, पर भीतर से यह विनाशकारी और कुछ को कमाई के अपार अवसर देने की साजिश वाला लग रहा है. इस से विश्वविद्यालयों में दाखिले तो उन्हीं के होंगे, जिन के पास पैसा है अब इस ने शिक्षा को ले कर नए प्रश्न खड़े कर दिए हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

शहरों में गंवार

नए गंवार शहरों में बसे हैं. ये पढ़ेलिखे हैं, खुद को आधुनिक कहते हैं, पर इन के तौरतरीके ऐसे हैं कि गांव का अनपढ़ आदमी भी शरमा जाए. गंवारों की इस पौध का इलाज जरूरी है.

1 min read
Sarita
April Second 2022

एलोपेसिया ग्रसित महिला का मजाक पड़ा महंगा

एलोपेसिया किसी को भी हो सकता है, लेकिन इस से ग्रसित किसी व्यक्ति का मजाक उड़ाना बिलकुल ठीक नहीं, जैसा औस्कर अवार्ड में देखने को मिला. आइए जानें कि क्या है एलोपेसिया.

1 min read
Sarita
April Second 2022

खाली घोंसला जब घर छोड कर चले जाएं बच्चे

जमाना बदल रहा है. बच्चे अब घरपरिवार से दूर रह कर अपना कैरियर और जौब तलाशने लगे हैं. इसे समय की मांग भी कहा जा सकता है. ऐसे में घबराए नहीं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

आम आदमी पार्टी सीटें हैं नीति नहीं

आम आदमी पार्टी विकल्प के रूप में भले ही कुछ चुनाव जीत ले लेकिन राजनीतिक विचारधारा के अभाव में उस का लंबे समय तक राजनीति करना आसान नहीं होगा. सामाजिक, आर्थिक व विश्व विचारधारा के अभाव में कोई भी दल न केवल अपने देश बल्कि विदेशों में भी अपनी छाप नहीं छोड़ पाता है.

1 min read
Sarita
April Second 2022

'वीकली हाट' हो गई कंटैंट राइटिंग

मीडिया आज पूरी तरह से व्यवसाय का रूप ले चुका है, इस से कंटेंट राइटर की लेखनी ने पैशन की जगह पेशे का रूप ले लिया है. आज लेखक कम, कंटेंट राइटर हर जगह खड़े हैं, जो सहीगलत का नजरिया पेश नहीं कर पाते.

1 min read
Sarita
April Second 2022

“मैं ऐक्शन और कट के बीच में रहता हूं

प्योर हरियाणवी बोलने वाले मोहित कुमार ऐक्टिंग जगत में कदम रखने से पहले हिंदी नहीं बोल पाते थे, लेकिन अब चीजें ऐसी बदली हैं कि 'सब सतरंगी' शो में वे लखनवी बोली फर्राटे से बोल रहे हैं.

1 min read
Sarita
March Second 2022

विधानसभा चुनाव 2022 नारे और वादे की जीत

भाजपा ने हिंदुत्व के एजेंडे को सामने रख कर चुनाव लड़ा. इस में लोकलुभावन वादे और नारों की भरमार थी. 'आप' के अलावा विपक्ष अपना एजेंडा जनता के सामने रख पाने में असफल रहा. वहीं, नारे और वादे के बल पर चुनाव तो जीते जा सकते हैं पर देश नहीं चलाया जा सकता. देश चलाना एक 'स्टेट क्राफ्ट' है, जिस में भाजपा फेल हुई या पास, यह सवाल सदा खड़ा रहेगा.

1 min read
Sarita
March Second 2022
RELATED STORIES

An Epic Phone-a-Thon

India’s smartphone shoppers will be spoiled for choice this festive season

4 mins read
Bloomberg Businessweek
November 09, 2020

उत्सवी खानपान यों रखें सेहत का ध्यान

खानपान के इन तरीकों से न सिर्फ त्योहार अच्छे से मना सकेंगे, आप की सेहत भी अच्छी रहेगी.

1 min read
Grihshobha - Hindi
October Second 2021

त्योहार की शोभा बढ़ाती रंगोली

रोशनी के त्योहार में रंगोली के रंग भी घुलमिल जाएं तो रौनक देखते ही बनती है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
November First 2021

फ्रेश लुक के लिए 5 फेस मास्क

इस दीवाली घर के सभी कामों को करते हुए मिनटों में फ्रेश लुक पा सकती हैं. कैसे, यह हम आप को बताते हैं...

1 min read
Grihshobha - Hindi
November First 2021

'लंदन में पहली दीवाली'

कादम्बरी मेहरा की अतीत की अनुगूंज से.....

1 min read
DASTAKTIMES
November 2021

मुश्किल नहीं धन की देवी को खुश करना

दीपावली में मां लक्ष्मी आपके घर आए इसके लिए सही तरीके से पूजा-पाठ के साथ-साथ वास्तु से जुड़ी कुछ और चीजों को ध्यान में रखना जरूरी होता है। मां लक्ष्मी की आराधना के दौरान किन चीजों को ध्यान में रखें

1 min read
Anokhi
October 30, 2021

कर लीजिए तैयारी लक्ष्मी हैं आने वाली

लक्ष्मी मां आने वाली हैं। उन्हें रिझाने, अपने घर बुलाने और प्रसन्न करने के लिए आपको कुछ विशेष काम करने होते हैं। जिसके लिए आपको माता की पसंद और ना पसंद का ख्याल रखना होता है। वह क्या हैं और आप उनका प्रयोग कैसे कर सकती हैं

1 min read
Anokhi
October 30, 2021

इस बार झटपट होगी सफाई

दौड़तीभागती जिंदगी में आम दिनों की सफाई ही बड़ा काम है। ऐसे में दिवाली की सफाई के कहने ही क्या! पर, थोड़ी समझदारी से इस काम को भी आसानी से किया जा सकता है।

1 min read
Anokhi
October 30, 2021

रजनीकांत ने दी लगातार 9वीं 100 करोड़ी फिल्म...

दक्षिण भारत के सुपर सितारे रजनीकांत ने 70 वर्ष की उम्र के बावजूद वहां पर अपना सुपर पॉवर जारी रखा है।

1 min read
Hari Bhoomi
November 10, 2021

होस्टल वाली दीवाली

जो लोग होस्टल में रहे हैं उन्हें पता है कि वे उन की जिंदगी के कभी न भूलने वाले पल हैं. होस्टल की जिंदगी मजेदार भी होती है और परेशानियों से भरी भी. बावजूद इस के, होस्टल में रह कर त्योहारों के समय जो खुशियां मिलती हैं, जो आजादी और मस्ती मिलती है, वह कहीं और नहीं मिलती.

1 min read
Mukta
October 2021