राज्य भी केंद्र को लोहे के चने चबवा सकते हैं
Outlook Hindi|December 28, 2020
झारखंड के गठन के बीस साल हुए। इन वर्षों में झारखंड की दशा-दिशा क्या रही और चुनौतियां क्या हैं? इन सवालों के साथ एक साल पूरा कर रही झामुमो-कांग्रेस गठजोड़ सरकार के युवा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कोरोना के दौर में खाली खजाना और विपक्ष से भी मुकाबिल हैं। उन्होंने चुनौतियों और कामकाज पर आउटलुक के नवीन कुमार मिश्र से अपने अनुभव साझा किए। बातचीत के प्रमुख संपादित अंशः

• एक साल में अपके सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि क्या रही?

सामाजिक सुरक्षा, क्योंकि सरकार बनते ही हम लोग गंभीर मुसीबत में फंसे। झारखंड जैसे पिछड़े राज्य के लिए वैश्विक महामारी कोविड-19 बड़ी चुनौती थी। देश में अफरातफरी मची थी। ऐसे में बाहर से कामगारों को सुरक्षित तरीके से लाए, घर तक पहुंचाए। मृत्यु का आंकड़ा भी झारखंड में एक हजार से पार नहीं गया। यह देश में सबसे बेहतरीन प्रबंधन था। न मुकम्मल अस्पताल थे, न जांच की व्यवस्था थी। कोरोना के दौर में ही इनकी व्यवस्था की गई जबकि देश में इस दौरान आवागमन बंद रहा।

• वह जो आप करना चाहते थे, नहीं कर पाए। किस इलाके में फोकस रहेगा?

सरकार बनने के बाद हम लोगों ने सोच रखा था कि राज्य को एक गति देनी है। ऐसी लकीर खीचें जो इतनी लंबी हो कि उससे बड़ी लकीर खींचनी मुश्किल हो। उसे खींचने में विलंब हुआ। कोरोना के दौरान हमें बहुत कुछ सीखने को मिला। कार्यपालिका के अंदर की गतिविधियों को समझने का मौका मिला। हमारी कार्य योजना को जमीन पर उतारना बड़ी चुनौती थी। पूर्व की सरकार ने वित्तीय व्यवस्था को पूरी तरह से घ्वस्त कर रखा था। एक प्रकार से हमें शून्य से शुरू करना पड़ा। मुझे लगता है कि अलग राज्य होने के बाद पहला सरप्लस बजट विधानसभा पटल पर रखा गया। उसके बाद जो स्थिति रही, वह स्थिति इतनी बुरी रही कि सरकार ने कभी भी अपने आंतरिक संसाधनों को बढ़ाने, वैल्यू एडीशन पर ध्यान ही नहीं दिया, कोई नया रास्ता की नहीं निकाला कि राज्य अपने पैरों पर खड़ा हो सके।

केंद्र और राज्य के बीच संबंध ठीक नहीं दिख रहा। डीवीसी का बिजली मद में बकाया पैसा भी राज्य के खजाने से काट लिया गया।

झारखंड ही नहीं, कई राज्यों का केंद्र के साथ अच्छा संबंध नहीं दिख रहा। जहां गैर-भाजपा सरकार है, वहां समस्याएं ज्यादा हैं। छोटी-छोटी चीजों पर केंद्र सौतेला व्यवहार करता है। ठीक है, आपने हमारा पैसा काट लिया। आपने हमारे राज्य में बच्चों को मेडिकल कॉलेज में दाखिला क्यों बंद कर दिया? हमारे तीन-तीन मेडिकल कॉलेज, जिसमें हर कॉलेज में डेढ़-डेढ़ सौ बच्चों का एडमिशन होना था यानी साढ़े चार सौ बच्चे मेडिकल शिक्षा ग्रहण करने से वंचित रह गये। हम यहां डॉक्टरों की तलाश करते हैं, नों की तलाश करते हैं, ऐसा क्यों। पैसा काटना माना कि वित्तीय प्रबंधन का हिस्सा था। और उन्हीं कॉलेजों का जब उद्घाटन करना था तो आनन-फानन आधीअधूरी बिल्डिंग में उद्घाटन भी हुआ (पलामू, दुमका और हजारीबाग मेडिकल कॉलेज का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था)। बच्चों का दाखिला भी हुआ और जब हम आज लगभग सारी अर्हताएं पूरी कर रहे हैं, एडमिशन रोकना न्यायोचित नहीं है। मेरे साथ छोड़िए, बच्चों के साथ न्यायोचित नहीं रहा। इस तरह की सोच दुखी करती है।

पूर्ववर्ती सरकार के समय के भ्रष्टाचार के अनेक मामलों जैसे मैनहर्ट, कंबल, जेरेडा घोटाला को आपने एसीबी के हवाले किया। भाजपा का आरोप है कि यह टार्गेटेड, पूर्वाग्रह से ग्रस्त कार्रवाई है

मैं पूर्वाग्रह से ग्रस्त हूं? परिणाम आने दीजिए। अगर गलत होगा तो मैं यही कह सकता हूं कि मै गुनाह भी नहीं करूंगा तो आप लोग सूली पर चढ़ा दें। ये हमने तो नहीं किया। ये कागजों के माध्यम से आये, कागज बोलता है, कागज तो मरता नहीं है। अखबारों में, मीडिया में विधायकों ने कई संस्थाओं के माध्यम से सूचनाएं उजागर हुई थीं। ऐसा नहीं कि हमारी सरकार ने आकर उन सब को कुरेदा हो या खुद निकाला हो या नया बनाकर फंसाने का प्रयास हुआ हो। ऐसा कोई एक उदाहरण बता दें कि सारा कुछ अच्छा चल रहा था और मैने कोई जांच बैठा दी। उनके पाप के घड़े भरकर छलक चुके थे, हमने कहा कि इसे थोड़ा ठीक कर दो।

सीबीआइ की डायरेक्ट एंट्री पर आपने रोक लगा दी। कुछ और राज्यों ने भी लगाया है। ऐसी क्या जरूरत पड़ी?

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM OUTLOOK HINDIView All

कोई भी संविधान नहीं बदल सकता

संसद की नई इमारत के प्रस्ताव से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला खासे उत्साहित हैं। उन्हें पूरा भरोसा है कि 2022 में भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर संसद का सत्र नए भवन में आयोजित होगा। उनका कहना है कि किसी भी संसदीय लोकतंत्र में संविधान उसकी आत्मा होती है और कोई भी सरकार उसकी मूल भावना में बदलाव नहीं कर सकती। उन्होंने आउटलुक के एडिटर-इन-चीफ रूबेन बनर्जी और पॉलिटिकल एडिटर भावना विजअरोड़ा से खास बातचीत की है। उसके मुख्य अंश:

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

बिजनेस छिनने का डर

छोटी कंपनियों को तिमाही रिटर्न फाइल करने की सुविधा, लेकिन टैक्स क्रेडिट में देरी के कारण बड़ी कंपनियां उनसे सामान नहीं खरीद रहीं

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

एमएसपी तो बाजार के भी हित में

इसके कारण देश के कृषि बाजारों में कीमतों में उतार-चढ़ाव 20 से 25 फीसदी तक कम, नेताओं ने इसका इस्तेमाल वोट जुटाने में भी किया

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

"मैं हिंदी सिनेमा की बदलती रवायत की प्रोडक्ट"

भूमि पेडनेकर दुर्गामति: द मिथ में शीर्षक भूमिका निभा रही हैं। यह अनुष्का शेट्टी की तमिल-तेलुगु फिल्म भागमति का हिंदी में रीमेक है, जो इसी हफ्ते अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज होगी। अपनी शुरुआती ही फिल्म दम लगा के हइशा में खूब तारीफ बटोर चुकी 31 साल की इस अभिनेत्री ने गिरिधर झा से अपने करिअर और बॉलीवुड में पांच साल बिताने के अनुभवों के बारे में बात की। पेश हैं अंश:

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

कितने तैयार हम

देश में जनवरी तक टीका लगना शुरू होने की उम्मीद, सीरम इंस्टीट्यूट-भारत बॉयोटेक ने आपात मंजूरी के लिए दी अर्जी, लेकिन असली सवाल कायम कि किसे, कब तक, और मुफ्त में या दाम देकर मिलेगी वैक्सीन

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

मजबूत किसान मोर्चेबंदी

नए केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की चौहद्दी और देश भर में मोर्चे पर डटे किसानों के पक्ष में बढ़ते जन समर्थन से क्या सरकार का कथित सुधार का एजेंडा दोराहे पर पहुंचा?

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

रजनी दांव से कौन होगा चित

रजनीकांत के आने से प्रदेश की दो प्रमुख पार्टियों द्रमुक और अन्नाद्रमुक की मुश्किलें बढ़ने के आसार

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

राज्य भी केंद्र को लोहे के चने चबवा सकते हैं

झारखंड के गठन के बीस साल हुए। इन वर्षों में झारखंड की दशा-दिशा क्या रही और चुनौतियां क्या हैं? इन सवालों के साथ एक साल पूरा कर रही झामुमो-कांग्रेस गठजोड़ सरकार के युवा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कोरोना के दौर में खाली खजाना और विपक्ष से भी मुकाबिल हैं। उन्होंने चुनौतियों और कामकाज पर आउटलुक के नवीन कुमार मिश्र से अपने अनुभव साझा किए। बातचीत के प्रमुख संपादित अंशः

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

सवाल कप्तानी का

फिलहाल तो विराट जमे हुए हैं मगर आने वाले कुछ महीनों में बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020

सार्वजनिक स्वास्थ्य में निवेश बढ़ाने की जरूरत

2021 में हमारा फोकस संक्रामक रोगों पर होना चाहिए, टीबी को खत्म करना सामाजिक आंदोलन बने

1 min read
Outlook Hindi
December 28, 2020
RELATED STORIES

PLEASE STAND BY

BE PATIENT: WE MIGHT NOT KNOW WHO WON THE ELECTION RIGHT AWAY

5 mins read
Reason magazine
November 2020

A Pressidential Guide To Crisis Management

What Trump should have learned from his predecessors

9 mins read
The Atlantic
July - August 2020

The Trouble With Full Employment

Figuring out when the economy has reached maximum employment is no easy thing. Just ask the Fed

6 mins read
Bloomberg Businessweek
January 27 - February 03, 2020

How To Run For Local Office

If you’ve ever thought that you could do a better job than the elected officials currently in office, here’s how to launch a campaign—and win.

9 mins read
Kiplinger's Personal Finance
January 2020

The Amazon Trail Global Warning

Her most recent book, An American Queer, a collection of “The Amazon Trail” columns, was presented with the 2015 Golden Crown Literary Society Award in Anthology/Collection Creative Non Fiction. This, and her award-winning fiction, including The Raid, The Swashbuckler, and Beggar of Love, can be found at http://www.boldstrokes-books.com/Author-Lee-Lynch.html.

3 mins read
Diversity Rules Magazine
October 2019

Federal Officials Working With States To Protect Elections

Official election websites are being hacked. Disinformation is being spread on social media. Electrical power and communications are going down.

3 mins read
Techlife News
August 31, 2019

Facebook Tightens Political Ad Rules, But Leaves Loopholes

Facebook is tightening its rules around political advertising ahead of the 2020 U.S. presidential elections, an acknowledgment of the previous misuse.

2 mins read
AppleMagazine
August 30, 2019

Will Justin Amash Run for President as a Libertarian in 2020?

Freedomfest, a largely libertarian gath­ ering in Las Vegas with a significant con­ servative presence, has been tacking in a noticeably Trumpian direction since the future president spoke there in 2015.

3 mins read
Reason magazine
October 2019

Russian Media Agency Complains Youtube Facilitates Protests

Russia’s media oversight agency said this week that it wanted Google to stop YouTube users from posting information about unsanctioned political protests or the Russian government would feel free to retaliate against the American company.

1 min read
AppleMagazine
August 16, 2019

Putin's 2020 Playbook

Our electoral vulnerabilities are so extreme, the next hack could easily be worse.

9 mins read
New York magazine
August 5-18, 2019