ऑक्सीजन और वनों की उपयोगिता
Gambhir Samachar|May 01, 2021
कोरोना वैक्सीन छोड़िए, इस संकट में लोगों को ऑक्सीजन तक नसीब नहीं हो रही है. 'कोरोना सांसे छीन रहा है', अब तक लोग सुनते आ रहे थे पर जिस तरह से सभी राज्यों में ऑक्सीजन की कमी हुई है, उसमें लोग यह दर्दनाक वाकया देखने को मजबूर हो गए हैं. आत्मा सिहर कर रह जाती है, जैसे ही कोई अखबार पढ़ो या टीवी देखो. हर तरफ कोरोना ने कोहराम मचा रखा है. उससे भी ज्यादा दुरवद यह है कि लोगों को ऑक्सीजन तक मयस्सर नहीं हो रही है.
प्रज्ञा प्रतीक्षा तिवारी

आपको याद है कि बचपन की किताबों में एक न एक पाठ जरूर ऐसा होता था, जिसमें हमें ऑक्सीजन की अहमियत बताई जाती थी. बताया जाता था कि ऑक्सीजन नहीं तो इंसान भी नहीं. जितने ज्यादा धरती पर पेड़-पौधे होंगे, उतना ज्यादा ऑक्सीजन बनेगी. लोगों को सांस से जुड़ी तकलीफों का सामना नहीं करना पड़ेगा पर हुआ क्या? किताबी बातें थीं तो भूल गए सब. क्या फर्क पड़ता है. दुनिया तो चल रही है. जब सामने वाला परवाह नहीं कर रहा, वो पेड़ नहीं लगा रहा तो हम क्यों अच्छे बनें? इंसान तो वैसे भी उस रेल के इंजन की तरह है, जिसमें अगर कोई एक राह पर जा रहा है, तो लोग आंखें बंद करके उसपर चलना ही ठीक समझते हैं.

कहते हैं कि जब धरती शुरू हुई थी तब इतनी हरियाली थी कि बीमारी का कोई नामो-निशां ही नहीं था. इतना शुद्ध वातावरण था कि ऑक्सीजन की भरपूर मात्रा मिलने के चलते लोग सालों-साल जीते थे. नदियों का पानी इतना साफ था कि राह चलते किसी को प्यास लग जाती थी तो नल या मिनरल वॉटर को ढूंढने की कोई जरूरत नहीं पड़ती थी. उस जमाने के लोग बहती नदी के पानी से आराम से प्यास बुझा लेते थे. पर जब से इंसानों की संख्या बढ़ी है, नदियों के आंचल को तो मैला किया ही है, पेड़ों को तो इस बेरहमी से काट दिया जाता है कि मानों उनका धरती के लिए कोई अस्तित्व ही नहीं है.

इंसान खुद के विकास में इतना अंधा हो गया कि उसने पेड़ों को अंधाधुंध काटना शुरू कर दिया. शहर तो शहर, आज गांवों में भी पेड़ों की संख्या काफी कम हो गई है. अपने स्वार्थ के लिए उसने धरती से उसके हरे-भरे साथियों को ही छीन लिया. पेड़ों ने हर तरह से इंसानों को इतना सब कुछदिया कि वह कभी इसका मूल्य नहीं लगा सकता पर अगर इंसान एक पेड़ लगा दे तो वह एक 'जीवन' को जरूर बचा सकता है. बता दें कि पेड़-पौधे हवा को शुद्ध करने, कार्बन डाई ऑक्साइड को सोखने और ग्रीन हाउस प्रभाव वाली गैसों के प्रभाव को कम करने में सहायक होते हैं. जिस तरह से आज पूरी दुनिया में मशीनीकरण बढ़ा है, वह दिन दूर नहीं, जब लोगों को पानी की तरह ही ऑक्सीजन खरीद कर जिंदगी जीनी होगी.

पूरे विश्व भर में लोग पर्यावरण बचाने को सिर्फ सौंदर्गीकरण का ही नाम दे रहे हैं. जंगलों को काट कर पार्क बना दिए जा रहे हैं. कोई यह मानने को तैयार ही नहीं है कि पार्क बनाने और पुराने पेड़ों को काटकर वह अपने ही सर्वनाश की ओर बढ़ रहे हैं. आपको पता होना चाहिए कि केवल धरती है ऐसा ग्रह है, जहां पर ऑक्सीजन मौजूद है. ये ऑक्सीजन भी वह कीमती हवा है, जो ये हरे पेड़-पौधे अपनी सांस के रूप में छोड़ते हैं. मतलब समझते हैं इसका कि हम इंसान इन पेड़-पौधों की उस जूठन पर जिंदा हैं, जो ये बेचारे खुद की सांस के रूप में बाहर निकालते हैं पर हम इंसान भी न, जिंदगी देने वालों की ही कद्र नहीं कर रहे हैं.

इंसान जब से पैदा होता है, उस दिन से वह इस धरती के हर पेड़-पौधे का कर्जदार होना शुरू हो जाता है. उसकी एक-एक सांस उसे प्रकति का कर्जदार बनाती है. कभी आपने सोचा है कि अगर जरा सी देर के लिए भी ऑक्सीजन पूरी तरह से धरती पर खत्म हो जाए तो क्या होगा? तो जानिए अगर ऑक्सीजन कुछ सेकेंड्स के लिए पूरी तरह से धरती पर खत्म हो जाए तो सूरज की रोशनी परावर्तित नहीं होगी. नीला दिखने वाला आसमान काला हो जाएगा. ऑक्सीजन की कमी में हमारे कान के पर्दे फट जाएंगे. सैकड़ों तरह की बीमारियां इंसानों पर इस तरह हमला कर देंगी कि मानों वह सेना के साथ तैयार ही बैठी थीं.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM GAMBHIR SAMACHARView All

भारत में क्यों सफल नहीं होते अलक़ायदा जैसे संगठन?

भारत के बारे में यह कहा जाता रहा है कि यह दुनिया का एक ऐसा मुल्क है जहां दुनिया भर से लोग आए, अपने चिंतन साथ लाए, साथ ही वे अपने देवता को भी लेकर आए. जहां से वे आए थे, आज वहां उनका चिंतन और देवता दोनों खत्म हो चुके हैं, कोई नाम लेने वाला नहीं है लेकिन भारत में वह जिंदा है. भारत में जब इस्लाम आया तो भारत की जनता ने उसका भरपूर स्वागत किया. इस्लामी देश में कोई महिला शासन कर सकती है, ऐसा उदाहरण नहीं के बराबर मिलता है लेकिन भारत में रजिया सुल्तान ने न केवल दिल्ली पर शासन किया अपितु उसका शासन पूरे सल्तनत काल का सबसे बढ़िया शासन माना जाता है.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

ब्लैक फंगस संक्रमण

आंखों से ब्रेन तक तेजी से फैल रहा है

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

देश के खिलाफ एक बड़ा षड्यंत्र?

कांग्रेस सत्ता में रहते हुए सत्ता में बने रहने के लिए और सत्ता से बाहर होने पर सत्ता में वापसी के लिए हमेशा से ही षड्यंत्र करती आयी हैइस षड्यंत्र को कांग्रेस पूरी ईमानदारी के साथ एक लिखित पुस्तिका का रूप देती है-जिसे बोलचाल की भाषा में टूलकिट कहा जाता है.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

भारत-चीन व्यापार की शर्ते बेहतर होनी चाहिए

व्यापार के शास्त्रीय सिद्धांत यह मानते हैं कि देशों को ऐसे उत्पादों के निर्माण में विशेषज्ञता हासिल करनी चाहिए, जिनमें उन्हें तुलनात्मक (लागत) लाभ हो और मांग को पूरा करने, खपत और कल्याण में सुधार के लिए अन्य उत्पादों की खरीद करना चाहिए.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

कोरोना वैक्सीन लेने में अब भी किन्तु-परन्तु क्यों?

कोरोना की काट वैक्सीन को लेकर अब भी देश में बहुत से खास और आम लोगों में डर का भाव दिखता है. वे इसे लगवाने से बच रहे हैं. आप यह भी कह सकते हैं कि उनकी वैक्सीन लगवाने में कोई दिलचस्पी ही नहीं है. इस तरह तो देश में कोरोना को मात देना कठिन होगा.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

अनूठा उदाहरण है इजराइल

इस दुनिया में मात्र दो ही देश धर्म के नाम पर अलग हुए हैं. या यूं कहे, धर्म के नाम पर नए बने हैं, वे हैं पाकिस्तान और इजरायल. दोनों के बीच महज कुछ ही महीनों का अंतर हैं. पाकिस्तान बना 14 अगस्त, 1947 के दिन और इसके ठीक नौ महीने के बाद, अर्थात 14 मई, 1948 को इजरायल की राष्ट्र के रूप में घोषणा हुई.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

केंद्र और राज्य के बिगड़ते संबंध

पश्चिम बंगाल में चुनाव के पहले से सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और सत्ता पर आने की महत्वाकांक्षी भाजपा के बीच हिंसक टकराव चल रहे थे. दस बरस से मुख्यमंत्री चली आ रहीं ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ जनता के बीच स्वाभाविक रूप से पनपने वाले असंतोष की शिकार भी हो सकती थीं, और सत्ता से बाहर जा सकती थीं, और ऐसी ही उम्मीद में भाजपा ने वहां पर सरकार बनाने के दावे भी किए थे.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

कोरोना का काम तमाम करेगी 2-डीजी

डीजीसीआई के मुताबिक 2-डीजी दवा के प्रयोग से कोरोना वायरस के ग्रोथ पर प्रभावी नियंत्रण से अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों के स्वास्थ्य में तेजी से रिकवरी हुई और इसके अलावा यह मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरत को भी कम करती है.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

एक म्यान...और तीन तलवार

मध्यप्रदेश में 14 महीने पहले महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया की मदद से मुख्यमंत्री बने शिवराज सिंह चौहान और उनके निकट साथी केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की तिकड़ी में टकराव की खबरें छन-छनकर आने लगी हैं. कॉरोनकाल में ये टकराव अब तक सतह के नीचे था किन्तु अब ये टकराव सतह के ऊपर दिखाई देने लगा है.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021

शांति कब तक?

पश्चिम एशिया में युद्ध विराम हो जाने से दुनिया ने चैन की सांस ली है. लेकिन यह युद्ध विराम स्थाई होगा इसकी संभावना कम है. यह शांति कब तक रहेगी, इसे लेकर संशय बरकरार है. इसका कारण यह है कि फिलिस्तीन के साथ ही इस्लामिक दुनिया में कुछ लोग हैं जो न स्वयं शांति से रहते हैं न दूसरे को रहने देते हैं. वे किसी अन्य के स्वरूप और अस्तित्व को स्वीकार नहीं करते. सबको अपने रंग में रंगना चाहते हैं.

1 min read
Gambhir Samachar
June 1, 2021
RELATED STORIES

Idaho Star Garnet

Brilliant colors enhance the beauty and add to the value of many of our gemstones, especially those that are clear or translucent. And I like any color… as long as it is red. For that reason, the blood-red ruby is about my favorite gemstone. And in museums around this country and in Europe I have seen carefully cut cabochons containing startling six-rayed stars that seem to slide over the surface of the stone as it is rotated in the light. It is no wonder that, for hundreds of years, the star ruby has been one of the favorite stones of royalty.

4 mins read
Rock&Gem Magazine
June 2021

Forests – Last Stands

The soothing escapes that old-growth forests provide are probably much closer than you think. But they’re under siege

10 mins read
Bloomberg Businessweek
April 26 - May 03, 2021 (Double Issue)

UF Scientists Sequence Genome of the Supersweet Corn You've Nibbled for 20-Plus Years

SWEET CORN, a food favorite for many consumers, serves as a major crop for Florida. Earlier research by UF/IFAS scientists led to an even sweeter sweet corn dubbed “supersweet” because it has more sugar than other types of the staple crop.

2 mins read
Central Florida Ag News
March 2021

MAKE YOUR VEHICLE BUG-OUT READY

GET AWAY FROM TROUBLE FASTER WITH THESE SIMPLE TIPS.

8 mins read
American Survival Guide
March 2021

AN EXCLUSIVE INTERVIEW WITH Michelle Valberg

Light & Motion Master of Light, and Canadian Geographic Photographer-in-Residence

9 mins read
Lens Magazine
December 2020

DESTINATION DUBOIS

HEAD TO WYOMING TO EXPLORE A HIDDEN GEM SANDWICHED BETWEEN TWO MOUNTAIN RANGES AND WILDERNESS AREAS.

10 mins read
Horse and Rider
Winter 2020

MOON HOLDS MORE WATER IN MORE PLACES THAN EVER THOUGHT

NASA’s astrophysics director Paul Hertz said it’s too soon to know whether this water — found in and around the southern hemisphere’s sunlit Clavius Crater — would be accessible.

3 mins read
Techlife News
Techlife News #470

Artist Esther van Hulsen

Born in the Netherlands in 1981, Esther van Hulsen has been drawing animals for as long as she remembers.

2 mins read
Prehistoric Times
Fall 2020 # 135

TOO STUPID TO FAIL

How to change your internal dialogue and change your life for the better

10+ mins read
Transformation Magazine
October 2020

VENUS: ASTRONOMERS SEE POSSIBLE HINTS OF LIFE IN CLOUDS

Astronomers have found a potential sign of life high in the atmosphere of neighboring Venus: hints there may be bizarre microbes living in the sulfuric acid-laden clouds of the hothouse planet.

4 mins read
AppleMagazine
AppleMagazine #464