आइए, शपथ लें..!
Akhand Gyan - Hindi|March 2021
एक शिष्य के जीवन में भी सबसे अधिक महत्त्व मात्र एक ही पहलू का हैवह हर साँस में गुरु की ओर उन्मुख हो। भूल से भी बागियों की ओर रुख करके गुरु से बेमुख न हो जाए। क्याकि गुरु से बेमुख होने का अर्थ है-शिष्यत्व का दागदार हो जाना! शिष्यत्व की हार हो जाना!

शास्त्र कहते हैं, एक शिष्य निरन्तर चलता है। इस 'निरन्तर' शब्द का अर्थ समझते हैं आप? ऐसा समर्पण, ऐसा चिंतन, ऐसी गति, ऐसी मति, ऐसा अरमान, ऐसा ईमानजिसमें न कोई अटकन हो, न कोई अड़चन। न कोई रुकावट हो, न ही थकावट! एक ऐसा सिलसिला, जिसका आरम्भ तो है, पर अंत नहीं।

वैसे भी, गुरु-भक्तों की डगर और उनका सफर तो हमेशा से संसार से जुदा ही रहा है... चाल में भी और अंदाज़ में भी! संसार में हासिल की गई किसी भी वस्तु पर निर्माण-तिथि के साथ समाप्ति-तिथि भी छपी होती है। सांसारिक नौकरी में भी यदि प्रवेश तिथि है, तो साथ में रिटायरमेंट (सेवा-निवृत्ति) तिथि भी है। पर ऐसा संसार में होता है, गुरु-दरबार में नहीं। यहाँ से प्राप्त किए गए शिष्यत्व की कोई समाप्ति या रिटायरमेंट तिथि नहीं होती। जीवन के समाप्त हो जाने के बाद भी नहीं! गुरु-सेवा के क्षेत्र में एक बार नियुक्ति हो जाने के पश्चात्, फिर कोई निवृत्ति नहीं होती। इस दायित्व को तो हर जन्म में निभाना होता है।

दगा करके दागदार न बनें...!

वर्षों पहले 'लाहौर ट्रिब्यून' में एक विज्ञापन छपा था। विज्ञापन कुछ इस प्रकार था -

चाहिए- एक व्यक्ति

जो अपनी ज़िन्दगी का सौदा करने के लिए तैयार हो-दस लाख रुपयों में!

इच्छुक लोग कृपया इस पते पर संपर्क करें-बॉक्स न. 15c/o द ट्रिब्यून , लाहौर

यह विज्ञापन तीन अलग-अलग मौकों पर छपा। निःसन्देह, प्रस्ताव बेहद लुभावना था... क्योंकि उस समय के दस लाख आज के करोड़ों के बराबर थे। इतनी बड़ी रकम!! फिर भी विज्ञापन छपवाने वाले को अपनी ज़िन्दगी का सौदा करने वाला एक भी ग्राहक नहीं मिला। मिलेगा भी कैसे? कौन अपनी कीमती ज़िन्दगी को इतना सस्ता बेचना पसंद करेगा? जीवन की कीमत की बात करें, तो क्या लगता है आपकोलगभग "कितनी होगी?

यूँ तो बुद्धिजीवियों ने अपने शोध एवं अनुसंधानों के आधार पर इसकी कीमत आंकने की कोशिश की है। येल विश्वविद्यालय के जीव-भौतिकशास्त्रीहैरोल्ड मोरोविट्ज़ ने इस सम्बन्ध में एक प्रोजैक्ट शुरु किया। हैरोल्ड ने सबसे पहले उन सारे रसायनों, स्थूल तत्त्वों इत्यादि की सूची बनाईजिनसे मिलकर मनुष्य का यह शरीर बना है। फिर एक-एक रसायन की कीमत को तालिका में भरा। तालिका कुछ इस प्रकार बनी

इस तरह सारी तालिका को जोड़ने के बाद कुल मिलाकर एक इंसान की कीमत आंकी गईकई सौ लाख डॉलर! इस हाड-माँस के ढाँचे की कीमत तो आंक ली गई। किन्तु क्या सचमुच एक इंसान की कीमत इस हाड-माँस से ही है? ऐसा होता, तो शायद क्विस्लिंग और ऐफिलायट्स जैसे लोगों की कीमत कौड़ियों से भी कम न आंकी जाती।

द्वितीय विश्व युद्ध के समय क्विस्लिंग नार्वे में सेना अधिकारी था। सत्ता के लालच में उसने जर्मनी के शासक हिटलर से हाथ मिला लिया। अपने देश से गद्दारी करके उसने हिटलर को सारी खुफिया जानकारी दे डाली। जर्मनी की सेना ने नार्वे पर हमला बोल दिया और नार्वे हिटलर के अधीन हो गया। हिटलर के आधिपत्य में क्विस्लिंग ‘मंत्री-राष्ट्रपति' बनकर नार्वे पर शासन करने लगा। परन्तु जल्द ही उसके शासन की चूलें हिल गईं, जब वहाँ के जन-मानस ने अनैतिकता और अत्याचार के विरुद्ध जंग छेड़ दी। नार्वे के लोग एकजुट हुए और उन्होंने हिटलर तथा क्विस्लिंग के आधिपत्य को उखाड़ फेंका। स्वतंत्र होने पर नार्वे के लोगों ने जो काम सबसे पहले किया, वह थाखुले मैदान में, सबके बीच, क्विस्लिंग को फांसी पर चढ़ाना! इधर क्विस्लिंग का नाम जीवित लोगों में से कटा और उधर शब्दकोश में उसका नाम गद्दार लोगों की लिस्ट में हमेशा के लिए जुड़ गया। अंग्रेज़ी शब्दकोश में एक मुहावरा शामिल कर दिया गया'Don't be a Quisling' यानी कभी क्विस्लिंग मत बनना क्योंकि "क्विस्लिंग' शब्द अब पर्याय बन चुका था, गद्दारी और मक्कारी का!

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM AKHAND GYAN - HINDIView All

एका बना वैष्णव वीर!

आपने पिछले प्रकाशित अंक (मार्च 2020) में पढ़ा था, एका शयन कक्ष में अपने गुरुदेव जनार्दन स्वामी की चरण-सेवा कर रहा था। सद्गुरु स्वामी योगनिद्रा में प्रवेश कर समाधिस्थ हो गए थे। इतने में, सेवारत एका को उस कक्ष के भीतर अलौकिक दृश्य दिखाई देने लगे। श्री कृष्ण की द्वापरकालीन अद्भुत लीलाएँ उसे अनुभूति रूप में प्रत्यक्ष होती गईं। इन दिव्यानुभूतियों के प्रभाव से एका को आभास हुआ जैसे कि एक महामानव उसकी देह में प्रवेश कर गया हो। तभी एक दरोगा कक्ष के द्वार पर आया और हाँफते-हाँफते उसने सूचना दी कि 'शत्रु सेना ने देवगढ़ पर चढ़ाई कर दी है। अतः हमारी सेना मुख्य फाटक पर जनार्दन स्वामी के नेतृत्व की प्रतीक्षा में है।' एका ने सद्गुरु स्वामी की समाधिस्थ स्थिति में विघ्न डालना उचित नहीं समझा और स्वयं उनकी युद्ध की पोशाक धारण करके मुख्य फाटक पर पहुँच गया। अब आगे...

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

'सुख' 'धन' से ज्यादा महंगा!

हेनरी फोर्ड हर पड़ाव पर सुख को तलाशते रहे। कभी अमीरी में, कभी गरीबी में, कभी भोजन में, कभी नींद में कभी मित्रता में! पर यह 'सुख' उनके जीवन से नदारद ही रहा।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

कैसा होगा तृतीय विश्व युद्ध?

विश्व इतिहास के पन्नों में दो ऐसे युद्ध दर्ज किए जा चुके हैं, जिनके बारे में सोचकर आज भी मानवता काँप उठती है। पहला था, सन् 1914 में शुरु हुआ प्रथम विश्व युद्ध। कई मिलियन शवों पर खड़े होकर इस विश्व युद्ध ने पूरे संसार में भयंकर तबाही मचाई थी। चार वर्षों तक चले इस मौत के तांडव को आगामी सब युद्धों को खत्म कर देने वाला युद्ध माना गया था।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

अपने संग चला लो, हे प्रभु!

जलतरंग- शताब्दियों पूर्व भारत में ही विकसित हुआ था यह वाद्य यंत्र। संगीत जगत का अनुपम यंत्र! विश्व के प्राचीनतम वाद्य यंत्रों में से एक। भारतीय शास्त्रीय संगीत में आज भी इसका विशेष स्थान है। इतने आधुनिक और परिष्कृत यंत्र बनने के बावजूद भी जब कभी जलतरंग से मधुर व अनूठे सुर या राग छेड़े जाते हैं, तो गज़ब का समाँ बँध जाता है। सुनने वालों के हृदय तरंगमय हो उठते हैं।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

चित्रकला में भगवान नीले रंग के क्यों?

अपनी साधना को इतना प्रबल करें कि अत्यंत गहरे नील वर्ण के सहस्रार चक्र तक पहुँचकर ईश्वर को पूर्ण रूप से प्राप्त कर लें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

ठक! ठक! ठक! क्या ईश्वर है?

यदि तुम नास्तिकों के सामने ईश्वर प्रत्यक्ष भी हो जाए, तुम्हें दिखाई भी दे, सुनाई मी, तुम उसे महसूस भी कर सको, अन्य लोग उसके होने की गवाही भी दें, तो भी तुम उसे नहीं मानोगे। एक भ्रम, छलावा, धोखा कहकर नकार दोगे। फिर तुमने ईश्वर को मानने का कौन-सा पैमाना तय किया है?

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

आइए, शपथ लें..!

एक शिष्य के जीवन में भी सबसे अधिक महत्त्व मात्र एक ही पहलू का हैवह हर साँस में गुरु की ओर उन्मुख हो। भूल से भी बागियों की ओर रुख करके गुरु से बेमुख न हो जाए। क्याकि गुरु से बेमुख होने का अर्थ है-शिष्यत्व का दागदार हो जाना! शिष्यत्व की हार हो जाना!

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

अंतिम इच्छा

भारत की धरा को समय-समय पर महापुरुषों, ऋषि-मुनियों व सद्गुरुओं के पावन चरणों की रज मिली है। आइए, आज उन्हीं में से एक महान तपस्वी महर्षि दधीची के त्यागमय, भक्तिमय और कल्याणकारी चरित्र को जानें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

भगवान महावीर की मानव-निर्माण कला!

मूर्तिकार ही अनगढ़ पत्थर को तराशकर उसमें से प्रतिमा को प्रकट कर सकता है। ठीक ऐसे ही, हर मनुष्य में प्रकाश स्वरूप परमात्मा विद्यमान है। पर उसे प्रकट करने के लिए परम कलाकार की आवश्यकता होती है। हर युग में इस कला को पूर्णता दी है, तत्समय के सद्गुरुओं ने!

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

ठंडी बयार

सर्दियों में भले ही आप थोड़े सुस्त हो गए हों, परन्तु हम आपके लिए रेपिड फायर (जल्दी-जल्दी पूछे जाने वाले) प्रश्न लेकर आए हैं। तो तैयार हो जाइए, निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर देने के लिए। उत्तर 'हाँ' या 'न' में दें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
February 2021
RELATED STORIES

The Committee on Life and Death

As COVID-19 has overwhelmed hospitals, the lack of clear bioethical guidelines has meant that doctors have had to make wrenching life-and-death decisions on the fly. The result has been chaos and unnecessary suffering, among both patients and clinicians. As the country prepares to distribute vaccines, we’re at risk of reprising this chaos.

10+ mins read
The Atlantic
January - February 2021

Stifling Our Startups

Student-loan debt is crippling entrepreneurship in the U.S.—and not just in obvious ways

10+ mins read
Inc.
Winter 2020 - 2021

WILL CITIES SURVIVE 2020?

COVID-19 IS REIGNITING OLD DEBATES ABOUT ZONING, PUBLIC HEALTH, URBAN PLANNING, AND SUBURBAN SPRAWL.

10+ mins read
Reason magazine
January 2021

Recruiting - TOP TECH TALENT AT LOW COST?

It’s possible. The crisis has created a great hiring opportunity for companies, so long as you approach it the right way, through the right channels.

6 mins read
Entrepreneur
Startups Fall - Winter 2020

Norton 360 Deluxe: Good protection with added features make it an excellent value

Norton 360 Deluxe offers excellent value with solid protection, and a good amount of extra features.

5 mins read
PCWorld
October 2020

Travel: Down, but not out

Travel has taken a big hit, and travel advisors will play a big part in tapping the industry’s resilience – and pent-up demand

7 mins read
Business Traveler
October/November 2020

THE WAVE FILES

After the “soul-crushing” slog of Hemispheres, the planets seemed to align for Rush when it came time to record their next album, 1980’s Permanent Waves.

10+ mins read
Guitar World
October 2020

BIG-TIME RUSH FAN

Dream Theater maestro JOHN PETRUCCI geeks out on Permanent Waves, Alex Lifeson’s “How is that even possible?” solos and the undeniable majesty of Rush

10+ mins read
Guitar World
October 2020

Boss of the Beach

For 40 years, the city’s LIFEGUARD CORPS has been mired in controversy—falsified drowning reports, sexual-assault allegations, drugs, and alcohol—and for 40 years it’s been run by one man: PETER STEIN.

10+ mins read
New York magazine
June 22 - July 05, 2020

In a time of need, food pantries help fill the gap

Tree of life volunteers unload the Good Shepard Food Bank truck early Wednesday morning in Blue Hill. Doing the heavy lifting are, from left, Holbrook Williams, ray Manyak, George Blake and Steve Brookman.

2 mins read
The Weekly Packet
4/9/2020