बरबाद होती फिल्म इंडस्ट्री
Sarita|May First 2021
मार्च माह की शुरुआत से देश, खासकर फिल्म नगरी मुंबई में कोरोना की नई लहर हावी हो गई है. इस ने पहले से ही बरबाद हो चुकी फिल्म इंडस्ट्री को ऐसे मुकाम पर पहुंचा दिया है कि अब तो उस की कमर ही टूट सी गई है. कोरोना का फिर से जिस तरह का माहौल बना है उस से तो यही आभास हो रहा है कि शायद अब फिल्म इंडस्ट्री कभी उबर न पाए.
शांतिस्वरूप त्रिपाठी

कोरोना महामारी की वजह से गत वर्ष 17 मार्च से फिल्म इंडस्ट्री लगभग ठप पड़ी हुई है. जब 2020 में कोरोना की लहर ने पसरना शुरू किया था तब किसी को उम्मीद न थी कि यह कोरोना की लहर फिल्म इंडस्ट्री को ऐसी तबाही के मुकाम पर ला कर खड़ा कर देगी कि इस के लिए फिर से अपने पैरों पर खड़ा होना मुश्किल हो जाएगा. पर ऐसा हुआ. जानकारों की मानें तो 2020 में फिल्म इंडस्ट्री को करीबन 2,500 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है.

अक्तूबर 2020 के बाद धीरेधीरे फिल्म इंडस्ट्री ने काम करना शुरू किया था और लोगों के अंदर एक आशा की किरण जागी थी कि जल्द ही सबकुछ ठीक हो जाएगा, मगर फिल्म इंडस्ट्री में सिर्फ 25 प्रतिशत ही काम शुरू हो पाया था कि कोरोना की नई लहर इस इंडस्ट्री के लिए ऐसी तबाही ले कर आई है कि अब इसे पटरी पर लाना किसी के भी बस की बात नहीं है. लगभग सभी पस्त हो चुके हैं. यह ऐसा कड़वा सच है जिस पर फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के साथसाथ सरकार को भी गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है.

यों तो 2020 की शुरुआत भी फिल्म इंडस्ट्री के लिए अच्छी नहीं हुई थी. जनवरी से 15 मार्च 2020 तक सिर्फ अजय देवगन की फिल्म 'तान्हाजी' ने ही बौक्स औफिस पर अच्छी कमाई की थी. इस फिल्म के अतिरिक्त अन्य फिल्में बौक्स औफिस पर बुरी तरह से धाराशायी हो गई थीं. उस के बाद कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए सिनेमाघर मालिकों ने सुरक्षा के दृष्टिकोण से एहतियातन सिनेमाघर बंद करने शुरू कर दिए थे और 17 मार्च से पूरे देश के सिनेमाघर बंद हो गए.

फिल्म इंडस्ट्री में कार्यरत वर्करों व तकनीशियनों के स्वास्थ्य के मद्देनजर फिल्म इंडस्ट्री की सभी 32 एसोसिएशनों ने एकमत से 19 मार्च से फिल्म, टीवी सीरियल व वैब सीरीज की शूटिंग स्थगित कर दी थी. उस वक्त इंडस्ट्री के अंदर चर्चा थी कि 15 दिनों में सबकुछ सामान्य हो जाएगा और फिर शूटिंग शुरू हो जाएगी, पर ऐसा संभव न हो पाया. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 मार्च से पूरे देश में सख्त लौकडाउन लगा दिया.

देश के हर इंसान की तरह फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ा हर शख्स अपनेअपने घरों में कैद हो गया. उस वक्त बड़ेबड़े कलाकारों व निर्मातानिर्देशकों को इस से शुरुआत में असर नहीं पड़ा. विक्की कौशल व कैटरीना कैफ सहित कई कलाकार लौकडाउन को मजाक में लेते हुए अपने घर में झाड़ लगाते हुए या पंखा साफ करते हुए वीडियो बना कर सोशल मीडिया पर साझा करने लगे.

मगर 15 दिनों बाद कोरोना के कहर से फिल्म इंडस्ट्री का डेलीवेज पर काम करने वाला वर्कर व तकनीशियन कराह उठा. कई जूनियर आर्टिस्ट, स्पौट बौय व अन्य वर्करों के साथ तकनीशियनों के घर पर दो वक्त की रोटी का अकाल पड़ गया. उस वक्त सलमान खान, गायिका सोना मोहपात्रा, गायिका पलक, सोनू सूद सहित चंद फिल्मी हस्तियों ने आगे बढ़ कर वर्करों को राशन व कुछ धनराशि अपनी तरफ से मुहैया कराई. कुछ टीवी के कलाकारों ने अपने स्तर पर धन इकट्ठा कर लोगों की मदद की. फिर फैडरेशन औफ वैस्टर्न इंडिया सिने इंपलाइज और 'सिंटा' भी हरकत में आई. मगर 3 माह के बाद सब चुप हो गए.

इस बीच सरकार से मदद की गुहार काम न आई. जबकि राजनीति ने अपना काम करना शुरू कर दिया. आखिरकार जुलाई माह में कई शर्तों के साथ टीवी सीरियलों की शूटिंग की इजाजत दी गई. धीरेधीरे टीवी सीरियलों की शूटिंग शुरू हुई, पर सैट पर कलाकार व तकनीशियन कोरोना संक्रमित होते रहे. कुछ दिन शूटिंग बंद और फिर शूटिंग का सिलसिला शुरू हो गया.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

स्वास्थ्य बीमा लिया क्या

आम कोरोना की दूसरी लहर ने तो आम, खासे खातेपीते लोगों की भी कमर तोड़ दी है. इलाज के खर्च का भार कम करने के लिए स्वास्थ्य बीमा एक बेहतर विकल्प है.

1 min read
Sarita
June First 2021

अनाथ बच्चे गोद लेने में भी जातीयता

'2 साल की बेटी और 2 माह के बेटे के मातापिता कोविड के कारण नहीं रहे. इन बच्चों को अगर कोई गोद लेना चाहता है तो दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क करें. ये ब्राह्मण बच्चे हैं. सभी ग्रुपों में इस पोस्ट को भेजें ताकि बच्चों को जल्दी से जल्दी मदद मिल सके.' ऐसे मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

"भारत में हर चीज पौलिटिकल नजरिए से देवी जाती है" मनोज मौर्य

प्रतिभाशाली मनोज मौर्य लेखन, पेंटिंग, निर्देशन कुछ भी कह लो, हर काम में माहिर हैं. वे लघु फिल्मों के रचयिता के तौर पर भी जाने जाते हैं. उन की ख्याति विदेशों तक फैली है. बतौर निर्देशक, वे एक जरमन फिल्म बना कर अब फीचर फिल्म की तरफ मुड़े हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

इम्यूनिटी बढ़ाएं जीवन बचाएं

शरीर में इम्यूनिटी का होना वैसे तो हैल्थ के लिए हर समय जरूरी है लेकिन कोरोनाकाल में इस बात का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है कि इसे संतुलन में लगातार कैसे रखा जाए.

1 min read
Sarita
June First 2021

गर्भवती महिलाएं अपना और नवजात का जीवन बचाएं

कोविड संकट के दौर में गर्भवती महिलाओं को संक्रमण का अधिक जोखिम होता है. ऐसा इसलिए, क्योंकि इस समय ऐसी महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है, जिस से खतरा अधिक बना रहता है. ऐसे में गर्भवती महिलाएं कैसे खुद को सुरक्षित रख सकती हैं.आइए जानें?

1 min read
Sarita
June First 2021

धर्म और भ्रम में डूबा रामदेव का कोरोना इलाज

लड़ाई चिकित्सा पद्धतियों के साथसाथ पैसों और हिंदुत्व की भी है. बाबा रामदेव ने कोई निरर्थक विवाद खड़ा नहीं किया है, इस के पीछे पूरा भगवा गैंग है जिसे मरते लोगों की कोई परवा नहीं. एलोपैथी पर उंगली उठाने वाले इस बाबा की धूर्तता पर पेश है यह खास रिपोर्ट.

1 min read
Sarita
June First 2021

पत्रकारिता के लिए खतरनाक भारत

वर्ल्ड प्रैस फ्रीडम इंडैक्स के अनुसार पत्रकारिता के मामले में भारत से बेहतर नेपाल और श्रीलंका जैसे पड़ोसी मुल्क हैं. भारत में सरकार निष्पक्ष पत्रकारों की आवाज दबाने के लिए उन पर राजद्रोह जैसे गंभीर मामले लगा कर उन्हें शांत करने का काम कर रही है.

1 min read
Sarita
June First 2021

नताशा नरवाल- क्रूर, बेरहम और तानाशाह सरकार की शिकार

इस समय जितनी असंवेदनशील कोरोना महामारी है उतनी ही शासन व्यवस्था हो चली है. ऐसे समय में शासन द्वारा राजनीतिक कैदियों को अपने प्रियजनों से दूर करना, यातना देने से कम नहीं है. जबकि, कई तो सिर्फ और सिर्फ इसलिए बिना अपराध साबित हुए जेलों में हैं क्योंकि वे सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहे थे.

1 min read
Sarita
June First 2021

ब्लैक फंगस रंग बदलती मौत

ब्लैक फंगस इन्फैक्शन या म्यूकरमाइकोसिस कोई रहस्यमय बीमारी नहीं है, लेकिन यह अभी तक दुर्लभ बीमारियों की श्रेणी में गिनी जाती थी. भारतीय चिकित्सा विज्ञान परिषद के मुताबिक म्यूकरमाइकोसिस ऐसा दुर्लभ फंगस इन्फैक्शन है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. इस बीमारी से साइनस, दिमाग, आंख और फेफड़ों पर बुरा असर पड़ता है.

1 min read
Sarita
June First 2021

सर्वे और ट्विटर पर खुल रही है पोल प्रधानमंत्री की हवाहवाई छवि

कल तक जो लोग नरेंद्र मोदी के बारे में सच सुनने से ही भड़क जाया करते थे वे आज खामोश रहने पर मजबूर हैं और खुद को दिमागी तौर पर सच स्वीकारने व उस का सामना करने को तैयार कर रहे हैं. लोगों में हो रहा यह बदलाव प्रधानमंत्री की हवाहवाई राजनीति का नतीजा है जिस में 'काम कम नाम ज्यादा' चमक रहा था और अब इस का हवाई गुब्बारा फूट रहा है.

1 min read
Sarita
June First 2021
RELATED STORIES

Lost In Translation

Hey Siri, why don’t digital assistants understand people who don’t sound like white Americans?

8 mins read
Mother Jones
March/April 2021

Jeffrey Archer On How Writing Kept Him Sane In Crazy Times

Jeffrey Archer on how writing kept him sane in crazy times

3 mins read
YOU South Africa
26 November 2020

A Subcontinent Of Inequality

The plight of two women from completely different ends of the social spectrum tells one big story about India

9 mins read
Bloomberg Businessweek
October 26, 2020

Covid-19 After Lockdown

As the UK gradually comes out of lockdown, what do the coming months have in store?

4 mins read
BBC Earth
November - December 2020

How To Bake Bread Brilliantly

With life still in lockdown, more people than ever are turning to baking. Here’s how to bake the perfect loaf, with nutrition scientist Haleh Moravej

2 mins read
Very Interesting
September/October 2020

What Does Isolation Do To Our Brains?

The countrywide lockdown is vital for slowing the spread of COVID-19. But why is it so tough for us to stay at home and what are the consequences?

5 mins read
Very Interesting
September/October 2020

Bollywood Gets a Covid Makeover

As it reopens, health rules mean that big dance numbers are out, social distancing is in

6 mins read
Bloomberg Businessweek
August 03, 2020

Google to Keep Most of Its Employees at Home Until July 2021

Google has decided that most of its 200,000 employees and contractors should work from home through next June, a sobering assessment of the pandemic’s potential staying power from the company providing the answers for the world’s most trusted internet search engine.

2 mins read
AppleMagazine
July 31, 2020

How I Learned to cook again: A Culinary Tragedy

I ate at the best restaurants all the time. Then the pandemic happened, and I had to work my kitchen

9 mins read
Bloomberg Businessweek
June 22, 2020

13 Things: Get a Healthy Home

Most of us have spent more time at home recently than we ever imagined possible.

3 mins read
Reader's Digest US
July - August 2020