खुशियां गोद लेने के लिए तैयार हैं आप?
Anokhi|October 31, 2020
बचे जिंदगी बदल देते हैं। इससे फर्क नहीं पड़ता कि वो किस रास्ते हमारी जिंदगी का हिस्सा बने हैं। नवंबर माह भारत में एडॉप्शन जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है। बच्चे को गोद लेते वक्त किन बातों का रखें ध्यान
पूनम जैन

इस बात से राजी होना मुश्किल नहीं है कि बच्चे पैदा कर देने से ही कोई माता-पिता नहीं बनता। तन से ज्यादा यह मन से जुड़ा मसला है। हालांकि बीते सालों में भारत समेत दुनिया भर में बच्चों को गोद लिए जाने के आंकड़े बढ़ रहे हैं। फिर भी भारतीय समाज में बच्चे को गोद लेना अभी भी आम बात नहीं है। सुष्मिता सेन, सनी लियोनी, दिबाकर बैनर्जी, कुणाल कोहली समेत कई भारतीय सेलिब्रिटीज का बच्चों को गोद लेना, उस पर खुलकर बातें करना, धीरे-धीरे लोगों की सोच को बदल रहा है।

मिस यूनिवर्स रह चुकी सुष्मिता सेन बड़ी अच्छी बात कहती हैं। उन्होंने साल 2000 में पहली बेटी रेनी को और 2010 में दूसरी बेटी एलिसा को गोद लिया था। वह कहती हैं, 'मैंने 24 साल की उम्र में मां बनने का एक समझदारी भरा फैसला किया था। यह कोई दया या भलाई का काम नहीं था। मैंने किसी को नहीं बचाया, बल्कि खुद को बचाया था। सामान्य प्रक्रिया में बच्चे और मां का संबंध गर्भनाल से जुड़ा होता है। पर गोद लिए बच्चे से यह रिश्ता दिल से जुड़ जाता है।'

फिल्मों व टीवी में बच्चे को गोद लेने वाले दृश्य बड़े ही भावुक और खूबसूरत ढंग से फिल्माए जाते हैं। सब कुछ बहुत आसान लगता है। पर, असलियत में ऐसा नहीं होता। कई बार बच्चा मिलने में लंबा समय भी लग जाता है। भावनात्मक ऊर्जा भी काफी लगती है।

यह ध्यान रखें

संभावित माता-पिता संस्था को बच्चे के संबंध में अपनी पसंद बता सकते हैं। मसलन, वे किस उम्र, जाति या लिंग के बच्चे को गोद लेना चाहते हैं? हालांकि हर चीज मन-मुताबिक नहीं हो पाती। पेरेंट्स की पसंद को ध्यान में रखते हुए ही गोद देनी वाली संस्था मौजूदा बच्चों में से बच्चा रेफर करती है। मई 2017 में इस संबंध में एक बदलाव किया गया है। पहले भारतीय अभिभावकों को तीन बच्चे एक साथ रेफर किए जाते थे, जिनमें से वे एक चुनते थे। पर अब माता-पिता को एक-एक करके ही बच्चा रेफर किया जाता है। अगर पहली बार में ही बच्चा पसंद आ जाता है तो फिर दूसरे बच्चों को रेफर नहीं किया जाता।

सुप्रीम कोर्ट में एडवोकेट तनिमा किशोर कहती हैं, 'गोद लेने से पहले बच्चे की पूरी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में माता-पिता को बताया जाता है। पूरी जांच के बाद बच्चा सौंपा जाता है। माता-पिता गोद लेने से पहले अपनी पसंद के डॉक्टर से भी बच्चे की जांच करवा सकते हैं। इसका मकसद माता-पिता को पूरी तरह संतुष्ट करना होता है, ताकि बाद में शिकायत न रहे।'

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM ANOKHIView All

दोबारा होगी निंदिया रानी से दोस्ती

बच्चे के जन्म के कुछ साल बाद तक मांएं नींद की कमी की समस्या से जूझती रहती हैं। क्या है इस समस्या का समाधान

1 min read
Anokhi
January 16, 2021

फिटनेस चाहिए तो पिलाटेस कीजिए

व्यायाम आसान भी हों और असरदार भी तो कहना ही क्या। पिलाटेस एक्सरसाइज शरीर को शेप में भी रखती हैं और उसे मजबूत भी बनाती हैं।

1 min read
Anokhi
January 16, 2021

ठंड में भी पहनिए अपने पारंपरिक कपड़े

अमूमन हम सब ठंड के मौसम में पारंपरिक परिधानों से दूरी बना लेते हैं। पर, विशेषज्ञों की मानें तो ऐसा करने की जरूरत नहीं। कैसे ठंड में पहनें अपने पारंपरिक भारतीय परिधान

1 min read
Anokhi
January 02, 2021

सर्दियों वाली एक्ससेरीज

परत-दर-परत कपड़े यानी ठंड का मौसम। सिर्फ इतना ही नहीं, ठंड के मौसम को तरहतरह की एक्सेसरीज के बिना बिता पाना भी संभव नहीं है। ठंड के मौसम में कौन-कौन सी एक्सेसरीज को अपने वॉर्डरोब का हिस्सा बनाएं

1 min read
Anokhi
January 02, 2021

यूं चुनें अपने लिए सही जैकेट

सर्दी का मौसम आचुका है और साथ लाया है विंटर फैशन में शामिल होने की होड़ भी। इस विंटर फैशन का हिस्सा बनना है तो आपको एक अच्छे जैकेट की जरूरत पड़ेगी ही। कैसे अपने लिए चुनें सही जैकेट

1 min read
Anokhi
January 02, 2021

जब सर्दी सताए थोड़ा फैशन हो जाए!

फैशन के साथ चलने के लिए कपड़ों का कम होना जरूरी नहीं है। आप ज्यादा कपड़े पहनकर भी खुद को ट्रेंड का हिस्सा बना सकती हैं। सर्दियों में सबसे जरूरी है आपका ठंड से बचाव। इसके साथ आप खुद को कैसे फैशनेबल दिखाएं,

1 min read
Anokhi
January 02, 2021

घर वाली पार्टी जिंदाबाद !

नए साल की पार्टी का इंतजार सबको ही रहता है। सब लोग आते साल का स्वागत करते हुए और जाते साल को विदाई देते हुए खूब मस्ती करना चाहते हैं। पर, इस बार मामला अलग है। पार्टी के लिए कहीं जाया नहीं जा सकता है इसलिए इस बार सारा धमाल घर पर ही होगा। घर पर कैसे मनाए यादगार न्यू ईयर पार्टी

1 min read
Anokhi
December 26, 2020

इस साल नहीं टूटेंगे वादे

नया साल अपने साथ एक जोश लेकर आता है। इसी जोश में खुद से कुछ वादे किए जाते हैं। पर, अफसोस बहुत कम लोग ही इन वादों को पूरा कर पाते हैं। नए साल पर रेजॉल्यूशन लेते वक्त किन बातों का ध्यान रखें ताकि आप खुद से किए वादों पर टिक पाएं

1 min read
Anokhi
December 26, 2020

2020 की अनूठी सीख

माना कि यह साल दुनिया भर के लिए अच्छा नहीं रहा। बावजूद इसके इसने हमें काफी कुछ सिखा दिया है। 2020 की कौन-कौन सी सीख को आप आने वाले साल में अपनी जिंदगी में अपना सकती हैं

1 min read
Anokhi
December 26, 2020

पैंट सूट गजब ढाता है ये स्टाइल

ठंड से बचना है और स्टाइलिश भी दिखना है तो पैंट सूट को अपने वॉर्डरोब का हिस्सा बनाइए। कैसे करें इसकी स्टाइलिंग

1 min read
Anokhi
December 26, 2020
RELATED STORIES

Region To Region

Region To Region

10+ mins read
Musky Hunter
February/March 2021

YOGA & PEACE

DEEPAK CHOPRA speaks with DAAJI about the role Yoga has to play in bringing about world peace. This is an excerpt from their conversation broadcast on International Day of Peace, September 21, 2020. That documentary is available at https://heartfulness.org/en/international-day-of-peace/.

6 mins read
Heartfulness eMagazine
January 2021

Create the habit of meditation

CHIRAG KULKARNI, Co-Founder and CMO of Medly Pharmacies in the USA, speaks with RISHIKA SHARMA about creating a regular meditation practice, so as to make it a habit. He also shares how meditation has benefited both his personal and professional life.

7 mins read
Heartfulness eMagazine
January 2021

SHIA'S PRIVATE TEMPLE OF DOOM!

Indiana Jones gig derailed by abuse scandal

2 mins read
Globe
January 11, 2021

Let's Dish

"Food Raconteur” Ashok Nageshwaran wants to tell you a story.

2 mins read
DesignSTL
January/February 2021

THE MAKING OF A MODEL MINORITY

Indian Americans rarely stop to ask why our entrance into American society has been so rapid—or to consider what we have in common with other nonwhite Americans.

10+ mins read
The Atlantic
January - February 2021

Interconnectedness

In 2017, DR. VANDANA SHIVA spoke with KIM HUGHES about the sacredness of the Earth, the work she has been doing to bring awareness and change in the field of sustainable agriculture, and the importance of understanding our interconnectedness with Nature, and how we can change the way we eat.

8 mins read
Heartfulness eMagazine
December 2020

DIAMONDS - A Luxury Gem Steeped in Fact & Fable

The diamond is one fabled gemstone! For example, google “Hope Diamond” to see all the legends associated with just this one stone said to bring misfortune to its owners.

2 mins read
Rock&Gem Magazine
January 2021

Women's World

Brown Sugaa and Medusa

2 mins read
Born To Ride Southeast Magazine
December 2020

Women's World

Brown Sugaa and Medusa

2 mins read
Born To Ride Florida
December 2020