नवाज ने रंग दिया फिल्म 'सीरियस मैन' को
Sarita|October Second 2020
काले अतीत से लड़ते और अगली पीढ़ी के सम्मान की खातिर सबकुछ करगुजरने को तैयार अय्यन मणि यानी नवाजुद्दीन सिद्दीकी जाति, वर्ग और दलित राजनीति जैसे कई विषयों पर एकसाथ व्यंग्य करते सीरियस मैन का लबादा ओढ़े रहे जो फिल्म की खास बात है.
पूनम पांडे

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित सेल्मा लोगरलोफ, जो स्वीडिश लेखिका थीं, की एक बेहद चर्चित मनोवैज्ञानिक कहानी है. उस का सौ से अधिक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है. कहानी का नाम है'द रैट ट्रैप'. कहानी का सार यह है कि हम सब इस जगत में किसी लोभ के पीछे भाग रहे हैं वह किसी भी रूप में हो सकता है, जैसे दौलत, शोहरत, मोहब्बत, ताकत आदिआदि. 'सीरियस मैन' फिल्म में शोहरत नामक प्रतीक का इस्तेमाल किया गया है.

हम सब ऐसी दुनिया में रह रहे हैं जहां लोग इस बात की ज्यादा परवा करते हैं कि चीजें ऊपरीतौर पर कैसी दिखती हैं. असल में उस चीज की असलियत क्या है, उस से किसी को लेनादेना नहीं है. अगर असत्य और अटपटे भ्रम एक टोकरी में खूबसूरती से सजा कर हमें उपहार में नवाजे जाते हैं, तो उन्हें सहर्ष स्वीकार करने में हम पीछे नहीं हटते. यह भ्रम इस जीवन का पहिया कैसे बन जाता है, यही इस फिल्म का मूल तत्त्व है.

नवाजुद्दीन सिद्दीकी यानी अय्यन मणि का चरित्र एक ऐसे प्यासे इंसान का अतृप्त दिल है जो यह जानता है कि इसी जीवन में सबकुछ पाया जा सकता है. वह चालनुमा कोठरी में रहता है, लेकिन हर समय उस में कुछ उबल रहा है कि जिसे उसे हासिल करना है. पर कैसे? यही कैसे और येनकेनप्रकारेण के लिए वह अपने द्वारा ही गढ़े गए खोखले तर्कों के जाल में फंस कर रह जाता है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

स्वास्थ्य बीमा लिया क्या

आम कोरोना की दूसरी लहर ने तो आम, खासे खातेपीते लोगों की भी कमर तोड़ दी है. इलाज के खर्च का भार कम करने के लिए स्वास्थ्य बीमा एक बेहतर विकल्प है.

1 min read
Sarita
June First 2021

अनाथ बच्चे गोद लेने में भी जातीयता

'2 साल की बेटी और 2 माह के बेटे के मातापिता कोविड के कारण नहीं रहे. इन बच्चों को अगर कोई गोद लेना चाहता है तो दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क करें. ये ब्राह्मण बच्चे हैं. सभी ग्रुपों में इस पोस्ट को भेजें ताकि बच्चों को जल्दी से जल्दी मदद मिल सके.' ऐसे मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

"भारत में हर चीज पौलिटिकल नजरिए से देवी जाती है" मनोज मौर्य

प्रतिभाशाली मनोज मौर्य लेखन, पेंटिंग, निर्देशन कुछ भी कह लो, हर काम में माहिर हैं. वे लघु फिल्मों के रचयिता के तौर पर भी जाने जाते हैं. उन की ख्याति विदेशों तक फैली है. बतौर निर्देशक, वे एक जरमन फिल्म बना कर अब फीचर फिल्म की तरफ मुड़े हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

इम्यूनिटी बढ़ाएं जीवन बचाएं

शरीर में इम्यूनिटी का होना वैसे तो हैल्थ के लिए हर समय जरूरी है लेकिन कोरोनाकाल में इस बात का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है कि इसे संतुलन में लगातार कैसे रखा जाए.

1 min read
Sarita
June First 2021

गर्भवती महिलाएं अपना और नवजात का जीवन बचाएं

कोविड संकट के दौर में गर्भवती महिलाओं को संक्रमण का अधिक जोखिम होता है. ऐसा इसलिए, क्योंकि इस समय ऐसी महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है, जिस से खतरा अधिक बना रहता है. ऐसे में गर्भवती महिलाएं कैसे खुद को सुरक्षित रख सकती हैं.आइए जानें?

1 min read
Sarita
June First 2021

धर्म और भ्रम में डूबा रामदेव का कोरोना इलाज

लड़ाई चिकित्सा पद्धतियों के साथसाथ पैसों और हिंदुत्व की भी है. बाबा रामदेव ने कोई निरर्थक विवाद खड़ा नहीं किया है, इस के पीछे पूरा भगवा गैंग है जिसे मरते लोगों की कोई परवा नहीं. एलोपैथी पर उंगली उठाने वाले इस बाबा की धूर्तता पर पेश है यह खास रिपोर्ट.

1 min read
Sarita
June First 2021

पत्रकारिता के लिए खतरनाक भारत

वर्ल्ड प्रैस फ्रीडम इंडैक्स के अनुसार पत्रकारिता के मामले में भारत से बेहतर नेपाल और श्रीलंका जैसे पड़ोसी मुल्क हैं. भारत में सरकार निष्पक्ष पत्रकारों की आवाज दबाने के लिए उन पर राजद्रोह जैसे गंभीर मामले लगा कर उन्हें शांत करने का काम कर रही है.

1 min read
Sarita
June First 2021

नताशा नरवाल- क्रूर, बेरहम और तानाशाह सरकार की शिकार

इस समय जितनी असंवेदनशील कोरोना महामारी है उतनी ही शासन व्यवस्था हो चली है. ऐसे समय में शासन द्वारा राजनीतिक कैदियों को अपने प्रियजनों से दूर करना, यातना देने से कम नहीं है. जबकि, कई तो सिर्फ और सिर्फ इसलिए बिना अपराध साबित हुए जेलों में हैं क्योंकि वे सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहे थे.

1 min read
Sarita
June First 2021

ब्लैक फंगस रंग बदलती मौत

ब्लैक फंगस इन्फैक्शन या म्यूकरमाइकोसिस कोई रहस्यमय बीमारी नहीं है, लेकिन यह अभी तक दुर्लभ बीमारियों की श्रेणी में गिनी जाती थी. भारतीय चिकित्सा विज्ञान परिषद के मुताबिक म्यूकरमाइकोसिस ऐसा दुर्लभ फंगस इन्फैक्शन है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. इस बीमारी से साइनस, दिमाग, आंख और फेफड़ों पर बुरा असर पड़ता है.

1 min read
Sarita
June First 2021

सर्वे और ट्विटर पर खुल रही है पोल प्रधानमंत्री की हवाहवाई छवि

कल तक जो लोग नरेंद्र मोदी के बारे में सच सुनने से ही भड़क जाया करते थे वे आज खामोश रहने पर मजबूर हैं और खुद को दिमागी तौर पर सच स्वीकारने व उस का सामना करने को तैयार कर रहे हैं. लोगों में हो रहा यह बदलाव प्रधानमंत्री की हवाहवाई राजनीति का नतीजा है जिस में 'काम कम नाम ज्यादा' चमक रहा था और अब इस का हवाई गुब्बारा फूट रहा है.

1 min read
Sarita
June First 2021