हाथी और कंप्यूटर शिक्षा
Champak - Hindi|September Second 2021
महाराज शेरा सिंह को कुछ दिन पहले ही जंगल के राजा का ताज पहनाया गया था. उन के पापा ने उन्हें फेमस शिक्षा संस्थानों से शिक्षा दिलवाई थी.
संजीव जायसवाल 'संजय'

महाराज शेर सिंह के शासनकाल में राजकाज बहुत अच्छा चल रहा था, लेकिन वर्तमान राजा शेरा सिंह अच्छी तरह जानते थे कि अगर जंगल का विकास करना है तो नई टैक्नोलौजी अपनानी पड़ेगी. इसलिए उन्होंने जंगल में कंप्यूटर सिखाने के कई इंस्टिट्यूट खुलवा दिए. ज्यादातर जानवरों ने अपने बच्चों को कंप्यूटर की पढ़ाई करवानी शुरू कर दी.

शेरा सिंह ने भी जंगल में इंटरनैट की घोषणा की, इस से सभी को बड़ी सुविधा हुई. सब से ज्यादा खुशी तो डिंकी कबूतर को हुई, क्योंकि पहले उसे चिटिठ्यां ले कर दूरदूर तक जाना पड़ता था. उन्हें बांटतेबांटते वह थक जाता था. अब सभी लोग एकदूसरे को ईमेल करने लगे जिस से सभी को पलक झपकते ही सूचनाएं मिल जाती थीं.

इंटरनेट से जंगल के कई अन्य जानवरों का काम बहुत आसान हो गया था. मिनी मोरनी ने अपने डांस और कोकी कोयल ने अपने गानों के वीडियो 'जंगलट्यूब' पर अपलोड करवा दिए. जंगली जानवर अब घर बैठ कर उन के डांस और गानों का मजा लेने लगे. दोनों को एक ही दिन में हजारों लाइक्स मिलने लगे थे. इस से वे दोनों भी बहुत खुश थे.

डमरू गधे ने तो अपने जनरल स्टोर पर जैकी बाज, रैंचो चील और उन के कई दोस्तों को नौकरी पर रख लिया. वे सभी जानवरों से औनलाइन और्डर लेते. जैकी बाज, रैंचो चील और उन के साथी ड्रोन की तरह उड़ते हुए सामान के पैकेट सभी के घरों में पहुंचा आते.

जंबो हाथी बहुत आलसी था. वह सभी काम बहुत देर से करता था. उस के दोस्तों ने उसे कई बार समझाया कि अपने बेटे मिनी को कंप्यूटर की ट्रेनिंग लेने भेज दें, लेकिन वह टालता रहता. उसे इंस्टिट्यूट जा कर बेटे का एडमिशन करवाना बहुत कठिन काम लगता था.

धीरेधीरे जंगल के सभी जानवर अपना काम कंप्यूटर पर खुद ही करने लगे. केवल मिनी ही कंप्यूटर के बारे में कुछ नहीं जानता था. इसलिए उस के सारे दोस्त उस का मजाक उड़ाते थे. एक दिन मिनी ने कंप्यूटर सीखने की जिद पकड़ ली. जंबो ने उसे टालने की बहुत कोशिश की, लेकिन मिनी ने खानापीना छोड़ दिया. मजबूरन जंबो ने अपने दोस्त पिंटू लंगूर से चीकू खरगोश के कंप्यूटर इंस्टिट्यूट में एडमिशन का औनलाइन फार्म भरवा दिया. उसी दिन इंस्टिट्यूट से मिनी का एडमिशन कार्ड आ गया.

अगले दिन मिनी तैयार हो कर अपने पापा जंबो के साथ चीकू के कंप्यूटर इंस्टिट्यूट पहुंच गया. चीकू ने उन्हें देख कर पूछा, “कहिए क्या काम है?"

“जी, मेरा नाम मिनी है. कल मेरा आप के कंप्यूटर इंस्टिट्यूट में एडमिशन हुआ है. इसलिए आज मैं पढ़ने आया हूं,” मिनी ने बताया.

चीकू ने उसे ऊपर से नीचे तक देखा और बोला, “तुम इतने लंबेचौड़े हो, तुम मिनी कैसे हो सकते हो?"

“जी, इस का नाम मिनी है. यह मेरा सब से छोटा बेटा है, इसलिए मैं ने इस का नाम मिनी रखा है," जंबो ने हंसते हुए बताया.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine