महाराष्ट्र ड्रामे का अर्धसत्य
Sarita|April First 2021
राजनीतिक संरक्षण में फलताफूलता पुलिसिया भ्रष्टाचार कभी किसी सुबूत का मुहताज नहीं रहा.इस के लिए किसी एक दल या नेता को ही गुनाहगार नहीं ठहराया जा सकता. असल जिम्मेदार तो वह सिस्टम है जिसे लोग अकसर कोसा करते हैं. महाराष्ट्र का ड्रामा इस का अपवाद नहीं, जिस पर मुद्दे की बात कम राजनीति ज्यादा हुई.
भारत भूषण

साल 1983 में मशहूर निर्देशक गोविंद निहलानी की एक फिल्म प्रदर्शित हुई थी जिस का नाम था 'अर्धसत्य'. पुलिसिया भ्रष्टाचार सैकड़ों फिल्मों में तरहतरह से दिखाया गया है लेकिन अर्धसत्य पूरी तरह इसी पर आधारित थी. फिल्म का नायक अनंत वेलणकर एक ऐसा युवा पुलिस अधिकारी है जो समाज से जुर्म और भ्रष्टाचार मिटा देना चाहता है लेकिन जब वह हकीकत से रूबरू होता है तो घबरा उठता है और खुद को शराब के नशे में डुबो लेता है.

अनंत वेलणकर की भूमिका अभिनेता ओम पुरी ने इतनी शिद्दत से निभाई थी कि दर्शक उस में डूब कर रह गए थे. वह देखता है कि उसी के विभाग के आला अफसर नेताओं व माफिया के इशारे पर नाचते हैं और जो इस गठजोड़ का हिस्सा बनने से इनकार करते हैं, उन का अंजाम कतई अच्छा नहीं होता. इस बाबत एक ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी माइक लोबो, जिस की भूमिका नसीरुद्दीन शाह ने निभाई थी, को दिखाया गया है जो अकसर शराब के नशे में धुत सड़क किनारे पड़ा रहता है.

अनंत अकसर माइक लोबो का हश्र देख कर सहम जाता है. वह पूरी फिल्म में अपनेआप से लड़ता नजर आता है कि कौन सा रास्ता चुनेसिद्धांतों और नैतिकता वाला या सिस्टम का हिस्सा बन जाने का. पुलिस की नौकरी में बड़ेबड़े अरमान ले कर आने वाले देश के युवाओं का जोश क्यों और कैसे अनंत की तरह ठंडा पड़ जाता है, इसे 'अर्धसत्य' में बेहद सटीक तरीके से फिल्माया गया था. अर्धसत्य आज की वास्तविक जिंदगी में भी कायम है.

अनंत जैसा ही कोल्हापुर का एक मध्यवर्गीय युवा साल 1990 में महाराष्ट्र पुलिस में सब इंस्पैक्टर के पद पर भरती हुआ था जिस की पहली पोस्टिंग ही नक्सल प्रभावित इलाके गढ़चिरोली में हुई थी. इस के बाद वह ठाणे होता हुआ मुंबई पहुंच गया. मुंबई आ कर इस युवा एएसआई की तो मानो जिंदगी ही बदल गई. देखते ही देखते वह एनकाउंटर स्पैशलिस्ट के खिताब से नवाज दिया गया क्योंकि 2004 आतेआते उस ने एकदो नहीं, बल्कि 60 एनकाउंटर कर डाले थे या फिर उन का हिस्सा रहा था. इस युवा ने प्रदीप शर्मा और दया नायक जैसे चर्चित व नामी एनकाउंटर विशेषज्ञों के साथ कई मुठभेड़ों को सफलतापूर्वक अंजाम दिया था. जाहिर है, उसे इस काम में मजा आने लगा था.

अनंत जैसा सचिन

इस एएसआई सचिन वाझे का नाम आज हर किसी की जबां पर है जिस ने न केवल महाराष्ट्र, बल्कि देशभर की राजनीति में हाहाकार व तहलका मचा कर रख दिया. टैक्नोलौजी में भी माहिर सचिन की दिलचस्पी आपराधिक मामलों में बढ़ी तो उसे नेता, माफिया और पुलिस महकमे के आला अफसर तक जानने, पहचानने लगे और सत्ता के गलियारों में उस की पदचाप गूंजने लगी थी. एक मामूली एएसआई को आईपीएस अफसरों से भी ज्यादा तवज्जुह दी जाने लगी तो तय है उस में कोई खास बात तो थी.

यह खास बात थी उसे अनंत वेलणकर की तरह पुलिस की नौकरी का सच समझ आ जाना कि यहां आदर्श, उसूल, ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा जैसे शब्द कहनेभर को होते हैं जबकि हकीकत किसी से छिपी नहीं है कि बेईमानी, खुशामद, वसूली, और चाटुकारिता वगैरह ही पूर्णसत्य हैं. सचिन ने अपनी महत्त्वाकांक्षाएं पूरी करने के लिए सिस्टम से समझौता कर लिया जो उस पर गाज बन कर गिरा जब उसे एक हत्या के आरोप में सस्पैंड कर दिया गया. अब तक सचिन काफी कुछ देख व समझ चुका था कि आखिर एक दिन तो ऐसा होना ही था.

2002 में मुंबई के घाटकोपर इलाके में हुए बम विस्फोट के आरोपी, पेशे से सौफ्टवेयर इंजीनियर, 27 वर्षीय ख्वाजा यूनुस को मुंबई क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया था जिस की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी जिस का जिम्मेदार सचिन वाझे को माना गया था. मार्च 2004 में सस्पैंड हुए सचिन ने 30 नवंबर, 2007 को पुलिस विभाग से इस्तीफा दे दिया जिसे खारिज कर दिया गया था.

नाटकीय वापसी का असल मकसद

सचिन ने हिम्मत नहीं हारी और 2008 में वह शिवसेना में शामिल हो गया. इस दौरान उस ने लिखनेपढ़ने का अपना शौक पूरा किया और दूसरे रचनात्मक काम भी किए. पुलिस महकमे में वापसी की उम्मीद उस ने हालांकि छोड़ दी थी लेकिन अब तक उस की गिनती ठाकरे परिवार के भरोसेमंद व वफादार लोगों में होने लगी थी. इस का इनाम उसे 16 जून, 2020 को मिला जब उसे पुलिस की नौकरी में बहाल करते क्राइम ब्रांच की खुफिया इकाई सीआईयू के सहायक पुलिस निरीक्षक के पद पर नियुक्त कर दिया गया.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

महंगाई डायन खाए जात है

देश एक बार फिर से कोरोना संकट में फंसा है. कोरोना की दूसरी लहर देश पर भारी पड़ रही है. जमाखोरी और मुनाफाखोरी की नीयत के चलते महंगाई चरम पर है. जेब में पैसा नहीं है, इस के बाद भी महंगाई और बेरोजगारी की चर्चा नहीं हो रही.

1 min read
Sarita
May First 2021

कुव्यवस्था से हाहाकार

देश में मौजूदा हालात बताते हैं कि सरकारें जनहितैषी कभी नहीं बन सकतीं. सरकारें गरीबों के बारे में कभी नहीं सोच सकतीं.सरकारें तो बनी ही जनता पर शासन करने को हैं. जनता को सिर्फ वोटबैंक समझने की जिद इन्हें उस की लाशों से खेलने की इजाजत देती है.

1 min read
Sarita
May First 2021

बरबाद होती फिल्म इंडस्ट्री

मार्च माह की शुरुआत से देश, खासकर फिल्म नगरी मुंबई में कोरोना की नई लहर हावी हो गई है. इस ने पहले से ही बरबाद हो चुकी फिल्म इंडस्ट्री को ऐसे मुकाम पर पहुंचा दिया है कि अब तो उस की कमर ही टूट सी गई है. कोरोना का फिर से जिस तरह का माहौल बना है उस से तो यही आभास हो रहा है कि शायद अब फिल्म इंडस्ट्री कभी उबर न पाए.

1 min read
Sarita
May First 2021

औरतों के लिए नवरात्रे त्योहार या अतिरिक्त बोझ

जिस देश को महिलाओं के लिए सब से असुरक्षित माना गया हो वहां नवरात्रे में कन्याओं की पूजा करना किसी ढोंग से कम नहीं. दुखद यह है कि पुरुष समाज के रचाए इस ढोंग को करने में भी महिलाएं ही पिसती हैं, उन के सिर ही तमाम तामझाम का अतिरिक्त बोझ पड़ता है.

1 min read
Sarita
May First 2021

पुजारियों को दानदक्षिणा क्यों

मध्य प्रदेश में आम लोग जाएं तेल लेने. युवाओं को न नौकरी न बेरोजगारी भत्ता, किसानों को राहत नहीं, कर्मचारियों को एरियर व महंगाई भत्ता नहीं और महिलाओं को सुरक्षा नहीं. लेकिन धर्म की दुकानदारी में बिलकुल भी कमी नहीं, इस के लिए पंडेपुजारियों को सरकारी दानदक्षिणा जारी है.

1 min read
Sarita
May First 2021

अमेरिका और मास शूटिंग

अमेरिका में मास शूटिंग बड़ी समस्या के तौर पर उभर रही है, जिस के लिए कहीं न कहीं नागरिकों को आर्स रखने की मंजूरी देने वाला कानून भी जिम्मेदार है. अमेरिका की जनता और नेताओं को मास शूटिंग रोकने की दिशा में कठोर कदम उठाने चाहिए वरना अमेरिका को ही नहीं, इस का दुष्प्रभाव अन्य देशों को भी झेलना पड़ सकता है.

1 min read
Sarita
May First 2021

गायत्री प्रजापति पर कस गया ईडी का शिकंजा

दलित समाज को उम्मीद होती है कि उस के बीच से उठा कोई युवक अगर देश की राजनीति में अपनी जगह बनाता है तो वह अपनी बिरादरी को गरीबी, अशिक्षा और जिल्लत की जिंदगी से उबारने के लिए कुछ करेगा. मगर अफसोस कि राजनीति में आने के बाद दलित नेता भी सवर्णों का चोला ओढ़ कर लूटकांड और दरिंदगी के झुंड का हिस्सा बन जाते हैं. उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति की कहानी इसी की बानगी है.

1 min read
Sarita
May First 2021

धर्म और राजनीति के वार रिश्ते तारतार

धर्म और राजनीति हमेशा से इंसान व समाज पर गहरा प्रभाव डालते रहे हैं. कभीकभी इन की प्रस्तुति मिथ्या के कारण भारी विवाद पैदा होते रहे हैं. लेकिन आपसी रिश्तों में भी जब धर्म और राजनीति का दखल अधिकाधिक घुसपैठ करने लगे तो क्या परिणाम निकल कर आते हैं, जानें इस खास रिपोर्ट में.

1 min read
Sarita
May First 2021

समंदर में बूंद बराबर है अंबानी पर सेबी का जुर्माना

अंबानी हर मिनट 31,202 डौलर और हर दिन 4.5 मिलियन डौलर कमाते हैं. मुकेश अंबानी की संपत्ति दुनिया में 19 देशों की जीडीपी से अधिक है. उन के परिवार पर 25 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाना उन के घर में पड़े चिल्लरों पर नजर लगाने जैसा है. 25 करोड़ रुपया तो अंबानी परिवार के लिए हाथों का मैल है.

1 min read
Sarita
May First 2021

बंगाल चुनाव में 'राम नाम' की लूट

बंगाल में जहां धर्म कभी चुनावी मुद्दा नहीं रहा, वहां 'राम' के नाम पर भाजपा ने धर्म को हावी करने का प्रयास किया है. 'राम' अब भाजपा के प्रचारक जैसे लगने लगे हैं जिन्हें मुंह में रख भाजपाई दिग्गज राज्य में जहांतहां रैलियां कर झूठ परोस रहे हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2021
RELATED STORIES

SHE EMPOWERS WITH CHESLIE KRYST

We enjoyed talking to Miss USA 2019 Cheslie Kryst who recently crowned Miss USA 2020 Asya Branch.

10+ mins read
Athleisure Mag
November 2020

Instructions Included

Vaccines from the U.S. company Moderna and its German rival BioNTech use RNA as a messenger inside cells. The message: Produce an immune reaction, stat

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
August 17 - 24, 2020

Get More Vitamin C

Here are 8 great sources of this key nutrient that aren’t oranges.

6 mins read
Better Nutrition
August 2020

Beauty in Originality

Collectors can explore stunning examples of historic Haudenosaunee bags during an online exhibition at John Molloy Gallery.

4 mins read
Native American Art Magazine
June - July 2020

Vitamin E Facts

This essential nutrient isn’t the most popular supplement on store shelves—but maybe it should be

3 mins read
Better Nutrition
May 2020

Come What May

A collection of this month’s most exciting product releases, from chickpea chips to clear whey protein powder

2 mins read
Better Nutrition
May 2020

The ABCs of vitamin A

This vital nutrient doesn’t get a lot of press, but it’s critical for eye health, white blood cell production, bone strength, organ function, and reproduction

3 mins read
Better Nutrition
April 2020

JUCO COACHES FLOCK TO PRO BALL

Moves leave many programs scrambling

4 mins read
Baseball America
February - March 2020

Selena & Nial Dating!

From friends to lovers! Selena gives Niall a chance and takes their relationship to the next level.

1 min read
Star
November 4, 2019

Liam Payne: A New Direction

The Former Boy Bander Is Expanding His Horizons — But That Doesn't Mean A1D Reunion Is Off The Table.

3 mins read
OK!
October 14, 2019