स्क्रीन को चमकाने वाले चेहरे
India Today Hindi|January 12, 2022
अक्षय कुमार ने अपनी बेल बॉटम और फिर सूर्यवंशी से दर्शकों को फिर थिएटरों में खींचा; और सान्या मल्होत्रा ने पगलैट और मीनाक्षी सुंदरेश्वर में शानदार अदाकारी से घर पर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया, दोनों ओटीटी पर रिलीज हुईं
सुहानी सिंह

नवंबर 2021 में जाकर हिंदी थिएटर का कारोबार फिर से शुरू हो सका और इन सबके केंद्र में एक ही शख्स था-अक्षय कुमार. इस अभिनेता ने सबसे पहले विश्वास की छलांग लगाई और अगस्त में बेल बॉटम को सिनेमा हॉल में रिलीज कराया. चूंकि महाराष्ट्र के सिनेमा हॉल तब भी बंद थे और कई राज्यों में थिएटर अपनी क्षमता के 50 फीसद पर काम कर रहे थे, लिहाजा यह बहुत साहसी कदम था. इस फिल्म ने 32 करोड़ रु. का कारोबार किया, जो अक्षय कुमार की फिल्म के लिए काफी कम रकम है लेकिन इस अदाकार की कोशिश ज्यादा मानीखेज थी.

तमिल अभिनेता विजय ने इससे पहले जनवरी में मास्टर की रिलीज के साथ ऐसा ही साहस दिखाया था, जिसने बॉक्स ऑफिस पर 162.5 करोड़ रु. जमा किए और मजेदार बात यह है कि उसकी कमाई का ज्यादातर हिस्सा केवल तमिलनाडु से ही आया. क्रैक, जाति रत्नालु, उप्पेना और वकील साब जैसी तेलुगु फिल्मों के साथ दक्षिण का फिल्म उद्योग पहले चार महीनों में बेहतर प्रदर्शन कर रहा था. यह इस बात का संकेत है कि दर्शक फिल्म देखने को फिर से सामुदायिक अनुभव बनाने के लिए उत्सुक हैं. उसके बाद कोविड-19 की जानलेवा दूसरी लहर आ गई और थिएटर मालिकान एक बार फिर लॉकडाउन की मार झेलने लगे.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM INDIA TODAY HINDIView All

शांत हो गए शततंत्री के तार

पं. शिवकुमार शर्मा ने संतूर के लिए जो किया वैसा कोई भी संगीतकार अपने साज के लिए नहीं कर पाया - पं. हरिप्रसाद चौरसिया

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

हम कभी जान पाएंगे कोविड से कितने मरे?

भारत में कोविड से हुई मौतों पर डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट सरकारी आंकड़े को बहुत कम बताती है, पर दोनों पक्षों की दलीलों के बीच एक सच सामने आ गया कि डेटा में पारदर्शिता और सटीकता की घोर कमी है

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

सफर का दिलचस्प मोड़

नेवर किस योर बेस्ट फ्रेंड (जी5) के एक आदर्शवादी रोमांटिक किरदार से लेकर एस्केप लाइव ऐप (डिज्नी प्लस हॉटस्टार) के एक मुनाफाखोर मालिक तक, जावेद जाफरी ने साबित किया कि उनका जादू अब भी बरकरार

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

निवेशक की दिमागी हालत

निवेश के फैसले अक्सर भावनाओं में बहकर और पूर्वाग्रहों के साथ किए जाते हैं. सो, बेहतर वित्तीय नतीजे पाने के लिए उन्हें समझना और उन पर नियंत्रण जरूरी है

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

राजनीति का लाउडस्पीकर

ऊपरी तौर पर देखें तो मस्जिदों में अजान और दूसरे उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल होने वाले लाउडस्पीकरों के खिलाफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे का अभियान सफल रहा है-ठाकरे की ओर से घोषित समयसीमा 4 मई की सुबह करीब 90 प्रतिशत मस्जिदों में लाउडस्पीकरों का इस्तेमाल नहीं हुआ.

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

दिन बहुरे इन कुत्तों के

अपनी खूबसूरती और जंगलीपन की वजह से बेशकीमती रखवाले कुत्तों की पश्मी और कारवां सरीखी नस्लें ठीक-ठाक मुनाफे की खातिर महाराष्ट्र में लातूर के गांवों में पाली जाती हैं

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

राजनीति का बदला मानचित्र

सरकार की तरफ से जम्मू-कश्मीर में परिसीमन की प्रक्रिया शुरू किए जाने के दो साल बाद इसके लिए गठित आयोग ने 6 मई को रिपोर्ट सौंपी. आयोग 6 की मुख्य सिफारिशों में जम्मू क्षेत्र में छह नई विधानसभा सीटों का गठन करना है जिससे अब विधानसभा में उसके पास 43 सीटें होंगी जबकि कश्मीर में एक सीट बढ़ाकर उनकी संख्या 47 करना है. जम्मू को मिले इस अतिरिक्त महत्व की जम्मू-कश्मीर के मुख्य राजनैतिक दलों ने स्वाभाविक रूप से से आलोचना की है. उन्हें लगता है कि यह केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा की ओर से क्षेत्र में उन्हें दबाने की एक और कोशिश है.

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

फिर आइपीओ की हरियाली

भला डांवांडोल स्टॉक मार्केट जनता से पैसा जुटाने का मौजू वक्त होता है? मगर रूस-यूक्रेन जंग के तीसरे महीने में पहुंचने और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) तथा यूएस फेडरल रिजर्व के ब्याज दरें बढ़ाने के साथ बाजार में जब अनिश्चितता का बोलबाला हो, तो इसमें उतरने का सही वक्त भला किसे मानेंगे आप?

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

खालिस्तान की लंबी छाया

पंजाब पुलिस के खुफिया मुख्यालय पर हुआ हमला याद दिलाता है कि खालिस्तान का मुद्दा अब भी खदबदा रहा है. इस बार अलगाववादी अपने नापाक मकसदों के लिए गैंगस्टरों का इस्तेमाल कर रहे हैं

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022

कोई न बचा राजपक्षे का पक्षकार

राजपक्षे परिवार ने भाई-भतीजावाद और अविवेकपूर्ण नीतिगत फैसलों के जरिए श्रीलंका की अर्थव्यवस्था को तबाह और बर्बाद करके रख दिया. अब गुस्से में उबल रहा देश इन बंधुओं को पूरी तरह से सत्ता से बेदखल करना चाहता है

1 min read
India Today Hindi
May 25, 2022