कश्मीर में तालिबानी खतरे का जवाब क्या?
Uday India Hindi|November 07, 2021
कश्मीर टाइम्स की संपादक अनुराधा भसीन ने एक हिंदी समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा कि घाटी या वादी हाल के दिनों के घटनाक्रमों की जो रिपोर्टिग भारतीय मीडिया के एक बड़े पॉकेट में की जा रही है, वह कुछ बढ़ाचढ़ाकर भी की गई हो सकती है। अनुराधा भसीन कह रही हैं कि पलायन तो हो रहा है, लेकिन भगदड़ जैसे हालात नहीं हैं।
नवीन जैन

दूसरी तरफ अनुराधा भसीन यह भी कह रही हैं कि घाटी में काम कर रहे पत्रकारों ही पुलिस के फोन आते रहते हैं। हो सकता है पुलिस ऐसा सही खबरें से बचाने के लिए कर रही हो। विदेशी मीडिया तो खैर मैनेज होता नहीं, मगर भारत के मीडियाकर्मियों को विभिन्न दबावों में काम करना पड़ता है। खासकर घाटी के संदर्भ में। फिर भी यह खबर तो पुष्ट हो ही चुकी है कि अकेले इसी साल में अब तक वहां बीस नागरिक आतंकी गतिविधियों में मारे जा चुके हैं। सिर्फ अक्टूबर माह में अब तक दस हत्याएं हो चुकी हैं, और उग्रवादियों से विभिन्न मुठभेड़ों में नो सुरक्षा कर्मी शहीद हुए हैं सो अलग।

सनद रहे कि बराक ओबामा ने पहली बार जैसे ही अमेरिका की सत्ता संभाली थी, उन्होंने ऐलानिया कह दिया था कि अफगानिस्तान में अब अमेरिकी फौजों का काम पूरा हो चुका है। इसलिए उन्हें कभी भी वापस बुलाया जा सकता है। अलहदा बात है कि तकनीकी कारणों के चलते तब ऐसा हो नहीं पाया था, लेकिन उसी समय जैश-ए-मोहम्मद के सरगना अजहर मसूद ने चेता दिया था कि जैसे ने ही अमेरिकी सेनाओं की अफगानिस्तान से रवानगी हुई हम कश्मीर घाटी से भारतीय फौजों को खदेड़ना शुरू कर देंगे।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM UDAY INDIA HINDIView All

पिछड़े अति पिछड़े भाजपा के साथ भगोड़े विधान भवन नहीं लौटेंगे

कुछ मंत्री, कुछ विधायक चुनाव घोषणा होते ही भाजपा को छोड़ कर गये। अब सपा का दागदार दामन थाम लिया। भाजपा के ये ये भगोड़े नेता हर चुनाव में मक्खन मलाई खाकर पार्टी बदल लेते हैं। इस बार उनका कहना है कि वे पिछड़ों के लिये पार्टी छोड़कर जा रहे हैं यानि पांच साल ये लोग पिछड़ों के अहित से जुड़े रहे। यह बात उनकी अपनी जाति बिरादरी के लोगों के गले ही नहीं उतर रही तो अन्य समाज के लोगों के गले कैसे उतरेगी।

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

तीसरी लहर का सामना करने के लिए देश तैयार

"बच्चों का टीकाकरण समय-समय पर केंद्र/राज्य सरकारों के नीति दिशानिर्देशों के अनुसार होना चाहिए। अस्पताल ने 15 से 18 साल के बच्चों का टीकाकरण शुरू कर दिया है। हालांकि, दिल्ली में किए गए पिछले सीरो सर्वेक्षण में 64 प्रतिशत बच्चों की आबादी में कोविड के प्रति एंटीबॉडी विकसित होने की सूचना है। यह दर्शाता है कि पिछले संक्रमणों के दौरान प्राकृतिक प्रतिरक्षा हासिल कर ली गई है। इसलिए, पहले से मौजूद एंटीबॉडी के कारण, बच्चों की आबादी का अच्छा प्रतिशत कोरोना संक्रमण के संपर्क में आने पर भी सुरक्षित रहना चाहिए," यह कहना है डॉ. दीपक शुक्ला, सीइओ, पुष्पावती सिंघानिया रिसर्च इंस्टीट्यूट, का अशोक कुमार से हुई बातचीत में। बातचीत के प्रमुख अंश:

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक भौर नफरत की राजनीति प्रधानमंत्री के खिलाफ रचा गया मृत्युजाल!

पंजाब की यह घटना एक सुनियोजित साजिश है जिसके लिए जिम्मेदार सभी लोगों पर कड़ी कार्यवाही बनती है। नरेंद्र मोदी देश नागरिक नहीं अपितु वह देश के प्रधानमंत्री हैं और जिस राज्य में प्रधानमंत्री की सुरक्षा नहीं हो सकती वहां की आम जनता का क्या हाल हो रहा होगा यह समझा जा सकता है। प्रधानमंत्री के साथ घटित घटना के बाद यह साबित हो गया है कि पंजाब का पूरा प्रशासन तंत्र खालिस्तानी वामपंथियों के शिकंजे में आ चुका है और 5 जनवरी को किसान आंदोलन की आड़ में प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक सुनियोजित साजिश रची गयी थी और प्रधानमंत्री भगवान भोलेनाथ और मां गंगा की कृपा से सुरक्षित निकलने में कामयाब रहे हैं।

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

बज गया बिगुल

कोरोना की चुनौतियां, ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। चुनाव आयोग ने 10 फरवरी से चुनाव की घोषणा की है। जिसमें यूपी में सात चरणों, मणिपुर में दो चरणों में चुनाव होंगे। इसके अलावा पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में एक एक चरण में चुनाव होंगे। चुनाव आयोग द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार इस बार देश के पांच राज्यों में होने वाले चुनाव में 18.3 करोड़ मतदाता चुनाव में मतदान करेंगे।

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

ओमीकॉन वायरस का सामना करने के लिए आज देश बेहतर तरीके से तैयार है

"सच में, हमारे अस्पतालों ने पहली और दूसरी लहर को संभाला। अब तीसरी लहर है। जब पहली लहर आई तो हम तैयार नहीं थे- हमारे पास पीपीई किट आदि नहीं थे। हमें नहीं पता था कि क्या करना है। अच्छी बात यह थी कि सरकार पूरी स्थिति को सीधे संभाल रही थी और निजी क्षेत्र को दूर रखा गया था। संयोग से, मामलों की संख्या भी कम थी। देश भर में लगाए गए प्रतिबंध बहुत अधिक थे। पहली लहर में होने वाली मौतें दूसरी लहर की तुलना में बहुत कम थीं। जब दूसरी लहर आई तो में हमारे पास सुरक्षात्मक किट थे, लेकिन हम लापरवाह हो गए थे राज्यों और केंद्र के बीच विवाद थे। राज्यों और केंद्र के बीच इस विवाद में व्यवस्थाओं का अभाव रहा," यह कहना है डॉ. विनय अग्रवाल, चेयरमैन, पुष्पांजलि क्रॉसले हॉस्पीटल, का अशोक कुमार से हुई बातचीत में। बातचीत के प्रमुख अंश:

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

डबल तड़का

फिल्म-जगत की खबरे

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

चौमुखी चुनौतियों के चक्रव्यूह में उत्तर प्रदेश के चुनाव

आवरण कथा

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

ओमीक्रोन संक्रमण की सुनामी के रूबरू सांस रोके खड़ा देश

टीकाकरण थामेगा बेहद तेजी से फैल रहे नए वैरियेंट की नकेल

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

उत्तर प्रदेश योगी ही एकमात्र मुद्दा

चुनाव के दौरान योगी का मुद्दा

1 min read
Uday India Hindi
January 23, 2022

संकट ही नहीं हर्ष भी देकर गया बीता साल

इक्कीसवीं सदी के इक्कीसवें वर्ष को अलविदा कहते हुए नए वर्ष का स्वागत हम इस सोच और संकल्प के साथ करें कि हमें कुछ नया करना है, नया बनना है, नये पदचिह्न स्थापित करने हैं। बीते वर्ष की कोरोना महामारी के अलावा मौसमी आपदाओं, आर्थिक असंतुलन, राजनीतिक उठापटक, बर्फीले तूफान, समुद्री चक्रवात, बाढ़ और जंगलों के राख होने एवं धरती के तापमान के बढ़ने की पीड़ाओं, दर्द एवं प्रकोप पर नजर रखते हुए उन पर नियंत्रण पाने का संकल्प लेना है। हमें यह संकल्प करना और शपथ लेनी है कि आने वाले वर्ष में हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे जो हमारे उद्देश्यों, उम्मीदों, उमंगों और आदर्शों पर प्रश्नचिह्न लगा दे। कोरोना महामारी की तीसरी लहर यानी ओमीक्रोन की आहट के बीच हमें नये साल में अपनी जीवनशैली को नया रंग और आकार देना है।

1 min read
Uday India Hindi
January 09, 2022
RELATED STORIES

Salman Toor

From Pakistan with Love

10+ mins read
JUXTAPOZ
Winter 2022

Two Afghanistans, One Diplomat's Seat

The Taliban want the UN to recognize their ambassador. The old ambassador isn’t budging

4 mins read
Bloomberg Businessweek
November 08, 2021

Afghanistan – The Long Road Ahead

The war may be over, but for refugees from the Taliban the battle has just begun

8 mins read
Newsweek
October 29, 2021

FLASHPOINT

Pakistan sees a victorious Taliban in Afghanistan to the west and a partner in China to the East. But the U.S. is at odds with both, pushing leader Imran Khan into a delicate balancing act.

3 mins read
Newsweek
October 08, 2021

America Can't Ignore Afghanistan

Exclusive: Pakistani Prime Minister Imran Khan says the Taliban can be a partner for peace, not a terrorist threat - if the U.S. stays engaged.

10 mins read
Newsweek
October 08, 2021

Biden's Benghazi Moment

How the deadly Kabul AIRPORT ATTACK and bungled Afghanistan pullout could HAUNT HIS PRESIDENCY–and cost him the midterms.

8 mins read
Newsweek
September 10, 2021

Was ‘Chaos-istan' Inevitable?

How Biden's influence during the Obama administration had long-lasting effects

8 mins read
Newsweek
September 10, 2021

Fighting Terrorism from Afar

Can Joe Biden’s ‘over-the-horizon’ strategy in Afghanistan keep America safe? Defense experts are skeptical

6 mins read
Newsweek
September 03, 2021

FALL OF AFGHANISTAN!

Biden’s Vietnam fuels Taliban frenzy for new 9/11 attacks on America’s cities

4 mins read
National Enquirer
September 06, 2021

LEAVING AFGHANISTAN

WORLD

3 mins read
Reason magazine
October 2021