गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत 35 फीसदी मनरेगा कार्य
Business Standard - Hindi|November 26, 2020
केंद्र सरकार ने कुछ दिनों पहले गरीब कल्याण रोजगार अभियान (जीकेआरए) के लिए अतिरिक्त 10,000 करोड़ रुपये के आवंटन की घोषणा की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल जून में वापस लौटे प्रवासी श्रमिकों के लिए इस योजना को शुरू किया था। इस योजना का अधिकांश धन अग्रणी योजना मनरेगा के तहत किए गए कार्यों और ग्रामीण आवास के लिए खर्च किया जाएगा।

इसका एक मतलब यह भी है कि मनरेगा के लिए अप्रत्यक्ष रूप से अतिरिक्त आवंटन किया गया। ऐसा इसलिए भी है कि ताजे आंकड़ों से पता चलता है कि भले ही जून में गरीब कल्याण रोजगार योजना को विभिन्न योजनाओं के तहत 11 मंत्रालयों में फैले 25 विभिन्न कार्यों को मिलाकर शुरू किया गया था, इनमें से 11 कार्य ऐसे थे जिनकी मंजूरी पहले से ही मनरेगा के तहत दी जा चुकी है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the newspaper

MORE STORIES FROM BUSINESS STANDARD - HINDIView All

टीका निर्यात अगले दो हफ्ते में

सीरम इंस्टीट्यूट अगले दो महीने में नोवावैक्स टीका बनाने का काम भी करेगी शुरू

1 min read
Business Standard - Hindi
January 18, 2021

भविष्य को बदलने का अहसास देती हैं स्टार्टअपः नरेंद्र मोदी

इस सम्मेलन में दृष्टिहीन लोगों के जीवन को बदलने की क्षमता रखने वाले ऐप से लेकर ईंट बनाने वाली चलती फिरती मशीनें, मधुमेह को नियंत्रित करने वाला कटहल का पाउडर, बायोडिग्रेडेबल पीपीई किट आदि अन्य नवाचारों का भी प्रदर्शन किया गया

1 min read
Business Standard - Hindi
January 18, 2021

मुआवजे की बात पर कोविड-19 टीका निर्माताओं की बंटी राय

कानूनी विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड-19 टीके की जवाबदेही के लिए कंपनियों के प्रति सरकार के सख्त होने की संभावना नहीं दिखती है

1 min read
Business Standard - Hindi
January 18, 2021

अब तक 2.24 लारव को लगा टीका

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू होने के दूसरे दिन रविवार को छह राज्यों में टीकाकरण अभियान चलाया गया। इन राज्यों में 553 सत्र आयोजित किए गए जिनमें 17,000 से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया।

1 min read
Business Standard - Hindi
January 18, 2021

राजकोषीय घाटे का नया खाका !

वित्त वर्ष 2026 तक राजकोषीय घाटे को 4 फीसदी तक लाने का हो सकता है लक्ष्य

1 min read
Business Standard - Hindi
January 18, 2021

ज्ञवाली की यात्रा और नेपाल के साथ रिश्ते

भारत ने ज्ञवाली की यात्रा के साथ स्पष्ट किया कि जो भी सरकार होगी वह उसके साथ सामान्य व्यवहार जारी ररवेगा

1 min read
Business Standard - Hindi
January 15, 2021

इंडियाबुल्स में आएंगे निवेशक

वित्त वर्ष 2022 में हो सकता है सौदा, प्रवर्तक पद से हट सकते हैं समीर गहलोत

1 min read
Business Standard - Hindi
January 15, 2021

ट्रंप के खिलाफ फिर महाभियोग प्रस्ताव पारित

• प्रतिनिधि सभा ने पारित किया प्रस्ताव, अब सीनेट में होगी सुनवाई • बाइङन के 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद संभालने से पहले सीनेट में सुनवाई की संभावना कम

1 min read
Business Standard - Hindi
January 15, 2021

कृषि कानूनों पर बनी समिति से भूपिंदर सिंह मान हटे

केंद्र किसानों की नौवें दौर की वार्ता शुक्रवार को होगी

1 min read
Business Standard - Hindi
January 15, 2021

प्रत्यक्ष कर संग्रह में महज 9.2 फीसदी कमी

• आर्थिक गतिविधियों में सुधार से कर संग्रह में आई तेजी, रविवार तक 5.9 करोड़ आयकर रिटर्न भरे गए • 13 जनवरी तक 6.57 लाख करोड़ रुपये रहा शुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रह • विभाग को उम्मीद, पिछले साल के बराबर 10.53 लाख करोड़ रुपये हो जाएगा संग्रह

1 min read
Business Standard - Hindi
January 15, 2021
RELATED STORIES

अनलॉक के बाद मनरेगा से दूर हुए 45 हजार मजदूर, कामकाज पर पड़ रहा असर

प्रदेश सरकार कोरोना में बेरोजगारी को लेकर केंद्र सरकार पर हल्ला बोलती रही है।

1 min read
Rokthok Lekhani
November 28, 2020

जनता के बीच वित्तीय साक्षरता बढ़ा रही मोदी सरकार, लोगों की परेशानियाँ हो रही हैं दूर

भारत में कल आबादी का लगभग 60 प्रतिशत से अधिक हिस्सा ग्रामीण इलाकों में रहता है एवं अपने रोज़गार के लिए मुख्यतः कृषि क्षेत्र पर ही निर्भर हैं। इस प्रकार भारत में कृषि का क्षेत्र एक सिल्वर लाइनिंग के तौर पर देखा जाता है। सामान्य तौर पर वित्तीय समावेशन की सफलता का आकलन इस बात से हो सकता है कि सरकार द्वारा इस सम्बंध में बनायी जा रही नीतियों का फ़ायदा समाज के हर तबके, मुख्य रूप से अंतिम पायदान पर खड़े लोगों तक पहुंच रहा है। भारत में वर्ष 1947 में 70 प्रतिशत लोग गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे थे। जबकि अब वर्ष 2020 में देश की कुल आबादी का लगभग 22 प्रतिशत हिस्सा गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहा है।

1 min read
Open Eye News
September 2020

मनरेगा की कृषि एवं ग्रामीण विकास में भूमिका

महात्मा गांधी के स्वप्न के अनुसार देश का विकास तभी संभव है जब देश के प्रत्येक मनुष्य तक रोजगार की पहुंच होगी। वर्ल्ड बैंक के अनुसार मनरेगा विश्व में पहली ऐसी स्कीम है जो गरीबी के उत्थान में सहायक है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
September 01, 2020

तमिलनाडु का नदी-पुरुष

२०१८ में, तमिलनाडु में नागनदी २० वर्षों के सूखे के बाद बह रही थी। यह हुआ २०,००० अद्भुत महिलाओं और एक पूर्वबिजली मिस्त्री के प्रयासों के द्वारा जिन्होंने हार मानने से इनकार कर दिया था। यह कहानी है चंद्रशेखर कुप्पन की, जिसने तमिलनाडु की नदियों को उसी प्रकार पुनर्जीवित किया जिस प्रकार से अपने शुरुआती दिनों में अत्यंत निष्ठा के साथ पंखे ठीक करने का काम किया था।

1 min read
Rishimukh Hindi
August 2020