गर्ल्स पीजी में रहने से पहले
Grihshobha - Hindi|October First 2021
होस्टल या पीजी में रहने से पहले यह बेहद जरूरी है कि आप अपनी ओर से पूरी सावधानी बरतें...
मिनी सिंह

आज की लड़कियां घर की चारदीवारी में रह कर सिर्फ चूल्हाचौका संभालना ही नहीं जानतीं, बल्कि पढ़लिख कर आसमान छूने की भी चाह रखती हैं. आज की लड़कियां अपने सपनों और कैरियर के लिए घर से दूर, छोटेछोटे शहरों से निकल कर दिल्ली, , गुजरात, महाराष्ट्र जैसे बड़े शहरों में पीजी या होस्टल में रहने लगी हैं.

पीजी सिस्टम आज बड़ेबड़े शहरों में कौमन बात हो चुकी है, जहां एक कमरे में 3-4 लड़कियां आराम से एकसाथ रहती हैं. पीजी वाकई एक रंगबिरंगी दुनिया है. तभी तो इसे ले कर लड़कियों में अलगअलग क्रेज है. गर्ल्स पीजी में हर तरह की लड़कियां मिलेंगी. इन में कुछ पढ़ाकू टाइप की तो कुछ दुनिया भर की गोशिप करने वाली होती हैं.

गर्ल्स पीजी में रह रही लड़कियों की एक अलग ही दुनिया होती है जहां अलगअलग जगहों से आ कर लड़कियां एकसाथ परिवार की तरह रहती हैं. साथ सोती हैं, कमरा शेयर करती हैं, बैड शेयर करती हैं, बाथरूम शेयर करती हैं, कपड़े शेयर करती हैं, खाना शेयर करती हैं और सब से खास बात एकदूसरे के सुख और दुख भी शेयर करती हैं. सब से मजेदार बात यह कि जिन्हें गाना नहीं आता वे भी बाथरूम में घुस कर गुनगुनाने लगती हैं.

एकदूसरे को सपोर्ट

आपस में भले ही उन का किसी बात को ले कर मनमुटाव हो जाए, पर वक्त पड़ने पर वे एकदूसरे को सपोर्ट भी करती हैं. पीजी में रह रही लड़कियां एक नए रिश्ते बनाती हैं. पीजी की ऐसी बहुत सी बातें होती हैं जो मन को गुदगुदाती हैं जैसे मिलबांट कर घर के काम करना, छुट्टी के दिन साथ मिल कर कुछ स्पैशल बनाना, एकदूसरे से अपनी बातें शेयर करना. कई बार आधी रात को भूख लगने पर मैगी बना कर उस पर टूट पड़ना. जब कहीं बाहर घूमने जाना हो तो 5 मिनट में तैयार हो जाना. पीजी में किसी रूममेट के जन्मदिन पर केक बनाना वे पीजी में रह कर ही सीखती हैं.

घर से दूर रह रही लड़कियों पर अकसर मैंटल प्रैशर बना रहता है. कभी अपने औफिस में बढ़ते काम का लोड, कभी रिलेशनशिप की प्रोब्लम्स, तो कभी घरपरिवार की चिंता उन्हें सताती रहती है. इन सभी चीजों के लिए पीजी में रह रही लड़कियों को एक मैंटल सपोर्ट की जरूरत होती है, जो उन्हें पीजी में मिलती है. गर्ल्स पीजी या होस्टल में बने रिश्ते उन के साथ सालोंसाल कनैक्ट रहते हैं.

सुरक्षा का डर

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM GRIHSHOBHA - HINDIView All

वैडिंग पार्टी ड्रैसेज

फैशन

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

खास है शादी का पहला साल

शादी खुद को बेहतर बनाने का जरीया है, मगर तब जब शुरुआत के पहले ही साल में आप न सिर्फ जीवनसाथी बल्कि परिवार वालों की भी चहेती बन जाएं...

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

बुनाई की एबीसीडी

सही ऊन के चुनाव से ले कर बुनाई करने से जुड़ी ये बुनियादी जानकारी आप के बेहद काम आएगी....

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

चौकलेट खाएं खुश हो जाएं

चौकलेट खाने के फायदे जान कर हैरान रह जाएंगे आप...

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

घर बैठे खरे सोने जैसा ग्लो

चेहरे की चमक के बारे में समझाते हुए

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

ओटीटी से सिनेमा को कोई खतरा नहीं दिव्या खोसला कुमार

अदाकारा व निर्देशक दिव्या खोसला कुमार रील लाइफ में अपने दमदार अभिनय के लिए तो मशहूर हैं ही, रियल लाइफ में उन की लव स्टोरी भी कम दिलचस्प नहीं है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

दावत वाले जायके

स्वादिष्ट व्यंजन रेसिपी

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

क्या है लैक्टोज इनटौलरैंस

अगर आप को भी दूध या इस से बनी चीजें खाने अथवा पीने से शरीर में ऐलर्जी हो, तो यह जानकारी आप के लिए ही है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

क्या बहू बेटी नहीं बन सकती

सास और बहू भी मांबेटी की तरह रह सकती हैं, जरूरत सिर्फ नजरिया बदलने की है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021

17 ब्राइडल हेयर केयर टिप्स

इस विंटर में शादी है तो बालों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए ये टिप्स अपनाएं...

1 min read
Grihshobha - Hindi
December FIrst 2021