मजबूत किसान मोर्चेबंदी
Outlook Hindi|December 28, 2020
नए केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की चौहद्दी और देश भर में मोर्चे पर डटे किसानों के पक्ष में बढ़ते जन समर्थन से क्या सरकार का कथित सुधार का एजेंडा दोराहे पर पहुंचा?
अजित कुमार झा

शुरुआत में ट्रैक्टरों का एक छोटा काफिला एनएच 44 पर दिल्ली की ओर बस कुछ नारों और फौलादी इरादों के साथ बढ़ा चला आ रहा था। सामान्य हालात में उनका विरोध प्रदर्शन भी बाकी सेक्टरों जैसा ही मान लिया जाता, जिसकी देश में धारा शायद ही कभी टूटती है। लेकिन जैसे-जैसे दिन बढ़ते गए, ऐसा हुजूम और समर्थन जुड़ने लगा, जो किसी ऐसी मध्ययुगीन फौजी ताकत जैसा दिखने लगा, जिससे इतिहास की धारा बदल जाया करती रही है। देश को हरित क्रांति का तोहफा देने वाले पंजाब के गौरवान्वित मगर सतर्क किसानों ने एक मुकम्मल राजनैतिक चक्रवात के आसार पैदा कर दिए हैं और एनडीए सरकार से सीधे टकरा गए हैं। यह ऐसा मंजर है जो उसे झुकने पर मजबूर कर सकता है। सरकार 1 दिसंबर से बैकफुट पर नजर आ रही थी। 40 किसान संगठनों के साथ पांच दौर की बातचीत में वह नए कृषि कानूनों में संशोधन के लिए तैयार दिखी। इन बदलावों के लिए वह संसद का विशेष सत्र बुलाने पर भी विचार कर रही थी। हालांकि दस दिन बाद गतिरोध आ खड़ा हुआ क्योंकि अधिकतम पेशकश न्यूनतम मांग से मेल नहीं खा रही थी। अलबत्ता दोनों ओर से काफी कोशिशें हुईं, कई बार अविश्वास की खाइयां भी लांघी गईं लेकिन अवरोध हटने को तैयार नहीं हुआ।

मामला अंधे मोड़ की ओर बढ़ रहा है, यह 8 दिसंबर को खुलकर दिखने लगा, जिस दिन किसान संगठनों का भारत बंद देश भर में लगभग सफल रहा। बातचीत में गतिरोध दिखने लगा। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पहली बार बातचीत के लिए आगे आए और उसी दिन 13 किसान संगठनों के नेताओं के साथ करीब चार घंटे तक उनकी बैठक चली। उस बैठक में गृह मंत्री ने नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पूरी तरह नकार दी, जो सितंबर में संसद के मानसून सत्र में पारित किए गए थे। सरकार ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के बजाए नया प्रस्ताव दिया। इन कानूनों के जिन बिंदुओं पर किसानों को आपत्ति थी, उसके लिए इन कानूनों में संशोधन की बात कही गई। केंद्र सरकार ने यह भी कहा कि वह इन कानूनों में संशोधन की बात लिख कर देने के लिए तैयार है। वैसे तो पहले के कई दौर की बैठकों में भी इन कानूनों को रद्द करने की मांग नकारी जा चुकी थी, लेकिन अमित शाह के कहने से उस पर लगभग अंतिम मुहर लग गई है।

इसके बाद केंद्र सरकार और किसान नेताओं के बीच 9 दिसंबर को होने वाली छठे दौर की बातचीत स्थगित हो गई। दोनों पक्षों ने इन प्रस्तावों पर अपने-अपने स्तर पर विचार करने का निर्णय लिया। सरकार ने 9 दिसंबर की सुबह होने वाली कैबिनेट की बैठक में और किसान नेताओं ने उसी दिन सिंघु बॉर्डर पर होने वाली बैठक में। उस बैठक में किसान नेताओं ने सरकार के प्रस्ताव को खारिज कर दिया और कहा कि वे तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग से पीछे नहीं हटेंगे। इसके अलावा किसान बिजली विधेयक 2020 को वापस लेने की भी मांग कर रहे हैं।

तितर-बितर करने की कोशिशः किसान सिंघु बॉर्डर पहुंचे तो उन्हें हटाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए, तब किसान भी पथराव पर उतर आए

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM OUTLOOK HINDIView All

कोई भी संविधान नहीं बदल सकता

संसद की नई इमारत के प्रस्ताव से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला खासे उत्साहित हैं। उन्हें पूरा भरोसा है कि 2022 में भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर संसद का सत्र नए भवन में आयोजित होगा। उनका कहना है कि किसी भी संसदीय लोकतंत्र में संविधान उसकी आत्मा होती है और कोई भी सरकार उसकी मूल भावना में बदलाव नहीं कर सकती। उन्होंने आउटलुक के एडिटर-इन-चीफ रूबेन बनर्जी और पॉलिटिकल एडिटर भावना विजअरोड़ा से खास बातचीत की है। उसके मुख्य अंश:

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

बिजनेस छिनने का डर

छोटी कंपनियों को तिमाही रिटर्न फाइल करने की सुविधा, लेकिन टैक्स क्रेडिट में देरी के कारण बड़ी कंपनियां उनसे सामान नहीं खरीद रहीं

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

एमएसपी तो बाजार के भी हित में

इसके कारण देश के कृषि बाजारों में कीमतों में उतार-चढ़ाव 20 से 25 फीसदी तक कम, नेताओं ने इसका इस्तेमाल वोट जुटाने में भी किया

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

"मैं हिंदी सिनेमा की बदलती रवायत की प्रोडक्ट"

भूमि पेडनेकर दुर्गामति: द मिथ में शीर्षक भूमिका निभा रही हैं। यह अनुष्का शेट्टी की तमिल-तेलुगु फिल्म भागमति का हिंदी में रीमेक है, जो इसी हफ्ते अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज होगी। अपनी शुरुआती ही फिल्म दम लगा के हइशा में खूब तारीफ बटोर चुकी 31 साल की इस अभिनेत्री ने गिरिधर झा से अपने करिअर और बॉलीवुड में पांच साल बिताने के अनुभवों के बारे में बात की। पेश हैं अंश:

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

कितने तैयार हम

देश में जनवरी तक टीका लगना शुरू होने की उम्मीद, सीरम इंस्टीट्यूट-भारत बॉयोटेक ने आपात मंजूरी के लिए दी अर्जी, लेकिन असली सवाल कायम कि किसे, कब तक, और मुफ्त में या दाम देकर मिलेगी वैक्सीन

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

मजबूत किसान मोर्चेबंदी

नए केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की चौहद्दी और देश भर में मोर्चे पर डटे किसानों के पक्ष में बढ़ते जन समर्थन से क्या सरकार का कथित सुधार का एजेंडा दोराहे पर पहुंचा?

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

रजनी दांव से कौन होगा चित

रजनीकांत के आने से प्रदेश की दो प्रमुख पार्टियों द्रमुक और अन्नाद्रमुक की मुश्किलें बढ़ने के आसार

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

राज्य भी केंद्र को लोहे के चने चबवा सकते हैं

झारखंड के गठन के बीस साल हुए। इन वर्षों में झारखंड की दशा-दिशा क्या रही और चुनौतियां क्या हैं? इन सवालों के साथ एक साल पूरा कर रही झामुमो-कांग्रेस गठजोड़ सरकार के युवा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कोरोना के दौर में खाली खजाना और विपक्ष से भी मुकाबिल हैं। उन्होंने चुनौतियों और कामकाज पर आउटलुक के नवीन कुमार मिश्र से अपने अनुभव साझा किए। बातचीत के प्रमुख संपादित अंशः

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

सवाल कप्तानी का

फिलहाल तो विराट जमे हुए हैं मगर आने वाले कुछ महीनों में बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

सार्वजनिक स्वास्थ्य में निवेश बढ़ाने की जरूरत

2021 में हमारा फोकस संक्रामक रोगों पर होना चाहिए, टीबी को खत्म करना सामाजिक आंदोलन बने

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020
RELATED STORIES

THE CAB RIDE

I sat in the cab on my way to the airport as the driver zoomed over Delhi’s wide roads. The sun was rising over the horizon as a new day dawned – quite literally, as election day approached the city of Delhi.

1 min read
Heartfulness eMagazine
August 2021

The Birds of Kanha

RAJESH MENON is a photographer from Delhi, who specializes in images from nature. Here he shares some of the beautiful birds of Kanha Shanti Vanam, the 1300 acre property outside Hyderabad, India, that is the international headquarters of the Heartfulness Institute. It is also a green sanctuary.

2 mins read
Heartfulness eMagazine
February 2021

Protest Works

How the Black Lives Matter demonstrations will shake up the 2020 election—and reshape American politics for a generation to come

8 mins read
The Atlantic
September 2020

Memories

ANIRUDH DHANDA explores the way memories trigger heartfelt events and people from the past, and remind us of situations that evoke emotional responses. Is this what being human is all about?

2 mins read
Heartfulness eMagazine
June 2020

5 Expert Tips To Win A Protest

How to win a protest

4 mins read
Yachting World
January 2020

El derecho a estar segura

Desde que un ataque horrendo conmocionara a India, las mujeres de ese país han demandado -y obtenido- más protección frente al acoso y el abuso en espacios públicos,

6 mins read
National Geographic en Español
Noviembre 2019

El activismo digital

Ante las limitantes en términos de la censura de Internet, los jóvenes en Hong Kong han echado mano de distintas apps para apoyar sus protestas, endosándoles un nuevo sentido social.

8 mins read
Revista OPEN
Octubre - Noviembre 2019

Russian Media Agency Complains Youtube Facilitates Protests

Russia’s media oversight agency said this week that it wanted Google to stop YouTube users from posting information about unsanctioned political protests or the Russian government would feel free to retaliate against the American company.

1 min read
AppleMagazine
August 16, 2019

Protesting Like It's 2047

Hong Kong’s demonstrators have one big issue: Their city’s fate when China fully takes over in 28 years

9 mins read
Bloomberg Businessweek
August 19, 2019

Brutality. Arrests. But Russian Protests Just Keep Growing

With oil prices falling—and taking living standards with them—the people are finding ways to express their discontent

5 mins read
Bloomberg Businessweek
August 19, 2019