आईपीएल में करियर कामयाबी राहे आसान नहीं
Uday India Hindi|April 25, 2021
यदि आप भारत के लिए क्रिकेट खेलने के अपने सपने को पूरा नहीं कर पाते हैं तो ऐसी स्थिति में भी यह आपके सपनों की दुनिया का अंत नहीं है। वर्तमान में क्रिकेट के लेटेस्ट एडिशन के रूप में आईपीएल (इंडियन प्रीमियर लीग) सबसे चर्चित है। आठ टीमों वाली आईपीएल टूर्नामेंट में टी-20-लिमिटेड एडिशन मैच खेले जाते हैं, जिसकी शुरुआत बीसीसीआई के द्वारा 2007 में की गयी थी। इसमें खिलाड़ियों का चयन टीम के फ्रेंचाइजी के द्वारा मुख्य रूप से रणजी ट्राफी की टीमों से ऑक्शन के आधार पर किया जाता है।
श्रीप्रकाश शर्मा

क्रिकेट का नाम लेते ही जेहन में खिलाड़ियों के द्वारा लगाए गये चौकों और छक्कों पर स्टेडियम में खचाखच भरे हजारों दर्शकों के द्वारा तालियां पीटने, नाचने-गाने और खुशियां मनाने के मनोहारी दृश्य जीवित हो उठते हैं। कदाचित इस सत्य को झुठलाना आसान नहीं होगा कि शहर से लेकर गांव तक भारत में क्रिकेट के प्रति लोगों की दीवानगी अन्य खेलों की अपेक्षा सबसे अधिक है। घर से लेकर स्टेडियम तक क्रिकेट के प्रति लोगों के दिल में जुनून और जज्बा इतना अधिक होता है कि इसके करोड़ों फैन्स क्रिकेट के प्लेयर्स को भगवान के रूप में चाहते हैं, पूजते हैं और उनके जैसा ही बनने का सपना देखते हैं।

प्रायः 140 करोड़ आबादी वाले देश भारत में क्रिकेट महज एक स्पोर्ट नहीं है यह क्रेज है, यह धर्म है, राष्ट्रीयता और देशभक्ति का प्रतीक है, यह भक्तिभाव है और सबसे बढ़कर खेल के शौकीन हर किशोर का अपने देश के लिए इस खेल को खेलने और इसे अपना करियर बनाने का सबसे सुन्दर सपना है। किन्तु इंडियन क्रिकेट टीम के लिए खेलने, इसे करियर बनाने और इस डोमेन में कामयाब होने की राहें आसान नहीं हैंयह मुश्किलों और चुनौतियों से भरी हुई है।

पहले खुद को पहचानिए

अपने फेवरिट क्रिकेट प्लयेर को बाईस गज के पिच पर चौके और छक्के लगाते देखकर क्रिकेटर बनने की चाहत बहुत सहज है। किन्तु एक क्रिकेटर के रूप में प्रोफेशनल करियर शुरू करने की राहें आसान नहीं है। प्रोफेशन का यह डोमेन कठिन मेहनत, समर्पण और त्याग का है। लिहाजा क्रिकेट में करियर के इच्छुक उम्मीदवारों को निम्न वैयक्तिक गुणों के आधार पर खुद की पहचान करनी चाहिए

• आपको एक अच्छा स्पोर्ट्समैन और फिजिकल फिटनेस के साथ एक अच्छा एथलीट होना चाहिए।

• आपमें विफलताओं के बावजूद जीत के लिए निरंतर कोशिश करने का अदम्य साहस होना चाहिए।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM UDAY INDIA HINDIView All

पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद की हिंसा कारण और निवारण

सच तो यह है कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की जीत के बाद हुई हिंसा राजनीतिक नहीं है, उसके पीछे वहां की जनसांख्यिकीय स्थिति मुख्य कारक है। पश्चिम बंगाल में 30 से 35 प्रतिशत आबादी मुसलमानों की है। वे सत्ता को उपकरण बनाकर वहां हिंसा का मजहबी कुचक्र रच रहे हैं। ताकि शांति और सुरक्षा को सर्वोपरि रखने वाली बची-खुची हिंदू जाति भी वहां से पलायन कर जाए। ध्रुवीकरण को कारण मानने और ऐसा विश्लेषण करने वाले विद्वान या तो कायर हैं या दुहरे चरित्र वाले!

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

मदरसा शिक्षा के उप-उत्पाद

पिछले दिनों की कुछ घटनाओं पर जरा पुनर्विचार कीजिए। फ्रांस में पैगंबर साहब के कार्टून के नाम पर क्रमबद्ध हिंसा, उस हिंसा के पक्ष में भारत सहित अनेक देशों में हुए बड़े आंदोलन, अफ्रीकी देश मोजांबिक में आईएस के कट्टरपंथी द्वारा "अल्लाह हू अकबर" के नारे के साथ बर्बरता पूर्वक 50 से अधिक लोगों की हत्या, काबुल में सैकड़ों लोगों की हत्या आदि घटनाएं मीडिया व सोशल मीडिया पर चर्चित रही।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

सावधान न्यायपालिका सीमा लांघी जा रही है

अगर न्यायिक सक्रियता का सच्चा अर्थ जानना हो तो ब्लैक्स लॉ डिक्शनरी की मदद लेनी होगी, जिसके मुताबिक...... "न्यायिक निर्णयप्रक्रिया का वह दर्शन है, जिसमें जज सार्वजनिक नीति के बारे में अपने फैसलों में अन्य बातों के अलावा अपने व्यक्तिगत विचारों को भी तवज्जो देते हैं।"

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

यूपी में भाजपा की चुनौतियां दोबारा पांच साल की राह में खड़े हैं अगले छह माह!

यूपी में चुनाव अगले साल फरवरी-मार्च में होने हैं। वैसे में तकनीकी रूप से आठ-नौ माह भले बचे हों लेकिन व्यावहारिक तौर पर भाजपा नेतृत्व के पास यूपी में फिर से सत्ता में वापसी के हालात बनाने के लिए इस साल के बचे तकरीबन छह माह का वक्त ही है। यानी इन छह महीनों में वह क्या और कैसे कदम उठाती है उसकी कामयाबी एवं उससे बना माहौल ही फिर से पांच साल के लिए सत्ता पाने की राह तय करेंगे।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

लक्षद्वीप विकास के आड़े आता इस्लामिक कट्टरवाद

लक्षद्वीप में लगभग 12 उपद्वीप समूह है जिनमें शामिल है अगत्ती, अमीनी, कवारत्ती, मिनिकॉय, किल्टन, आंड्रोट, बंगाराम, बित्रा, चेटलत, कदमत, और कल्पेनी। बित्रा इनमें सबसे छोटा उपद्वीप है। यह क्षेत्र आकर्षक समुद्र तटों और हरे-भरे परिदृश्य के लिए जाना जाता है। रेतीले समुद्र तट, वनस्पतियों और जीवो की प्रचुरता पर्यटन की दृष्टि से इस क्षेत्र को और उपयोगी बनाती है। कवारत्ती लक्षद्वीप समूह की राजधानी और लक्षद्वीप समूह का प्रमुख राज्य है।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

चिकित्सा पद्धति कोई भी हो लक्ष्य मात्र मानव कल्याण हो

विगत कुछ दिनों से देश में आयुर्वेद बनाम ऐलोपैथी की जंग छिड़ी हुई है। बाबा रामदेव के एक बयान का इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने पुरजोर विरोध किया है। हालांकि बाबा रामदेव ने अपना बयान वापस ले लिया है परन्तु फिर भी बात आईएमए द्वारा बाबा पर एक हजार करोड़ रुपए की मानहानि के दावे के साथ-साथ न्यायालय का दरवाजा खटखटाने से लेकर देशद्रोह के आरोपों तक पहुंच गई है।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

उत्तर प्रदेश की कयासबाजी पर पटाक्षेप

कहा जा रहा है कि योगी को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने बचाया है। वैसे भी योगी जी जिस तरह की राजनीति कर रहे हैं, जैसे प्रशासनिक फैसले ले रहे हैं, वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की वैचारिक राजनीतिक के करीब पड़ता है। यूं भी भारतीय जनता पार्टी के जितने भी मुख्यमंत्री हैं, उनमें सिर्फ योगी ही ऐसे हैं, जिनकी पूरे देश में पहचान है। यही वजह है कि उन्हें त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल से लेकर केरल तक में चुनाव प्रचार में भेजा जाता है और वहां भारी भीड़ जुटती है। उन्हें देश का एक बड़ा वर्ग भाजपा के भावी नेतृत्वकर्ता के रूप में भी देखता है। कुछ राजनीतिक जानकारों का कहना है कि उत्तर प्रदेश जैसे बेपटरी राज्य की व्यवस्था को चलाना अगर संभव हो पा रहा है तो उसकी बड़ी वजह योगी जी की अक्रवड़ शैली भी है।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

कोविड महामारी और भारतीय नवाचार

भारत के स्टार्टअप्स विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए-नए नवाचार के साथ अपनी मिसाल कायम कर रहे हैं। कोविड-19 की दूसरी लहर के खिलाफ जंग में भी ये स्टार्टअप्स अपना पूरा योगदान दे रहे हैं। इसी श्रृंखला की कड़ी में मुंबई के एक स्टार्टअप ने बहुत ही महत्पूर्ण अविष्कार किया है। मुंबई स्थित स्टार्टअप इंद्रा वाटर ने एक पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट विकसित किया है। यह एन 95 मास्क, कोट, दस्ताने और गाउन से बीमारी पैदा करने वाले सार्स-कोव-2 वायरस के किसी भी संभावित निशान को मिटा देती है।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

उत्तरप्रदेश में भाजपा के रामबाण बने रामभक्त योगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना नियंत्रण में योगी के द्वारा उठाए गए कदमों और त्वरित कार्यवाही के लिए योगी की भारी सराहना करते रहे हैं। न सिर्फ हिंदुस्तान में बल्कि पूरी दुनिया ने योगी के समर्पित भाव से कोरोना नियंत्रण के लिए रात-दिन एक करके जो प्रयास किए हैं उनकी भारी प्रशंसा की है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन और इलाहाबाद हाई कोर्ट द्वारा की गई टिप्पणी से योगी की लोकप्रियता और भी अधिक बढ़ गई है। जनता में उनके प्रति उनका कार्य देखकर विश्वास और भी गहरा हुआ है।

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को हिंदू-मुस्लिम रंग देने की शरारत

इस बहाने मोदी को औरंगजेब, हिटलर और तालिबानी कहना सहनशीलता की पराकाष्ठा

1 min read
Uday India Hindi
June 13, 2021
RELATED STORIES

5 Ways To Jazz Up Your Résumé!

Jobless? An updated CV is your key to returning to the workforce

3 mins read
New Idea
May 31, 2021

Science of Us: Katie Heaney

The Clock-Out Cure – For those who can afford it, quitting has become the ultimate form of self-care.

6 mins read
New York magazine
May 10 - 23, 2021

How A Job Title Can Shape Our Identity

How a job title can shape our identity

10+ mins read
FHM Magazine South Africa
April 2021

Better Skills Can Mean Better Pay

Move over shares and property. Improving your qualifications can be your most rewarding investment.

5 mins read
Money Magazine Australia
May 2021

A Healthy Workplace

Sometimes, getting ahead in your career isn’t just about technical skills and knowledge. It’s about having a good working relationship with your boss, too...

5 mins read
True Love
September 2020

WE ARE THE CHANGE

Chief Creative Officer of Wallcano www.wallcano.com

1 min read
Creative Gaga
Issue 50

The AI Revolution Is Coming: Here's How To Future -Proof Your Career

Robots are coming for your job. Not only yours, but another 20 million jobs around the world over the next 10 years. That’s how media outlets reported on the results of a 2019 paper released by global forecaster Oxford Economics. If you think that sounds rather dystopian, wait until your anxiety-fuelled googling brings up news headlines claiming it’s actually 800 million jobs – not a meagre 20 mill – that will be eliminated by robots by the time 2030 hits.

5 mins read
Women's Health Australia
March 2020

Coronavirus Outbreak - Cricketers Who Can Be Quarantine Partners

Over time, he has found it difficult against the likes of Adil Rashid and Adam Zampa...

2 mins read
Cricket Today
March 27, 2020

FOMO Or JOMO?

By giving in to fomo, we waste not just huge amounts of emotional energy, but time too.

7 mins read
The CEO Magazine - ANZ
April 2020

Making Moonlighting Work

Starting a side hustle could help you bring more money in or make inroads towards a career change. But if you’re not aware of the legal ramifications, it could see you losing your main job

4 mins read
True Love
March 2020