Srote Magazine - April 2022Add to Favorites

Srote Magazine - April 2022Add to Favorites

Go Unlimited with Magzter GOLD

Read Srote along with 8,500+ other magazines & newspapers with just one subscription  View catalog

1 Month $9.99

1 Year$99.99 $49.99

$4/month

Save 50% Hurry, Offer Ends in 4 Days
(OR)

Subscribe only to Srote

Buy this issue $0.99

Subscription plans are currently unavailable for this magazine. If you are a Magzter GOLD user, you can read all the back issues with your subscription. If you are not a Magzter GOLD user, you can purchase the back issues and read them.

Gift Srote

In this issue

Srote issue no 399, April 2022

मास्क कैसा हो?

यह तो हम जानते हैं कि मास्क लगाना हमें कोविड-19 से सुरक्षा देता है। लेकिन स्वास्थ्य अधिकारियों की तरफ से इस बारे में बहुत कम जानकारी मिली है कि किस तरह के मास्क हमें सबसे अच्छी सुरक्षा देते हैं।

मास्क कैसा हो?

1 min

खाद्य पदार्थों का स्टार रेटिंग

सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका में मांग की गई है कि सुप्रीम कोर्ट केंद्र को ऐसे दिशानिर्देश बनाने के निर्देश दे जो यह सुनिश्चित करें कि खाद्य उत्पाद के पैकेट पर सामने की ओर 'स्वास्थ्य रेटिंग के साथसाथ 'स्वास्थ्य चेतावनी अंकित हो।

खाद्य पदार्थों का स्टार रेटिंग

1 min

फिलकॉक्सिया माइनेन्सिसः शिकारी भूमिगत पत्तियां

चार्ल्स डार्विन ने 1875 में मांसाहारी पौधों पर एक किताब लिखी थी। तब से अब तक तकरीबन 10 कुलों में लगभग 20 मांसाहारी वंश (जीनस) पहचाने जा चुके हैं।

फिलकॉक्सिया माइनेन्सिसः शिकारी भूमिगत पत्तियां

1 min

दीर्घ कोविड: बड़े पैमाने के अध्ययन की ज़रूरत

कई लोगों में कोविङ-19 से उबरने के बाद भी कई हफ्तों या महीनों तक थकान, याददाश्त की समस्या और सिरदर्द जैसे लक्षण बने रहते हैं।

दीर्घ कोविड: बड़े पैमाने के अध्ययन की ज़रूरत

1 min

चीन विदेशों में कोयला बिजली घर निर्माण नहीं करेगा

हाल ही में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में यह वचन दिया है कि उनका देश विदेशों में कोयला आधारित नई बिजली परियोजनाओं का निर्माण नहीं करेगा।

चीन विदेशों में कोयला बिजली घर निर्माण नहीं करेगा

1 min

जीएम खाद्यों पर पूर्ण प्रतिबंध ही सबसे उचित नीति है

जेनेटिक रूप से परिवर्तित (जीएम) खाद्यों के नियमन के लिए सरकारी नीति पर हाल के समय पर तीखी बहस देखी गई है। सरकारी स्तर पर जनता व विशेषज्ञों से इस बारे में राय मांगी गई।

जीएम खाद्यों पर पूर्ण प्रतिबंध ही सबसे उचित नीति है

1 min

भारत के जंगली संतरे

नींबू और संतरा हमारे भोजन को स्वाद देने वाले और पोषण बढ़ाने वाले अवयव हैं। ऐसा अनुमान है कि पृथ्वी पर नींबू (साइट्रस) वंश के लगभग एक अरब पेड़ हैं।

भारत के जंगली संतरे

1 min

सूर्य के पड़ोसी तारे का पृथ्वी जैसा ग्रह मिला

हाल ही में खगोलविदों ने एक नए ग्रह की खोज की है। यह सूर्य के निकटतम तारे प्रॉक्सिमा सेंटोरी की परिक्रमा करने वाला तीसरा ग्रह है जिसे प्रॉक्सिमा सेंटोरी-डी नाम दिया गया है, और यहां तरल पानी का समंदर होने की संभावना है।

सूर्य के पड़ोसी तारे का पृथ्वी जैसा ग्रह मिला

1 min

कोविड-19 की उत्पत्ति पर बहस जारी

हाल ही में जारी किए गए तीन नए अध्ययनों ने सार्स-कोव-2 की उत्पत्ति पर निर्विवादित निष्कर्ष प्रस्तुत किए हैं। हालांकि तीनों विश्लेषण कोविड-19 की उत्पत्ति तक तो नहीं पहुंचते हैं लेकिन वायरस के वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरॉलॉजी से लीक होने के सिद्धांत को खारिज करते हैं।

कोविड-19 की उत्पत्ति पर बहस जारी

1 min

हृदय पर कोविड-19 के गंभीर प्रभाव

महामारी की शुरुआत से ही संकेत मिलने लगे थे कि सार्स-कोव-2 से संक्रमित गंभीर रोगियों में हृदय और रक्त वाहिनियों में क्षति होती है।

हृदय पर कोविड-19 के गंभीर प्रभाव

1 min

बाल्ड ईगल में सीसा विषाक्तता

हाल ही में किए गए एक अध्ययन में अमेरिका के लगभग आधे बाल्ड और गोल्डन ईगल पक्षियों में सीसा (लेड) विषाक्तता पाई गई है। गौरतलब है कि बाल्ड ईगल यूएसए का राष्ट्रीय पक्षी है। इस स्तर की विषाक्तता को देखते हुए इन प्रजातियों का पुनर्वास काफी मुश्किल प्रतीत होता है।

बाल्ड ईगल में सीसा विषाक्तता

1 min

पृथ्वी और मानवता को बचाने के लिए आहार

जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग जैसे शब्द अब हमारे लिए अनजाने नहीं हैं। बढ़ते हुए वैश्विक तापमान से निकट भविष्य में होने वाली समस्याओं के संकेत दिखने लगे हैं।

पृथ्वी और मानवता को बचाने के लिए आहार

1 min

मादा नेवलों में विचित्र प्रसव-तालमेल

हाल ही में नेवलों की आबादी पर किए गए अध्ययन से प्रजनन सम्बंधी कुछ अद्भुत परिणाम सामने आए हैं।

मादा नेवलों में विचित्र प्रसव-तालमेल

1 min

टेक्नॉलॉजी का सहस्राब्दी पुरस्कार

वर्ष 2020 के सहस्राब्दी टेक्नॉलॉजी पुरस्कार की घोषणा मई में की गई। यह पुरस्कार डीएनए अनुक्रमण (सिक्वेसिंग) की क्रांतिकारी तकनीक के विकास हेतु शंकर बालसुब्रमण्यन और डेविड क्लेनरमैन को दिया गया है। उनका काम विज्ञान और नवाचार का उत्कृष्ट संगम है। यह बहुत प्रासंगिक भी है क्योंकि वर्तमान महामारी के संदर्भ में हम सबने जीनोम अनुक्रमण के बारे में खूब सुना है।

टेक्नॉलॉजी का सहस्राब्दी पुरस्कार

1 min

जीवित मलेरिया परजीवी से निर्मित टीके की सफलता

हर वर्ष मलेरिया से लगभग चार लाख लोगों की मौत होती है। दवाइयों तथा कीटनाशक युक्त मच्छरदानी वगैरह से मलेरिया पर नियंत्रण में मदद मिली है लेकिन टीका मलेरिया नियंत्रण में मील का पत्थर साबित हो सकता है। मलेरिया के एक प्रायोगिक टीके के शुरुआती चरण में आशाजनक परिणाम मिले हैं।

जीवित मलेरिया परजीवी से निर्मित टीके की सफलता

1 min

कोविङ-19: विभिन्न देशों के स्कूल सम्बंधी अनुभव

पिछला एक वर्ष हम सभी के लिए चुनौती भरा दौर रहा है। एक ओर तो महामारी का दंश तथा दूसरी ओर लॉकडाउन के कारण मानसिक तनाव । साथ ही समस्त शिक्षण का ऑनलाइन हो जाना।

कोविङ-19: विभिन्न देशों के स्कूल सम्बंधी अनुभव

1 min

हबल दूरबीन लौट आई है!

प्रतिष्ठित अंतरिक्ष दूरबीन हबल में लगभग एक महीने पहले कंप्यूटर सम्बंधी गड़बड़ी आ जाने के कारण उसने काम करना बंद कर दिया था, अब यह फिर से काम करने लगी है। साइंस पत्रिका के अनुसार दूरबीन का नियंत्रण ऑपरेटिंग पेलोड कंट्रोल कंप्यूटर से हटाकर बैकअप उपकरणों पर लाने के बाद हबल दूरबीन के सभी उपकरणों के साथ पुनः संवाद स्थापित कर लिया गया है।

हबल दूरबीन लौट आई है!

1 min

संरक्षित ऊतकों से 1918 की महामारी के साक्ष्य

वर्ष 1918 में उस समय के नए इन्फ्लुएंज़ा स्ट्रेन से मारे गए दो जर्मन सैनिकों के फेफड़ों से बीसवीं सदी की सबसे विनाशकारी महामारी की आणविक झलक देखने को मिली है।

संरक्षित ऊतकों से 1918 की महामारी के साक्ष्य

1 min

समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण पर बढ़ती चिंता

प्लास्टिक माउंट एवरेस्ट से लेकर अंटार्कटिका तक पहुंच चुका है। हर वर्ष, लाखों टन प्लास्टिक कचरा समुद्र में बहा दिया जाता है। इनमें से कुछ बड़े टुकड़े तो समुद्र में तैरते रहते हैं, कुछ छोटे कण समुद्र के पेंदे में पहुंच जाते हैं तो कुछ का ठिकाना समुद्र की गहरी खाइयों के क्रस्टेशियन जीवों तक में होता है।

समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण पर बढ़ती चिंता

1 min

आजकल फफूंद की चर्चा हर जुबान पर

इन दिनों फफूंद के बड़े चर्चे हैं। ब्लैक फंगस, वाइट फंगस और फिर येलो फंगस । वैसे ये फफूंदें तो सहस्राब्दियों से हमारे साथ रहती आई हैं और रहेंगी। कभी दोस्त तो कभी दुश्मन बन कर।

आजकल फफूंद की चर्चा हर जुबान पर

1 min

क्या वनस्पति विज्ञान का अंत हो चुका है?

पिछले दिनों सेल प्रेस रिव्यू में विज्ञान और समाज शीर्षक के अंतर्गत एक पर्चा छपा था दी एंड ऑफ बॉटनी । यह पर्चा संयुक्त रूप से अर्जेंटाइना के वनस्पति संग्रहालय के जार्ज वी. क्रिसी, लिलियाना कैटीनास, मारिया एपीडोका और मिसौरी वनस्पति उद्यान के पीटर सी. हॉच द्वारा लिखा गया है। इस पर्चे का शीर्षक वाकई चौंका देने वाला है और हमें वनस्पति विज्ञान के वर्तमान यथार्थ से रू-ब-रू कराता है।

क्या वनस्पति विज्ञान का अंत हो चुका है?

1 min

अंतर्राष्ट्रीय महामारी संधि का आह्वान

कोविड -19 महामारी ने यह तथ्य पुख्ता किया है कि जब तक सभी लोग सुरक्षित नहीं होंगे तब तक इस महामारी से कोई भी सुरक्षित नहीं होगा।

अंतर्राष्ट्रीय महामारी संधि का आह्वान

1 min

युरोपीय लोगों के आगमन से पर्यावरण को नुकसान

लगभग पांच सौ वर्ष पूर्व युरोपीय खोजकर्ताओं ने न केवल कैरेबिया के मूल निवासियों के जीवन को तहस-नहस किया बल्कि पूरे पारिस्थितिकी तंत्र को भी काफी नुकसान पहुंचाया था। एक नए अध्ययन से पता चला है कि इस द्वीप पर रहने वाले लगभग 70 प्रतिशत सांप और छिपकलियां खत्म हो चुके हैं। इसके पीछे उपनिवेशकों के साथ आए बिल्ली, चूहों और रैकून को ज़िम्मेदार बताया जा रहा है।

युरोपीय लोगों के आगमन से पर्यावरण को नुकसान

1 min

टीकाः जोखिम बेहतर ढंग से समझाने की ज़रूरत

हज़ारों-लाखों वालंटियर्स पर किसी नई दवा या टीके को कारगर और सुरक्षित पाए जाने के बाद जब वही दवा या टीका करोड़ों को दिया जाता है तो सुरक्षा सम्बंधी कई मुद्दे सामने आते हैं।

टीकाः जोखिम बेहतर ढंग से समझाने की ज़रूरत

1 min

क्या सार्स-कोव-2 हवा से फैलता है?

मार्च 2021 में डबल्यूएचओ द्वारा वित्तपोषित एक समीक्षा (कार्ल हेनेगन और साथी) के आधार पर निष्कर्ष निकाला गया है कि कोविड वायरस हवा के माध्यम से नहीं फैलता। यह निष्कर्ष जन स्वास्थ्य की दृष्टि से महत्वपूर्ण है।

क्या सार्स-कोव-2 हवा से फैलता है?

1 min

सुंदरलाल बहुगुणाः पर्यावरण व वन संरक्षक

वयोवृद्ध पर्यावरणविद और चिपको आंदोलन के अग्रणी सुंदरलाल बहुगुणा का 21 मई को 94 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। इसके दो हफ्ते पहले उन्हें कोविड-19 के चलते ऋषिकेश के एक अस्पताल में भर्ती किया गया था।

सुंदरलाल बहुगुणाः पर्यावरण व वन संरक्षक

1 min

कोविड-19 के उपचार में नई दवाओं से उम्मीद

कोविड-19 के उपचार के लिए कई औषधियों के विकास पर काम चल रहा है। हाल ही में भारत में दो औषधियों को इलाज में आपातकालीन उपयोग की मंजूरी मिली है, व एक औषधि को क्लीनिकल परीक्षण की मंजूरी मिली है।

कोविड-19 के उपचार में नई दवाओं से उम्मीद

1 min

अमेरिकी शहद में परमाणु बमों के अवशेष

हाल ही में हुए एक अध्ययन के अनुसार लगभग पांच दशक पूर्व किए परमाणु बम परीक्षणों के अवशेष आज भी दिखाई दे रहे हैं। शोधकर्ताओं ने शहद में रेडियोधर्मी तत्व मौजूद पाया है। हालांकि शहद में रेडियोधर्मी तत्व का स्तर खतरनाक नहीं है, लेकिन अंदाज़ है कि 1970-80 के दशक में यह स्तर काफी अधिक रहा होगा।

अमेरिकी शहद में परमाणु बमों के अवशेष

1 min

क्या ऑक्टोपस सपने देखते हैं?

ऑक्टोपस सपने देखते हैं या नहीं, यह तो अभी पता नहीं चल पाया है लेकिन वैज्ञानिक इस गुत्थी को सुलझाने की ओर बढ़े हैं। आईसाइंस (iScience) में प्रकाशित हालिया अध्ययन बताता है कि मनुष्यों की तरह ऑक्टोपस भी नींद की दो अवस्थाओं का अनुभव करते हैं -सक्रिय नींद और शांत नींद । लेकिन मनुष्यों और ऑक्टोपस, दोनों में इस दो अवस्था वाली नींद का विकास स्वतंत्र रूप से हुआ होगा, क्योंकि ये दोनों जैव-विकास में लगभग 50 करोड़ वर्ष पूर्व अलग-अलग हो चुके थे।

क्या ऑक्टोपस सपने देखते हैं?

1 min

जानलेवा बीमारियों के विरुद्ध जंग में रुकावट बना कोविड

मार्च 2020 में भारत में तालाबंदी के बाद से टीबी जैसी जानलेवा बीमारी में प्रतिदिन रिपोर्टेड मामलों में 70 प्रतिशत की कमी देखी गई। एक ऐसी बीमारी जिससे प्रति वर्ष 14 लाख लोगों की मृत्यु होती है उसमें अचानक इतनी गिरावट आना हैरत की बात है। लेकिन वर्तमान में कोविड-19 के चलते चिकित्सा संसाधनों का फोकस टीबी के निदान तथा उपचार से हट गया है। ऐसे में टीबी के संचरण में वृद्धि होने की आशंका है क्योंकि टीबी निकट संपर्क से फैलता है और लोग घरों में बंद हैं।

जानलेवा बीमारियों के विरुद्ध जंग में रुकावट बना कोविड

1 min

Read all stories from Srote

Srote Magazine Description:

PublisherEklavya

CategoryScience

LanguageHindi

FrequencyMonthly

The quality of science material available in our country is mediocre which acts as a barrier in making science popular. This has also hindered the process of development of a scientific temper in people. As a solution to this , Srote a monthly science magazine was started in 1989. Srote is a weekly feature service on topics in science and technology for newspapers and magazines. Efforts are made to present news from all over the world in a simple language . Delivered to over 350 subscribers, each news snippet and feature article in Srote is picked up approximately five times. The weeklies are then compiled as a magazine each month.

  • cancel anytimeCancel Anytime [ No Commitments ]
  • digital onlyDigital Only
MAGZTER IN THE PRESS:View All