न्यूबॉर्न बेबी एंड मदर केयर के 21 टिप्स
Grehlakshmi|January 2021
मां और शिशु के रिश्ते को किसी भी परिभाषा में बयां नहीं किया जा सकता। इसकी शुरुआत मां की कोरव से होती है, जहां बच्चा नौ महीने तक रहकर खुद को सुरक्षित महसूस करता है। गर्भ से बाहर आते ही मां-बच्चे दोनों की दुनिया बदल जाती है और दोनों को ही विशेष देखभाल की जरूरत होती है।
सरिता शर्मा

एक शिशु के लिए उसके जन्म का समय उसके व मां के लिए बहुत कष्टमय होता है। गर्भ से बाहर आते ही वह एक नए वातावरण में सांस लेता है। मां का स्पर्श और गोद उसको सुकून प्रदान करते हैं। आइये, बात करते हैं कि नवजन्मे बच्चे और उसकी मां की देखभाल के लिए किन-किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

बेबी केयर टिप्स

1. शिशु का इम्यून सिस्टम बहुत ही कमज़ोर होता है, जिस कारण उसे संक्रमण का डर अधिक होता है। उसकी मां हमेशा साथ में रहती हैं तो उसका खुद की साफ़-सफाई रखना बहुत जरूरी है। मौसम के अनुसार स्वच्छ कपड़े पहने और शिशु को छूने से पहले अपने हाथों को मेडिकेटिड सोप से धो लें या सेनिटाइज़ कर लें।

2. गर्भनाल बच्चे तक पोषक तत्व और ऑक्सीजन पहुंचाती हैं। जन्म के बाद इस नाल को काट कर वहां प्लास्टिक क्लिप लगा दी जाती है। नाल कटने के बाद इसकी केयर करना बहुत जरूरी है, वरना इन्फेक्शन हो सकता है। नाल सूख कर स्वयं ही गिर जाती है अतः इसको खींचने की कोशिश ना करें। उसको पानी से ही साफ़ करें व हमेशा सूखा रखें।

3. शिशु को स्तनपान अवश्य कराएं क्योंकि मां का पहला दूध (कोलोस्ट्रम) जोकि पीले रंग का गाढ़ा द्रव्य होता है, उसमें बहुत सी एंटीबॉडीज होती है, जो उसको कई प्रकार के इन्फेक्शन्स से बचाती है। स्तनपान कराने से पहले अपने निप्पल्स अच्छी तरह से साफ़ कर लें।

4. स्तनपान के दौरान दूध के साथ कुछ हवा भी शिशु के पेट में चली जाती है, जिससे उसको गैस की समस्या हो सकती है, इसलिए दूध पिलाने के बाद तुरंत उसको कंधे से लगाकर धीरे-धीरे थपकी दें ताकि डकार आ जाये और वह आराम महसूस कर सके।

5. नवजात को सही तरीके से गोद में लें। उसकी गर्दन को सहारा देने के लिए अपना एक हाथ या बाजू गर्दन के नीचे रखें। जब उसे कंधे से लगाएं तो भी अपना हाथ उसके सिर के पीछे रखें ताकि उसका सिर इधर-उधर ना लुढ़के।

6. शिशु के शारीरिक व मानसिक विकास के लिए सही आहार बहुत जरूरी है। जन्म से छ: महीने तक तो वह मां के दूध पर निर्भर होता है, लेकिन बाद में दूध के साथ ठोस आहार की आवश्यकता होती है। ऐसे में उसे उबली मैश किया आलू, दाल का पानी, सूजी का हलवा या फ्रेश फ्रूट्स का जूस दे सकते हैं। बाजार में मिलने वाले बेबी फूड सप्लीमेंट्स भी फायदेमंद हैं, जोकि कई विटामिन व मिनरल्स से भरपूर होते हैं।

7. जन्म से लेकर एक साल तक शिशु की त्वचा की ख़ास केयर करनी पड़ती है, ऐसे में बेबी सोप, बेबी ऑयल, बेबी क्रीम, बेबी शैम्पू व अन्य स्किन प्रोडक्ट्स हमेशा अच्छी कंपनी के और मेन्युफेक्चरिंग डेट देख कर ही खरीदें। नहलाने से पहले नरम हाथों से किसी भी तेल से शरीर की मालिश करें, इससे उसकी हड्डियां मजबूत होंगी व त्वचा में भी चमक आएगी।

8. शिशु के प्राइवेट पार्ट्स की स्वछता बहुत जरूरी है। लड़का हो या लड़की, शरीर के ये हिस्से विशेष देखभाल चाहते हैं। शिशु के अंगों को अच्छी तरह से धोएं और बेबी वाइप्स से अच्छे से पोंछ दें, ऐसा करने से बैक्टीरिया उस जगह से दूर रहेंगे। दिन में कम से कम छ: या सात बार नैप्पी बदलें। कभीकभी शिशु को बिना नैप्पी के रहने दें ताकि उसके अंगों को हवा लगती रहे और वहां सूखा रहे।

9. जब शिशु को बोतल से दूध पिलायें तो हर बार दूध डालने से पहले बोतल को गरम पानी में निप्पल सहित अवश्य उबालें। बोतल में दूध डालने के बाद देख लें कि दूध में कोई बब्बल ना हो वरना उसे गैस हो सकती हैं। बेबी फीडिंग बोतल हमेशा बढ़िया क्वॉलिटी की ही लें।

10. छोटे बच्चे को कभी भी हवा में ना उछालें। उसे किसी भी तरह के झटके या ज्यादा हिलने से बचाएं। ऐसा होने से सिर में खून जमने का डर बना रहता है। शिशु के सिर पर हलकी सी पपड़ी की एक परत सी जमी होती है, जो उसके सिर के ऊपरी हिस्से को सुरक्षा देती है, क्योंकि वह हिस्सा काफी नरम होता है। धीरे-धीरे पपड़ी अपने आप ही उतर जाती है।

11. शिशु के जन्म के बाद से उसे वैक्सीन देने की शुरुआत की जाती है। नन्हे शिशु का इम्यून सिस्टम किसी भी वायरस से लड़ने में सक्षम नहीं होता, उसकी इसी क्षमता को विकसित करने के लिए और किसी भी वायरस की गिरफ्त में आने से रोकने के लिए समय-समय पर टीकाकरण जरूरी है। ये कई जानलेवा रोगों से इन्हे बचाते हैं।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM GREHLAKSHMIView All

चटपटे और आसान ब्रेड स्नैक्स रेसिपी

कम समय में कुछ बढ़िया भी रवाना हो और फटाफट बनाना भी हो तो ब्रेड से अच्छा और सस्ता कोई विकल्प नहीं सूझता। ये बच्चों को भी रखूब पसंद आता है तो बड़ों की पसंद में भी फिट बैठ ही जाता है। ऐसी ही कुछ आसान और चटपटे ब्रेड स्नैक्स आप भी मिनटों में बना सकती हैं वो भी बिना किसी रवास तैयारी के।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

बॉलीवुड हसीनाओं के ट्रेंडी आइ मेकअप लुक्स

आंखों का मेकअप आपके चेहरे को एक नया लुक देता है। अगर आप नद्या और ट्रेंडी आइ मेकअप चाहती हैं तो इन बॉलीवुड हसीनाओं के आइ मेकअप को आजमाकर खूबसूरत लुक पा सकती हैं।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

घरेलू नुस्खों से कहें झुर्रियों को अलविदा

हर किसी की चाहत होती जवां व खूबसूरत दिरवना, लेकिन उम्र के प्रभाव से बचना नामुमकिन है। जैसेजैसे उम्र बढ़ती है, झुर्रियों और त्वचा का ढीलापन साफ झलकने लगता है। अगर समय रहते इनकी देख-रेख कर ली जाए तो काफी हद तक हम अपनी त्वचा को जवां बनाए रख सकते हैं।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

बॉलीवुड सेलेब्स के फिटनेस मंत्र

एक समय था जब सिर्फ नई एक्ट्रेस अपनी फिटनेस को लेकर बेहद सतर्क रहती थी। मगर आज इस फेहरिस्त में कुछ एक्ट्रेस ऐसी भी हैं जो बढ़ती उम्र में भी नई एक्ट्रेसेस को चुनौती दे सकती हैं। जानिए ऐसी ही कुछ बॉलीवुड सेलेब्रिटीज के फिटनेस मंत्र।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

अपनी डाइट से लगाएं बढ़ती उम्र पर लगाम

एक उम्र के बाद महिलाएं पुरुषों के मुकाबले ज्यादा उम्रदराज दिखने लगती हैं। घर-परिवार की जिम्मेदारियों के बीच अपने स्वास्थ्य की अनदेखी करना इसका बड़ा कारण है और नतीजतन उम्र से पहले ही बढ़ती उम्र की छाप हमारे शरीर और चेहरे पर नजर आने लगती है। अगर आप असमय बुढ़ापा आने से रोकना चाहती हैं तो अपने रवान-पान में भरपूर पौष्टिक तत्त्वों को शामिल करें और तनाव मुक्त रहें, फिर देरिवए आप कैसे तंदुरुस्त और जवां नजर आती हैं।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

गणपति आराधना से पूरी होगी मनोकामना

प्रथम पूज्य गणेश का जन्म धार्मिक मान्यतानुसार चतुर्थी तिथि के दिन हुआ था, इसलिए इस दिन पूरे भारत में गणेश चतुर्थी मनाई जाती है। भगवान गणेश को विघ्नहर्ता और दुःस्वहर्ता भी कहते हैं, क्योंकि उनकी आराधना से सभी विघ्न दूर होते हैं तथा सद्बुद्धि एवं समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

ऑनलाइन पढ़ाई के साइड इफेक्ट

कोरोना महामारी और लॉकडाउन ने भारत में बच्चों की जिंदगी बदल दी। पहले बच्चों के कंधों पर किताबों से भरे बैग का बोझ होता था, लेकिन अब ये बोझ कंधों से उनके दिमाग तक पहुंच गया है और ये बोझ है ऑनलाइन पढ़ाई का।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

12 ब्यूटी सीक्रेट्स जिन्हें अपनाकर जवां लगेंगी आप

ज्यादातर महिलाएं चाहती हैं, कि वो अपनी बढ़ती हुई उम्र को अपनी मुट्ठी में कर सकें। वो चाहती हैं, कि उनकी उम्र चाहे कितनी ही ज्यादा क्यों ना हो जाए लेकिन वो हमेशा जवां दिखें। हालांकि आजकल ये भी कोई बड़ी समस्या नहीं है। बस थोड़े से पैसे खर्च कर आप इंजेक्शन का सहारा ले सकती हैं। लेकिन ये पूरी तरह सुरक्षित है, इसकी गारंटी हम नहीं ले सकते। इसलिए अगर आप इस सुझाव को नजरअंदाज करें तो ही बेहतर है।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

अनियमित माहवारी की आयुर्वेदिक दवा और घरेलू इलाज

महिलाओं में पीरियड्स साइकिल प्रजनन स्वास्थ्य को दर्शाती है। वैसे तो यह पीरियड्स साइकिल 28 दिनों की होती है, लेकिन यह हर महिला में भिन्न हो सकती है। यदि आपको महीना 21 से अधिक दिनों तक का है तो भी सामान्य बात है। लेकिन हर बार एक सा ना होकर आगे पीछे होता रहे तो यह चिंता की बात है।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021

वॉटर वेट कम करने के तरीके

मोटापे की तरह वॉटर वेट कोई बड़ा मुद्दा नहीं है, लेकिन यह आपको थकान महसूस करवा सकता है। हम महिलाओं को वॉटर रिटेंशन असहज महसूस कराता है, खासकर में स्टूअल साइकल के दौरान।

1 min read
Grehlakshmi
September 2021