मुनाफा मार्जिन से तय होगा मूल्यांकन
Business Standard - Hindi|January 29, 2022
बिड़ला ने कहा, स्टार्टअप का मूल्यांकन नकदी प्रवाह, सकल मार्जिन पर आधारित होगा
देव चटर्जी

- निवेश अवसरों के लिए प्रतिस्पर्धा और अवसर खो देने के डर से कई नई कंपनियों के मूल्यांकन में जबरदस्त तेजी आई है

- नकदी प्रवाह और सकल मार्जिन जैसे भरोसेमंद पुराने विचार लोगों के वर्ताव एवं गतिविधियों को निर्देशित करेंगे

स्टार्टअप के मूल्यांकन रिकॉर्ड ऊंचाई तक पहुंच रहे हैं लेकिन दमदार नकदी प्रवाह और सकल मार्जिन जैसे वित्तीय मानदंडों से भविष्य के वर्ताव और रुझान का पता चलेगा। यह बात आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला ने आज कही। उन्होंने कहा कि दुनिया में काफी पूंजी मौजूद है और उद्यमी बनने के लिए शायद ही इससे बेहतर समय होगा क्योंकि अच्छे आइडिया में निवेश करने के लिए हर कोई तैयार है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the newspaper

MORE STORIES FROM BUSINESS STANDARD - HINDIView All

एलआईसी के लिए मैक्वेरी का लक्ष्य 1,000 रुपये

पॉलिसीधारकों व खुदरा भागीदारों समेत निवेशकों ने भारतीय जीवन बीमा निगम में 47,000 करोड़ रुपये की रकम गंवा दी क्योंकि बीमा दिग्गज का बाजार पूंजीकरण कारोबारी सत्र के आखिर में 5.53 लाख करोड़ रुपये रह गया जबकि आईपीओ मूल्यांकन 6 लाख करोड़ रुपये का था।

1 min read
Business Standard - Hindi
May 18, 2022

कमजोर रुपये से कंपनियों की बढ़ी मुश्किलें

कंपनियां इलेक्ट्रॉनिक सामानों की कीमतों में जून में 2-6 फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती हैं

3 mins read
Business Standard - Hindi
May 18, 2022

बूट्स के लिए बोली लगाएगी रिलायंस

अंबानी महीने के अंत तक सौंपेंगे बूट्स के लिए बोली

1 min read
Business Standard - Hindi
May 18, 2022

आईटी उद्योग में खूब बढ़ रहा वेतन

देश में सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सेवा उद्योग से जुड़ी कंपनियों का कर्मचारियों पर होने वाला खर्च अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है क्योंकि वेतन में खूब बढ़ोतरी की जा रही है और प्रतिभाशाली कर्मचारियों को रोकने की हरमुमकिन कोशिश की जा रही है। मगर ऐसा भारत में ही नहीं हो रहा है, दुनिया भर की आईटी कंपनियां भी तकनीकी प्रतिभाओं पर इतना कुछ लुटा रहे हैं, जैसा पहले कभी नहीं देखा गया।

4 mins read
Business Standard - Hindi
May 18, 2022

रिकॉर्ड 15.8 फीसदी पर थोक महंगाई

थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित मुद्रास्फीति दर अप्रैल में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई क्योंकि जिंसों और सब्जियों के दाम में बहुत अधिक वृद्धि हुई है। थोक महंगाई अप्रैल में 15.08 फीसदी रही जो मौजूदा 2011-12 श्रृंखला में अब तक का सबसे ऊंचा आंकड़ा है। चिंता की बात इसलिए ज्यादा है क्योंकि पिछले साल अप्रैल में महंगाई दर 10.74 फीसदी थी और उस पर इतनी अधिक वृद्धि हो गई है। थोक महंगाई दर लगातार 13 महीनों से दो अंकों में बनी हुई है।

1 min read
Business Standard - Hindi
May 18, 2022

आते ही 8 फीसदी गिरा एलआईसी

कंपनी का शेयर पहले दिन बंद हुआ 873 रुपये पर, आईपीओ की कीमत थी 949 रुपये

2 mins read
Business Standard - Hindi
May 18, 2022

मोदी ने देउबा के साथ 'शानदार' बैठक की

लुम्बिनी एवं कुशीनगर के बीच 'सिस्टर सिटी' का संबंध स्थापित करने पर सहमति बनी

2 mins read
Business Standard - Hindi
May 17, 2022

7.4 से 8.2 प्रतिशत के बीच रह सकती है भारत की जीडीपी वृद्धि : संजीव बजाज

बजाज फिनसर्व के चेयरमैन और उद्योग संगठन भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के नए अध्यक्ष संजीव बजाज ने आज कहा कि कच्चे तेल के वैश्विक दाम के 3 परिदृश्यों में भारत के सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2023 में 7.4 प्रतिशत से 8.2 प्रतिशत के बीच रहने की संभावना है।

1 min read
Business Standard - Hindi
May 17, 2022

पवन हंस की बिक्री टाल सकती है केंद्र सरकार

सरकारी स्वामित्व वाली हेलीकॉप्टर सेवा प्रदाता कंपनी पवन हंस लिमिटेड की बोली जीतने वाले कंसोर्टियम के एक सदस्य के खिलाफ अदालती आदेश आने के कारण केंद्र इसकी बिक्री अनिश्चित समय के लिए टाल सकता है। यह दूसरा मामला है, जिसमें विजेता बोलीदाता के खिलाफ आरोपों की वजह से प्रक्रिया पूरी होने के बाद विनिवेश की मुहिम को टाला जा रहा है। सरकार ने पहले सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (सीईएल) का निजीकरण रोक दिया था। उस मामले में आरोप थे कि बोली जीतने वाली कंपनी नंदलाल फाइनैंस और छांट दी गई दूसरी कंपनी जेपीएम इंडस्ट्रीज लिमिटेड एक-दूसरे से संबंधित हैं।

3 mins read
Business Standard - Hindi
May 17, 2022

टमाटर पर भी चढ़ने लगा महंगाई का रंग

टमाटर पर भी महंगाई का रंग चढ़ने लगा है। टमाटर की फसल को गर्म मौसम की वजह से नुकसान हुआ है, जिससे इसके भाव बढ़ने लगे हैं । दक्षिण भारत के राज्यों में टमाटर के खुदरा दाम 90 रुपये किलो तक पहुंच चुके हैं। उत्तर भारत के राज्यों में भाव 30 से 50 रुपये किलो चल रहे हैं। कारोबारियों के मुताबिक उत्तर भारत के राज्यों में भी भाव अगले महीने तक 70 से 80 रुपये किलो हो सकते हैं।

2 mins read
Business Standard - Hindi
May 17, 2022
RELATED STORIES

Stop Losing Your Stuff

Can't find your keys again? Cognitive experts can help you stop searching (and stressing).

6 mins read
Reader's Digest US
June 2022

NIGHTMARE ON LAKE SUPERIOR

One by one, the three kayakers capsized in the cold, angry water. Then they became separated.

10 mins read
Reader's Digest US
June 2022

Past meets present

An 1880 Cape gets a 21st-century update, providing the perfect balance of antique charm and contemporary style for a growing family

6 mins read
This Old House Magazine
Summer 2022

Parenting, Passed Down

Genes aren't the only things we inherit. Readers share the rules and traditions that made them the parents they are today.

5 mins read
Reader's Digest US
June 2022

Building with a sense of place

Work is underway on our newest Idea House, a contemporary, energy-efficient home that reflects its Rocky Mountain setting

5 mins read
This Old House Magazine
Summer 2022

"I NEVER THOUGHT OF IT THAT WAY"

HOW TO TALK TO PEOPLE EVEN IF YOU DISAGREE

10+ mins read
Reader's Digest US
June 2022

A new outlook

With a wraparound porch and oversize windows that frame the views, an updated rear addition embraces its pastoral setting and readies a well-loved, almost 220-year-old farmhouse for another century of family life

7 mins read
This Old House Magazine
Summer 2022

THE FUTURE OF TECH

From self-driving cars to space travel, we answer your questions about where technology is heading

7 mins read
Reader's Digest US
June 2022

Creative groundcover combos

Why settle for a one-note planting when there's so much variety to try? Here's how to weave a tapestry of low-growing perennials that will beautify your yard

7 mins read
This Old House Magazine
Summer 2022

A Perfect Match

EVERYDAY MIRACLES

2 mins read
Reader's Digest US
June 2022