विश्वसनीय राजकोषीय नीति से मजबूत होगी भारत की साख: गीता
Business Standard - Hindi|October 15, 2021
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ का कहना है कि कैलेंडर वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के आंकड़े भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दे रहे हैं। हालांकि आईएमएफ ने हाल में जारी अपनी वर्ल्ड इकनॉमिक आउटलुक रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान 9.5 प्रतिशत पर स्थिर रखा है। इंदिवजल धस्माना ने उनसे अर्थव्यवस्था से जुड़े विभिन्न विषयों पर बात की। पेश हैं बातचीत के संपादित अंशः

आईएमएफ ने भारत के आर्थिक वृद्धि के संदर्भ में जुलाई के अपने अनुमान में कोई बदलाव नहीं किया है। हालांकि जुलाई के बाद औद्योगिक उत्पादन सूचकांक, प्रमुख औद्योगिक क्षेत्रों में उत्पादन, कर संग्रह, विनिर्माण आदि अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दे रहे हैं। आप इसे कैसे देखती हैं?

जुलाई में हमने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान 12.5 प्रतिशत से घटाकर 9.5 प्रतिशत कर दिया था। उस समय कोविड-19 की वजह से जोखिम बढ़ गया था और देश के विभिन्न राज्यों में लॉकडाउन लगा दिया गया था। अगस्त अंत में चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के जीडीपी के आंकड़ों पर भी असर दिखा और यह अनुमान से कम रहा। ठीक उसी समय तीसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था का हाल बताने वाले आंकड़े मजबूत होते गए। हमने अपने सालाना अनुमान में तिमाही आधार पर बदलने वाले हालात पर पूरी तरह विचार किया इसलिए अनुमान में कोई बदलाव नहीं किया है।

सरकार कहती है कि चालू कैलेंडर वर्ष में सभी वयस्कों का टीकाकरण हो जाएगा ।क्या इससे यह गुंजाइश बनती है कि अर्थव्यवस्था आईएमाएफ के अनुमान की तुलना में अधिक तेजी से आगे बढ़ेगी?

टीकाकरण के मोर्चे पर भारत ने सराहनीय प्रगति की है। इस समय देश की करीब 20 प्रतिशत आबादी को टीके की दोनों खुराक लगाई जा चुकी हैं । करीब 51.2 प्रतिशत लोगों को कम से कम एक खुराक अवश्य लग चुकी है। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ने से कोविड महामारी पर अधिक कारगर ढंग से नियंत्रण पाया जा सकता है। आने वाले समय में मांग में सुधार के संकेत मिल सकते हैं।

हाल में भारत अपनी रेटिंग में सुधार के लिए प्रयास करता रहा है। मगर मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने केवल संप्रभु रेटिंग (सॉवरिन रेटिंग्स) पर अपने अनुमान में सुधार किया है। आपको लगता है कि आने वाले कुछ महीनों में भारत की रेटिंग सुधर सकती है?

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the newspaper

MORE STORIES FROM BUSINESS STANDARD - HINDIView All

त्वरित एवं निर्बाध भुगतान की जरूरत

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना तकनीक मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि बैंकों को सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यमों को त्वरित एवं आसान ऋण उपलब्ध कराने के लिए और अधिक उपाय करना चाहिए।

1 min read
Business Standard - Hindi
December 06, 2021

समान एफएमसीजी मार्जिन की मांग

एफएमसीजी उत्पादों के वितरकों और सीधे कारोबारियों को माल देने वाली (बी2बी) वितरण कंपनियों के बीच मार्जिन के अंतर का मामला गरमा गया है। वितरकों के शीर्ष संगठन ने एफएमसीजी कंपनियों को चिट्ठी लिखकर सामान्य वितरकों और ऑफलाइन तथा ऑनलाइन बी2बी वितरण कंपनियों के बीच कीमतों में अंतर की शिकायत की है।

1 min read
Business Standard - Hindi
December 06, 2021

चुनौतियों से जूझ रहा रेस्तरां कारोबार

महामारी की वजह से बढ़ती लागत, श्रमिकों की कमी और कारोबार कम होने की वजह से कई रेस्तरां बंद हुए हैं

1 min read
Business Standard - Hindi
December 06, 2021

कोरोना की तीसरी लहर से पहले जुटा लें

संकट से बचना है तो व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी लीजिए और कर्ज का बोझ कम से कम कर लीजिए

1 min read
Business Standard - Hindi
December 06, 2021

एलऐंडटी को विदेश से मिल रहे अधिक ऑर्डर

तकनीकी तौर पर अकुशल प्रतिस्पर्धियों द्वारा निविदा हासिल किए जाने से दिग्गज कंपनी को बड़े घरेलू ऑर्डरों का नुकसान

1 min read
Business Standard - Hindi
December 06, 2021

आरबीआई ररवेगा यथास्थिति!

विशेषज्ञ रिवर्स रीपो दर को छोड़कर मौद्रिक नीति यथावत रहने पर सहमत

1 min read
Business Standard - Hindi
December 06, 2021

वैज्ञानिक सलाह पर बूस्टर खुराक

स्वास्थ्य मंत्री मनसुरव मांडविया ने संसद में कोविड टीके की बूस्टर खुराक पर दी जानकारी

1 min read
Business Standard - Hindi
December 04, 2021

ओमीक्रोन से बढ़ेगा संक्रमणः विशेषज्ञ

कोविड के नए स्वरूप से पहले संक्रमित हो चुके लोग और टीका लगवा चुके लोग दोबारा संक्रमित हो सकते हैं

1 min read
Business Standard - Hindi
December 04, 2021

क्रिप्टो विनियमन पर सीतारमण का जोर

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर जारी बहस के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज आभासी मुद्रा सहित प्रौद्योगिकी को विनियमित करने के लिए वैश्विक प्रयास की जरूरत पर जोर दिया। इनफिनिटी फोरम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में सीतारमण ने कहा, 'ऐसे में जब हम राष्ट्रीय स्तर पर इस बारे में सोच रहे हैं, एक वैश्विक तंत्र होना चाहिए जिसके माध्यम से हम प्रौद्योगिकी में लगातार होने वाले बदलाव की निगरानी कर सकें।

1 min read
Business Standard - Hindi
December 04, 2021

ओमिक्रोन और फेड की चिंता से लुढ़का बाजार

कर्नाटक में ओमीकोन का मामला आने से निवशकों का मनोबल कमजोर पड़ा

1 min read
Business Standard - Hindi
December 04, 2021