बचें मानसून के रोगों से
Sadhana Path|July 2021
आमतौर पर मानसून को आशिकाना मौसम माना जाता है, किंतु जरा बच के रहिएगा इस मौसम में। नहीं तो मौसम का आशिकाना अंदाज सेहत पर भारी पड़ सकता है।
डॉ. हनुमान प्रसाद उत्तम

जिस तरह हर अच्छे ऋतु का कोई बुरा पक्ष होता है, उसी तरह मानसून का भी बुरा पक्ष है। मानसून में शरीर की प्रतिरोधक क्षमताएं कम हो जाती हैं, जिससे मौसम से संबंधित कई बीमारियां शरीर पर हमला कर देती हैं। वर्षा के कारण मच्छरों का प्रजनन होता है। इससे मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियां पैदा होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। मानसूनी रोगों के उपचार से पूर्व वर्षा ऋतु में आहार-विहार में सावधानी बरतना जरूरी है।

खान-पान पर अंकुश जरूरी

इस मौसम में स्वस्थ रहना है, तो खानपान पर विशेष ध्यान देना होगा, क्योंकि मानसून में पाचनतंत्र का कमजोर होना आम बात है।

• अधिक मछली या मांस के सेवन से बचें।

• सब्जियां और फलों का सेवन ज्यादा करें।

• तले हुए सामानों से करें परहेज।

• खाद्य पदार्थ, जिसमें पानी की मात्रा ज्यादा होती है, जैसे करी आदि न लें।

• बाहरी स्थानों पर सलाद से परहेज करें।

• बाजार के दुग्ध उत्पाद जैसे पनीर आदि के सेवन से बचें। साफ-सफाई का रखें ध्यान

1. मानसूनी मौसम में सीवरेज, ड्रेन और पानी आपूर्ति की पाइप में पानी का बहाव तेज होने और दबाव बढ़ने के कारण पानी रिसने लगता है। कई जगह पाइप भी टूट जाता है। इस तरह बारिश या सीवरेज का पानी जल आपूर्ति के पानी के साथ मिलकर उसे प्रदूषित कर देता है, जिससे हैजा, टायफाइड दस्त, हेपेटाइटिस और पेट संबंधी बीमारियां होने की आशंका बढ़ जाती है।

2. तापमान में आई अचानक गिरावट से सर्दी-जुकाम, निमोनिया, टॉन्सिलाइटिस के साथ-साथ एलार्जिक बीमारियों की आशंका होती है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SADHANA PATHView All

महान दार्शनिक, शिक्षाविद् एवं कुशल प्रशासक डॉ.राधाकृष्णन

डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन उन विद्वानों में से एक थे जो बहुतायत मानवीय गुणों एवं अद्भुत प्रतिभा के जगह एक महान भारतीय दार्शनिक के रूप में चिरस्थायी हैं। यह कहना अतिशयोक्ति न होगा कि स्वामी विवेकानंद और महर्षि अरविंद के बाद यदि कोई भी भारतीय दार्शनिक ने पूर्व की दार्शनिक मान्यताओं को पश्चिम में यथोचित जगह दिलाने हेतु काम करके एक नवीन विचार धारा का निरुपण किया, तो वे डॉ. राधाकृष्णन ही थे।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

संकट हरण है अनंत चतुर्दशी व्रत

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी व्रत कहा जाता है। इस दिन भगवान अनंत की पूजा की जाती है । व्रत का संकल्प लेकर अनंत सूत्र बांधा जाता है। इस व्रत को करने से संकटों का नाश और सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

श्राद्ध की महिमा और महत्त्व

शास्त्रों के मुताबिक, मनुष्य के लिए तीन ऋण बताये गए हैं पहला देव ऋण, दूसरा ऋषि व तीसरा पितृ ऋण। इनमें पितृ ऋण को श्राद्ध या पिंडदान करके उतारना आवश्यक है क्योंकि जिन माता-पिता ने हमारी आयु, आरोग्यता तथा सुख-सौभाग्य की अभिवृद्धि के लिए अनेक प्रयास किए, उनके ऋण से मुक्त न होने पर हमारा जन्म लेना निरर्थक होता है।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

गणेश चतुर्थी का व्रत एवं पूजन विधि

पूजन से पूर्व की तैयारीगणेश चतुर्थी के दिन ब्रह्म मूहर्त में उठकर स्नान आदि से शुद्ध होकर शुद्ध कपड़े पहनें। आज के दिन लाल रंग के वस्त्र पहनना अति शुभ होता है। गणपति का पूजन शुद्ध आसन पर बैठकर अपना मुख पूर्व अथवा उत्तर दिशा की तरफ कर के करें।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

घातक रोग है अल्जाइमर

अल्जाइमर वर्तमान समय की सबसे गंभीर बीमारियों में से एक है। यह एक मानसिक रोग है जिसके होने पर सोचने और याद रखने की क्षमता कमजोर होती है। आइए लेख में इस पर विस्तार से चर्चा करें।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

तुलसी माला की महिमा

भारतीय संस्कृति विभिन्न मान्यताओं, परम्पराओं, विश्वासों और सामाजिक और धार्मिक रीति-रिवाजों से परिपूर्ण है। इस संस्कृति जैसी कोई अन्य मिसाल सम्पूर्ण विश्व में मिलना मुश्किल है। इसी संस्कृति के बहुत से मांगलिक प्रतीकों में एक अभिन्न अंग है 'तुलसी माला'।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

एलोवेरा के अचूक औषधीय गुण

एलोवेरा का प्रयोग आज के समय में जेल, जूस एवं अन्य रूपों में भरपूर तरीके से किया जाता है, इसके भीतर व्याप्त गुण इसे एक गुणकारी, चमत्कारी औषधि बनाते हैं।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

मद्यपान-दुखों की खान

दस रुपये से दस हजार रुपये तक रोज खर्च करने वाले करीब चालीस करोड़ से भी अधिक भारतीय शराब, सिगरेट, बीड़ी, तम्बाकू, गुटखा, गांजा, भांग, पान मसाला, ब्राउन शुगर, स्मैक, अफीम, चरस, हेरोइन जैसी चीजों के आदती हैं।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

अष्टविनायक की आराधना

महाराष्ट्र में अष्टविनायक को कौन नहीं जानता, लेकिन विदर्भ के अष्टविनायक मंदिर के बारे में बहुत कम लोग ही बता पाएंगे। जानें विदर्भ के अष्टविनायक को विस्तार से।

1 min read
Sadhana Path
September 2021

हिन्दी का बढ़ता चलन

वर्षों से अपने ही देश मे उपेक्षित राष्ट्र भाषा हिन्दी अब सरहदों को तोड़ते हुए सात समुद्र पार भी अपनी धाक जमाने पहुंच रही है। बड़ी-बड़ी कंपनियों के बोर्डरूम से लेकर ऑस्कर के मंच तक हिन्दी का इस्तेमाल देवा-सुना जा सकता है।

1 min read
Sadhana Path
September 2021
RELATED STORIES

Zika Is the Next Front in the Mosquito Wars

 Based on damage from malaria and dengue, the spread of Zika will prove costly.

5 mins read
Bloomberg Businessweek
February 8 - February 14, 2016

जीवित मलेरिया परजीवी से निर्मित टीके की सफलता

हर वर्ष मलेरिया से लगभग चार लाख लोगों की मौत होती है। दवाइयों तथा कीटनाशक युक्त मच्छरदानी वगैरह से मलेरिया पर नियंत्रण में मदद मिली है लेकिन टीका मलेरिया नियंत्रण में मील का पत्थर साबित हो सकता है। मलेरिया के एक प्रायोगिक टीके के शुरुआती चरण में आशाजनक परिणाम मिले हैं।

1 min read
Srote
September 2021

लार्वा मारने के लिए तैयार किया 'ड्रोनास्त्र'

मुंबई में मलेरिया के बढ़ते मामलों पर रोक के लिए BMC की पहल

1 min read
Rokthok Lekhani
September 07, 2021

What You Should Know About Mosquitoes

Not all mosquitoes are created equal, say Shüné Oliver and Jaishree Raman of the National Institute for Communicable Diseases of South Africa. However, people should be sure to protect themselves when visiting regions known for mosquito-transmitted diseases.

4 mins read
Farmer's Weekly
September 03, 2021

Mosquito fest ‘could bring malaria to UK'

FEARS AMID 20% SURGE IN INSECTS

1 min read
Daily Star Sunday
August 22, 2021

27 से अधिक टीमें कर रही हैं ब्लाक स्तर तक स्प्रे:उपायुक्त

डेंगू से बचाव के लिए प्रशासन सक्रिय

1 min read
Haribhoomi Delhi
June 03, 2021

Malaria, Dengue TB Play Second Fiddle To Covid - 19

Although India has worked relentlessly towards developing innovative testing solutions for COVID-19 throughout last year, the timely detection of a number of other infectious diseases has been sidelined. In India, the range and burden of infectious diseases such as tuberculosis, malaria, filariasis, leprosy, HIV infection, typhoid, hepatitis etc., are enormous. In fact, inadequate containment of the vector has resulted in recurrent outbreaks of dengue fever and re-emergence of chikungunya virus disease and typhus fever. If India can develop more than 20 different diagnostic tests or devices in a single year to fight COVID-19, many more such innovations can be brought to effectively detect other infections looming in our country.

10+ mins read
Bio Spectrum
June 2021

JANUARY 1-15, 1995 | DISEASE RESURGENCE - THE MICROBES STRIKE BACK

Diseases that were cheerfully believed to have been eradicated are inexplicably cropping up again in India

2 mins read
Down To Earth
May 01, 2021

New malaria vaccine shows promise in trial

A potential new malaria vaccine has proved highly effective in a trial in babies in Africa, pointing to it one day possibly helping reduce the death toll from the mosquito-borne disease that kills up to half a million young children a year.

1 min read
Daily Mirror - Sri Lanka
April 24, 2021

In the ‘prick' of health

Vaccination is crucial for all babies. Make sure you don’t skip any

3 mins read
Mother & Baby India
April 2021