शहर से गिरे जातिवाद पर अटके
Sarita|June Second 2020
दलित दूल्हे के मूंछे रखने, घोड़ी चढ़ने आदि पर विशेष जातियों द्वारा पीटने की खबरें सुनने को अभी भी मिल जाती हैं. यहां तक कि दलितों की शादी में बाजा तक बजाने नहीं दिया जाता. आज भी गांवों में खाप पंचायत से ले कर चल रहे पुराने पेशों तक में जातिवाद की दुर्गंध महसूस की जा सकती है.
रोहित

हमारे देश में समस्याएं कई परतों में खुलती हैं. जिस समय कोरोना यूरोपीय देशों में हाहाकार मचा रहा था उस समय भारत की पढ़ीलिखी जनता इस गलतफहमी और आत्मविश्वास की शिकार थी कि भारत इस से मुक्त रहेगा क्योंकि यहां की हवाओं में तो वैदिक संस्कृति प्रवाहित होती है और भारत की गाय जो मीथेन गैस पीछे के रास्ते छोड़ती है, वह गैस ही काफी है कोरोना के कणों को खत्म करने के लिए. यही कारण था कि डिजिटली जनता घर की थालियां बजा कर कोरोना के कान फोड़ लेने और अंधेरे में दिए जला कर कोरोना को अंधा बनाने के लिए विदेशी एंड्रौयड फोन से सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने की ताबड़तोड़ कोशिशें कर रही थी.

मजदूर बने आधुनिक अछूत

ठीक उसी समय देश का सब से निचला गरीब प्रवासी तबका भूखेप्यासे नंगेपांव अपने घरों की तरफ पैदल चलने के लिए मजबूर हो रहा था. यह सिर्फ इसलिए नहीं कि सरकार ने फैसला लेने में कटुता दिखाई बल्कि इसलिए भी क्योंकि देश की ट्विटर और इंस्टाग्राम वाली सशक्त आबादी को देश की स्थिति की थोड़ी सी भी भनक नहीं थी और अगर उन्हें थी भी तो जो लोग इस फैसले के बाद भुखमरी से बदहाल होने वाले थे, उन से उन की कोई हमदर्दी नहीं थी. उन की मानें तो ये वही लोग हैं जो मरने के लिए पैदा होते हैं, जिन का काम ही निचला है. सफेद कौलर पर टाई लगाने वाले अधिकांश लोगों का इस आबादी से रिश्ता महज इतना है कि जो मलमूत्र हम अपने संडासों में त्याग आते हैं उसे ये मजदूर जहरीले गटरों में उतर कर साफ करते हैं.

विकास, अच्छे दिन, सुपरपावर और महान संस्कृति का भ्रम हमारे दिलोदिमाग में इस कदर भरा हुआ था कि सरकार द्वारा हंटर के जोर पर लिए गए फैसले भी इन्हीं भ्रमों की अनुभूति महसूस करा रहे थे. यह एक संयोग है कि जिस समय देश की पढ़ीलिखी जनता इस बहस में फंसी थी कि विदेश में कोरोना सांप खाने से आया या चमगादड़ खाने से, उस समय अपने देश के लाखों गरीब मीलों दूर सरकारी कुप्रबंधन के कारण पैदल चलने को मजबूर हो रहे थे. ये सिर्फ पैदल चल ही नहीं रहे थे बल्कि सरकारी कुप्रबंधन के कारण सड़कों और पटरियों पर उन के नरसंहार भी हो रहे थे. लेकिन देश का ऊपरी तबका सरकार से सवाल करने के बजाय उलटा दोष इन्हीं मजदूरों पर धर रहा था.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARITAView All

तलाक से परहेज नहीं

मुसलिम समाज में तलाक को ले कर हकीकत से ज्यादा हल्ला मचाया गया, आज मुसलिम महिलाएं पढ़लिख रही हैं, अपने अधिकार जान रही हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

धर्म और बेवकूफी का शिकार श्रीलंका

श्रीलंका में इन दिनों भारी उथलपुथल मची हुई है, लोग महंगाई से त्रस्त हैं और आम जनजीवन ठप है. सड़कों पर लोगों के भारी प्रदर्शन बता रहे हैं कि श्रीलंका में कुछ भी ठीक नहीं. इस स्थिति का जिम्मेदार चीन को ठहराया जा रहा है, पर जितना जिम्मेदार चीन है उस से कहीं ज्यादा राजपक्षे ब्रदर्स की नीतियां हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

सीयूईटी परीक्षा पिछडों पर भारी रभ ऊंचों की चतुराई

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में अब दाखिले के लिए 12वीं के अंकों की जगह एंट्रेंस एग्जाम को लागू किया गया है. सतही तौर पर देखने में यह फैसला क्रांतिकारी लग रहा है, पर भीतर से यह विनाशकारी और कुछ को कमाई के अपार अवसर देने की साजिश वाला लग रहा है. इस से विश्वविद्यालयों में दाखिले तो उन्हीं के होंगे, जिन के पास पैसा है अब इस ने शिक्षा को ले कर नए प्रश्न खड़े कर दिए हैं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

शहरों में गंवार

नए गंवार शहरों में बसे हैं. ये पढ़ेलिखे हैं, खुद को आधुनिक कहते हैं, पर इन के तौरतरीके ऐसे हैं कि गांव का अनपढ़ आदमी भी शरमा जाए. गंवारों की इस पौध का इलाज जरूरी है.

1 min read
Sarita
April Second 2022

एलोपेसिया ग्रसित महिला का मजाक पड़ा महंगा

एलोपेसिया किसी को भी हो सकता है, लेकिन इस से ग्रसित किसी व्यक्ति का मजाक उड़ाना बिलकुल ठीक नहीं, जैसा औस्कर अवार्ड में देखने को मिला. आइए जानें कि क्या है एलोपेसिया.

1 min read
Sarita
April Second 2022

खाली घोंसला जब घर छोड कर चले जाएं बच्चे

जमाना बदल रहा है. बच्चे अब घरपरिवार से दूर रह कर अपना कैरियर और जौब तलाशने लगे हैं. इसे समय की मांग भी कहा जा सकता है. ऐसे में घबराए नहीं.

1 min read
Sarita
April Second 2022

आम आदमी पार्टी सीटें हैं नीति नहीं

आम आदमी पार्टी विकल्प के रूप में भले ही कुछ चुनाव जीत ले लेकिन राजनीतिक विचारधारा के अभाव में उस का लंबे समय तक राजनीति करना आसान नहीं होगा. सामाजिक, आर्थिक व विश्व विचारधारा के अभाव में कोई भी दल न केवल अपने देश बल्कि विदेशों में भी अपनी छाप नहीं छोड़ पाता है.

1 min read
Sarita
April Second 2022

'वीकली हाट' हो गई कंटैंट राइटिंग

मीडिया आज पूरी तरह से व्यवसाय का रूप ले चुका है, इस से कंटेंट राइटर की लेखनी ने पैशन की जगह पेशे का रूप ले लिया है. आज लेखक कम, कंटेंट राइटर हर जगह खड़े हैं, जो सहीगलत का नजरिया पेश नहीं कर पाते.

1 min read
Sarita
April Second 2022

“मैं ऐक्शन और कट के बीच में रहता हूं

प्योर हरियाणवी बोलने वाले मोहित कुमार ऐक्टिंग जगत में कदम रखने से पहले हिंदी नहीं बोल पाते थे, लेकिन अब चीजें ऐसी बदली हैं कि 'सब सतरंगी' शो में वे लखनवी बोली फर्राटे से बोल रहे हैं.

1 min read
Sarita
March Second 2022

विधानसभा चुनाव 2022 नारे और वादे की जीत

भाजपा ने हिंदुत्व के एजेंडे को सामने रख कर चुनाव लड़ा. इस में लोकलुभावन वादे और नारों की भरमार थी. 'आप' के अलावा विपक्ष अपना एजेंडा जनता के सामने रख पाने में असफल रहा. वहीं, नारे और वादे के बल पर चुनाव तो जीते जा सकते हैं पर देश नहीं चलाया जा सकता. देश चलाना एक 'स्टेट क्राफ्ट' है, जिस में भाजपा फेल हुई या पास, यह सवाल सदा खड़ा रहेगा.

1 min read
Sarita
March Second 2022