असमान पड़ोस में कैसे निभाएं
Grihshobha - Hindi|November First 2020
जब असमान पड़ोसी हों तो सिवाए नाकभौं सिकोड़ने के, उन से मित्रवत व्यवहार बना कर रह सकते हैं. कैसे, यह हम आप को बताते हैं...
इंजी. आशा शर्मा

विनय डाक्टर है और उस की प्रैक्टिस काफी अच्छी चल रही. मगर इन दिनों वह एक अजीब सी समस्या से परेशान है. कुछ वर्ष पहले उस ने एक सरकारी कालोनी में घर बनाने के लिए भूखंड खरीदा था. उस समय वहां अधिक बसावट नहीं थी, इसलिए वह अपने परिवार के साथ अपने पैत्रिक घर में ही रह रहा है. अब चूंकि नई कालोनी में बसावट होने लगी है तो उस ने भी वहां घर बनाने का निश्चय किया.

नक्शा बनवाने के लिए जब विनय सिविल इंजीनियर के साथ साइट पर गया तो सड़क के दूसरी तरफ बने घरों को देख कर उस का माथा ठनक गया. ये मकान बेहद छोटी आयवर्ग के थे.

विनय मन ही मन उन के और अपने रहनसहन की तुलना करने लगा. हालांकि उसे यह तुलना करना बहुत ही ओछा काम लग रहा था, लेकिन मन था कि सहज नहीं हो पा रहा था.

"आजकल किसे फुरसत है आसपड़ोस में बैठने की. वे अपना कमाएंगेखाएंगे, हम अपना. आप नाहक परेशान हो रहे हैं," पत्नी ने समझाया.

"इसे बेच कर दूसरा प्लाट खरीदना आसान काम नहीं है. फिर तुम्हें इतनी फुरसत भी कहां है. बेकार दलालों के चक्कर में उलझ जाओगे. बहू ठीक कहती है. इसी जमीन पर बनवा लो," पिता ने भी राय दी तो विनय बुझे मन से घर बनवाने के लिए तैयार हो गया.

अभी मकान का काम शुरू हुए कुछ ही दिन हुए थे कि एक दिन सड़क के दूसरी तरफ वाले किसी घर से एक व्यक्ति आया. बोला, “अच्छा है. पड़ोस में कोई डाक्टर होगा तो रातबेरात काम आएगा.

यह सुनते ही विनय का मूड फिर से उखड़ गया.

जैसेजैसे मकान का काम पूर्णता की तरफ बढ़ रहा था वैसेवैसे विनय का उत्साह फीका पड़ता जा रहा था. जब भी वह अपनी कार किसी पेड़ के नीचे खड़ी करता, कई सारे बच्चे उस के आगेपीछे घूमने लगते. कोई उसे छू कर देखता तो कोई सहला कर. विनय मन ही मन डरता रहता कि कहीं कोई शैतान बच्चा महंगी कार पर खरोंच न लगा दे.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM GRIHSHOBHA - HINDIView All

नए साल में घर को दें नया लुक

इन आसान तरीकों से सजाएं अपना घर और पाएं ढेर सारी तारीफ...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

बदल गया जीवन जीने का तरीका

कोरोना महामारी में खुद की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए भी आप सामाजिक जीवन बिता सकते हैं, कुछ इस तरह...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

कोमल है कमजोर नहीं

हर दौर में महिलाओं ने अपनी काबिलियत को साबित किया है, मगर फिर भी सदियों से उन्हें कमजोर व अबला बताने वाले कौन हैं और उन की मंशा क्या है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

शादी में कितनी हो दखलंदाजी

भाई या बहन की शादी में आप की दखलंदाजी कितनी हो, यह जानना आप के लिए बेहद जरूरी है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

2021 हेयरस्टाइल ट्रेंड

नए साल में ट्रेंड में रह सकते हैं ये हेयरस्टाइल. आप भी डालें एक नजर...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

ब्यूटी में हाइजीन न करें इग्नोर

नए साल में भी कोविड संक्रमण रुकता नहीं दिखता. इसलिए अपनी स्किन केयर रुटीन में हाइजीन से जुड़ी इन बातों को शामिल करना न भूलें...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

"शादी के बाद मेरी तो जिंदगी ही बदल गई” अविनाश द्विवेदी

आज जबकि फिल्मकार सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाने से कतराते हैं, अविनाश की नई फिल्म 'रिकशावाला' सामाजिक तानेबाने पर ही आधारित है और खूब शोहरत बटोर रही है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

ऐब्यूज केवल शारीरिक ही नहीं मानसिक भी होता है.- कीर्ति कुल्हारी

कीर्ति आजकल हॉटस्टार स्पैशल्स पर रिलीज होने वाली अपनी नई वैब सीरीज क्रिमिनल जस्टिस बिहाइंड क्लोज्ड डोर्स में अपने किरदार को ले कर काफी उत्साहित हैं. क्या है इस का राज, जानिए उन्हीं से...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

7 तरीके इम्यूनिटी बढाने के

कुछ जरूरी बातों को ध्यान रख कर आप न सिर्फ जानलेवा कोरोना वायरस, बल्कि सर्दियों में होने वाली बीमारियों से भी खुद को बचा सकती हैं...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021

शिक्षा ही सब से बड़ी जरूरत पूजा प्रसाद

मन में समाजसेवा की भावना लिए आज पूजा ने लोगों को शिक्षित करने का जो बीड़ा उठाया है, वह दूसरों के लिए मिसाल है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
January First 2021
RELATED STORIES

लॉकडाउन ने जीवन देखने का दृष्टिकोण बदलाः सोनू सूद

अभिनेता सोनू सूद ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान लोगों से बातचीत ने जीवन को देखने का उनका दृष्टिकोण ही बदल दिया है। उन्हें इसी से आई एम नो मसीहा नाम से एक संस्मरण लिखने की प्रेरणा मिली है।

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
January 07, 2021

महामारी में बने मसीहा

सोनू सूद, 47 वर्ष अभिनय में भले वे उतने कामयाब न हो पाए हों लेकिन कोरोना महामारी के दौरान परेशान प्रवासियों की जिस तरह से उन्होंने मदद की, उसने उन्हें जनता के बीच एक आदर्श बना दिया

1 min read
India Today Hindi
January 13, 2021

सोनू सूद का सोशल चेहरा

नेकदिली और दरियादिली की मिसाल बन चुके सोनू सूद को आज सभी सलाम कर रहे हैं, चाहे वह बिहार का गरीब किसान हो या फिर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत।

1 min read
Vanitha Hindi
October 2020

RELAX IN The Palm Beaches

Think Florida is just for kids? Think again. This resort is the perfect spot for some grown-up R&R

2 mins read
WOMAN - UK
June 22, 2020

मदद को आगे बढ़ा हाथ

सऊदी अरब से 18 मार्च को लौटने के बाद श्रीनगर के एक अस्पताल में भर्ती हुई महिला जांच में कोविड-19 से पीड़ित मिली. वह कश्मीर में कोरोना की पहली रोगी थी. यह खबर पाते ही श्रीनगर जिला प्रशासन ने कठोर लॉकडाउन लागू कर दिया.

1 min read
India Today Hindi
May 20, 2020

विदेश में भी छात्रों तक मदद पहुंचा रहे

दूतावासों के जरिए सरकार मदद पहुंचाने की योजना पर अमल कर रही, कई जगहों पर स्थानीय समुदाय की मदद से सामान की आपूर्ति शुरू

1 min read
Hindustan Times Hindi New Delhi
April 20, 2020

लॉकडाउन में गरीबों के लिए आगे आया किन्नर समाज

लॉकडाउन में गरीबों के लिए आगे आया किन्नर समाज

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
April 02, 2020

गोड़वाड़ भवन ट्रस्ट एक दिन में 12 हजार लोगों तक पहुंचा रहा भोजन

गोड़वाड़ भवन ट्रस्ट एक दिन में 12 हजार लोगों तक पहुंचा रहा भोजन

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
April 01, 2020

मदद को आगे आने वालों में पहले उद्योगपति आनंद महिंद्रा

मदद को आगे आने वालों में पहले उद्योगपति आनंद महिंद्रा

1 min read
Samagya
March 23, 2020

गलती से भेजे मैसेज ने जुटाए साढ़े 8 लाख रूपए

गलती से भेजे मैसेज ने जुटाए साढ़े 8 लाख रूपए

1 min read
Manohar Kahaniyan
December 2019