रंग-बिरंगी आतिशबाजी का सफर
Sadhana Path|November 2020
रंग-बिरंगी आतिशबाजियां हर खुशी के मौके को और भी रंगीन कर देती हैं। लेकिन इन आतिशबाजियों की परंपरा कब, कहां और कैसे शुरू हुई, जानते हैं इस लेख से।
डॉ. विभा खरे

आतिशबाजी करते वक्त हर किसी के दिमाग में यह सवाल जरूर आता है कि आखिर इन खूबसूरत पटाखों को बनाया किसने, इसका प्रचलन कब और कैसे हुआ? आज विश्व का हर देश अपनी खुशी में पटाखों को शामिल कर चुका है। तीज-त्योहार से लेकर नव वर्ष के स्वागत भी आतिशबाजियों से ही करते हैं हम और इसका श्रेय जाता है चीन को।

चीन में हुआ था बारूद का आविष्कार

इतिहासकारों की मानें तो संभवतः ईसा के पूर्व काल में चीनियों को बारुद की जानकारी थी। चीनवासियों ने बम बनाया था। दसअसल इस काम में वो बांस को जलाते थे। चूंकि बांस खोखला होता है और उसके बीच-बीच में गांठे भी होती हैं, आग लगने पर बीच के खोखले हिस्से में मौजूद हवा गर्मी से फैलता और एक भयानक आवाज गूंजता, जिससे जानवर भी डरकर भाग जाते थे। आगे चलकर इसका स्वरूप बदलने लगा। बांस की जगह बारूद ने ले लिया। बारुद का आविष्कार चीन में हुआ था। कई इतिहासकारों का मत है कि बम पटाखों को चीनियों ने भूतों को भगाने के लिए बनाया था। बारुद पर 13वीं सदी तक चीन का ही एकछत्र अधिकार रहा। साल्टपीटर (पोटेशियम नाइट्रेट) कोयले और गंधक के मिश्रण से बारूद बनता है। इसकी मात्रा क्रमशः 75 प्रतिशत से 15 प्रतिशत तथा 10 प्रतिशत होती है।

'ए हिस्ट्री ऑफ फायर वर्क्स' के लेखक एलन ब्राफ ने लिखा है कि पटाखों का मसाला लोगों ने अनजाने में ही खोजा होगा। आग के आविष्कार के बाद भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए समुद्री तटों से दूर बसे लोगों ने नमक के स्थान पर गलती से साल्टपीटर अर्थात पोटेशियम नाइट्रेट डाल दिया। आग में गिर जाने से सितारों जैसे झिलमिला उठते हैं ये। किसी आदि मानव से थोड़ा पोटेशियम नाइट्रेट आग में गिरा होगा तो उसने पहली बार देखी होगी झिलमिल सितारों की चमक। निश्चित रूप से उसे यह इतना लुभाया होगा कि उसने अन्य लोगों से इसकी चर्चा की होगी। अरबी लेखक अनुमुहम्मद अब्दुल्लाबिन अहमद अनालिकी ने एक पुस्तक लिखी जिसमें उसने 'फूंग फू' नामक एक लड़ाई में प्रयोग किए गए अग्नि बाणों और बमों का वर्णन किया। लेखक ने उसे 'बारूद' कहा है। 14वीं शताब्दी में वर्थहोल्ट खार्ज ने बारूद से चलने वाली बन्दूक बना डाली।

आतिशबाजी का प्राचीन विवरण चीन के ग्रन्थों में

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SADHANA PATHView All

सूर्य उपासना का महापर्व मकर संक्रांति

मकर संक्रांति सूर्य उपासना का विशेष पर्व है, इस दिन से सूर्य उत्तरायण होना शुरू होते हैं। इस पर्व को समस्त भारत में बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है। क्या है इस पर्व का महात्म्य ? आइए लेव से विस्तारपूर्वक जानें।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

विश्व भर में नववर्ष का स्वागत

पूरी दुनिया में नए साल के स्वागत की तैयारी कई दिन पहले से ही शुरू हो जाती है। सभी देशों में इसे मनाने की अपनी-अपनी परम्पराएं हैं, पूरी दुनिया में नए साल का स्वागत कैसे होता है। आइए जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

मेवों में छिपा है सेहत का राज

सर्दियों के आते ही रवांसी, जुकाम, बुरवार जैसी छोटी-मोटी बीमारियां परेशान कर देती हैं। महज गरम कपड़े पहनना और चाय-कॉफी पीना ही पर्याप्त नहीं होता। सर्दियों में सूरवे मेवे आपको फ्लू, सर्दी, कफ आदि कई रोगों से बचाते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करते हैं। जानें सेहत से जुड़े इनके लाभ इस लेख से।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

हर्ष, उमंग एवं सद्भावना का त्योहार- लोहड़ी

लोहड़ी की बात करते ही आंखों के सामने छा जाती है आग, मूंगफली और रेवड़ी की तस्वीर और साथ ही उभर आता है ढोल और भंगडे का शोर, क्यों? आइये जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

भारतीय संविधान का प्रतीक गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस का नाम लेते ही हमारे मन मस्तिष्क में 26 जनवरी को राजपथ पर चलती परेड का दृश्य उभर आता है। जबकि इसका संबध हमारे देश के संविधान से है जो इस दिन पारित हुआ था। क्या है इस संविधान का इतिहास व महत्त्व आइए जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

ओशो ने कभी अपने अधिकारों का स्वामित्व नहीं किया

ओशो की शिष्या एवं एडवोकेट, मा प्रेम संगीत नियमित रूप से 'विहा कनेक्शन' और 'ओशो न्यूज' के लिए लिखती हैं। आपको पता ही होगा कि अमेरिका में करीब दस साल तक चले मुकदमे में दिल्ली की 'ओशो वर्ल्ड' नामक संस्था की विजय घोषित करते हुए, न्यायाधीश ने स्पष्ट निर्णय दिया था कि 'ओशो' शब्द को कॉपीराइट कराने का अधिकार किसी को भी नहीं हो सकता है। तब यू.एस.ए. से पराजित होकर ओशो इंटरनेशनल फाउंडेशन (ओ.आई.एफ.) ने नया षड्यंत्र रचायूरोप में कॉपीराइट कराने की कोशिश की। वहां पर 'ओशो लोटस' नामक संस्था ने विरोध में आपत्ति उठाते हुए मुकद्दमा दायर किया। किंतु ओ.आई.एफ.की जीत हुईसत्य की नहीं, झूठ-फरेब की जो कि शीघ्र ही उजागर होने लगे।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

ऐसे रहें सर्दियों में भी फिट

सर्दियों के मौसम में जितना खुद को ठंड से बचाना जरूरी है, उतना ही जरूरी है खुद को फिट ररवना भी। कैसे रख सकते हैं आप अपने को इन सर्दियों में फिट? आइए लेख से जानें।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

पृथ्वी पर घटा चमत्कार था रजनीशपुरम

अमेरिका के ओरेगोन में बना रजनीशपुरम आज एक बार फिर चर्चा में है, और चर्चा का कारण नेटफ्लिक्स पर आई डॉक्यूमेंट्री 'वाइल्ड-वाइल्ड कंट्री' है। जिसमें ओशो के अमेरिका में बसने और वहां रजनीशपुरम के बनाने और मिटाने की कहानी को दर्शाया गया है। आरिवर रजनीशपुरम था क्या, क्या रजनीशपुरम की हकीकत वही थी जिसे फिल्म में दिरवाया गया या कुछ और? अमेरिका में ओशो को जेल क्यों जाना पड़ा? क्या रजनीशपुरम ओशो की असफलता का कारण था? इन सभी प्रश्नों के उत्तर आइए ओशो की जुबानी ही जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

ठण्डी हवाएं और स्वास्थ्य समस्याए

सर्दी के इस मौसम में हमारा शरीर स्वस्थ रहे उसके लिए कई सावधानियां बरतनी जरूरी है वरना आप रोग की चपेट में आ सकते हैं। ऐसी ही कुछ सावधानियों को आइए जानें लेख से।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

शीला की कहानी ओशो की जुबानी

फिल्म 'वाइल्ड-वाइल्ड कंट्री' भले ही ओशो के हर प्रेमी व विरोधी ने न देवी हो पर सवाल देर-सबेर उभर ही गए हैं या भविष्य में उभर ही जाएंगे। सवाल, बवाल न बने, इसके लिए जरूरी है, शीला के बयानों पर ओशो के जवाब।

1 min read
Sadhana Path
December 2020
RELATED STORIES

America's Missing Workers

Near-record levels of absenteeism could be hampering the recovery

4 mins read
Bloomberg Businessweek
January 18, 2021

CHINA'S GEELY, BAIDU ANNOUNCE ELECTRIC CAR VENTURES

Chinese automaker Geely says it will form an electric car venture with tech giant Baidu, adding to a flurry of corporate tie-ups in the industry to share soaring technology development costs.

1 min read
AppleMagazine
AppleMagazine #481

Where Is Jack Ma, China's E-commerce Pioneer?

China’s best-known entrepreneur, e-commerce billionaire Jack Ma, made his fortune by taking big risks.

5 mins read
Techlife News
Techlife News #480

Gain Of Function

How much risk of an accidental pandemic is too much?

10+ mins read
New York magazine
January 4-17, 2021

Yin Lu CHINESE HERITAGE AND SYMBOLISM

Yin Lu CHINESE HERITAGE AND SYMBOLISM

10 mins read
Art Market
Issue #54 December 2020

HUAWEI: A GENUINE COMPETITOR TO APPLE AND GOOGLE

Now considered the poster child of China’s technology sector, Huawei has defied the odds in recent years amidst growing pressure from political leaders in the US and Europe. But just how did the company climb to the top, and overtake Samsung to become the world’s biggest smartphone brand? Let’s pull back the curtain and reveal the secrets behind its success.

6 mins read
Techlife News
Techlife News #479 *Special Edition

China's Rebel Historians

Defiant researchers chronicle a past that the Communist Party grows ever more intent on erasing.

10+ mins read
The Atlantic
January - February 2021

A Silicon Curtain Descends

TRUMP ESCALATED AMERICA’S WAR AGAINST HUAWEI AND CHINA. BIDEN SHOULD BEWARE BURGEONING TECHNONATIONALISM.

10+ mins read
Reason magazine
February 2021

The Very Public Humbling of Jack Ma

He was set to raise $35 billion from Ant’s IPO. Then China showed him who’s boss

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
December 28 - January 04, 2021

CHINA'S ALIBABA, TENCENT UNIT FINED UNDER ANTI-MONOPOLY LAW

China’s market regulator on Monday said it fined Alibaba Group and a Tencent Holdings-backed company for failing to seek approval before proceeding with some acquisitions.

2 mins read
AppleMagazine
AppleMagazine #477