अद्भुत संयोग
Akhand Gyan - Hindi|December 2020
इन संयोगों द्वारा ईश्वर हम अहंकारी मनुष्यों को यह अनुभूति कराना चाहता है कि हम चाहे कितने ही सयाने क्यों न हो जाएँ, पर उसके द्वारा रचित व संचालित सृष्टि को कभी अपनी सीमित बुद्धि द्वारा पूरी तरह समझ नहीं पाएँगे।

सोचो, कभी ऐसा हो, तो क्या हो?

• आपका और आपके बेटे का जन्मदिन एक ही तारीख को हो!

• आपने अपने परिवार के साथ फिल्म देखने के लिए ऑफिस से छुट्टी ली। जब आप थियेटर पहुंचे, तो देखा कि आपका सहकर्मी भी ऑफिस से छुट्टी ले, उसी थियेटर में वही पिक्चर देखने के लिए अपने परिवार के साथ आया है। हालाँकि आप दोनों ने पहले इस बारे में एक-दूसरे से कोई विचार-विमर्श नहीं किया!

• आप ऑफिस से लौटते हुए सब घरवालों के लिए समोसा और जलेबी लेकर जाएँ। लेकिन जब घर पहुँचे तो वहाँ पहले से ही समोसा और जलेबी ही पाएँ!

• जब कभी भी आपके चाचाजी आपसे मिलने आपके घर आएँ, आपने नीले रंग की ही ड्रेस पहनी हो!

• आप दो साल बाद राजधानी एक्सप्रेस से दिल्ली से जयपुर जा रहे हैं। आपको अपनी साथ वाली सीट पर वही यात्री बैठा मिले, जो दो साल पहले मिला था!

• आप एक सेमिनार में गए। वहाँ उपस्थित 15 लोगों में से 10 का नाम अजय हो!

ऐसी कोई-न-कोई घटना, कभी-न-कभी हम सभी के जीवन में घटती है। हम इसे हँसकर या उदास होकर 'संयोग' कह देते हैं। संयोग माने इत्तेफाक! शब्दकोश की परिभाषा के अनुसार यदि दो या दो से अधिक घटनाएँ या स्थितियाँ समय, स्थान द्वारा संबंधित हों, परन्तु उनके इस संबंध के पीछे कोई ठोस कारण दिखाई न पड़े तो उसे 'संयोग' कहते हैं। दूसरे शब्दों में, 'संयोग' उन घटनाओं की शृंखला है, जो अचानक ही घटित होती हैं, परन्तु फिर भी योजनाबद्ध प्रतीत होती हैं।

संयोग को अंग्रेजी में 'कोइन्सिडन्स (Coincidence)' कहा जाता है। कोइन्सिडन्स लैटिन भाषा के 'cum' यानी 'एकसाथ' और 'incidere' यानी 'गिरना या होना' से निकला है। भौतिक विज्ञान ने कोइन्सिडन्स के इसी शाब्दिक अर्थ को पकड़ा। जैसेप्रकाश की दो किरणें जब एक साथ, एक ही समय पर, एक बिन्दु पर गिरती हैं, तो उन्हें कोइन्सिडन्स कहा जाता है। कंप्यूटर की कायशैली में भी संयोग की भूमिका है। कंप्यूटर भाषा में इसे 'सिमुलेशन' कहा गया। जब हम एक कागज़ पर बेतरतीब ढंग से सैकड़ों बिन्दु बनाते हैं, तो हमेशा देखा गया है कि उनमें से 4 से लेकर 8 बिंदु वाले कई ऐसे ग्रुप हैं जो एक सीधी रेखा में जोड़े जा सकते हैं।

मतलब कि जीवन के हर पहलू, हर क्षेत्र से जुड़े हैं ये संयोग। पर कई बार कुछ संयोग इतने अद्भुत व असाधारण होते हैं कि उन्हें देखने-सुनने वाला दाँतों तले अंगुली दबा बैठता है। उसके भीतर अनेक प्रश्न उमड़ने-घुमड़ने लगते हैं। कैसे प्रश्न? हम नहीं बताएँगे। आप इन प्रश्नों को खुद अनुभव करें। हम आपके सामने कुछ ऐसे ही हैरतअंगेज़, विस्मयकारी, अनूठे संयोग प्रस्तुत करने जा रहे हैं, जो 100 फीसदी सत्य घटनाएँ हैं।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM AKHAND GYAN - HINDIView All

एका बना वैष्णव वीर!

आपने पिछले प्रकाशित अंक (मार्च 2020) में पढ़ा था, एका शयन कक्ष में अपने गुरुदेव जनार्दन स्वामी की चरण-सेवा कर रहा था। सद्गुरु स्वामी योगनिद्रा में प्रवेश कर समाधिस्थ हो गए थे। इतने में, सेवारत एका को उस कक्ष के भीतर अलौकिक दृश्य दिखाई देने लगे। श्री कृष्ण की द्वापरकालीन अद्भुत लीलाएँ उसे अनुभूति रूप में प्रत्यक्ष होती गईं। इन दिव्यानुभूतियों के प्रभाव से एका को आभास हुआ जैसे कि एक महामानव उसकी देह में प्रवेश कर गया हो। तभी एक दरोगा कक्ष के द्वार पर आया और हाँफते-हाँफते उसने सूचना दी कि 'शत्रु सेना ने देवगढ़ पर चढ़ाई कर दी है। अतः हमारी सेना मुख्य फाटक पर जनार्दन स्वामी के नेतृत्व की प्रतीक्षा में है।' एका ने सद्गुरु स्वामी की समाधिस्थ स्थिति में विघ्न डालना उचित नहीं समझा और स्वयं उनकी युद्ध की पोशाक धारण करके मुख्य फाटक पर पहुँच गया। अब आगे...

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

'सुख' 'धन' से ज्यादा महंगा!

हेनरी फोर्ड हर पड़ाव पर सुख को तलाशते रहे। कभी अमीरी में, कभी गरीबी में, कभी भोजन में, कभी नींद में कभी मित्रता में! पर यह 'सुख' उनके जीवन से नदारद ही रहा।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

कैसा होगा तृतीय विश्व युद्ध?

विश्व इतिहास के पन्नों में दो ऐसे युद्ध दर्ज किए जा चुके हैं, जिनके बारे में सोचकर आज भी मानवता काँप उठती है। पहला था, सन् 1914 में शुरु हुआ प्रथम विश्व युद्ध। कई मिलियन शवों पर खड़े होकर इस विश्व युद्ध ने पूरे संसार में भयंकर तबाही मचाई थी। चार वर्षों तक चले इस मौत के तांडव को आगामी सब युद्धों को खत्म कर देने वाला युद्ध माना गया था।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

अपने संग चला लो, हे प्रभु!

जलतरंग- शताब्दियों पूर्व भारत में ही विकसित हुआ था यह वाद्य यंत्र। संगीत जगत का अनुपम यंत्र! विश्व के प्राचीनतम वाद्य यंत्रों में से एक। भारतीय शास्त्रीय संगीत में आज भी इसका विशेष स्थान है। इतने आधुनिक और परिष्कृत यंत्र बनने के बावजूद भी जब कभी जलतरंग से मधुर व अनूठे सुर या राग छेड़े जाते हैं, तो गज़ब का समाँ बँध जाता है। सुनने वालों के हृदय तरंगमय हो उठते हैं।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

चित्रकला में भगवान नीले रंग के क्यों?

अपनी साधना को इतना प्रबल करें कि अत्यंत गहरे नील वर्ण के सहस्रार चक्र तक पहुँचकर ईश्वर को पूर्ण रूप से प्राप्त कर लें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
April 2021

ठक! ठक! ठक! क्या ईश्वर है?

यदि तुम नास्तिकों के सामने ईश्वर प्रत्यक्ष भी हो जाए, तुम्हें दिखाई भी दे, सुनाई मी, तुम उसे महसूस भी कर सको, अन्य लोग उसके होने की गवाही भी दें, तो भी तुम उसे नहीं मानोगे। एक भ्रम, छलावा, धोखा कहकर नकार दोगे। फिर तुमने ईश्वर को मानने का कौन-सा पैमाना तय किया है?

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

आइए, शपथ लें..!

एक शिष्य के जीवन में भी सबसे अधिक महत्त्व मात्र एक ही पहलू का हैवह हर साँस में गुरु की ओर उन्मुख हो। भूल से भी बागियों की ओर रुख करके गुरु से बेमुख न हो जाए। क्याकि गुरु से बेमुख होने का अर्थ है-शिष्यत्व का दागदार हो जाना! शिष्यत्व की हार हो जाना!

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

अंतिम इच्छा

भारत की धरा को समय-समय पर महापुरुषों, ऋषि-मुनियों व सद्गुरुओं के पावन चरणों की रज मिली है। आइए, आज उन्हीं में से एक महान तपस्वी महर्षि दधीची के त्यागमय, भक्तिमय और कल्याणकारी चरित्र को जानें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

भगवान महावीर की मानव-निर्माण कला!

मूर्तिकार ही अनगढ़ पत्थर को तराशकर उसमें से प्रतिमा को प्रकट कर सकता है। ठीक ऐसे ही, हर मनुष्य में प्रकाश स्वरूप परमात्मा विद्यमान है। पर उसे प्रकट करने के लिए परम कलाकार की आवश्यकता होती है। हर युग में इस कला को पूर्णता दी है, तत्समय के सद्गुरुओं ने!

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
March 2021

ठंडी बयार

सर्दियों में भले ही आप थोड़े सुस्त हो गए हों, परन्तु हम आपके लिए रेपिड फायर (जल्दी-जल्दी पूछे जाने वाले) प्रश्न लेकर आए हैं। तो तैयार हो जाइए, निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर देने के लिए। उत्तर 'हाँ' या 'न' में दें।

1 min read
Akhand Gyan - Hindi
February 2021
RELATED STORIES

So You Think There are Laws in Nature?

Eleni Angelou eavesdrops on a conversation between a Believer and a Sceptic.

10+ mins read
Philosophy Now
October/November 2021

विश्वास की उड़ी धज्जियां

दोस्ती में एक विश्वास होता है, भरोसा होता है. लेकिन शैलेश प्रजापति और अर्श गुप्ता ने पैसे के लिए उस विश्वास की धज्जियां उड़ा दी, जिस की वजह से विनय...

1 min read
Satyakatha
May 2021

ऐसे पहचानें मतलबी दोस्त

ऐसे दोस्त जो दोस्ती का मुखौटा पहने दीमक की तरह आप को अंदर ही अंदर खाते रहते हैं, इन्हें इस तरह पहचानें....

1 min read
Grihshobha - Hindi
March First 2021

अंधविश्वास का वीभत्स रूप

आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में घटी अंधविश्वास की घटना ने साबित किया कि धार्मिक पाखंडों पर कौपीराइट सिर्फ गरीब, दलित या आदिवासी का ही नहीं है बल्कि इस मामले में पढ़ालिखा सभ्य समाज भी पूरी तरह जकड़ा हुआ है. फर्क बस, झोंपड़े और बंगले का है, भीतरखाने कर्मकांड में कोई फर्क नहीं.

1 min read
Sarita
February Second 2021

विश्वास का भयंकर अंजाम

पूनम ने अपनी पक्की सहेली अंजलि सिकरवार के प्यार पर डाका डाल कर उस के प्रेमी अर्जुन शर्मा को अपने वश में कर लिया. यह सच्चाई जब अंजलि को पता लगी तो वह घायल शेरनी की तरह इतनी खतरनाक हो गई कि...

1 min read
Satyakatha
February 2021

आइए किसी पर निकालें अपनी कमियों का दोष

इंसान की फितरत ही यही है कि वह खुद के दोषों को छिपाने के लिए दूसरों की कमियां गिनाने लगता है. लेकिन ध्यान रहे अगर एक उंगली आप किसी पर उठाते हैं तो 4 उंगलियां घूम कर आप से भी सवाल करती हैं.

1 min read
Sarita
January Second 2021

सेवा का रहस्य

अपनी वासना मिटाने के लिए जो करते हो वह सेवा है।

1 min read
Rishi Prasad Hindi
January 2021

साईं के 11 वचनों का अनुसरण बने जिंदगी का कारण

साई बाबा के आशीर्वाद को महसूस करने वाले तो ये भी मानते हैं कि भले ही अब वो इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन चलाते सब कुछ वही हैं।

1 min read
Grehlakshmi
December 2020

WATER ON THE MOON

No water, no colony ! This had been the one piece in the jigsaw puzzle that scientists believed was the `deal breaker` between simply visiting the planet closest to Earth and colonising it. Now with news of the discovery of water the equation changes

2 mins read
Geopolitics
November 2020

अंधविश्वास के शिकार आप तो नहीं

अंधविश्वास के मकड़जाल में उलझ कर लोग पाखंडियों से ठगी का शिकार बन रहे हैं. इस से पहले आप खुद शिकार बन जाएं, यह जानना आप के लिए बेहद जरूरी है...

1 min read
Grihshobha - Hindi
November First 2020