आप तो नहीं बन रही भुलक्कड़?
Anokhi|September 26, 2020
सब्जी में नमक डाल दिया और अगले ही पल भूल गईं। बॉस को मेल भेज तो दिया, पर पांच मिनट बाद ही फिर से मेल बॉक्स चेक कर रही हैं कि मेल वाकई में भेजा या नहीं? ये सब सुस्त पड़ते याददाश्त की निशानियां हैं, जिसकी शिकार महिलाएं ज्यादा होती हैं। समय रहते कैसे अपने दिमाग की सेहत को चुस्त करें ताकि आप उम्र बढ़ने पर डिमेंशिया और अल्जाइमर जैसी बीमारियों की जद में न आएं
प्रतिमा पांडेय

इधर कुछ दिनों से मैं अपनी चाय पीकर कब खाली कप को सही जगह रखकर आजाती हूं, अकसर याद ही नहीं पड़ता। मजेदार बात ये कि अपने जीवनसाथी से इस बात पर लड़ती भी हूं कि चाय मैंने कब पी, मुझे क्यों नहीं पता चला! और मुझे सलाह मिलती कि मैं एक पल ठहरकर गहरी सांस लूं। मैं इस पर और चिढ़ जाती हूं। ये चिढ़ डर में उस वक्त तब्दील हो जाती है, जब डिमेंशिया की बढ़ती समस्या के बारे में कहीं पढ़ लेती हूं। पर, शुक्र है कि एक्सपर्ट्स की राय पढ़ती हूं तो इसका कारण भी पता चल जाता है और डर भी निर्मूल साबित हो जाता है।

वैसे ये भुलक्कड़पन घर-गृहस्थी में फंसी महिलाओं में अकसर देखने को मिलता है। और इन दिनों तो यह 30-40 की उम्र वाली सजग, सतर्क, घर-ऑफिस निभा रही युवा महिलाओं में भी देखा जा रहा है। नाम ना याद रख पाना, सामान को सही जगह रखना भूल जाना, दाल में नमक डाला या नहीं इसका असमंजस, हर किसी का नाम फटाक से याद ना आना, ताला लगाया या नहीं-इसका कॉन्फिडेंस ना आना, जैसे भूलने की आमचीजें हैं। ऐसे में कई बार आपको डर भी लगता होगा कि कहीं ये किसी गंभीर बीमारी के लक्षण तो नहीं? कहीं याददाश्त कमजोर तो नहीं हो रही?

ये हो सकते हैं कारण

भूलने की ऐसी बातों को मेंटल हेल्थ की दुनिया में मिड लाइफ ब्रेन फॉग भी कहते हैं, जो अध्ययनों के अनुसार 40-50 की उम्र यानी मेनोपॉज की अवधि के दौरान महिलाओं में बहुत ज्यादा देखने को मिलता है। विशेषज्ञों का कहना है कि युवा या अधेड़ उम्र की महिलाओं में इस तरह का भुलक्कड़पन दरअसल उनकी जीवनशैली की देन है। तेज भागती जिंदगी और तरह-तरह के कामों के बीच फंसे तन-मन को जब सुकून की कमी होती है, तो भूलने जैसी चीजें आम हो जाती हैं। दरअसल ये समस्या याददाश्त की नहीं, बल्कि फोकस की होती है, क्योंकि एक साथ कई कामों को अंजाम देने की स्थिति में ध्यान से कुछ रह जाना आम होता है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM ANOKHIView All

भूलना भूल जाएगा आपका बच्चा

बच्चों के फाइनल एग्जाम्स शुरूहोने वाले और माता-पिता की चिंता बढ़ रही है। अगर आपके बच्चे को भी पढ़ाई की चीजों को याद करने में परेशानी होती है तो कुछ ट्रिक्स इसमें आपकी मदद कर सकते हैं

1 min read
Anokhi
February 20, 2021

प्यार में ना हो उम्र का बंधन

कहते हैं, प्यार में कोई बंधन नहीं होता। प्यार सिर्फ प्यार होता है। तभी तो उम्र संबंधी मानकों को तोड़ते हुए अब लड़कियां अपने से कम उम्र के लड़कों से शादी कर रही हैं।

1 min read
Anokhi
February 20, 2021

काले घेरे आंखों को न घेरें

आंखों के काले घेरे और पफी आई आज आम परेशानी बन चुकी है। पर, आंखों के नीचे के इन काले धब्बों के साथ जीना किसी को पसंद नहीं। काले घेरों से निजात पाकर कैसे पाएं प्राकृतिक सुंदरता

1 min read
Anokhi
February 20, 2021

नया पहनावा नया अंदाज

बिलकुल अलग तरह का पहनावा है एथलेजर विद्यार। यह लुक आजकल फैशन की दुनिया में अपनी धाक जमा रहा है। इसे आजमाते वक्त किन बातों का रखें ध्यान

1 min read
Anokhi
February 20, 2021

मांसपेशियों को चाहिए खास पोषण

क्या पैरों की पिडली और कमर में तेज दर्द आपको परेशान कर जाता है? मुमकिन है कियह मांसपेशियों में ऐंठन की वजह से हो। इससे कैसे बचें

1 min read
Anokhi
February 20, 2021

क्लिक से पूरी होगी नौकरी की तलाश

सोशल मीडिया से सिर्फ टाइम ही बर्बाद नहीं होता, यहां मनचाही नौकरी की तलाश भी पूरी होती है। कैसे?

1 min read
Anokhi
February 13, 2021

क्या यही प्यार है!

प्यार वह अहसास है जिसे न तो शब्दों में बयां किया जा सकता है और न ही अल्फाजों में समझा जा सकता है। इसे सिर्फ महसूस किया जा सकता है। इस वैलेंटाइन डे पर अपने प्यार के इजहार से पहले खुद से कुछ सवाल जरूर कीजिए। क्या हैं ये सवाल?

1 min read
Anokhi
February 13, 2021

पुरानी डेनिम नया अंदाज

आपके पास डेनिम तो होगी, पर उसे पहनती होंगी उसी पुराने अंदाज में। कैसे डेनिम को नए अंदाज से पहनें

1 min read
Anokhi
February 13, 2021

जिंदगी की इस लड़ाई में जीतना है हमें

दुनिया भर में 31 प्रतिशत और हमारे देश में 33 प्रतिशत औरतें मानसिक सेहत की किसी ने किसी दिक्कत से जूझ रही हैं। क्यों हम महिलाएं होती हैं मानसिक बीमारियों की ज्यादा शिकार? कैसे बचें इससे?

1 min read
Anokhi
February 06, 2021

करो खुद से प्यार बेशुमार

पति से प्यार, बच्चों से प्यार, घरवालों से प्यार और दोस्तों से प्यार...पर, खुद से प्यार करना कब शुरू करेंगी? अच्छे मानसिक सेहत के लिए आपका खुद से प्यार करना क्यों जरूरी है

1 min read
Anokhi
February 06, 2021
RELATED STORIES

Fulfilling Ways to Spend Retirement

LIVING IN RETIREMENT

3 mins read
Kiplinger's Personal Finance
April 2021

Brainspotting Therapy Helped Me Find My Blind Spots—and Face Them Head-On

Brainspotting Therapy Helped Me Find My Blind Spots—and Face Them Head-On

5 mins read
Yoga Journal
November - December 2020

THE COVID MOOD GUIDE

11 EASY WAYS TO STAY CALM, BALANCED, AND HAPPY DURING A PANDEMIC.

5 mins read
Better Nutrition
October 2020

A New Way to See BRAILLE

Remarkable discoveries are turning brain science on its head.

3 mins read
Muse Science Magazine for Kids
October 2020

A Sea Change For The Supreme Court

The Sept. 18 death of Justice Ruth Bader Ginsburg set up a political fight over the future of the high court, with Republicans determined to seat her replacement before Election Day over Democrats’ objections.

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
October 05, 2020

29 Ways to Let it go....Let it ALL go

Maybe you’ve come across one of those bumper stickers that reads Let That #$!% Go, or you’ve seen a T-shirt with the same expression and a serene image of Buddha. But how to let go?

8 mins read
Spirituality & Health
Sep/Oct 2020

Dog on a Mission

In my grief, I just wanted to be alone

5 mins read
Guideposts
August 2020

Q &A interview: Courtney Hansen

Celebrity, Spokesperson, Producer, Philanthropist, Author, Car Gal, and more...

10+ mins read
Drive!
September 2020

What's With All The Gs?

5G is what you think (faster, more powerful) and not what you've heard (a vector for infectious deseases)

7 mins read
Certification Magazine
July 2020

Fix Your Period

Are you ready to completely revitalize your body and hormones and put your PMS symptoms in the rearview mirror?

10 mins read
Better Nutrition
May 2020