भाजपा की यात्राओं से बढ़ेगा प्रदेश में राजनैतिक तापमान?
Uday India Hindi|December 12, 2021
2017 में जब विधानसभा चुनाव हुए उस समय केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बन चुकी थी और प्रदेश में समाजवादी पार्टी, सरकार के खिलाफ जनमानस में एक आक्रोश उबल रहा था जिसका लाभ भारतीय जनता पार्टी को मिला लेकिन अब भाजपा सरकार का कार्यकाल करीब-करीब पूरा हो चुका है और बीजेपी अपने दूसरे कार्यकाल के लिए जनता से आशीर्वाद मांगने निकल पड़ी है।
मृत्युंजय दीक्षित

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों को लेकर सरगर्मियां और बयानबाजियां तेज होती जा रही हैं। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने भी 2014, 2017 और 2019 की सफलता को दोहराने के लिये अपनी कमर कस ली है। भाजपा को इस बार सपा मुखिया अखिलेश यादव की विजय रैलियों में आ रही भारी भीड़ से कड़ी चुनौती मिलती नजर आ रही है। सपा की रैलियां में आ रही भारी भीड़ देखकर सपा नेता का मनोबल बहुत ही ऊंचा होता जा रहा है। इसे देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने भी दिन प्रतिदिन की समीक्षा करते हुए अपने चुनाव अभियान को तेज धार देने का काम प्रारम्भ कर दिया है।

2017 में जब विधानसभा चुनाव हुए उस समय केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बन चुकी थी और प्रदेश में समाजवादी पार्टी, सरकार के खिलाफ जनमानस में एक आक्रोश उबल रहा था जिसका लाभ भारतीय जनता पार्टी को मिला लेकिन अब भाजपा सरकार का कार्यकाल करीब-करीब पूरा हो चुका है और बीजेपी अपने दूसरे कार्यकाल के लिए जनता से आशीर्वाद मांगने निकल पड़ी है।

भारतीय जनता पार्टी ने चुनावी बिगुल बजने के पहले छह यात्राएं निकालने जा रही है। जिसके माध्यम से केंद्र और प्रदेश सरकार की विकास गाथा सभी 403 विधानासभा क्षेत्रों में पहुंचेगी। इन यात्राओं का समापन पिछली बार की तरह लखनऊ में होगा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक विशाल जनसभा को संबोधित करेंगे। यात्राओं के कार्यक्रम तय करने के लिए आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इन यात्राओं के माध्यम से भाजपा केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को जनता के बीच लेकर आयेगी। 2017 के चुनाव से पहले जब यात्रा निकाली थी तब हमने पूर्ववर्ती सरकार की खामियों को जनता के बीच उजागर किया जबकि इस बार हम अपनी उपलिब्ध बताने और उनका आशीर्वाद लेने के बीच जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से चली आ रही परिवारवाद, क्षेत्रवाद, भाषावाद, जातिवाद मत और मजहब के दायरे में कैद होकर चली आ रही राजनीति को प्रधानमंत्री ने बदला है।

भाजपा नेताओं को विश्वास है कि अयोध्या, मथुरा और काशी में चल रहे विकास कार्यक्रमों तथा कोरोनाकाल में जिस प्रकार से बीजेपी व संघ के स्वयंसेवकों ने सेवा का कार्य किया उससे प्रदेश की जनता एक बार फिर भाजपा को तीन सौ सीटों के साथ बहुमत देकर अपना आशीर्वाद देगी। यह बात बिल्कुल सही है कि विगत पांच वर्षों में सरकार ने नये भारत की स्थापना के लिए जिस अभियान को आगे बढ़ाया है आज वह प्रत्येक नागरिक की जुबान पर सुनाई देता है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM UDAY INDIA HINDIView All

पिछड़े अति पिछड़े भाजपा के साथ भगोड़े विधान भवन नहीं लौटेंगे

कुछ मंत्री, कुछ विधायक चुनाव घोषणा होते ही भाजपा को छोड़ कर गये। अब सपा का दागदार दामन थाम लिया। भाजपा के ये ये भगोड़े नेता हर चुनाव में मक्खन मलाई खाकर पार्टी बदल लेते हैं। इस बार उनका कहना है कि वे पिछड़ों के लिये पार्टी छोड़कर जा रहे हैं यानि पांच साल ये लोग पिछड़ों के अहित से जुड़े रहे। यह बात उनकी अपनी जाति बिरादरी के लोगों के गले ही नहीं उतर रही तो अन्य समाज के लोगों के गले कैसे उतरेगी।

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

तीसरी लहर का सामना करने के लिए देश तैयार

"बच्चों का टीकाकरण समय-समय पर केंद्र/राज्य सरकारों के नीति दिशानिर्देशों के अनुसार होना चाहिए। अस्पताल ने 15 से 18 साल के बच्चों का टीकाकरण शुरू कर दिया है। हालांकि, दिल्ली में किए गए पिछले सीरो सर्वेक्षण में 64 प्रतिशत बच्चों की आबादी में कोविड के प्रति एंटीबॉडी विकसित होने की सूचना है। यह दर्शाता है कि पिछले संक्रमणों के दौरान प्राकृतिक प्रतिरक्षा हासिल कर ली गई है। इसलिए, पहले से मौजूद एंटीबॉडी के कारण, बच्चों की आबादी का अच्छा प्रतिशत कोरोना संक्रमण के संपर्क में आने पर भी सुरक्षित रहना चाहिए," यह कहना है डॉ. दीपक शुक्ला, सीइओ, पुष्पावती सिंघानिया रिसर्च इंस्टीट्यूट, का अशोक कुमार से हुई बातचीत में। बातचीत के प्रमुख अंश:

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक भौर नफरत की राजनीति प्रधानमंत्री के खिलाफ रचा गया मृत्युजाल!

पंजाब की यह घटना एक सुनियोजित साजिश है जिसके लिए जिम्मेदार सभी लोगों पर कड़ी कार्यवाही बनती है। नरेंद्र मोदी देश नागरिक नहीं अपितु वह देश के प्रधानमंत्री हैं और जिस राज्य में प्रधानमंत्री की सुरक्षा नहीं हो सकती वहां की आम जनता का क्या हाल हो रहा होगा यह समझा जा सकता है। प्रधानमंत्री के साथ घटित घटना के बाद यह साबित हो गया है कि पंजाब का पूरा प्रशासन तंत्र खालिस्तानी वामपंथियों के शिकंजे में आ चुका है और 5 जनवरी को किसान आंदोलन की आड़ में प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक सुनियोजित साजिश रची गयी थी और प्रधानमंत्री भगवान भोलेनाथ और मां गंगा की कृपा से सुरक्षित निकलने में कामयाब रहे हैं।

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

बज गया बिगुल

कोरोना की चुनौतियां, ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। चुनाव आयोग ने 10 फरवरी से चुनाव की घोषणा की है। जिसमें यूपी में सात चरणों, मणिपुर में दो चरणों में चुनाव होंगे। इसके अलावा पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में एक एक चरण में चुनाव होंगे। चुनाव आयोग द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार इस बार देश के पांच राज्यों में होने वाले चुनाव में 18.3 करोड़ मतदाता चुनाव में मतदान करेंगे।

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

ओमीकॉन वायरस का सामना करने के लिए आज देश बेहतर तरीके से तैयार है

"सच में, हमारे अस्पतालों ने पहली और दूसरी लहर को संभाला। अब तीसरी लहर है। जब पहली लहर आई तो हम तैयार नहीं थे- हमारे पास पीपीई किट आदि नहीं थे। हमें नहीं पता था कि क्या करना है। अच्छी बात यह थी कि सरकार पूरी स्थिति को सीधे संभाल रही थी और निजी क्षेत्र को दूर रखा गया था। संयोग से, मामलों की संख्या भी कम थी। देश भर में लगाए गए प्रतिबंध बहुत अधिक थे। पहली लहर में होने वाली मौतें दूसरी लहर की तुलना में बहुत कम थीं। जब दूसरी लहर आई तो में हमारे पास सुरक्षात्मक किट थे, लेकिन हम लापरवाह हो गए थे राज्यों और केंद्र के बीच विवाद थे। राज्यों और केंद्र के बीच इस विवाद में व्यवस्थाओं का अभाव रहा," यह कहना है डॉ. विनय अग्रवाल, चेयरमैन, पुष्पांजलि क्रॉसले हॉस्पीटल, का अशोक कुमार से हुई बातचीत में। बातचीत के प्रमुख अंश:

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

डबल तड़का

फिल्म-जगत की खबरे

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

चौमुखी चुनौतियों के चक्रव्यूह में उत्तर प्रदेश के चुनाव

आवरण कथा

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

ओमीक्रोन संक्रमण की सुनामी के रूबरू सांस रोके खड़ा देश

टीकाकरण थामेगा बेहद तेजी से फैल रहे नए वैरियेंट की नकेल

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

उत्तर प्रदेश योगी ही एकमात्र मुद्दा

चुनाव के दौरान योगी का मुद्दा

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

संकट ही नहीं हर्ष भी देकर गया बीता साल

इक्कीसवीं सदी के इक्कीसवें वर्ष को अलविदा कहते हुए नए वर्ष का स्वागत हम इस सोच और संकल्प के साथ करें कि हमें कुछ नया करना है, नया बनना है, नये पदचिह्न स्थापित करने हैं। बीते वर्ष की कोरोना महामारी के अलावा मौसमी आपदाओं, आर्थिक असंतुलन, राजनीतिक उठापटक, बर्फीले तूफान, समुद्री चक्रवात, बाढ़ और जंगलों के राख होने एवं धरती के तापमान के बढ़ने की पीड़ाओं, दर्द एवं प्रकोप पर नजर रखते हुए उन पर नियंत्रण पाने का संकल्प लेना है। हमें यह संकल्प करना और शपथ लेनी है कि आने वाले वर्ष में हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे जो हमारे उद्देश्यों, उम्मीदों, उमंगों और आदर्शों पर प्रश्नचिह्न लगा दे। कोरोना महामारी की तीसरी लहर यानी ओमीक्रोन की आहट के बीच हमें नये साल में अपनी जीवनशैली को नया रंग और आकार देना है।

1 min read
Uday India Hindi
January 09, 2022
RELATED STORIES

India Election Body Struggles With Scale Of Fake Information

When India’s Election Commission announced last month that its code of conduct would have to be followed by social media companies as well as political parties, some analysts scoffed, saying it lacked the capacity and speed required to check the spread of fake news ahead of a multi-phase general election that begins April 11.

4 mins read
AppleMagazine
April 5, 2019

India At A Crossroads

India is known as the land of contradictions, and recent events do little to undermine that reputation.

6 mins read
Reason magazine
January 2019

More than 300 seats, says Shah as he hits the ground running in Kairana

UNION Home Minister and senior BJP poll strategist Amit Shah on Saturday hit the ground in poll-bound Uttar Pradesh by launching a door-to-door campaign in Kairana. Canvassing votes for party candidate Mriganka Singh, Shah reiterated the slogan of ‘abki baar 300 paar’ (this time beyond 300 seats).

1 min read
The Morning Standard
January 23, 2022

Shah visits Kairana

Amit Shah receives a flower from a child during his door-to-door campaign.

1 min read
The Free Press Journal - Mumbai
January 23, 2022

Amit Shah begins door-to-door campaign, meets exodus-affected families in Kairana

UP POLLS

3 mins read
Millennium Post Delhi
January 23, 2022

Previous govt tried to create Kashmir in UP, we stopped it: Yogi

IN AN interaction with a select few people and party workers here after a door-to-door campaign Saturday, CM Yogi Adityanath said those in power in UP in 2012 (Samajwadi Party) were trying to create a “Kashmir like" situation in the state, by“engineering an exodus in Kairana".

1 min read
The Indian Express Delhi
January 23, 2022

Nadda reviews election preparations in Bijnor

Bharatiya Janata Party (BJP) national president JP Nadda on Friday took stock of the preparations for the upcoming Uttar Pradesh assembly elections, in a meeting with party leaders in Bijnor district.

1 min read
Hindustan Times
January 23, 2022

LS privileges panel summons CS, DGP over Bandi's plaint

Sanjay being taken to prison in Karimnagar

1 min read
The Times of India Hyderabad
January 23, 2022

BJP-ruled MCD looting funds meant for school children: AAP

AAP chief spokesperson Saurabh Bharadwaj on Saturday said that the BJP-ruled MCD is looting funds in the name of increased number of school students and exaggerating figures on paper.

1 min read
Millennium Post Delhi
January 23, 2022

IDEOLOGIES ARE DEAD, LONG LIVE INDIVIDUALS

In a democracy, a government is the product of ideological conflict resolution. But not anymore. In most democracies today, individuals are ideologies themselves and voters often ignore their political outlook.

4 mins read
The Morning Standard
January 23, 2022