यूपी में रामराज नहीं अपराध राज
Sarita|October First 2020
यूपी में रामराज नहीं अपराध राज
अपराध और अपराध की गिरफ्त में जकड़ता उत्तर प्रदेश. यह प्रदेश पहले से अधिक खतरनाक और हिंसक हो चला है. भगवा कपड़े पहना संत, नेता बन सत्ता में आया और अपराधमुक्त राज्य बनाने का दावा किया, लेकिन यह खोखला दावा आसमानी हो गया है और जमीन अपराध से लाल.
शैलेंद्र सिंह

आगरा के एत्मादौला थाना क्षेत्र में रामवीर 30 साल से रह रहे थे. घर के बाहर के कमरे में उन की परचून की दुकान थी. वहीं पर 31 अगस्त को रामवीर, उस की पत्नी मीरा और बेटा बबलू की हत्या कर दी गई. बबलू और मीरा के हाथ बंधे थे. रामवीर के गले में फंदा पड़ा था. हत्या करने के बाद शव को जलाने और सिलैंडर के विस्फोट को दिखाने का साहस भी बदमाशों ने किया. तिहरे हत्याकांड ने प्रेम की नगरी आगरा को दहला दिया.

1 सितंबर को लखनऊ के मौल इलाके में पड़ने वाले मवई खुर्द गांव में रहने वाले किसान की 5 साल की बेटी को रैदास नामक युवक टौफी खिलाने के बहाने ले कर गया. रात 11 बजे के करीब घर वालों को लड़की की लाश खेत में मिली. लड़की के शरीर पर कपड़े नहीं थे. लड़की की गला दबा कर हत्या कर दी गई थी. लड़की के घर वालों का आरोप था कि बच्ची के साथ रेप किए जाने के बाद उस की हत्या की गई थी.

2 सितंबर को बाराबंकी जिले के सतरिख थाने में लाठियों से पीटपीट कर इमरान नामक युवक की हत्या कर दी गई. इमरान के भाई गुड्डू की तबीयत ठीक नहीं रहती थी. असगर ने उस को सलाह दी कि अपने भाई को तांत्रिक को दिखा ले. इस के लिए उस ने इमरान के घर वालों से 15 हजार रुपए भी ले लिए.

जब तांत्रिक से इलाज नहीं करा पाया और इमरान ने अपने पैसे वापस मांगे तो उस की लाठियों से पीट कर हत्या कर दी गई.

3 सितंबर को राजधानी लखनऊ के पीजीआई थाने के इलाके में दुर्गेश यादव किराए पर रहता था. सुबह साढ़े 7 बजे 2 कारों से एक युवती और 7-8 लोग आए. दुर्गेश बाथरूम में था. बाथरूम से बाहर निकलते ही युवती और उस के साथ आए लोगों ने उस की पिटाई करनी शुरू कर दी. लगभग 40 मिनट सभी मिल कर उस को पीटते रहे. अंत में हमलावरों ने दुर्गेश के पेट में गोली मार दी. राजधानी में एक महिला और उस के साथी ऐसा कर सकते हैं, यह किसी ने भी सोचा नहीं होगा.

6 सितंबर को लखीमपुर खीरी जिले में पूर्व विधायक निर्वेद्र मिश्र की जमीन के विवाद में मारपीट के बाद हत्या कर दी गई. मारपीट में पुलिस की भूमिका भी पाई गई. इस के कारण प्रदेश सरकार पर ब्राह्मण उत्पीड़न का आरोप भी लग रहा है.

11 सितंबर को अलीगढ़ में दिनदहाड़े 40 लाख रुपए लूट लिए गए. सारसौल चौराहे से 100 मीटर की दूरी पर खैरो जाने वाले रास्ते पर सुंदर वर्मा की दुकान है. यहां पर इन का मकान और सुंदर ज्वैलर्स के नाम से ज्वैलरी शौप है.

11 सितंबर को दुकान पर सुंदर वर्मा, उन का 14 वर्षीय बेटा, नौकर धर्मेश के अलावा 3-4 ग्राहक भी बैठे थे. इसी दौरान करीब एक बजे बाइक पर 3 बदमाश आए. वे मास्क लगाए थे. उन के पास तमंचे थे. बदमाशों ने दुकान में आ कर पहले अपने हाथों पर सैनिटाइजर लगाया, फिर तमंचे निकाले और 700 ग्राम सोने के जेवर और 50 हजार रुपए नकद लूट कर भाग गए.

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories, newspapers and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

October First 2020