धर्म और भ्रम में डूबा रामदेव का कोरोना इलाज
Sarita|June First 2021
लड़ाई चिकित्सा पद्धतियों के साथसाथ पैसों और हिंदुत्व की भी है. बाबा रामदेव ने कोई निरर्थक विवाद खड़ा नहीं किया है, इस के पीछे पूरा भगवा गैंग है जिसे मरते लोगों की कोई परवा नहीं. एलोपैथी पर उंगली उठाने वाले इस बाबा की धूर्तता पर पेश है यह खास रिपोर्ट.
भारत भूषण श्रीवास्तव और शैलेंद्र सिंह

धंधा है चंगा,

स्वामी है नंगा,

जो जी गया,

वह तर गया,

मरे को लील गई गंगा,

कोई न ले पंगा.

गुजराती लेखिका पारुल खक्कर की कविता 'शव वाहिनी गंगा' से प्रेरित उपरोक्त पंक्तियां आज की कोविड की स्थिति को पूरी तरह से दर्शाती हैं. बात सितंबर 2020 से शुरू करते हैं जब मेरठ में एक लौकेट धड़ल्ले से बिक रहा था. चर्चा यह थी कि उस को पहनने से कोरोना वायरस पास नहीं फटकता और उस के 2 मीटर के दायरे में आए तो मर जाता है. मेरठ के खैरनगर इलाके में सर्जिकल आइटम बेचने वालों के पास आम और खास लोग इस चमत्कारी लौकेट को खरीदने टूटे पड़ रहे थे. चीन में बना यह लौकेट कई सरकारी अधिकारियों के गले में घड़ी के पैंडुलम की तरह लटका था. और तो और भाजपा सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने भी इसे पहना था.

जब हल्ला ज्यादा मचने लगा तो इस लौकेट की जांच हुई. जांच में यह बात सामने आई कि इफरात से बिक रहे इन लौकेटों में एक कैमिकल क्लोरीनडाईऑक्साइड का पाउडर भरा गया है जो आमतौर पर पानी साफ करने में इस्तेमाल किया जाता है. तब आईएमए के एक पदाधिकारी ने बताया था, 'कैमिकल बैक्टीरियानाशक है जिस से कोरोना वायरस नष्ट नहीं होता, उलटे, उस के इस तरह इस्तेमाल से खुजली, कफ और सेहत संबंधी दूसरी समस्याएं पैदा हो सकती हैं.' मेरठ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाक्टर राजकुमार ने भी इसे फ्रौड करार दिया था.

गौरतलब है कि भाजपा सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने एमएससी फिजिक्स से किया है लेकिन इस का संबंध उन की अंधविश्वासी मानसिकता से जोड़ा जाना फुजूल की बात होगी क्योंकि देश के जो स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन गोयल ईएनटी के विशेषज्ञ हैं वे भी विज्ञान को शायद ही मानते हैं. कम ही लोग जानते हैं कि वे आधे एलोपैथिक और आधे आयुर्वेदिक डाक्टर हैं जो एलोपैथी में नाममात्र का ही भरोसा करते हैं, बल्कि उन के आदर्श तो आयुर्वेद के वर्तमान पितामह बाबा रामदेव हैं.

जगहजगह कोरोना भगाने वाले टोनोटोटकों और आयुर्वेदिक दवाइयों का प्रचारप्रसार हो रहा है. यह वही आयुर्वेद है जो बवासीर और भगंदर से ले कर कैंसर जैसी बीमारी तक का शर्तिया इलाज करने का दावा करता है. कोरोना की आपदा को पैसा बनाने के अवसर में बदलने में नीमहकीमों और वैद्यों ने कोई चूक नहीं की. कोरोना से ठीक होने के नाम पर तबीयत से काढ़े बेचे गए. सैकड़ों तरह के इम्यूनिटी बूस्टर लौंच किए गए. पूजापाठ व यज्ञहवन के कारोबार से भी बनाने वालों ने लाखों रुपए बनाए.

सब से ज्यादा चांदी काटी पतंजलि के कर्ताधर्ता योगगुरु के नाम से मशहूर कर दिए गए बाबा रामदेव ने, जिन्होंने एक 'चमत्कारी' दवा कोरोनिल पेश कर डाली. चीनी लौकेट और दूसरे उत्पादों की तरह कोरोनिल का भी कोई वैज्ञानिक या चिकित्सीय आधार नहीं है लेकिन इस के बाद भी ताबड़तोड़ प्रचार विज्ञापनों, अंधविश्वास की लहरों और सरकारी शह के दम पर 550 रुपए वाली यह किट खूब बिकी. इस का सेवन करने वाले बाद में जब अस्पतालों और एलोपैथी के डाक्टरों के चक्कर काटते नजर आए तो पोल खुलते देख बाबा न केवल झल्ला उठे बल्कि लड़खड़ा भी उठे. इसी लड़खड़ाहट में उन्होंने एक नया फसाद खड़ा कर दिया.

बढ़ता बाजार

पूजापाठ की आयुर्वेद का बाजार दिनोंदिन बढ़ रहा है इसलिए नहीं कि यह फायदेमंद, विश्वसनीय या प्रामाणिक है बल्कि इसलिए कि इस में मंदिरों, सी छवि है और इस बाबत किसी की जवाबदेही जरूरी नहीं है. फुटपाथों पर खानदानी वैद्यों से ले कर पतंजलि जैसी खरबों के टर्नओवर वाली कंपनी में कोई फर्क नहीं है. सभी अपनेअपने स्तर पर लूट रहे हैं जैसे गली के कोने के मंदिर या तिरुपति मंदिर के पंडेपुजारी लूटते हैं.

रामदेव धार्मिक अंधविश्वासों की होड़ बनाए रखने के लिए लगातार आयुर्वेद के बाजार को बढ़ाने के उपाय करते रहते हैं जो लोगों के रामकृष्ण वाले धर्म की पुष्टि करने का काम करता है. ये दोनों अंधविश्वास एकदूसरे के पूरक हैं और जनता को लूटते हैं.

कोरोनिल दवा विवादों में रहने के बाद भी 900 करोड़ रुपए का कारोबार कर गई. मजेदार बात यह है कि रामदेव को न किसी अस्पताल को बनाना पड़ा और न ही बैड व औक्सीजन की व्यवस्था करनी पड़ी. उन की तमाम दवाएं जड़ीबूटियों का घोल मात्र हैं. उन के पास न कोई प्रयोगशाला है, न कोई रिस्क, न ही घंटों का काम, उस पर दावा किया गया कि यह रिसर्च पर आधारित है. अगर रिसर्च पर आधारित है तो इस का अर्थ है कि इस का आधार चरक व सुश्रुत संहिता है ही नहीं बल्कि यह एलोपैथिक दवा है जो आयुर्वेद की तरह जम कर पैसा कमा रही है.

भारत में हैल्थ सैक्टर की सब से बड़ी कंपनी एलोपैथी में अपोलो हौस्पिटल है. इस की स्थापना 1993 में हुई थी. आज के समय में इस कंपनी का कारोबार 10,407 करोड़ रुपए सालना का है. करीब 27 साल की मेहनत व तमाम अस्पताल, बैड व दूसरी व्यवस्था करने के बाद अपोलो यहां पहुंच सका है. इस की तुलना 2006 की पतंजलि आयुर्वेद से करें तो पता चलता है कि पतंजलि का कारोबार 9,022 करोड़ रूपए सालाना तक पहुंच गया है.

अपोलो के मुकाबले पतंजलि 13 साल छोटी कंपनी है. लेकिन उस के मुनाफे में केवल 1 हजार करोड़ रुपए का ही अंतर है. इस की वजह यह है कि अपोलो को अस्पताल और दूसरे आधारभूत ढांचे को खड़ा करने में पैसों व समय का निवेश करना पड़ता है. पतंजलि को ऐसा कोई खास निवेश नहीं करना पड़ता, जिस की वजह से उस का मुनाफा अधिक है. परोक्षरूप से हर मंदिर, हर पुजारी, हर प्रवचनकर्ता रामदेव का प्रचारक है.

जब से रामदेव ने सीधे धर्म और भारतीय जनता पार्टी की सत्ता के साथ कदमताल करनी शुरू की, उन का मुनाफा दिन दूनी रात चौगुनी दर से बढ़ने लगा. 2006 से 2010 के बीच पतंजलि का सालाना कारोबार 100 करोड़ रुपए का था. 2012-13 में यह 1,184 करोड़ रुपए का हो गया. वह कांग्रेस सरकार का आखिरी साल था. तब रामदेव कांग्रेस का मुखर विरोध करते हुए कालाधन का विरोध करने के आंदोलन में भी शामिल हो चुके थे.

उन्होंने अन्ना हजारे के मुखौटे को अपने प्रचार के लिए इस्तेमाल किया. उस के बाद उन का झुकाव धर्म की राजनीति करने वाली भाजपा की ओर हो चला था. और तब से हर साल रामदेव की कंपनी पतंजलि अपने कारोबार व मुनाफे दोनों में जबरदस्त उछाल मार रही है. 2019 में पतंजलि का कारोबार 8,522 करोड़ रुपए का हो गया और 2020 में बढ़ कर यह 9,022 करोड़ रुपए तक पहुंच गया. जब लोग अंधविश्वासी होंगे तो ही वे अवैज्ञानिक दवाओं पर विश्वास करेंगे न, जैसे वे 'मंदिर वहीं था' पर विश्वास करते आए हैं.

कोरोना संक्रमण के दौरान भी उन की कंपनी की कोरोनिल दवा ने 900 करोड़ रुपए का कारोबार कर लिया. आयुर्वेद से संबंधित मैक्सीमाइज मार्केट रिसर्च के मुताबिक, भारत में आयुर्वेदिक दवाइयों का बाजार साल 2019 में तकरीबन 4.5 अरब डौलर का था जिस के 2026 तक 14.9 अरब डौलर तक पहुंचने की उम्मीद है. 2016 में हुए वर्ल्ड आयुर्वेदिक कांग्रेस के कोलकाता सम्मेलन में यह आंकड़ा लगभग 2 अरब डौलर का आंका गया था.

कोरोनाकाल में आयुर्वेदाचार्यों ने कोरोना की एबीसीडी न जानते हुए भी इस की दवाइयां पेश कर डालीं क्योंकि एलोपैथी निश्चिततौर पर कोरोना का इलाज नहीं बता पा रही थी. जो झूठ न बोले वही विज्ञान होता है और जो झूठ बोल कर छलकपट से लोगों को उल्लू बना कर पैसा बनाए वह निश्चितरूप से धर्म होता है. अब इसी थ्योरी पर चलते आयुर्वेद का बाजार दिनोंदिन बढ़ रहा है. यह चिंता की बात तो है लेकिन इस से ज्यादा चिंता व एतराज की बात आयुर्वेद की आड़ में ठगी और ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाने के लिए एलोपैथी को कोसना, उस की विश्वसनीयता पर उंगली उठाना है और अंधभक्तों को बहका कर मौत के मुंह में ले जाना है. यह कभी पता नहीं चल पाएगा कि कितने लोगों ने मुफ्त में इलाज न कर के आयुर्वेदिक इलाज किया और हालत बिगड़ने पर अस्पताल पहुंचे और तब तक बहुत देर हो चुकी थी.

बेमकसद नहीं बवंडर

यह विज्ञान को कठघरे में खड़ी करने की भी साजिश है. धर्म के ठेकेदार सदियों से कहते रहे हैं कि जो 200 साल पहले कह दिया गया वही अंतिम सत्य है. अंदरखाने की बात यह भी है कि रामदेव ने फसाद ऐसे वक्त में खड़ा किया जब औक्सीजन की कमी से हुई मौतों को ले कर नरेंद्र मोदी की सरकार गुनाहगार ठहराई जा चुकी थी. ऐसे में यह कहना कि मौतें एलोपैथी की दवाइयों की वजह से हुईं, दरअसल, यह भगवा गैंग की साजिश है कि लोगों में यह मैसेज जाए कि औक्सीजन का इंतजाम तो था लेकिन एलोपैथी की दवाओं पर उन का वश नहीं था जो एलोपैथी के डाक्टर मरीजों को जबरन खिला रहे थे.

रामदेव के बयान से शर्मसार भारत

कोरोनिल दवा के प्रचार में केंद्र सरकार के 2 मंत्री उस के लौंच के समय रामदेव के साथ मंच पर थे. वैसे 'केरोनिल' नाम का एक कंपाउंड चेन्नई की एक कंपनी 20 साल से ज्यादा समय से बना रही है पर वह इंडस्ट्रियल क्लीनर है, दवा नहीं. वह कंपनी ट्रेडमार्क को ले कर विवाद में है. मद्रास उच्च न्यायलय ने फिलहाल बिना अंतरिम राहत दिए उक्त कंपनी के मामले को दूसरी बैंच को भेज दिया है. उस मामले में पतंजलि ने स्वीकार किया कि 14 जून, 2020 को स्वामी रामदेव, जोकि ट्रस्टी हैं, ने दावा किया था कि कोरोना वायरस का क्योर कोरोनिल मैडिसिन के इन्वेंशन के साथ पा लिया गया है. रामदेव का यह दावा अब धूल खा रहा है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

पश्चिम परेशान चढ़ता चीन

चीन से निकले कोरोना वायरस की दहशत ने दुनिया का चक्का जाम कर रखा है. कामधंधे ठप हैं, व्यापार चौपट हैं और लगभग हर देश अपनी डूबती अर्थव्यवस्था को ले कर चिंतित है. मगर आश्चर्यजनक रूप से चीन ने न सिर्फ कोरोना पर पूरी तरह काबू पा लिया बल्कि 2021 की पहली तिमाही में उस की अर्थव्यवस्था ने गजब का उछाल दर्ज किया है. दुनिया को पीछे छोड़ती चीन के विकास की बुलेट ट्रेन जिस रफ्तार से भाग रही है उस ने अमेरिका और यूरोप की चिंता बढ़ा दी है. भारत तो अब कहीं है ही नहीं.

1 min read
Sarita
July First 2021

औनलाइन श्रद्धांजलि

अब जब औनलाइन श्रद्धांजलि का चलन बढ़ ही गया है तो इस के नियम-कानून भी तय कर ही लिए जाने चाहिए. कब, कैसे, कितना, कहां, क्या बोलना है, यह पता होना चाहिए. कहीं ऐसा न हो कि पैर पटक कर जाने की नौबत आ जाए.

1 min read
Sarita
July First 2021

आईएएस अफसरों का दर्द

भ्रष्टाचार को सहज ढंग से लेने की मानसिकता दरअसल एक साजिश है जिस का विरोध एक आईएएस अधिकारी ने किया तो उसे तरहतरह से प्रताड़ित किया गया ताकि भविष्य में कोई दूसरा आपत्ति न जताए. पेश है खोखली होती प्रशासनिक व्यवस्था का सच बयां करती यह खास रिपोर्ट.

1 min read
Sarita
July First 2021

दिमाग स्वस्थ तो आप स्वस्थ

2019 के बाद मानव जीवन पूरी तरह से बदला है.व्यवहार, दिनचर्या और बातचीत का तरीका पूरी तरह से बदल गया है. ऐसे में लोगों को कई तरह की दिक्कतों को झेलना पड़ रहा है, जिन का सामना हमें अपने मजबूत दिमाग से करना है.

1 min read
Sarita
July First 2021

दलितपिछड़ा राजनीति घट रही आपसी दूरियां

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव की तैयारियों में जुटने लगी हैं, बंद कमरों में गुप्त मीटिंगें हो रही हैं, कुछ के आंतरिक कलह खुल कर सामने भी आने लगे हैं. इस बीच जमीन पर जनता क्या सोच रही है, उस का क्या मूड है, जानने के लिए पढ़ें यह ग्राउंड रिपोर्ट.

1 min read
Sarita
July First 2021

"समाज में एलजीबीटी समुदाय को ले कर जो टैबू है उसे बदलने का प्रयास है हमारी यह फिल्म" अंशुमन झा

'लव, सैक्स और धोखा' और 'नो फादर इन कश्मीर' जैसी फिल्मों में ऐक्टिग कर चुके अंशुमन अब अपनी फिल्म 'हम भी अकेले तुम भी अकेले' ले कर आए हैं. फिल्म एलजीबीटी समुदाय को केंद्र में रख कर बनाई गई है.

1 min read
Sarita
July First 2021

बरोजगारी का गहराता संकट

देश में करोड़ों लोग इस समय बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं. कइयों की घर में भूखे मरने की नौबत आ गई है और कई गहरे अवसाद में जी रहे हैं. बढ़ती बेरोजगारी भारत के लिए बड़ी चिंता का विषय है, यदि इस समय इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो अर्थव्यवस्था का वापस जल्दी पटरी पर आना बेहद मुश्किल होने वाला है.

1 min read
Sarita
July First 2021

इसराईल-फिलिस्तीन युद्ध धर्म के हाथों तबाह मध्यपूर्व एशिया

इसराईल और फिलिस्तीन का सारा झगड़ा धर्म, वर्चस्व, जमीन हथियाने आदि के इर्दगिर्द है. यहूदी और मुसलमान जिन के धर्म का मूल स्रोत एक ही है, बावजूद इस के दोनों एकदूसरे की जान के प्यासे हैं. दुनिया में धर्म ही हर फसाद की जड़ है. धर्मयुद्धों ने पूरे मध्यपूर्व एशिया को तबाह कर डाला है.

1 min read
Sarita
June Second 2021

बढ़ती आत्महत्याएं गहराती चिंताएं

सरकार ने जनता को विध्वंस के कगार पर खड़ा कर दिया है. चारों ओर डर व दहशत का माहौल है.अर्थव्यवस्था चकनाचूर है. लोगों की नौकरियां छिन गई हैं. इस विध्वंस से जन्मी घनघोर निराशा व अवसाद के चलते आत्महत्या की घटनाएं तेजी से बढ़ने लगी हैं जो देश को गहराते अंधकार की तरफ धकेलती जा रही हैं.

1 min read
Sarita
June Second 2021

वैधानिक चेतावनी तंबाकू का खतरा

तंबाकू के सेवन से होने वाली कुल मौतें, स्तन कैंसर, एड्स, सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली कुल मौतों से भी अधिक हैं. 69 तरह के कैंसर तंबाकू के सेवन से हो सकते हैं. आज कोरोना महामारी पर सभी चिंतित हैं लेकिन तंबाकू जैसी पुरानी महामारी से नजात पाना भी तो जरूरी है.

1 min read
Sarita
June Second 2021
RELATED STORIES

Contentment - THE ART OF REMOVING AND CREATING HABITS

DAAJI continues his series on refining habits, in the light of Patanjali’s Ashtanga Yoga and current scientific and yogic principles and practices. Last month, he explored the first Niyama of purity, shaucha. This month he shares his insights on that pivotal human quality – contentment, which is known in Yoga as santosh.

10+ mins read
Heartfulness eMagazine
August 2021

Apple iMac 24–inch (2021)

The all–new iMac 24–inch is an incredible machine to behold, but it has some limitations

10+ mins read
Mac Life
July 2021

How Learning Bharatanatyam Classical Dance Helped Expand My Understanding of Yoga

Before last spring, I had a well-established yoga routine: my own daily practice, teaching three classes a week at a nearby community center, and a volunteer gig teaching inmates at the Ottawa-Carleton Detention Centre.

5 mins read
Yoga Journal
July - August 2021

Dancing with Fire: Flow through Pitta Season's Heat with Ease

According to Ayurveda, we're in pitta season, which brings warmth and activity. The summer's fiery energy fuels your desire to get out there and do things—like picnics, camping, and pool parties.

5 mins read
Yoga Journal
July - August 2021

Ayurveda Can Teach Us to Tend to Our Own Health — and the Earth's

It’s winter and a year into a pandemic, and I’m talking from my home in Boston via Skype with a doctor in Secunderabad, India—not for a diagnosis of any one illness, but about the precarious health of both individuals and the world.

8 mins read
Yoga Journal
July - August 2021

All–new iMac is here!

Slim, stylish, next–gen iMac with Apple silicon

7 mins read
Mac Life
June 2021

24-Inch M1 iMac – How To Pick The Perfect Preorder

Here’s our guide to help you buy the one you need.

7 mins read
Macworld
June 2021

24-Inch M1 iMac

New colors, new chip, and much, more

3 mins read
Macworld
June 2021

4 Herbal Tonics to Rejuvenate Your Health

Address imbalances in your body with these quick and easy healing waters made with dried herbs.

2 mins read
Better Nutrition
April 2021

Longisquama

“Determined to travel from the North Pole to the South Pole, Amos Barrett and his team of adventurers have arrived in the Late Triassic to drive the length of Pangea, the only time in the planet’s history when the continents had fused into one giant landmass.

10+ mins read
Prehistoric Times
Winter 2021 #136