खुशियां गोद लेने के लिए तैयार हैं आप?
Anokhi|October 31, 2020
बचे जिंदगी बदल देते हैं। इससे फर्क नहीं पड़ता कि वो किस रास्ते हमारी जिंदगी का हिस्सा बने हैं। नवंबर माह भारत में एडॉप्शन जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है। बच्चे को गोद लेते वक्त किन बातों का रखें ध्यान
पूनम जैन

इस बात से राजी होना मुश्किल नहीं है कि बच्चे पैदा कर देने से ही कोई माता-पिता नहीं बनता। तन से ज्यादा यह मन से जुड़ा मसला है। हालांकि बीते सालों में भारत समेत दुनिया भर में बच्चों को गोद लिए जाने के आंकड़े बढ़ रहे हैं। फिर भी भारतीय समाज में बच्चे को गोद लेना अभी भी आम बात नहीं है। सुष्मिता सेन, सनी लियोनी, दिबाकर बैनर्जी, कुणाल कोहली समेत कई भारतीय सेलिब्रिटीज का बच्चों को गोद लेना, उस पर खुलकर बातें करना, धीरे-धीरे लोगों की सोच को बदल रहा है।

मिस यूनिवर्स रह चुकी सुष्मिता सेन बड़ी अच्छी बात कहती हैं। उन्होंने साल 2000 में पहली बेटी रेनी को और 2010 में दूसरी बेटी एलिसा को गोद लिया था। वह कहती हैं, 'मैंने 24 साल की उम्र में मां बनने का एक समझदारी भरा फैसला किया था। यह कोई दया या भलाई का काम नहीं था। मैंने किसी को नहीं बचाया, बल्कि खुद को बचाया था। सामान्य प्रक्रिया में बच्चे और मां का संबंध गर्भनाल से जुड़ा होता है। पर गोद लिए बच्चे से यह रिश्ता दिल से जुड़ जाता है।'

फिल्मों व टीवी में बच्चे को गोद लेने वाले दृश्य बड़े ही भावुक और खूबसूरत ढंग से फिल्माए जाते हैं। सब कुछ बहुत आसान लगता है। पर, असलियत में ऐसा नहीं होता। कई बार बच्चा मिलने में लंबा समय भी लग जाता है। भावनात्मक ऊर्जा भी काफी लगती है।

यह ध्यान रखें

संभावित माता-पिता संस्था को बच्चे के संबंध में अपनी पसंद बता सकते हैं। मसलन, वे किस उम्र, जाति या लिंग के बच्चे को गोद लेना चाहते हैं? हालांकि हर चीज मन-मुताबिक नहीं हो पाती। पेरेंट्स की पसंद को ध्यान में रखते हुए ही गोद देनी वाली संस्था मौजूदा बच्चों में से बच्चा रेफर करती है। मई 2017 में इस संबंध में एक बदलाव किया गया है। पहले भारतीय अभिभावकों को तीन बच्चे एक साथ रेफर किए जाते थे, जिनमें से वे एक चुनते थे। पर अब माता-पिता को एक-एक करके ही बच्चा रेफर किया जाता है। अगर पहली बार में ही बच्चा पसंद आ जाता है तो फिर दूसरे बच्चों को रेफर नहीं किया जाता।

सुप्रीम कोर्ट में एडवोकेट तनिमा किशोर कहती हैं, 'गोद लेने से पहले बच्चे की पूरी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में माता-पिता को बताया जाता है। पूरी जांच के बाद बच्चा सौंपा जाता है। माता-पिता गोद लेने से पहले अपनी पसंद के डॉक्टर से भी बच्चे की जांच करवा सकते हैं। इसका मकसद माता-पिता को पूरी तरह संतुष्ट करना होता है, ताकि बाद में शिकायत न रहे।'

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM ANOKHIView All

बस, चाहिए थोड़ा धीरज

हम सबके पास ढेरों सवाल होते हैं, बस नहीं होता उन सवालों का जवाब पाने का विश्वसनीय स्रोत। इस कॉलम के जरिये हम एक्सपर्ट की मदद से आपके ऐसे ही सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश करेंगे। इस बार न्यूटिशनिस्ट देंगी आपके सवालों के जवाब हमारी एक्सपर्ट हैं. डॉ. कविता देवगन

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

हर दिल अजीज पनीर

शाही पनीर और कड़ाही पनीर तो बहुत खा लिया, अब वक्त आ गया है पनीर से कुछ नई डिश बनाने का । रेसिपीज बता रही हैं पंकजा शर्मा

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

हमेशा रहेंगी याद ये छुट्टियां

इस बार गर्मी की छुट्टियों में आपका क्या प्लान है? अगर नहीं है तो बना लीजिए, लेकिन बच्चों को ध्यान में रखते हुए। कैसे गर्मी की छुट्टियों को बच्चों के लिए बनाएं प्रोडक्टिव, बता रही हैं स्वाति शर्मा

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

स्मार्ट एप्स

स्मार्टफोन के बिना अब जिंदगी की कल्पना करना संभव नहीं। स्मार्टफोन हैं, तो तरह-तरह के एप हैं। अपने इस नए कॉलम के जरिए हम आपको देंगे, ऐसे ही उपयोगी एप्स की जानकारी। ताकि आपकी जिंदगी बन सके, पहले से कुछ ज्यादा आसान, कुछ ज्यादा मजेदार !

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

सही है क्या प्यार के लिए बदलना?

अकसर शादी के बाद हम लोगों के व्यक्तित्व में बदलाव महसूस करते हैं। पर, साथी के लिए खुद को क्या पूरी तरह से बदल देना ठीक है? रिश्ते के लिए खुद को किस हद तक बदलना है ठीक, बता रही हैं अनन्या तिवारी

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

मां भी रहेंगी एकदम फिट

मां बनने के बाद बच्चे का ख्याल रखने की कोशिश में अकसर महिलाएं खुद पर ध्यान देना बंद कर देती हैं। इसके कारण प्रेग्नेंसी के दौरान बढ़ा हुआ वजन बढ़ता ही चला जाता है। कैसे इस वजन को करें कम, बता रही हैं चयनिका निगम

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

दुनिया भर की।

हमारी दुनिया में हम से जुड़ी क्या खबरें हैं ? हमारे लिए उपयोगी कौन-सी खबर है ? किसने अपनी उपलब्धि से हमारा सिर गर्व से ऊंचा उठा दिया ? इन जानकारियों के लिए है, यह पन्ना। यहां आपको मिलेगी, हर जानकारी हमारी दुनिया की..

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

त्वचा पर नहीं दिखेगी गर्मी की आहट

गर्मी आते ही त्वचा की समस्याओं का डर सताने लग जाता है। कभी सन बर्न तो कभी शुष्क त्वचा। ऐसी ही एक समस्या है, हीट रैशेज | लाल चकत्ते और उन पर खुजली । कैसे इनसे निपटें, बता रही हैं दिव्यानी त्रिपाठी

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

गर्मी में भी फैशन से जताएं प्यार

तेज धूप, लू और पसीने वाले इस मौसम में अकसर कपड़े शरीर में चुभते से महसूस होते हैं। ऐसे में गर्मी में क्या पहना जाए जो स्टाइलिश के साथ आरामदेह भी लगे, एक बड़ा सवाल है। इस सवाल का जवाब तलाश रही हैं स्वाति गौड

1 min read
Anokhi
May 21, 2022

स्मार्ट एप्स

स्मार्टफोन के बिना अब जिंदगी की कल्पना करना संभव नहीं। स्मार्टफोन हैं, तो तरह-तरह के एप हैं। अपने इस नए कॉलम के जरिए हम आपको देंगे, ऐसे ही उपयोगी एप्स की जानकारी। ताकि आपकी जिंदगी बन सके, पहले से कुछ ज्यादा आसान, कुछ ज्यादा मजेदार!

1 min read
Anokhi
May 14, 2022
RELATED STORIES

Killer Heat Is Here

The record temperatures ravaging India are a warning of global catastrophes to come

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

FOOD FOR Thought

All about food

2 mins read
Reader's Digest US
June 2022

THE TREE OF Life and Fertility

DR. V. RAMAKANTHA shares some insights into the science, history and mythology of the Banyan tree, also known as the Bengal Fig or Indian Fig. The Banyan is one of those mythical trees that has had an important place in the life and history of the people of India since ancient times. It is also home to many species of birds, animals, and epiphytic plants.

7 mins read
Heartfulness eMagazine
May 2022

East Meets West

KALYANI ADUSUMILLI grew up in a minority group in the United States, straddling cultures, learning how to fit in, and later learning how to accept the traditions of her heritage. Today, she is watching her children going through the same process, shifting their cultural identity, as they head toward adulthood in the melting pot of a multicultural society.

4 mins read
Heartfulness eMagazine
May 2022

NILANGANA BANERJEE: 2 series The 'Selves' | The Lullaby

The series Selves aims to artistically represent the psychological conflicts we face when we weigh ourselves based on socially determined of what is ideal and where we stand with the distorted and one-size that fits all defined.

6 mins read
Lens Magazine
April 2022

Why We Are Not Responsible Toward the Environment

DR. ICHAK ADIZES is an expert in change management for organizations. Here he shares some of the reasons why companies are not changing their actions in relation to the environment, even though everyone knows we are facing an environmental crisis. He also offers simple solutions that will bring change.

4 mins read
Heartfulness eMagazine
April 2022

Annadata Suraksha Abhiyaan

A tailor-made insurance initiative to financially secure farmers and growers against farming risks.

2 mins read
Heartfulness eMagazine
April 2022

The FORCE Behind the FORCE

How George Lucas created Hollywood's most beloved franchise

5 mins read
Maxim
May - June 2022

EVERYTHING YOU NEED TO GET STARTED IN MAGNET FISHING

In addition to treasure hunting, magnet fishing has an environmental aspect-it helps to clean up our waterways.

8 mins read
Popular Mechanics
May - June 2022

Afro Zen

Fusing the mediative Zen school with the vibrant pulse of Africa.

1 min read
The Gardener
May 2022