स्वामी श्री लीलाशाहजी जीवन दर्शन
vishvaguru ojaswi|July 2021
साधु-संग मनुष्य जीवन को कुंदन (सोना) बनानेवाला है।

(गतांक से आगे)

लीलारामजी की श्रद्धा और प्रेम देखकर संत केशवरामजी ने उनकी पीठ पर हाथ फेरा, आशीर्वाद देते हुए पूछा कि 'बाबा, यह चोला किसने पहनाया है ?’ लीलारामजी ने नम्रतापूर्वक उत्तर दिया कि 'साँईं, किसी दूसरे ने नहीं, मेरा मन दुनिया से ऊब चुका है, दिल को दातार के पास बेच चुका हूँ । अब ब्रह्मचर्य का व्रत धारण कर स्वयं ही यह चोला पहनकर, आपकी शरण में आया हूँ | आपका बालक हूँ | मुझे सत्य की राह दिखाओ ।' संत ने कहा कि "बेटा, चोला पहनने से या कपड़े रंगने से कोई त्यागी नहीं होता है, न ही संन्यासी । मन रंग में नहीं रंगा, कपड़ा रंगा तो क्या हुआ ?'

मालिक को सत्य को पाने के लिए तपस्या की आवश्यकता होती है । सेवा करने की आवश्यकता होती है । यहाँ तो स्वयं को तपाना होता है, अन्दर से सभी वासनाएँ त्यागनी पड़ती हैं । लीलारामजी ने हाथ जोड़कर कहा कि "यह बन्दा हर प्रकार की आज्ञा पालन करने हेतु तैयार है, मुझे संसार के किसी भी सुख की इच्छा नहीं है । मैं तो सारे संबंध छोड़कर, आपके चरणों में आकर पड़ा हूँ ।' यह सब सुनकर संत केशवरामजी ने उन्हें अपना शिष्य स्वीकार किया और उन्हें सत्य की राह में मार्गदर्शन देते रहे । लीलारामजी भी सब कुछ भूलकर गुरू चरणों में रहकर सेवा करने लगे।

उपनिषदों में बताया गया है कि आत्मज्ञान के इच्छुक दुनिया को छोड़कर गुरू की शरण में आते हैं और कई वर्षों तक गुरूओं की सेवा करके सत्य को प्राप्त करते हैं । लीलारामजी की भी यही वृत्ति थी । अतः लीलारामजी भी रात-दिन गुरू सेवा और आत्म-चिंतन में लीन रहने लगे । गुरू आश्रम की सफाई करते थे और पानी भरते थे । गायों के लिए हाथों से चारा काटने की मशीन चलाकर चूरा बनाते थे और गायों की हर प्रकार से सेवा करते थे। आने-जानेवाले अतिथियों का आदर-सत्कार करते थे और आधी रात तक गुरू के चरणों पर मालिश करते थे । संत केशवरामजी की भी उन पर अपार कृपा दृष्टि रहती थी।

संत केशवरामजी उन्हें सच्चे रंग में रंगते रहे । उन्हें वेदान्त के ग्रंथों का गहरा अभ्यास कराते रहे । आजकल वेद, शास्त्र और ग्रंथ धारण नहीं किये जाते हैं, सिर्फ पढ़े या पढ़ाये जाते हैं । पहले गुरू अपने शिष्यों की जिज्ञासा देखकर, उन्हें शास्त्र स्वयं पढ़ाते, समझाते और कंठस्थ कराते थे।

शास्त्रों में कितनी ही गूढ़ रहस्य भरी बातें होती हैं, जो आमजन की समझ से बाहर होती हैं और एक बात का दूसरा अर्थ निकाला जाता है । जैसे समुद्र का पानी खारा होता है और पीने लायक नहीं होता, परंतु कर्णफल में गरमाकर मीठा बनाकर पी सकते हैं । वैसे गुरू ही शिष्यों को शास्त्रों के रहस्य समझाकर उनकी शंका का समाधान कर सकते हैं । अतः संत केशवरामजी ने भी लीलारामजी को सारकतावली और वेदांत के ग्रंथ पंचीकरण, भरतरी वैराग शतक, श्रीमद् भगवद्गीता, विचार सागर, उपनिषद् आदि कण्ठस्थ करवाये और उन्हें शास्त्रों के अनुसार जीवन जीने की हिदायत देते रहे ।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM VISHVAGURU OJASWIView All

भारत की सबसे कम हाइट की वकील

सफलता हासिल करने के लिए हाइट नहीं बल्कि हौसले बड़े होने चाहिए।

1 min read
vishvaguru ojaswi
June 2021

गृहस्थ धर्म क्या है ?

माता-पिता, समाज के ऋणानुबंध से मुक्त होने का माध्यम गृहस्थाश्रम है ।

1 min read
vishvaguru ojaswi
June 2021

संगीत जीवन की ध्वनि है...

जो रस की सृष्टि से उत्पन्न होता है, वह संगीत कहलाता है ।

1 min read
vishvaguru ojaswi
June 2021

सत्शिष्य के लक्षण

परम शांत अवस्था से बढ़कर व शांति के अनुभव से बढ़कर और कोई जगत में श्रेष्ठ अनुभव नहीं माना गया।

1 min read
vishvaguru ojaswi
July 2021

वर्तमान शिक्षा में परिवर्तन की आवश्यकता

ऑनलाइन पढ़ाई से बच्चे पढ़ जरूर रहे हैं, पर उन्हें उचित ज्ञान प्राप्त नहीं हो रहा है।

1 min read
vishvaguru ojaswi
July 2021

स्वामी श्री लीलाशाहजी जीवन दर्शन

साधु-संग मनुष्य जीवन को कुंदन (सोना) बनानेवाला है।

1 min read
vishvaguru ojaswi
July 2021

कैदियों के उज्ज्वल जीवन का आधार : योग !

योग से न सिर्फ कैदियों की फिटनेस में सुधार हुआ बल्कि इससे उनमें हिंसा की प्रवृत्ति घटी ।

1 min read
vishvaguru ojaswi
May 2021

पूज्य श्री साँईंजी का रामनवमी पर विशेष संदेश

रामजी ने समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझा और बुराई के विरुद्ध संघर्ष किया।

1 min read
vishvaguru ojaswi
May 2021

वर्तमान शिक्षा में परिवर्तन की आवश्यकता

उत्तम भोजन से उत्तम आरोग्य और उत्तम आरोग्य से उत्तम शिक्षा प्राप्त होगी।

1 min read
vishvaguru ojaswi
May 2021

वर्तमान शिक्षा में परिवर्तन की आवश्यकता

उद्यमिता कई चीजों से मिलकर बनी एक बड़ी आर्थिक-सामाजिक व्यवस्था है ।

1 min read
vishvaguru ojaswi
April 2021
RELATED STORIES

BEST FOR LAST

SAILING THE ATLANTIC FROM CAPE TOWN TO AZORES MARKED THE END OF AN EIGHT-YEAR CIRCUMNAVIGATION FOR DUTCH COUPLE WIETZE VAN DER LAAN AND JANNEKE KUYSTERS

10+ mins read
Yachting World
September 2021

In ‘Saint Maud,' is a Visceral Psychological Horror

Religion and horror are hardly novel bedfellows, but writer-director Rose Glass crafts something fresh of the construct in her promising debut “ Saint Maud.” The film follows the psychological undoing of a devout hospice nurse who becomes obsessed with saving the soul of her terminally ill patient.

3 mins read
AppleMagazine
Feburary 12, 2021

VITALY UGOLNIKOV 23-Year-Old Russian Bodybuilding Sensation

It is a great pleasure to feature 23-year-old Russian bodybuilding sensation Vitaly Ugolnikov in Muscular Development. MD readers will discover a new young champion who might be one of the most promising pros in the circuit in the near future.

7 mins read
Muscular Development
February 2021

AUDRA's New Digs

Audra Noyes, of the Saint Louis Fashion Fund Incubator’s first class, opens an atelier in Ladue.

2 mins read
DesignSTL
January/February 2021

Somebody's gotta win it

Through 75% of the 2020 NFL season, the Washington Football Team and your New York Football Giants are tied for first place in the NFC East with identical records of 4-7.

3 mins read
The Giant Insider
December 21, 2020

HUGH: FAME Almost Killed Me

AFTER BECOMING A SUPERSTAR IN THE ’90S, HUGH GRANT WENT ON A HARD-PARTYING, SELF-DESTRUCTIVE SPIRAL THAT LASTED DECADES.

2 mins read
Star
December 21, 2020

Saint Nicholas Eve

I wanted to make my daughter’s unexpected wish come true

4 mins read
Angels on Earth
Nov/Dec 2020

OUR FIFTH ANNUAL 5 over 50

For the past five years we’ve dedicated this space to featuring five debut authors who have lived a good deal of life before publishing their first books. From the start our aim was to highlight not one path—not some mythical road, paved with youthful intentions, upon which so many “new and emerging” authors travel— but rather the countless individual routes, some considerably longer and circuitous than others, that lead to the publication of a debut book.

10+ mins read
Poets & Writers Magazine
November - December 2020

Raiders rock Vegas debut

First Down

3 mins read
Silver & Black Illustrated
October 2020

Breaking the Mold

Before she could create her line of jewelry, designer Taylor Saleem had to forge a new path.

3 mins read
DesignSTL
September/October 2020