हमेशा से अपने होने का अर्थ ढूंढती रही नारी
Sarita|October First 2021
भारत की नारियों ने हमेशा अपने होने का अर्थ ढूंढ़ना चाहा है, पर इस पुरुष समाज ने उसे अपनी इच्छाओं के नीचे दबा कर रखा. आखिर एक नारी भी अपने मन में सपने संजोती है, उन्हें पूरा करना चाहती है, किसी का हक नहीं बनता कि उस के सपनों को दबाए.
डा. अनीता सहगल वसुंधरा

किस रूप में साधना करूं तुम्हारी, हर रूप में श्रद्धेय लगती हो, नींव बन कर सहती हो सबकुछ, पर आधार पुरुष को दे जाती हो, हर पल बन कर परछाई नर की, तुम अस्तित्व अपना खो देती हो, हर मन में, हर पल में, खुद को त्याग कर, तुम खुद को जला जाती हो.

भारत की नारी' नाम सुनते ही हमारे सामने प्रेम, करुणा, दया, त्याग और सेवासमर्पण की मूर्ति अंकित हो जाती है. हम समझते हैं कि नारी के व्यक्तित्व में कोमलता और सुंदरता का संगम होता है, वह तर्क नहीं भावना से जीती है, इसलिए उस में प्रेम, करुणा, त्याग आदि के गुण अधिक होते हैं और इन सब की सहायता से वह अपना तथा अपने परिवार का जीवन सुखमय बनाती है.

किंतु महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों की घटनाएं स्त्री जीवन के उस मरूस्थल को प्रतिबिंबित करती हैं जो सदियों से घटती रही हैं और हमारा यह सोचना कि नारी न तो परेशान होती है और न ही हार मानती है, उसे कचोटता रहता है जो एक प्रतिकार के रूप में उस के मन से बाहर नहीं आ पाता, क्योंकि यह कहीं न कहीं नारी के उस रूप, जिसे हम ममता, प्यार, वात्सल्य से परिपूर्ण पाते हैं, के रास्ते की रुकावट बन जाता है.

महिला अपनी आंखों में ढेर सारे सपने बुनती है, जो पूरी तरह मृगमरीचिका की तरह होते हैं. वहां पहुंचने की उस की मेहनत उसे अंत में भी प्यासे रह जाने की तड़प दे जाती है और भविष्य से जुड़े उस के तमाम सपने उस की योग्यता की अनदेखी कर उसे एक नारी होने का एहसास दिलाते हैं.

उस की आत्मनिर्भरता तो छोड़िए, वह अपने होने का ही अर्थ आज तक नहीं ढूंढ़ पाई है. इस तलाश में वह पूरी जिंदगी भागती रहती है कभी किसी के लिए, कभी किसी के लिए, क्योंकि लगता है कि नारी का जन्म ही खुद के लिए नहीं, बल्कि दूसरों के लिए होता है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

पुरातनी अहंकार पर किसान विजयी

अगर उलटा हुआ होता यानी किसानों ने अपना आंदोलन वापस ले लिया होता तो तय है उठाने वाले देश सिर पर उठा लेते, जगहजगह पटाखे फोड़े जा रहे होते, , गुलालअबीर उड़ रही होती, मिठाइयां बांटी जा रही होतीं, जुलूस निकल रहे होते, जश्न मन रहे होते और कहा यह जाता कि देखो, मोदी की एक और जीत, फर्जी किसान मुंह छिपा कर भाग गए, राष्ट्रद्रोही ताकतों ने घुटने टेक दिए और देश एक बार फिर टूटने से बच गया.

1 min read
Sarita
December First 2021

रक्ष

रक्ष एक कपड़े को कस कर दबोचे सो रहा था. इसे देख राघव की आंखों में आंसू आ गए और एक क्षणभंगुर विचार उस के दिमाग में कौंध गया कि रक्ष क्या उस के पिता की गंजी पकड़ कर सो रहा है या उन का असीमित स्नेह रक्ष को पकड़े है. आखिर रक्ष का बाबूजी से रिश्ता कैसा था.

1 min read
Sarita
December First 2021

एमिल की सोफी

महिला की वैज्ञानिक चेतना को अवरुद्ध कर पुरुष समाज उसे एमिल की सोफी बनाए रखना चाहता है. इसी अवधारणा को धर्म भी किसी न किसी माध्यम से बड़ी ही चालाकी से साकार करता आ रहा है.

1 min read
Sarita
December First 2021

धूमावती

36 साल की आयु में 25 साल की लगने वाली हेमा को देख ब्रांच मैनेजर प्रभास की आंखों की चमक देखते ही बनती थी. दोनों एकदूसरे की ओर आकर्षित हो चुके थे. हेमा की सीधेसादे पति तरुण में अब जरा भी दिलचस्पी नहीं थी. क्या प्रभास पत्नी मेघना के हाथों में बंधी डोर तोड़ सका.

1 min read
Sarita
December First 2021

महिला विमर्श हिंदू धर्म, आरएसएस और कांग्रेस

कांग्रेस महिला विमर्श के मसले पर सच में संवेदनशील दिखाई दे रही है या चुनावी जमीन तैयार कर रही है, यह बाद में पता चलेगा, पर उत्तर प्रदेश में महिलाओं को 40 प्रतिशत सीटें देने और महिला कांग्रेस दिवस पर राहुल गांधी का महिलाओं के नाम आरएसएस पर बेबाक बयान, बहुतकुछ इशारा करता है.

1 min read
Sarita
December First 2021

कमर्शियल गैस के बढ़ते दाम ताबे और मजदूरों पर महंगाई की मार

'बहुत हुई महंगाई की मार, अब की बार...' यह नारा याद है न. यह नारा आज लोगों की मुसीबत बन गया है. हर चीज के दाम बढ़े हैं, नई मार कमर्शियल गैस पर पड़ी है. क्या आप जानते हैं कमर्शियल गैस के दाम बढ़ने से किन पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है?

1 min read
Sarita
December First 2021

खिलौने बदल दें लड़कियां बदल जाएंगी

बेटियों को घिसेपिटे खिलौने मिलेंगे तो वे हमेशा दब्बू बनी रहेंगी. आत्मविश्वासी और साहसी बनाने के लिए 6 महीने बाद ही कौन से सही खिलौने दें, जानें.

1 min read
Sarita
December First 2021

अमीरों से रिश्ते कैसे निभाएं

अमीरी और गरीबी समाज का सत्य है. समाज को छोड़िए, परिवार के भीतर तक में यह अंतर होता है. एक की आर्थिक स्थिति अच्छी होती है तो दूसरे की बेहद खराब होती है. दोस्तों में भी ऐसा संभव है.

1 min read
Sarita
December First 2021

अंधकार मन से दूर केरो

मुझे रातें पसंद हैं पर, ऐसा नहीं कि अंधेरा मेरी जिंदगी का हिस्सा हो...

1 min read
Sarita
December First 2021

5 साल से रिस रहा है नोटबंदी का घाव

नोटबंदी हुए 5 साल बीत चुके हैं. 50 दिन का समय मांगते प्रधानमंत्री मोदी को जनता ने 5 साल दे दिए, पर आज भी सभी के दिमाग में कई सवाल घूम रहे हैं कि आखिरकार नोटबंदी से क्या फायदा हुआ? क्या कालाधन आया? क्या आतंकवाद व नक्सलवाद खत्म हुआ? क्या देश की अर्थव्यवस्था बढ़ी? अगर नहीं, तो यह जनता पर क्यों थोपी गई?

1 min read
Sarita
December First 2021
RELATED STORIES

Camoufleurs And the Art of War

Artists use optical illusions to win wars and save lives.

6 mins read
Muse Science Magazine for Kids
January 2022

THE ANIMAL-HUMAN CONFLICT

RAJESH MENON is a wildlife photographer and environmental conservationist living in North India. Here he shares some ideas for solutions to the animalhuman conflicts that are apparent in all regions of the world today.

4 mins read
Heartfulness eMagazine
January 2022

Passion and Love for Community

Dr. Prakash Tyagi is the executive director of Gramin Vikas Vigyan Samiti (GRAVIS), an NGO dedicated to working in impoverished rural regions of India, including the Thar desert, Rajasthan, Uttarakhand, and Bundelkhand. In part 2 of this interview with Kashish Kalwani, he speaks about how things have changed due to the pandemic and the importance of passion and love for community.

3 mins read
Heartfulness eMagazine
January 2022

Modern Vinyasa FOR THE MASSES

Teacher Calvin Corzine brings a functional yet challenging approach to yoga with an emphasis on making everyday movement easier.

7 mins read
Yoga Journal
January - February 2022

India Is on a Tear

Massive modernization presents opportunities for investors.

5 mins read
Kiplinger's Personal Finance
February 2022

The U.S. Is Falling Behind on Women's Rights

With the Supreme Court poised to restrict access to abortion, the nation takes another step backward

5 mins read
Bloomberg Businessweek
December 13, 2021

Love, Non-violence, and Truth

DR. PRAKASH TYAGI is the Executive Director of Gramin Vikas Vigyan Samiti (GRAVIS), an NGO dedicated to working in impoverished rural regions of India, including the Thar Desert, Rajasthan, Uttarakhand, and Bundelkhand. In part 1 of this interview with KASHISH KALWANI, he speaks about applying the Gandhian principles of love, non-violence, and truth to support communities in need.

6 mins read
Heartfulness eMagazine
December 2021

WISDOM FROM MY FATHER

The tempo 1 was ready to depart. It was a short 30-minute journey from Bhatkal to Uppunda, a sleepy village in coastal Karnataka, India. My father, sister, and I were traveling together.

4 mins read
Heartfulness eMagazine
December 2021

GM's Exit From India Hits a Roadblock

The long-delayed sale of its plants to a Chinese company faces local labor and political opposition

5 mins read
Bloomberg Businessweek
November 22 - 29, 2021

Self- acceptance

ELIZABETH DENLEY has been a student of both science and spirituality all her life. Trained as a scientist, she turned her field of inquiry and research skills to the field of meditation and spirituality after starting the Heartfulness practices in the late 80s. Here she shares some thoughts on the importance of selfacceptance.

6 mins read
Heartfulness eMagazine
November 2021