अपने संग चला लो, हे प्रभु!
Akhand Gyan - Hindi|April 2021
जलतरंग- शताब्दियों पूर्व भारत में ही विकसित हुआ था यह वाद्य यंत्र। संगीत जगत का अनुपम यंत्र! विश्व के प्राचीनतम वाद्य यंत्रों में से एक। भारतीय शास्त्रीय संगीत में आज भी इसका विशेष स्थान है। इतने आधुनिक और परिष्कृत यंत्र बनने के बावजूद भी जब कभी जलतरंग से मधुर व अनूठे सुर या राग छेड़े जाते हैं, तो गज़ब का समाँ बँध जाता है। सुनने वालों के हृदय तरंगमय हो उठते हैं।

यह जलतरंग है क्या? आइए जानते हैं। यह दो शब्दों का संगम हैजल+तरंग। अपने नाम को साकार करते इस यंत्र में प्यालों में भरे जल से तरंग उत्पन्न की जाती है। यही तरंग फिर संगीत बन कर प्रस्फुटित होती है। तभी इस वाद्य यंत्र को 'जलयंत्र' व 'जलतरंगम्' भी कहा जाता है। दरअसल यह यंत्र प्यालों की एक श्रृंखला है। ये प्याले काँसे या चीनी मिट्टी के बने होते हैं। अधिकांशतः पात्रों की संख्या 15 से 22 के बीच होती है। यह संख्या इस बात पर निर्भर करती है कि आप इस यंत्र से कैसा संगीत निकालना चाहते हैं! इन सभी पात्रों को जल से भर कर अर्धगोलाकार ढंग से व्यवस्थित किया जाता है। इस शृंखला के मध्य में वादक बैठता है। यह संगीतवादक छड़ी अथवा लकड़ी की डंडी को प्यालों के किनारे पर मारता है, जिससे संगीत झंकृत होता है।

पाठकगणों, यह तो हमने आपको इस यंत्र की ऊपरी रूपरेखा बता दी। अब थोड़ा गहराई में जाकर विश्लेषण करते हैं। इस विलक्षण वाद्य यंत्र की कार्यशैली अपने में अद्भुत संदेश समेटे हुए है। इसकी कार्यशैली के दो प्रमुख पहलू है।

पहला पहलू- जलतरंग यंत्र में भिन्न-भिन्न आकार के प्याले प्रयोग किए जाते हैं। फिर इन पात्रों में अलग-अलग स्तर तक जल भरा जाता है। वादक इन विभिन्न आकार के प्यालों का बहुत निपुणता से उपयोग करता है। जैसे कि संगीत में मुख्यतः तीन सप्तक होते हैंमंद्र, मध्यम और तार। बड़े आकार के प्यालों पर छड़ी मारने से 'मंद्र' सप्तक के स्वर फूटते हैं। मध्यम आकार के प्यालों से 'मध्यम' सप्तक और छोटे माप के प्यालों से "तार' सप्तक के स्वरों की उत्पत्ति होती है। इस प्रकार अलग-अलग आकार के पात्रों से भिन्न-भिन्न सप्तक के स्वर निकाले जाते हैं। अतः जलतरंग वादक जैसे संगीत की रचना करनी होती है, वैसे ही माप के प्यालों का प्रयोग कर उनसे स्वर झंकृत करता है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM AKHAND GYAN - HINDIView All

एका बना वैष्णव वीर!

आपने पिछले प्रकाशित अंक (मार्च 2020) में पढ़ा था, एका शयन कक्ष में अपने गुरुदेव जनार्दन स्वामी की चरण-सेवा कर रहा था। सद्गुरु स्वामी योगनिद्रा में प्रवेश कर समाधिस्थ हो गए थे। इतने में, सेवारत एका को उस कक्ष के भीतर अलौकिक दृश्य दिखाई देने लगे। श्री कृष्ण की द्वापरकालीन अद्भुत लीलाएँ उसे अनुभूति रूप में प्रत्यक्ष होती गईं। इन दिव्यानुभूतियों के प्रभाव से एका को आभास हुआ जैसे कि एक महामानव उसकी देह में प्रवेश कर गया हो। तभी एक दरोगा कक्ष के द्वार पर आया और हाँफते-हाँफते उसने सूचना दी कि 'शत्रु सेना ने देवगढ़ पर चढ़ाई कर दी है। अतः हमारी सेना मुख्य फाटक पर जनार्दन स्वामी के नेतृत्व की प्रतीक्षा में है।' एका ने सद्गुरु स्वामी की समाधिस्थ स्थिति में विघ्न डालना उचित नहीं समझा और स्वयं उनकी युद्ध की पोशाक धारण करके मुख्य फाटक पर पहुँच गया। अब आगे...

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

'सुख' 'धन' से ज्यादा महंगा!

हेनरी फोर्ड हर पड़ाव पर सुख को तलाशते रहे। कभी अमीरी में, कभी गरीबी में, कभी भोजन में, कभी नींद में कभी मित्रता में! पर यह 'सुख' उनके जीवन से नदारद ही रहा।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

कैसा होगा तृतीय विश्व युद्ध?

विश्व इतिहास के पन्नों में दो ऐसे युद्ध दर्ज किए जा चुके हैं, जिनके बारे में सोचकर आज भी मानवता काँप उठती है। पहला था, सन् 1914 में शुरु हुआ प्रथम विश्व युद्ध। कई मिलियन शवों पर खड़े होकर इस विश्व युद्ध ने पूरे संसार में भयंकर तबाही मचाई थी। चार वर्षों तक चले इस मौत के तांडव को आगामी सब युद्धों को खत्म कर देने वाला युद्ध माना गया था।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

अपने संग चला लो, हे प्रभु!

जलतरंग- शताब्दियों पूर्व भारत में ही विकसित हुआ था यह वाद्य यंत्र। संगीत जगत का अनुपम यंत्र! विश्व के प्राचीनतम वाद्य यंत्रों में से एक। भारतीय शास्त्रीय संगीत में आज भी इसका विशेष स्थान है। इतने आधुनिक और परिष्कृत यंत्र बनने के बावजूद भी जब कभी जलतरंग से मधुर व अनूठे सुर या राग छेड़े जाते हैं, तो गज़ब का समाँ बँध जाता है। सुनने वालों के हृदय तरंगमय हो उठते हैं।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

चित्रकला में भगवान नीले रंग के क्यों?

अपनी साधना को इतना प्रबल करें कि अत्यंत गहरे नील वर्ण के सहस्रार चक्र तक पहुँचकर ईश्वर को पूर्ण रूप से प्राप्त कर लें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

ठक! ठक! ठक! क्या ईश्वर है?

यदि तुम नास्तिकों के सामने ईश्वर प्रत्यक्ष भी हो जाए, तुम्हें दिखाई भी दे, सुनाई मी, तुम उसे महसूस भी कर सको, अन्य लोग उसके होने की गवाही भी दें, तो भी तुम उसे नहीं मानोगे। एक भ्रम, छलावा, धोखा कहकर नकार दोगे। फिर तुमने ईश्वर को मानने का कौन-सा पैमाना तय किया है?

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

आइए, शपथ लें..!

एक शिष्य के जीवन में भी सबसे अधिक महत्त्व मात्र एक ही पहलू का हैवह हर साँस में गुरु की ओर उन्मुख हो। भूल से भी बागियों की ओर रुख करके गुरु से बेमुख न हो जाए। क्याकि गुरु से बेमुख होने का अर्थ है-शिष्यत्व का दागदार हो जाना! शिष्यत्व की हार हो जाना!

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

अंतिम इच्छा

भारत की धरा को समय-समय पर महापुरुषों, ऋषि-मुनियों व सद्गुरुओं के पावन चरणों की रज मिली है। आइए, आज उन्हीं में से एक महान तपस्वी महर्षि दधीची के त्यागमय, भक्तिमय और कल्याणकारी चरित्र को जानें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

भगवान महावीर की मानव-निर्माण कला!

मूर्तिकार ही अनगढ़ पत्थर को तराशकर उसमें से प्रतिमा को प्रकट कर सकता है। ठीक ऐसे ही, हर मनुष्य में प्रकाश स्वरूप परमात्मा विद्यमान है। पर उसे प्रकट करने के लिए परम कलाकार की आवश्यकता होती है। हर युग में इस कला को पूर्णता दी है, तत्समय के सद्गुरुओं ने!

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

ठंडी बयार

सर्दियों में भले ही आप थोड़े सुस्त हो गए हों, परन्तु हम आपके लिए रेपिड फायर (जल्दी-जल्दी पूछे जाने वाले) प्रश्न लेकर आए हैं। तो तैयार हो जाइए, निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर देने के लिए। उत्तर 'हाँ' या 'न' में दें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
February 2021
RELATED STORIES

You've Heard This One Before

Maggie Nelson believes we react too quickly and think ungenerously. In her new book, she’s guilty of doing both.

10+ mins read
New York magazine
September 13 - 26, 2021

GODIN

Montreal Premiere LTD

3 mins read
Guitar Player
October 2021

We Build It Ourselves

A roundtable on race, power, and the writing workshop

10+ mins read
Poets & Writers Magazine
September - October 2021

And Not a Drop to Drink

A neo-noir set in an even thirstier Hollywood.

6 mins read
New York magazine
August 2 - 15, 2021

HUBBLE SPACE TELESCOPE FIXED AFTER MONTH OF NO SCIENCE

The Hubble Space Telescope should be back in action soon, following a tricky, remote repair job by NASA.

1 min read
Techlife News
Techlife News #508

HUBBLE SPACE TELESCOPE FIXED AFTER MONTH OF NO SCIENCE

The Hubble Space Telescope should be back in action soon, following a tricky, remote repair job by NASA.

1 min read
AppleMagazine
AppleMagazine #508

Katie Kitamura – The Interpreter

Katie Kitamura’s hypnotic new novel asks, What happens when your main character is a passive witness to her own life?

5 mins read
New York magazine
July 5-18, 2021

Fiction – Bump

To those who accuse me of immoderate desire, I say look at the oil executives. Look at the Gold Rush. Look at all the women who want a ring and romance and lifelong commitment, and then look again at me.

10+ mins read
The Atlantic
June 2021

The Weird Science of Edgar Allan Poe

Known as a master of horror, he also understood the power—and the limits—of empiricism.

10+ mins read
The Atlantic
July - August 2021

The Other Black Girl

Zakiya Dalila Harris introduced by Maurice Carlos Ruffin

7 mins read
Poets & Writers Magazine
July - August 2021