कुछ यों संवारें बच्चों का कल
Grihshobha - Hindi|April Second 2021
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए यह जानना आप के लिए बेहद जरूरी है...
इंजी. आशा शर्मा

श्रुति की जिद थी कि उसे आगे की पढ़ाई होस्टल में रह कर ही करनी है वहीं उस की मां इस के जरा भी पक्ष में नहीं थीं. श्रुति का देर तक सोना, अपने मैले कपड़े बाथरूम में छोड़ देना, खाने पर सौ नखरे करना जैसे कई कारण मां की धारणा को पुख्ता कर रहे थे. उधर श्रुति का कहना था कि सिर पर पड़ेगा तो सब सीख जाऊंगी. लेकिन मां को कहने भर से भला विश्वास कैसे होता.

एक दिन श्रुति की सहेली मिताली उस से मिलने आई. मां ने चाय का पूछा तो मिताली ने कहा, “आंटी, आप बैठिए, चाय मैं बना कर " लाती हूं.'

मां उसे आश्चर्य से देख रही थीं. मिताली तुरंत रसोई में गई और 3 कप चाय बना लाई, साथ में बिस्कुट और नमकीन भी रखा था. मां ने कुछ कहा तो नहीं, लेकिन एक चुभती सी निगाह श्रुति पर डाल कर चाय पीने लगीं.

"तूने ये सब कब सीख लिया?" श्रुति ने आश्चर्य से पूछा.

"अरे यार, क्या बताऊं... तुझे तो पता है न कि इंजीनियरिंग के लिए बाहर का कालेज मिला है. 2 महीने बाद जाना है. सोचा कुछ प्री ट्रेनिंग ही ले लूं ताकि अनजान जगह पर परेशान न होना पड़," मिताली ने कहा, "तुझे पता है नेहा के साथ पिछले साल क्या हुआ था जब वह एमबीए करने पुणे गई थी?"

"क्या?" मां बीच में ही बोल पड़ीं, "होस्टल का खाना उसे अच्छा नहीं लगा तो वह एक पीजी में रहने लगी, लेकिन वहां भी एकसाथ कई लड़कियों का खाना बनता था. नेहा को वह खाना भी नहीं जंचा. जंचता भी कैसे? कहां राजस्थान और कहां महाराष्ट्र.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM GRIHSHOBHA - HINDIView All

लगन पर भारी कोरोना महामारी

शादी बाजार में एक बार फिर से सन्नाटा है और जिन लोगों की आजीविका शादी समारोहों से चलती थी, कोरोना ने इन से न सिर्फ काम छीन लिया है, सरकार की गलत नीतियों की वजह से दो जून की रोटी मिलनी भी मुश्किल हो रही...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

धर्म से ही है लैंगिक असमानता

धर्म कोई भी हो, किसी न किसी रूप में स्त्रियों के प्रति लिंग आधारित भेदभाव करता ही है और यह बाद में किस तरह अत्याचार का कारण बन जाता है, क्या जानना नहीं चाहेंगे...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

तो तीसरी लहर बच्चों पर रहेगी बेअसर

कोरोनाकाल में बच्चों को ले कर चिंतित हैं, तो यह जानकारी आप के लिए ही है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

फेस सीरम रखे स्किन को जवां

स्किन के अनुसार फेस सीरम का चुनाव किस तरह आप की त्वचा के लिए फायदेमंद है, जरूर जानिए...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

कोरोना की नई लहर बदहाली में फंसे सिनेमाघर

यह सही है कि कोरोना की वजह से सिनेमाघरों की स्थिति अच्छी नहीं है, मगर इस बदहाली के लिए सिर्फ कोरोना ही जिम्मेदार है या फिर कोई गहरी साजिश रची जा रही है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

क्यों जरूरी है हाथों की सफाई

हाथों की नियमित सफाई से आप किस तरह गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं, जरूर जानिए...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

कोरोना औरत के कंधे पर बढ़ा बोझ

कोरोना से उपजी त्रासदी में महिलाएं किस तरह खुद की जान दांव पर लगा कर अपने परिवार की जिंदगी बचाने में लगी हैं, जान कर हैरान रह जाएंगे आप...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

कामकाजी महिलाएं हुनर पर भारी आर्थिक आजादी

आखिर क्या वजह है कि समाज के लगभग हर वर्ग में अपनी मेहनत से खुद की पहचान बनाने वाली महिलाएं आर्थिक मोरचे पर पुरुषों से आगे नहीं निकल पा रही हैं...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

सेहत बना सकती हैं 9 आदतें

अपनी आदतों में बदलाव ला कर आप खुद के साथ परिवार को किस तरह सेहतमंद रख सकती हैं, यह हम आप को बताते हैं...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May Second 2021

खुद को दें क्वालिटी टाइम

परिवार के साथ आप अपने लिए भी समय निकाल सकती हैं, कुछ इस तरह...

1 min read
Grihshobha - Hindi
May First 2021