शांति बहाली के लिए लंबी जद्दोजहद
India Today Hindi|July 28, 2021
घाटी में पिछले कुछ वर्षों में आतंकवाद और हिंसा की घटनाओं में निश्चित तौर पर गिरावट देखी गई है लेकिन सुरक्षा बल आतंकवादियों के ड्रोन के इस्तेमाल और सीमा पार से भारी मात्रा में आ रहे नशीले पदार्थों की खेप जैसे नए खतरों से निपटने के लिए तैयार हो रहे हैं
राज चेंगप्पा

लेफ्टिनेंट जनरल डी.पी.

पांडे 57 वर्ष जनरल ऑफिसर कमांडिंग, चिनार कोर, भारतीय सेना

कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) की रखवाली करने के अलावा जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ मिलकर घाटी में आतंकवाद विरोधी अभियान चलाने वाले भारतीय सेना के श्रीनगर स्थित चिनार या 15 कोर के जनरल-ऑफिसर-कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल डी.पी. पांडे के लिए यह बहुत तनाव भरा दिन था. 2 जुलाई को सुरक्षा बलों के संयुक्त दल ने आतंकियों के छुपे होने की खबर मिलने के बाद पुलवामा जिले के राजपोरा इलाके में घेरा लगाया. फिर मुठभेड़ में पांच आतंकवादियों को मार गिराया गया, जिसमें लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) का एक जिला कमांडर भी शामिल था. लेकिन इस कार्रवाई में सेना के 44 राष्ट्रीय राइफल्स के एक हवलदार भी शहीद हो गए. एक सहयोगी ने पांडे को जवान की शहादत की जानकारी देते हुए एक पर्ची भेजी. उन्होंने पर्ची देखी और कुछ पल के लिए मौन हो गए. मन की पीड़ा आंखों में उतर आई.

पांडे को जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद रोधी अभियानों का लंबा अनुभव है. इससे पहले, वे कुपवाड़ा, बारामूला और श्रीनगर की रखवाली करने वाले राष्ट्रीय राइफल्स की किलो फोर्स की कमान संभाल चुके हैं. मुठभेड़ में सैनिक की जान जाने के बावजूद पांडे पूरे विश्वास से कहते हैं, सभी सुरक्षा मापदंडों के आधार पर, घाटी में वर्तमान स्थिति बहुत अच्छी है. आतंकी घटनाओं, उनके जुल्म, विस्फोटकों के उपयोग, नागरिकों की मौत, पथराव और कानून-व्यवस्था से जुड़ी दूसरी चिंताओं में काफी कमी आई है. वे कहते हैं, आप किसी भी तरह की हिंसा को ले लें, उसमें पांच साल पहले की तुलना में 50-60 फीसद तक कमी आई है. जहां तक विरोध प्रदर्शनों की बात है, पथराव पहले की तुलना में 10 प्रतिशत भी नहीं है. स्थानीय काडर से आतंकवादियों की भर्ती भी इस साल कम रही है. मैं यह नहीं कहूंगा कि यह न के बराबर है, लेकिन इसमें खासी गिरावट है.

15वीं कोर के मुख्यालय में जहां पांडे बैठते हैं वहां से थोड़ी ही दूर पर कश्मीर डिविजन के पुलिस महानिरीक्षक (आइजीपी) विजय कुमार पुलिस के केंद्रीय निगरानी केंद्र का दौरा कर रहे हैं. इस केंद्र को एक अजीब नाम 'कार्गो' से पुकारा जाता है (क्योंकि इस जगह का इस्तेमाल कभी एयर इंडिया अपना कार्गो भेजने के लिए करता था.) निगरानी केंद्र में, विजय कुमार को एक हाइ-टेक सर्विलांस वेहिकल दिखाया जा रहा है जो कानून-व्यवस्था की बहुत नजदीक से निगरानी के लिए नवीनतम उपकरणों से लैस है. बगल के कमरे में, टीवी मॉनिटरों की कतारें हैं जिनसे श्रीनगर की हर संवेदनशील सड़क पर नजर रखी जाती है. सड़कों पर लगे शक्तिशाली कैमरे आसपास के किसी भी संदिग्ध व्यक्ति की करीब से ली गई तस्वीरें तुरंत भेजते हैं. पुलिस और सेना के बीच ऐसा समन्वय है कि जिस समय पांडे को जवान की मौत की खबर मिली, विजय कुमार मीडिया के लिए ट्वीट तैयार कर रहे थे जिसमें शहीद हवलदार की बहादुरी की सराहना और मिशन को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए संयुक्त बलों को बधाई दी गई.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM INDIA TODAY HINDIView All

युद्ध या शांति?

असम सरकार ने 11 सितंबर को सशस्त्र बल (विशेषाधिकार) अधिनियम, (एएफएसपीए), 1958 के तहत राज्य के अशांत क्षेत्र के दर्जे को फिर से अगले छह महीने के लिए विस्तार दे दिया है. राज्य सरकार ने इस विस्तार के पीछे की वजह को अभी तक नहीं बताया है. वहीं, इस कदम को ऐसे समय में उठाया गया है जब केंद्र और राज्य सरकार, दोनों की अगुआई भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कर रही है, और जिसका लगातार यह दावा रहा है कि पूर्वोत्तर के इस राज्य में अब शांति वापस आ गई है.

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

दो नायबों की दास्तान

उत्साह से भरी भाजपा ने 2025 के बिहार विधानसभा चुनाव के लिए 'आत्मनिर्भर' योजना तैयार की है. दो वर्तमान उप-मुख्यमंत्री इसके लिए मंच तैयार कर रहे

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

दाने-दाने में है दम पर सेहतमंद न हो जाएं बेदम

सरकार की ओर से फोर्टिफाइड चावल को राष्ट्रीय मानक बनाना सुविचारित कदम है, लेकिन विशेषज्ञ पोषक तत्वों की अधिकता से होने वाले जोखिमों के प्रति कर रहे हैं आगाह

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

दीदी मतलब अब कारोबार

ममता बनर्जी सरकार को टाटा के लिए फिर से रेड कार्पेट बिछाने में एक दशक और तीन विधानसभा चुनावों में जीत का समय लगा. ममता नंदीग्राम-सिंगूर में टाटा नैनो फैक्ट्री (2006-08) के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ किसानों के आंदोलन के दम पर सत्ता में आई थीं और उनकी सरकार लंबे समय तक अपनी उद्योग विरोधी छवि से मुक्त नहीं हो पाई.

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

दिक्कत भरी शुरुआत

रक्षा मंत्रालय की पनडुब्बियां, लड़ाकू विमान, युद्धक टैंक और हेलिकॉप्टर निर्माण के लिए दूसरी उत्पादन शृंखला बनाने की महत्वाकांक्षी योजना सुस्ती का शिकार हो गई है

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

गुलदारों से गुलजार गलियारा

झालाना रिजर्व फॉरेस्ट में लेपर्ड सफारी की कामयाबी से उत्साहित होकर झालाना से सरिस्का तक लेपर्ड कॉरिडोर बनाने की योजना

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

एसेट मॉनिटाइजेशन- इस बार बड़ा ख्वाब

मोदी सरकार की सार्वजनिक क्षेत्र की संपत्तियों के 'मॉनिटाइजेशन' यानी निजी क्षेत्र को लंबे वक्त के लिए लीज पर देकर अगले चार वर्षों में 6 लाख करोड़ रुपए उगाहने की ख्वाहिश, क्या वह इस बड़े बदलाव में कामयाब हो पाएगी?

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

गुजरात का गेमप्लान

गुजरात में मुख्यमंत्री बदलने के पीछे दो मकसद हैं: पाटीदार समुदाय को संतुष्ट करना और भाजपा कार्यकर्ताओं में असंतोष से निपटना. क्या नए मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल 2022 के चुनाव से पहले सबको एकजुट रख पाएंगे?

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

शटर गिराकर चल दिए !

ऑटोमोबाइल सेक्टर

1 min read
India Today Hindi
September 29, 2021

मालवा में सांप्रदायिक लावा

एक के बाद एक कई सांप्रदायिक घटनाओं ने मध्य प्रदेश के समृद्ध पश्चिमी भाग मालवा को हिलाकर रख दिया है. लोग आशंकित हैं कि न जाने कब क्या हो जाए?

1 min read
India Today Hindi
September 22, 2021
RELATED STORIES

Paris Must Not Lead To Barricades

After terrorists strike, the first instinct is to raise walls. But democracies thrive on openness.

6 mins read
Bloomberg Businessweek
November 23 - November 29 2015

अफगानिस्तान में खरबों डॉलर झोंक कर भी क्यों हार गया अमेरिका ?

पिछले 20 वर्षों में तालिबान को बाहर करने के लिए अमेरिका ने अफगानिस्तान में खरबों डॉलर झौंक दिए हैं, यह एक ऐसा प्रयास था जो स्पष्ट रूप से असफल रहा। लेकिन देश की सामरिक भौगोलिक स्थिति और क्षेत्र की राजनीति (तालिबान के समर्थन सहित) पर एक नज़र हमें बताती है कि यह परिणाम होना ही था।

1 min read
Open Eye News
August 2021

दिल्ली पुलिस ने किया छह आतंकवादियों को गिरफ्तार

भारत को आंतकी दहशत से दहलाने की नापाक साजिश का पर्दाफाश

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
September 15, 2021

सुरक्षा बलों ने मारे तीन आतंकी, अब तक 100

कश्मीर में बड़ी कामयाबी

1 min read
Hari Bhoomi
August 25, 2021

मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में शुक्रवार को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकवादी मारे गए।

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
August 21, 2021

अफगानी सेना ने 89 तालिबानी मार गिराए

अफगानिस्तान के सेना प्रमुख की इस हफ्ते होने वाली भारत यात्रा रद्द

1 min read
Hindustan Times Hindi
July 27, 2021

चार दिन में मारे गए 967 तालिबानी लडाके

अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में भीषण संघर्ष जारी

1 min read
Hari Bhoomi
July 19, 2021

अमेरिका को सता रहा भय, काबुल को अफगानिस्तान से काट सकता है तालिबान

अफगानिस्तान में जिस तेजी से तालिबान आतंकी अपने पैर पसार रहे हैं, उससे अमेरिका टेंशन में आ गया है। अमेरिका के खुफिया अधिकारियों ने आशंका जताई है कि तेजी से बढ़ता तालिबान आने वाले समय में काबुल सरकार के सामने भूखों मरने की नौबत ला सकता है।

1 min read
Hari Bhoomi
July 19, 2021

लश्कर का कमांडर और एक पाकिस्तानी आतंकवादी ढेर

श्रीनगर में मुठभेड़

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
June 30, 2021

हिज्बुल मुजाहिदीन के तीन आतंकियों पर कसा शिकंजा, एनआईए ने कोर्ट में पेश की चार्जशीट

केंद्रीय जांच एजेंसी ने किश्तवाड़ साजिश की जांच के बिंदुओं को किया प्रस्तुत

1 min read
Haribhoomi Delhi
May 23, 2021