भिक्षावृत्ति महानवृत्ति
Sarita|October First 2021
कहने को यह देश युवाओं का है, यहां 65 प्रतिशत युवा रहते हैं पर असल में यह बूढ़ों और भिखारियों की संस्कृति का देश बन चुका है. यहां जवानी पैदा नहीं होती, बल्कि जवान होने से पहले ही युवाओं को बूढ़ा कर दिया जाता है. ऐसे में फिर कैसे महान बना जा सकता है?
मदन कोथुनियां

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक राष्ट्रीय न्यूज चैनल को इंटरव्यू दिया था. उस में बड़ी बेशर्मी के साथ कहते नजर आए कि 'आप को यह जान कर हैरानी होगी कि मैं ने 35 साल भिक्षा मांग कर खाया है.' जैसे भिक्षा मांगना इंटरनैशनल महान कार्य किया हो.

इस देश में भीख मांगने को सदा उच्च माना गया है, आदरणीय माना गया है. कई धर्मग्रंथों में लिखा है कि ब्राह्मणों को भिक्षा देना पुण्य का कार्य है.

ब्राह्मणों के छोटेछोटे बच्चों को शास्त्रों का हवाला दे कर भिक्षावृत्ति में धकेला गया. उन को बताया गया कि तुम्हारे ऋषिमुनि, महात्मा भी भिक्षा मांग कर जीवनयापन करते थे, इसलिए वे महान थे. इस महान संस्कृति को आगे बढ़ाना तुम्हारा कर्तव्य है. यही कारण है कि आज बेशर्मी के साथ मांगने की वृत्ति रगरग में समा गई है.

साल 1962 में चीन में त्रासदी आई. ब्रिटेन के एनजीओ ने राहत सामग्री से भरा जहाज भेजा था. चीन के लोगों ने उस जहाज पर यह लिख कर वापस कर दिया कि भूखों मर जाएंगे मगर भीख स्वीकार नहीं करेंगे. ब्रिटेन की संसद में 31 मई 1962 में एम पी नोएल बेकर की अपील पर प्रधानमंत्री ने कहा था कि चीन ने बाहर से बड़े पैमाने पर खाद्यान्न खरीदा है और शायद वे सहायता न लें.

भारत में इस तरह मदद पहुंचती तो जहाज के कैप्टन का मालाओं से स्वागत होता, पंडितजी स्वागत में नारियल फोड़ते. हम बेशर्म लोग हैं. हम ने भीख को आत्मसात कर के, आदर दे कर इस को महान संस्कृति का स्वरूप दे दिया है.

आज 10-12 साल के बच्चे तिलक लगा कर, चोटी बना कर पंडालों में प्रवचन देते हैं कि जीवन के आवागमन से मुक्ति का रास्ता कैसे प्राप्त किया जा सकता है, मोक्ष कैसे मिलेगा. जिंदगी की दहलीज पर कदम रखा है अभी और अभी से ही मौत पर निशाना. जवानी तो दूर की बात है, अभी तो बचपन भी नहीं जिया, उस से पहले ही बूढ़े हो गए, बूढ़ों की सोच घर कर गई.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

पुरातनी अहंकार पर किसान विजयी

अगर उलटा हुआ होता यानी किसानों ने अपना आंदोलन वापस ले लिया होता तो तय है उठाने वाले देश सिर पर उठा लेते, जगहजगह पटाखे फोड़े जा रहे होते, , गुलालअबीर उड़ रही होती, मिठाइयां बांटी जा रही होतीं, जुलूस निकल रहे होते, जश्न मन रहे होते और कहा यह जाता कि देखो, मोदी की एक और जीत, फर्जी किसान मुंह छिपा कर भाग गए, राष्ट्रद्रोही ताकतों ने घुटने टेक दिए और देश एक बार फिर टूटने से बच गया.

1 min read
Sarita
December First 2021

रक्ष

रक्ष एक कपड़े को कस कर दबोचे सो रहा था. इसे देख राघव की आंखों में आंसू आ गए और एक क्षणभंगुर विचार उस के दिमाग में कौंध गया कि रक्ष क्या उस के पिता की गंजी पकड़ कर सो रहा है या उन का असीमित स्नेह रक्ष को पकड़े है. आखिर रक्ष का बाबूजी से रिश्ता कैसा था.

1 min read
Sarita
December First 2021

एमिल की सोफी

महिला की वैज्ञानिक चेतना को अवरुद्ध कर पुरुष समाज उसे एमिल की सोफी बनाए रखना चाहता है. इसी अवधारणा को धर्म भी किसी न किसी माध्यम से बड़ी ही चालाकी से साकार करता आ रहा है.

1 min read
Sarita
December First 2021

धूमावती

36 साल की आयु में 25 साल की लगने वाली हेमा को देख ब्रांच मैनेजर प्रभास की आंखों की चमक देखते ही बनती थी. दोनों एकदूसरे की ओर आकर्षित हो चुके थे. हेमा की सीधेसादे पति तरुण में अब जरा भी दिलचस्पी नहीं थी. क्या प्रभास पत्नी मेघना के हाथों में बंधी डोर तोड़ सका.

1 min read
Sarita
December First 2021

महिला विमर्श हिंदू धर्म, आरएसएस और कांग्रेस

कांग्रेस महिला विमर्श के मसले पर सच में संवेदनशील दिखाई दे रही है या चुनावी जमीन तैयार कर रही है, यह बाद में पता चलेगा, पर उत्तर प्रदेश में महिलाओं को 40 प्रतिशत सीटें देने और महिला कांग्रेस दिवस पर राहुल गांधी का महिलाओं के नाम आरएसएस पर बेबाक बयान, बहुतकुछ इशारा करता है.

1 min read
Sarita
December First 2021

कमर्शियल गैस के बढ़ते दाम ताबे और मजदूरों पर महंगाई की मार

'बहुत हुई महंगाई की मार, अब की बार...' यह नारा याद है न. यह नारा आज लोगों की मुसीबत बन गया है. हर चीज के दाम बढ़े हैं, नई मार कमर्शियल गैस पर पड़ी है. क्या आप जानते हैं कमर्शियल गैस के दाम बढ़ने से किन पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है?

1 min read
Sarita
December First 2021

खिलौने बदल दें लड़कियां बदल जाएंगी

बेटियों को घिसेपिटे खिलौने मिलेंगे तो वे हमेशा दब्बू बनी रहेंगी. आत्मविश्वासी और साहसी बनाने के लिए 6 महीने बाद ही कौन से सही खिलौने दें, जानें.

1 min read
Sarita
December First 2021

अमीरों से रिश्ते कैसे निभाएं

अमीरी और गरीबी समाज का सत्य है. समाज को छोड़िए, परिवार के भीतर तक में यह अंतर होता है. एक की आर्थिक स्थिति अच्छी होती है तो दूसरे की बेहद खराब होती है. दोस्तों में भी ऐसा संभव है.

1 min read
Sarita
December First 2021

अंधकार मन से दूर केरो

मुझे रातें पसंद हैं पर, ऐसा नहीं कि अंधेरा मेरी जिंदगी का हिस्सा हो...

1 min read
Sarita
December First 2021

5 साल से रिस रहा है नोटबंदी का घाव

नोटबंदी हुए 5 साल बीत चुके हैं. 50 दिन का समय मांगते प्रधानमंत्री मोदी को जनता ने 5 साल दे दिए, पर आज भी सभी के दिमाग में कई सवाल घूम रहे हैं कि आखिरकार नोटबंदी से क्या फायदा हुआ? क्या कालाधन आया? क्या आतंकवाद व नक्सलवाद खत्म हुआ? क्या देश की अर्थव्यवस्था बढ़ी? अगर नहीं, तो यह जनता पर क्यों थोपी गई?

1 min read
Sarita
December First 2021