धर्म और राजनीति के वार रिश्ते तारतार
Sarita|May First 2021
धर्म और राजनीति हमेशा से इंसान व समाज पर गहरा प्रभाव डालते रहे हैं. कभीकभी इन की प्रस्तुति मिथ्या के कारण भारी विवाद पैदा होते रहे हैं. लेकिन आपसी रिश्तों में भी जब धर्म और राजनीति का दखल अधिकाधिक घुसपैठ करने लगे तो क्या परिणाम निकल कर आते हैं, जानें इस खास रिपोर्ट में.
पूनम अहमद

मधु और अंजू की दोस्ती 7 साल से ऐसी थी कि दोनों हर सुखदुख में एकसाथ होती व मन की हर बात एकदूसरे से शेयर करतीं. दोनों रहती भी एक ही सोसाइटी में थीं. 2 वर्ष पहले मधु के पति की अचानक मृत्यु हो गई. अंजू तब मधु का और भी ध्यान रखने लगी. उस की हर जरूरत के समय हाजिर रहती.

मधु और अंजू दोनों अच्छी दोस्त जरूर थीं पर दोनों के सोचने का ढंग एकदूसरे से बिलकुल मेल नहीं खाता था. जहां मधु हर बात में धर्म और राजनीति में गहरी रुचि रख कर बात करती, वहीं अंजू विवेक से काम लेने वाली, तर्कसंगत बातों को सोचने वाली थी. मधु की कई बातें अंजू को पसंद न आतीं पर एक अच्छी दोस्त होने के नाते वह मधु की काफी बातों को इग्नोर कर देती.

जब से मधु के पति की मृत्यु हुई थी, मधु अपनी हैल्थ के प्रति काफी लापरवाह होती जा रही थी. एक दिन अंजू ने डांटा, "तुम्हे शुगर है, डायबिटीज है, न तो टाइम से सो रही हो, न टाइम से खा रही हो, न कहीं सैर के लिए जाती हो. आखिर करती क्या हो पूरा दिन?"

"नींद नहीं आती, फोन पर वीडियोज देखती रहती हूं," मधु ने गंभीरतापूर्वक कहा.

अंजू को उस से सहानुभूति हुई. उस ने कहा, "टाइम से सोने की कोशिश किया करो. धीरेधीरे नींद आने लगेगी.

एक बात और थी कि अंजू और मधु अलगअलग राजनीतिक पार्टी को सपोर्ट करती. अंजू समझ चुकी थी कि मधु अपने सामने कोई भी तर्क या विचार नहीं सुनना चाहती, इसलिए वह कभी अब पौलिटिक्स की बात मधु से न करती. अंजू ने पूछ लिया, “पर कौन से वीडियोज देखती हो?"

'पौलिटिक्स से संबंधित, यूट्यूब पर.

"अरे यार, तुम उन वीडियोज में अपनी रातें खराब कर रही हो? पता भी नहीं होता है कि क्या झूठ है क्या सच.

कितने सच छिपा दिए जाते हैं, कितने झूठ सामने रख दिए जाते है.

अब तक अंजू और मधु बिगबौस का हर सीजन देखती आई थीं. दोनों सलमान खान की फैन थीं. दोनों इस प्रोग्राम को डिसकस करतीं, खूब हंसती, आनंद लेती.

अंजू ने पूछ लिया, "एक बात बताओ, बिगबौस देख रही हो न?" मधु ने चिढ़ कर कहा, "नहीं, सलमान खान की न कोई मूवी देगी, न कोई शो."

'क्यों भई, क्या हुआ?"

'बस, नहीं देखूगी.

मधु के उखड़े स्वर के बाद अंजू ने फिर कुछ नहीं कहा. थोड़े दिनों बाद फिर अंजू ने मधु को फोन कर उस के हालचाल लिए और कहा, "हैल्थ का ध्यान रख रही हो न?"

"सारी रात तो जागती हूं पर दिन में थोडाबहुत सो लेती हूं.

रात में फिर क्या करती हो?"

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

स्वास्थ्य बीमा लिया क्या

आम कोरोना की दूसरी लहर ने तो आम, खासे खातेपीते लोगों की भी कमर तोड़ दी है. इलाज के खर्च का भार कम करने के लिए स्वास्थ्य बीमा एक बेहतर विकल्प है.

1 min read
Sarita
June First 2021

अनाथ बच्चे गोद लेने में भी जातीयता

'2 साल की बेटी और 2 माह के बेटे के मातापिता कोविड के कारण नहीं रहे. इन बच्चों को अगर कोई गोद लेना चाहता है तो दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क करें. ये ब्राह्मण बच्चे हैं. सभी ग्रुपों में इस पोस्ट को भेजें ताकि बच्चों को जल्दी से जल्दी मदद मिल सके.' ऐसे मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

"भारत में हर चीज पौलिटिकल नजरिए से देवी जाती है" मनोज मौर्य

प्रतिभाशाली मनोज मौर्य लेखन, पेंटिंग, निर्देशन कुछ भी कह लो, हर काम में माहिर हैं. वे लघु फिल्मों के रचयिता के तौर पर भी जाने जाते हैं. उन की ख्याति विदेशों तक फैली है. बतौर निर्देशक, वे एक जरमन फिल्म बना कर अब फीचर फिल्म की तरफ मुड़े हैं.

1 min read
Sarita
June First 2021

इम्यूनिटी बढ़ाएं जीवन बचाएं

शरीर में इम्यूनिटी का होना वैसे तो हैल्थ के लिए हर समय जरूरी है लेकिन कोरोनाकाल में इस बात का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है कि इसे संतुलन में लगातार कैसे रखा जाए.

1 min read
Sarita
June First 2021

गर्भवती महिलाएं अपना और नवजात का जीवन बचाएं

कोविड संकट के दौर में गर्भवती महिलाओं को संक्रमण का अधिक जोखिम होता है. ऐसा इसलिए, क्योंकि इस समय ऐसी महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है, जिस से खतरा अधिक बना रहता है. ऐसे में गर्भवती महिलाएं कैसे खुद को सुरक्षित रख सकती हैं.आइए जानें?

1 min read
Sarita
June First 2021

धर्म और भ्रम में डूबा रामदेव का कोरोना इलाज

लड़ाई चिकित्सा पद्धतियों के साथसाथ पैसों और हिंदुत्व की भी है. बाबा रामदेव ने कोई निरर्थक विवाद खड़ा नहीं किया है, इस के पीछे पूरा भगवा गैंग है जिसे मरते लोगों की कोई परवा नहीं. एलोपैथी पर उंगली उठाने वाले इस बाबा की धूर्तता पर पेश है यह खास रिपोर्ट.

1 min read
Sarita
June First 2021

पत्रकारिता के लिए खतरनाक भारत

वर्ल्ड प्रैस फ्रीडम इंडैक्स के अनुसार पत्रकारिता के मामले में भारत से बेहतर नेपाल और श्रीलंका जैसे पड़ोसी मुल्क हैं. भारत में सरकार निष्पक्ष पत्रकारों की आवाज दबाने के लिए उन पर राजद्रोह जैसे गंभीर मामले लगा कर उन्हें शांत करने का काम कर रही है.

1 min read
Sarita
June First 2021

नताशा नरवाल- क्रूर, बेरहम और तानाशाह सरकार की शिकार

इस समय जितनी असंवेदनशील कोरोना महामारी है उतनी ही शासन व्यवस्था हो चली है. ऐसे समय में शासन द्वारा राजनीतिक कैदियों को अपने प्रियजनों से दूर करना, यातना देने से कम नहीं है. जबकि, कई तो सिर्फ और सिर्फ इसलिए बिना अपराध साबित हुए जेलों में हैं क्योंकि वे सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहे थे.

1 min read
Sarita
June First 2021

ब्लैक फंगस रंग बदलती मौत

ब्लैक फंगस इन्फैक्शन या म्यूकरमाइकोसिस कोई रहस्यमय बीमारी नहीं है, लेकिन यह अभी तक दुर्लभ बीमारियों की श्रेणी में गिनी जाती थी. भारतीय चिकित्सा विज्ञान परिषद के मुताबिक म्यूकरमाइकोसिस ऐसा दुर्लभ फंगस इन्फैक्शन है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. इस बीमारी से साइनस, दिमाग, आंख और फेफड़ों पर बुरा असर पड़ता है.

1 min read
Sarita
June First 2021

सर्वे और ट्विटर पर खुल रही है पोल प्रधानमंत्री की हवाहवाई छवि

कल तक जो लोग नरेंद्र मोदी के बारे में सच सुनने से ही भड़क जाया करते थे वे आज खामोश रहने पर मजबूर हैं और खुद को दिमागी तौर पर सच स्वीकारने व उस का सामना करने को तैयार कर रहे हैं. लोगों में हो रहा यह बदलाव प्रधानमंत्री की हवाहवाई राजनीति का नतीजा है जिस में 'काम कम नाम ज्यादा' चमक रहा था और अब इस का हवाई गुब्बारा फूट रहा है.

1 min read
Sarita
June First 2021
RELATED STORIES

In ‘Saint Maud,' is a Visceral Psychological Horror

Religion and horror are hardly novel bedfellows, but writer-director Rose Glass crafts something fresh of the construct in her promising debut “ Saint Maud.” The film follows the psychological undoing of a devout hospice nurse who becomes obsessed with saving the soul of her terminally ill patient.

3 mins read
AppleMagazine
Feburary 12, 2021

Tropical Allure

Indulge in the seductive splendor of the Tahitian Islands.

6 mins read
Global Traveler
January/February 2021

Break It Up

The cycle of punitive justice begins in school. But a transformative movement is changing that, one hallway fight at a time.

10+ mins read
Mother Jones
November/December 2020

Color by Numbers

GreatSchools has become the go-to source for information on local schools. Yet its ratings could be making neighborhood segregation worse.

10+ mins read
Mother Jones
November/December 2020

An Anti-racist Education for Middle Schoolers

K-12 STUDENTS IN large public school districts across the country spent much of the fall semester at home, a less-than-ideal result of the COVID-19 pandemic. But Zoom learning was hardly the only significant change to the education system. Some school districts are embracing trendy but dubious ideas about how to fight racism in the classroom.

6 mins read
Reason magazine
January 2021

Bringing Politics Into the Classroom

Why it’s impossible—and irresponsible— for teachers in minority communities to ignore the subject

10 mins read
The Atlantic
December 2020

DRIVER FREE BUT VIRUS FREE? ROBO CARS HIT NEW SPEED BUMP

The latest challenge for the autonomous vehicle industry: How to assure passengers that the car they are getting in is virus-free, even if it doesn’t have a driver.

2 mins read
Techlife News
June 20, 2020

OLIVIA WANLESS

AUTODRIVE TEAM CAPTAIN

3 mins read
Muse Science Magazine for Kids
May/June 2020

Up For a Challenge

University students compete with cutting-edge cars in the AutoDrive Challenge.

7 mins read
Muse Science Magazine for Kids
May/June 2020

THE ART OF RAY PROHASKA

Gratia “Ray” Prohaska was born in 1901 in Muo, a tiny fishing village on the Bay of Kotorska, in the town of Kotor, on the Dalmatian Coast in what would become Yugoslavia.

10+ mins read
Illustration
Illustration No. 67