Festivals Of Light - An Enlivening Cultural Treat
Rishimukh|November 2020
A Multi-Cultural Treat
Hema Rajaraman

When the hot days of summer and the wet days of the rainy season are behind us, the days are shorter and the nights longer. The festival of Lights is perfectly timed to usher in the cool weather. It is the time to open our hearts, windows, and doors to welcome Goddess Lakshmi by lighting lamps and dispelling the darkness of the new moon night, along with the ignorance within us.

Over the centuries, Deepawali has become a national festival that is enjoyed by most Indians regardless of faith; Hindus, Buddhists, Jains, and Sikhs.

Let us take a dip into some of the Deepawali traditions in parts of India.

1. DEEPAWALI AMONGST THE LAMBANIS

Lambanis are nomadic tribes found in large numbers in the central districts of Chitradurga, Davanagere, and Bellary in Karnataka. They are a hard-working tribe, steeped in their unique tradition and culture.

In these Lambani settlements known as ‘Tandas’, Deepawali is celebrated by unmarried girls. Men and married women are not allowed to participate.

The girls dressed in traditional attire start with the worship of Goddess Lakshmi on the new moon day. They carry traditional oil lamps to the village chief’s house and worship the deity there.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM RISHIMUKHView All

The Thiru Parthanpalli Temple at Thiru Nangur

There is a rare temple at Thiru Nangur in Tamil Nadu that dates back to the Mahabharata period and is dedicated to the Pandava hero Arjuna. Read on...

3 mins read
Rishimukh
December 2020

The Echo of the Cosmos

Music is the echo of the Cosmos. The rhythm of heart-beats, of electrons and leptons revolving around the nucleus, of planets revolving around the Sun, are nothing but the Music of the Spheres, as Pythagoras described.

3 mins read
Rishimukh
December 2020

The Art of Living Intervention Brings Promises of a Better Tomorrow for Stone Quarry Workers

The Karmayog Department under The Art of Living Trust launched a project to intervene in select stone quarry areas of Bhilwara district of Rajasthan for a duration of six months.

1 min read
Rishimukh
December 2020

REFLECTIONS ON PURITY

What does it mean to have a mind like crystal? Gurudev explains, “A pure crystal assumes the color of the light reflected in it. Likewise, the soul in you comes to reflect the Divinity. Even the senses come to reflect Divinity and become totally active. When you look at the mountain, it reminds you of the Self, the Consciousness. You see a flower and it reminds you of the Consciousness.

2 mins read
Rishimukh
December 2020

HUMOUR

The Chief Qualification and Wit and Wisdom

2 mins read
Rishimukh
December 2020

GITA JAYANTI

The plains of Kurukshetra in Haryana, for most of the year, are of little interest to travellers who pass through, on their way to Himachal Pradesh and back.

3 mins read
Rishimukh
December 2020

AKBAR & BIRBAL THE GREEN HORSE

Birbal’s wisdom

1 min read
Rishimukh
December 2020

DECEMBER – THE SEASON OF MUSIC & ARTS

The month Margazhi also called Mrigashirsha is that time of the year, when at the time of sunset in the west, a cluster of stars rise in the east.

2 mins read
Rishimukh
December 2020

50 Farmers From 20 Punjab Villages Pledge Not to Burn Stubble

The team is hopeful that the step taken by these 50 farmers will inspire other farmers in the surrounding villages to follow suit.

1 min read
Rishimukh
December 2020

Everything Is Changing La La Land

“Whatever you put attention on will start manifesting in your life. Intention, attention, manifestation; that is how the universe works.” Gurudev Sri Sri Ravi Shankar

2 mins read
Rishimukh
December 2020
RELATED STORIES

An Epic Phone-a-Thon

India’s smartphone shoppers will be spoiled for choice this festive season

4 mins read
Bloomberg Businessweek
November 09, 2020

इस देश में दीवाली पर होती है कुत्तों की पूजा

दीवाली हिंदुओं का एक बड़ा त्यौहार है. भारत में इसे बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं. इस मौके पर पटाखे छोड़े जाते हैं और मिठाइयां बांटी जाती हैं. हर जगह उत्साह का माहौल होता है. इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी की विशेष पूजा की जाती है. वैसे तो दीवाली दुनिया के लगभग सारे देशों में मनाई जाती है, लेकिन एक देश ऐसा भी है जहां दीवाली कुछ अलग ढंग से मनाई जाती है, वह देश है नेपाल.

1 min read
Manohar Kahaniyan
December 2020

लक्ष्मी पूजन फिर भी जेब खाली की खाली

कोरोना के नाम पर पूरे देश में केंद्र सरकार द्वारा असफल तालाबंदी लागू की गई. परिणाम इतना भयावह है कि तालाबंदी थोपे जाने के 8 माह बाद भी देश किसी भी स्तर पर संभल नहीं पाया है. मजबूरीवश देशवासियों ने इस साल तमाम त्योहारों पर हाथ भींच लिए और अब दीवाली, शादियों की धूमधाम भी तालाबंदी की भेंट चढ़ रही है.

1 min read
Sarita
December First 2020

दिवाली पर प्रदूषण का साया क्यों?

तेजोमय उल्लास के महापर्व दीपावली के आते ही पर्यावरण प्रदूषण की बात जोरों से उठती है। एक शाश्वत सवाल हर बार उठाया जाता है कि दीपावली पर आतिशबाजी करने की मान्यता का क्या कोई धार्मिक इतिहास है? माता लक्ष्मी को पूजने के पुरातन इतिहास से आतिशबाजी कब व कैसे जुड़ी? यदि यह धर्मशास्त्र द्वारा बनाई रीति नहीं है तो दीपावली पर पटाखों का चलाना कैसे रस्म बनता गया? इस सवाल का जवाब जरूरी है कि पारंपरिक पर्व पर प्रदूषण का साया क्यों पड़ा हुआ है?

1 min read
Rajasthan Diary
November 2020

रोशनी का दिव्यबोध फैलाती दीपावली

लक्ष्मी की आराधना होनी चाहिए क्योंकि लक्ष्मी का संबंध धन से नहीं वरन उसकी पवित्रता से है। लक्ष्मी अशुद्ध, अपवित्र और अप्राकृतिक से कभी नहीं जुड़ती। इस नाते जिसका आस्वादनभोजन अशुद्ध है, जिसकी भाषा-वाणी अपवित्र है, जिसका संस्कार-विहार अप्राकृतिक है, वह लक्ष्मी का आशीर्वाद कैसे प्राप्त कर सकता है। सच्ची और स्थाई लक्ष्मी वही है जो शील और मर्यादा से पायी जाए।

1 min read
Rajasthan Diary
November 2020

खुशियों की जगमग में भांति-भांति की रीत

आज भी प्रचलन में है मारवाड़मेवाड़ की ये कुछ खास परम्पराएं

1 min read
Rajasthan Diary
November 2020

कोरोना काल में पटाखों पर न देंजोर, सबसे बुरा है इसका शोर

इस बार दीपावली केवल दीप जलाकर ही मनाएं तो यह मानवता की सेवा होगी। हमने और आपने अगर इस बार पटाखे जलाए तो कोविङ-19 के दौर में यह धूमधड़ाका सभी के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। पटाखों से निकलने वाला जहरीला धुआं में और जहर घोल देगा और ऑक्सीजन लेने में लोगों को दिक्कत होगी। पटाखे न जलाकर हम कई लोगों की जान जोखिम में डालने से बच जाएंगे।

1 min read
Rajasthan Diary
November 2020

दीवाली से अधिक छठ पूजा के समय महानगर में बढ़ा प्रदूषण का स्तर

प्रदूषित शहरों की लिस्ट में हावड़ा सबसे ऊपर

1 min read
Samagya
November 20, 2020

दीपोत्सव

जिस देश की संस्कृति में जन्म से लेकर मृत्यु तक को उत्सव की तरह मनाया जाता हो वहां यही कहा जा सकता है कि यहां हर पल की उत्सवता एक स्वभाव एवं जीवन दर्शन बनकर हमारे जीवन में रची-बसी है। हमारे देश की आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक विरासत अनेक विविधताओं और रंगों को समेटे हुए हैं ।

1 min read
Kendra Bharati - केन्द्र भारती
November 2020

प्रकाश का पर्व दीपावली

प्रकाश का पर्व दीपावली

1 min read
Kendra Bharati - केन्द्र भारती
November 2020