तो क्या अब होकर ही रहेगी मुठभेड़?
India Today Hindi|October 13, 2021
तृणमूल बनाम ईडी/सीबीआइ
रोमिता दत्ता

पश्चिम बंगाल में कोयले की अवैध तस्करी से जुड़े धनशोधन मामले में तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी को महज दो हफ्ते के भीतर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से सितंबर के शुरू में तीसरा सम्मन मिला. उन्हें 21 सितंबर को ईडी के नई दिल्ली दफ्तर में पेश होने को कहा गया था. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक ने 6 सितंबर को ईडी अधिकारियों की नौ घंटे की पूछताछ झेली थी और 8 सितंबर की पेशी के लिए अगले सम्मन को यह कहकर नजरअंदाज कर दिया कि बहुत कम समय का नोटिस दिया गया.

ईडी ने 1 सितंबर को नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में तृणमूल के मंत्रियों फरहाद हाकिम और सुब्रत मुखर्जी, पार्टी के विधायक मदन मित्रा, कोलकाता के पूर्व मेयर सोभन चटर्जी और पूर्व आइपीएस अधिकारी एस.एम.एच मिर्जा के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया थ 14 सितंबर को उसने कोयला तस्करी मामले में कानून मंत्री मलय घटक को तलब किया था. एक दिन पहले ही सीबीआइ (केंद्रीय जांब्यूरो) ने उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी से 2015 के आइ-कोर चिट फंड मामले में पूछताछ की थी.

केंद्रीय जांच एजेंसियों की ये ताबड़तोड़ गतिविधियां 30 सितंबर को बहुप्रतीक्षित भवानीपुर विधानसभा उपचुनाव से ऐन पहले की हैं, जिसमें ममता चुनाव लड़ रही हैं. उन्हें विधानसभा में पहुंचने और मुख्यमंत्री का पद बरकरार रखने को इसे जीतना जरूरी है. तृणमूल के नेता ईडी की कार्रवाई को महज संयोग नहीं मानते. वे इसे राजनैतिक प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों के इस्तेमाल की भाजपा की चिरपरिचित चाल के रूप में देख रहे हैं. वे मिसाल देते हैं कि बंगाल में आठ चरणों में विधानसभा चुनाव शुरू होने से ठीक महीने भर पहले अभिषेक की पत्नी रुजिरा से सीबीआइ ने कोयले की अवैध तस्करी के मामले में पूछताछ की और विधानसभा चुनाव में 2 मई को पार्टी की शानदार जीत के ठीक बाद तृणमूल के चार वरिष्ठ नेताओं को नारद घोटाले में गिरफ्तार कर लिया गया.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM INDIA TODAY HINDIView All

बुंदेली जमीन पर बिछने लगी बिसात

उत्तर प्रदेश चुनाव

1 min read
India Today Hindi
December 08, 2021

...और अब एमएसपी पर जंग

किसान आंदोलन

1 min read
India Today Hindi
December 08, 2021

क्रिप्टो करेंसी का जुनून

क्रिप्टो के उन्माद को हवा दे रहा है डिजिटल मुद्रा में युवा भारतीयों का 6 अरब डॉलर का निवेश. क्या यह बुलबुला है जो फूटने का इंतजार कर रहा है?

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

क्यों इतना अहम है देवचा पचमी कोल ब्लॉक?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए देवचा पचमी कोयला खनन परियोजना अब तक की सबसे बड़ी चुनौती होगी. इस परियोजना में काफी वन इलाकों और 12 आदिवासी गांवों सहित हजारों एकड़ भूमि का अधिग्रहण शामिल है.

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

घरों में होने लगी घुसपैठ

अगले विधानसभा चुनावों के लिए पाले अब साफ-साफ खिंचने लगे. भाजपा ने सपा के मजबूत इलाकों में तो सपा ने भाजपाई गढ़ों में घुसपैठ के दांव चलने शुरू किए

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

सवाल+जवाब - अपनी जिंदगी का ऐंकर

नेटफ्लिक्स पर आई नई फिल्म धमाका में कार्तिक आर्यन एक अलग अंदाज वाले न्यूज ऐंकर के किरदार में हैं. और उनके मुताबिक, असल जिंदगी में वे एक ऐसे दौर में हैं जहां उनका मनचाहा सब कुछ उन्हें मिल रहा है

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

परिवारों को पहचान पत्र क्यों दे रही सरकार

हरियाणा की खट्टर सरकार की परिवार पहचान पत्र योजना का उद्देश्य सामाजिक कल्याण के लाभों की डिलिवरी में सुधार करने के लिए प्रमाणित नागरिकों का डेटा तैयार करना है

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

चलना है जरा संभल-संभल के

कोविड-19 बच्चों का टीका

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

शीर्ष पर हमला

भारत में माओवादी उग्रवाद के लिए नवंबर बहुत ही खराब महीना साबित हुआ. चार शीर्ष नेताओं का काम तमाम होने के बाद उनका नेतृत्व चरमरा गया

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021

उग्रवाद की वापसी!

म्यांमार सीमा के पास एक सैन्य काफिले पर भीषण हमले ने राज्य में हालिया अतीत में कायम शांति को छिन्न-भिन्न कर दिया है और भारत में सबसे लंबे चलने वाले विद्रोहों में से एक को लेकर नए सवाल खड़े कर दिए हैं

1 min read
India Today Hindi
December 01, 2021