कैसे हो कालेज में पर्सनैलिटी डेवलपमैंट
Mukta|August 2021
कहते हैं सीखने की कोई उम्र नहीं होती, लेकिन पढ़ाईलिखाई करते हुए जो सीख लिया वही भविष्य की बुनियाद बनता है. ऐसे में पर्सनैलिटी डेवलपमैंट के लिए सब से उपयुक्त उम्र यही होती है.
विनोद गुप्ता

स्कूल की दहलीज पार कर जब लड़के लड़की कालेज में प्रवेश करते हैं तो उन के पर निकल आते हैं. वे हवा में उड़ने लगते हैं. स्कूल जैसा अनुशासन कालेजों में नहीं होता. छात्र कक्षाओं में बैठते हैं या नहीं, खाली समय में क्या करते हैं, इस से न तो प्रोफैसरों को कोई वास्ता होता है और न ही प्रिंसिपल को. इसलिए अधिकांश लड़केलड़कियां कालेज को मौजमस्ती का केंद्र मानते हैं.

कालेज में पढ़ने का औचित्य तभी है जब शिक्षा के साथसाथ छात्र अपने व्यक्तित्व का विकास भी करें. नियमित अध्ययन के साथसाथ खाली या अतिरिक्त समय का सार्थक उपयोग कर के आप व्यक्तित्व और जीवन को संवार सकते हैं.

व्यक्तित्व विकास शब्दों का व्यापक अर्थ में इस्तेमाल किया जाता है. इस में व्यक्तित्व के सभी पहलुओं पर ध्यान दिया जाता है ताकि जब युवा कालेज छोड़ कर निकले तो उस का व्यक्तित्व संपूर्ण रूप से निखर चुका हो.

व्यक्तित्व विकास के विभिन्न तत्त्व हैं. इन में प्रमुख हैंव्यवहार, कुशलता, उत्साह, आत्मविश्वास, सकारात्मकता, संप्रेषण कला, वाकपटुता, मिलनसारिता, कर्मठता, अच्छी आदतों का समावेश तथा मुसकान. इस के अलावा, चालढाल, भावभंगिमा को भी इस में शामिल किया जाता है. अध्ययनकाल में इन सब पहलुओं पर विशेष ध्यान देना चाहिए. आज विद्यार्थियों को न केवल अपना पाठ्यक्रम पढ़ने की जरूरत है बल्कि विभिन्न क्षेत्रों में ज्ञान की जरूरत है. इसलिए उन्हें अपने व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं पर ध्यान देना चाहिए.

अब शिक्षा का स्वरूप परंपरागत नहीं रहा है. डिग्री के अलावा आवश्यक कौशल अर्जित करना भी जरूरी हो गया है. तभी शिक्षा की कोई उपयोगिता है. पढ़ाई करने के तत्काल बाद अगर विद्यार्थियों ने पाठ्यक्रम के अतिरिक्त कुछ और नहीं पढ़ासीखा तो उन्हें लगता है कि वे बहुत पिछड़े हुए हैं. सो, शिक्षा के दौरान ही उन्हें अपने भविष्य की योजनाओं और रुचियों के अनुरूप अतिरिक्त योग्यता हासिल करनी चाहिए.

आमतौर पर स्कूलकालेज 5 से 6 घंटे तक लगते हैं. जबकि वास्तविक पढ़ाई या कक्षाएं 3 से 4 घंटे तक ही होती हैं. यानी 2 घंटे छात्र खाली रहते हैं. इस खाली समय का सार्थक प्रयोग करना चाहिए, न कि व्यर्थ में नष्ट करना चाहिए.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MUKTAView All

होस्टल वाली दीवाली

जो लोग होस्टल में रहे हैं उन्हें पता है कि वे उन की जिंदगी के कभी न भूलने वाले पल हैं. होस्टल की जिंदगी मजेदार भी होती है और परेशानियों से भरी भी. बावजूद इस के, होस्टल में रह कर त्योहारों के समय जो खुशियां मिलती हैं, जो आजादी और मस्ती मिलती है, वह कहीं और नहीं मिलती.

1 min read
Mukta
October 2021

श्रेयस तलपड़े की निर्देशन में दूसरी पारी

छोटे परदे पर अभिनय कर शोहरत हासिल करने के बाद 2015 में सुभाष घई निर्मित और नागेश कुकनूर निर्देशित फिल्म 'इकबाल' से अपने अभिनय कैरियर की शुरुआत करते हुए पहली फिल्म में ही सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार जीत कर रातोंरात स्टार बन जाने वाले अभिनेता श्रेयश तलपड़े पिछले 16 वर्षों में कई बार अपनी अभिनय प्रतिभा का लोहा मनवाते आए हैं. अब तक वे हिंदी के अलावा मराठी भाषा की 45 फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं. श्रेयश तलपड़े ने गंभीर किरदारों के साथ हास्य किरदार निभाते हुए भी काफी शोहरत हासिल की.

1 min read
Mukta
October 2021

बौयफ्रेंड के साथ दीवाली

दीवाली में आमतौर पर सब से बड़ी दिक्कत यह सामने आती है कि करीबियों के संग इस त्योहार को कैसे मनाएं. बहुत बार गलत ग्रीट करने के चलते शर्मिंदगी का सामना करना पड़ जाता है.

1 min read
Mukta
October 2021

अपनों के साथ मनाएं दीवाली

आप त्योहार अपनों के साथ मिल कर मनाने में ही आनंद मिलता है, फिर चाहे आप कितने भी दूर क्यों न रह रहे हों. अपने करीबियों से त्योहार में मिलते हैं तो वे मीठे पुराने पल फिर से याद आते हैं जिन्हें आप ने कभी साथ में जिया था.

1 min read
Mukta
October 2021

जुए में न करें जेब खाली

कहते हैं जुए की लत में जर, जोरू और जमीन, सब दांव पर लग जाते हैं. महाभारत से ले कर आज के भारत में जुए की गंदी लत ने न जाने कितने घरों को बरबाद किया है, कितने घरों में अशांति फैलाई है. क्या आप भी इस की लत में सबकुछ खोने को तैयार हैं?

1 min read
Mukta
October 2021

सोचसमझ कर करें प्यार

प्यार करना गलत नहीं, लेकिन इस में समझदारी होनी बेहद जरूरी है. बहुत बार जोश में युवा ऐसे कदम उठाते हैं जिस के चलते पूरी जिंदगी उन्हें पछताना पड़ जाता है. ऐसे में जरूरी है कि प्यार जैसे गंभीर विषय पर सोचसमझ कर फैसला लिया जाए.

1 min read
Mukta
October 2021

गिफ्ट वही जो हो सही

इस दीवाली को बीती दीवाली से अलग मनाएं, अपने करीबियों को रूटीन गिफ्ट्स देने के बजाय ऐसे यूनीक गिफ्ट्स दें कि उन का दिल खुशी से झूम उठे.

1 min read
Mukta
October 2021

अनुष्का श्रीवास्तव पहली बार नैगेटिव किरदार में

वीडियो शेयरिंग प्लेटफर्म टिकटौक पर जानापहचाना चेहरा रहीं अनुष्का श्रीवास्तव बौलीवुड की चर्चित अदाकारा हैं. मुंबई में ही जन्मी व पलीबढ़ी अनुष्का श्रीवास्तव ने 2008 में फिल्म 'सिर्फ' में अभिनय कर बौलीवुड में कदम रखा था पर इस से उन की कोई पहचान न बनी. उस के बाद उन्होंने कई मशहूर प्रोडक्टों के लिए मौडलिंग की.

1 min read
Mukta
October 2021

प्यार जताने से बढ़ती है रिश्तों की महक

प्यार ऐसी चीज है जिसे जताना जरूरी है, अन्यथा उस की अहमियत समझ नहीं आती. पतिपत्नी हों या प्रेमीप्रेमिका, उन्हें अपने प्यार का इजहार करना चाहिए और खुल कर अपने दिल की बात बता देनी चाहिए.

1 min read
Mukta
September 2021

टोक्यो ओलिंपिक खेल को अर्श और फर्श पर ले जाने वाले 2 खिलाड़ी

टोक्यो ओलिंपिक में इस बार कई किस्से ऐसे रहे जिन्हें कई वर्षों तक याद रखा जाएगा. उन में से दो किस्से ऐसे रहे जिन्होंने खिलाड़ी को अर्श और फर्श पर पहुंचाया है.

1 min read
Mukta
September 2021