चीन का पाकिस्तान को 'तुगरिल' का तोहफा,भारतीय नौसेना भी तैयार
DASTAKTIMES|December 2021
पाकिस्तान और भारतीय नौसेनाओं के बीच बहुत बड़ा अन्तर है। दुनिया भर की सेनाओं की ताकत का विश्लेषण करने वाली ग्लोबल फायर इंडेक्स वेबसाइट के अनुसार भारत के पास वर्तमान में 285 युद्धपोत हैं। कुछ ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत के पास वर्तमान में 17 पनडुब्बियां हैं। इनमें 16 डीजल से और एक परमाणु ऊर्जा द्वारा संचालित है। जबकि पाकिस्तान के पास डीजल से चलने वाली नौ पनडुब्बियां हैं। फ्रिगेट की तुलना की जाये तो भारत को पाकिस्तान पर बढ़त हासिल है। लेकिन, अगर चीन के लिहाज से देखें तो स्थिति काफी अलग है।
विनय सिंह

पाकिस्तान और चीन के साथ भारत के रिश्ते बेहद तनावपूर्ण हालात से गुजर रहे हैं। पाकिस्तान जहां अपने अस्तित्व के बाद से ही भारत विरोधी गतिविधियों में संलिप्त है। वहीं चीन की चालबाजियां भी किसी से छिपी नहीं हैं। इस पर भी इन दोनों पड़ोसी मुल्कों की बढ़ती नजदीकियां भारत के लिए बड़ी चुनौती बनती जा रही हैं। चीन का पाकिस्तान को अत्याधुनिक युद्धपोत पीएनएस तुगरिल देना इसी की कड़ी है। ऐसे में दोधारी तलवार से निपटने को भारतीय नौसेना भी तेजी से जुट गई है। समुद्र में दुश्मनों को चुनौती देने के लिए भारतीय नौसेना ने हाल ही में स्कॉर्पियन श्रेणी की नई पनडुब्बी आईएनएस वेला और विध्वंसक आईएनएस विशाखापट्टनम को अपने बेड़े में शामिल किया है। पाकिस्तानी नौसेना ने हाल ही में चीन में निर्मित 054एपी युद्धपोत खरीदा है। इसे पीएनएस तुगरिल नाम दिया गया है। यह अब तक चीन द्वारा किसी भी देश को दिया जाने वाला सबसे बड़ा और आधुनिक युद्धपोत है। इसमें सतह से सतह पर, सतह से हवा में और पानी के अंदर मार करने की जबर्दस्त क्षमता है। पाकिस्तान इस युद्धपोत को हिंद महासागर में तैनात कर अपनी ताकत का प्रदर्शन करेगा।

पाकिस्तान नौसेना के मीडिया विंग के महानिदेशक, कैप्टन राशिद के बयान के मुताबिक तुगरिल वर्ग का पहला युद्धपोत, एचजेड शिपयार्ड, चीन के शंघाई में बना है। इसी तरह के तीन और युद्धपोत हैं, जो अगले साल के अंत तक पाकिस्तानी नौसेना में शामिल हो जायेंगे। कैप्टन राशिद के मुताबिक इन जहाजों को नौसैनिक बेड़े में शामिल करने से नौसेना की ताकत बढ़ेगी। इस युद्धपोत पर लगे हथियारों और सेंसर के कारण, ये प्रदर्शन की उत्कृष्ट मिशाल हैं, जो समुद्र में कई तरह के ऑपरेशन करने में सक्षम हैं। इसमें जमीन पर, हवा में और पानी में पनडुब्बियों को निशाना लगाने की क्षमता शामिल है। चार हजार टन भार के युद्धपोत मिलने से आवश्यक रक्षा क्षमता हासिल होगी, जिसका मतलब समुद्री सीमाओं और तटीय क्षेत्रों के लिए संभावित खतरों को समाप्त करना होगा। इसके साथ ही समुद्री परिवहन के साधनों को सुरक्षित करने में भी ये मददगार होगा।

पीएनएस तुगरिल मनीला, मलेशिया और श्रीलंका सहित क्षेत्रीय ठिकानों से होते हुए एक महीने में पाकिस्तान पहुंचेगा। इसके साथ ही 054एपी प्रकार का एक और युद्धपोत अगले छह महीनों में पाकिस्तान को मिल जाएगा और अगले छह महीने बाद तीसरा युद्धपोत भी पाकिस्तान के बेड़े में शामिल हो जायेगा। पाकिस्तान की नौसेना के बेड़े में जितने भी जहाज शामिल हुए हैं, तुगरिल उन सभी में सबसे आधुनिक जंगी कार्रवाई की क्षमता वाला युद्धपोत है।

दरअसल पाकिस्तानी नौसेना ने साल 1993 और 1994 के बीच ब्रिटिश रॉयल नेवी से चार युद्धपोत लिये थे। चार जहाजों पीएनएस बद्र, पीएनएस टीपू सुल्तान, पीएनएस बाबर और पीएनएस शाहजहां को उनका कार्यकाल पूरा होने पर बेड़े से हटा दिया गया था। पाकिस्तान की नौसेना ने चीन से 054 एपी प्रकार के युद्धपोत खरीदे और उन्हें ब्रिटेन से खरीदे गए 21 फ्रिगेट की जगह उपयोग करना शुरू कर दिया है, क्योंकि इन जहाजों ने भी अपना कार्यकाल पूरा कर लिया था। जून 2017 में, पाकिस्तान ने चीनी नौसेना द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे हथियारों और सेंसर से लैस 054एपी प्रकार के फ्रिगेट का ऑर्डर दिया था।

इन सबके बीच अभी भी पाकिस्तान और भारतीय नौसेनाओं के बीच बहुत बड़ा अन्तर है। दुनिया भर की सेनाओं की ताकत का विश्लेषण करने वाली ग्लोबल फायर इंडेक्स वेबसाइट के अनुसार भारत के पास वर्तमान में 285 युद्धपोत हैं। कुछ ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत के पास वर्तमान में 17 पनडुब्बियां हैं। इनमें 16 डीजल से और एक परमाणु ऊर्जा द्वारा संचालित है। जबकि पाकिस्तान के पास डीजल से चलने वाली नौ पनडुब्बियां हैं। फ्रिगेट की तुलना की जाये तो भारत को पाकिस्तान पर बढ़त हासिल है। लेकिन, अगर चीन के लिहाज से देखें तो स्थिति काफी अलग है। अमेरिकी रक्षा विभाग के एक बयान के मुताबिक पानी के जहाजों के लिहाज से चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना है। वर्ष 2020 के अंत चीनी नौसेना के पास 70 से अधिक पनडुब्बियां (एसएसबीएन) थीं, जिनमें से सात परमाणु-संचालित और मिसाइलों से लैस हैं। वहीं 12 न्यूक्लियर अटैक सबमरीन (एसएसएन) हैं, और 50 डीजल से चलने वाली अटैकिंग सबमरीन भी चीनी नौसेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (पीएलएएन) में मौजूद हैं। वहीं अपनी स्थिति में सुधार के लिए भारत सरकार ने अगले दस वर्षों में 56 युद्धपोत खरीदने की योजना को मंजूरी दी है। रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार, दूसरी ओर पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पूंजी की कमी से जूझ रही है, इसलिए फ्रिगेट और पनडुब्बियों सहित आधुनिक हथियार हासिल करने के लिए, पाकिस्तान ने अपने सैन्य सहयोगी चीन की तरफ कदम तक, बढ़ाया है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM DASTAKTIMESView All

टॉप गियर में योगी सरकार विरोधी दल में कलह

उत्तर प्रदेश की राजनीति में विपक्ष का सारा दारोमदार समाजवादी पार्टी पर आन पड़ा है। योगी सरकार को सदन में दो तिहाई बहुमत प्राप्त है। तो भी विरोधी दल यानी सपा का यह संख्या बल उसको घेरने के लिए पर्याप्त है। समाजवादी पार्टी अगले चुनावों तक जनता में अपने लिए कितना समर्थन और सम्मान अर्जित कर पाती है, यह सदन और सदन से बाहर उसके प्रदर्शन पर ही निर्भर करेगा। अखिलेश यादव ने इस अवसर को अच्छी तरह पहचाना है। लेकिन जिसे कहते हैं, सिर मुढ़ाते ही ओले पड़ना, समाजवादी पार्टी शक्तिशाली विपक्ष की भूमिका में आने से पहले ही अपने आन्तरिक कलह में घिर गई है।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

हाइब्रिड सुरक्षा मॉडल समय की मांग

हाइब्रिड सुरक्षा मॉडल समय की मांग है। निजी क्षेत्र की विभिन्न औद्योगिक और विनिर्माण इकाइयों को प्रभावी सुरक्षा मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार का अर्धसैनिक बल सीआईएसएफ और निजी सुरक्षा एजेंसियां एक साथ मिल कर काम कर सकती हैं। गृह मंत्रालय का मानना है कि सीआईएसएफ जैसे सुरक्षा बल अकेले देशभर में निजी क्षेत्र की विभिन्न औद्योगिक और विनिर्माण इकाइयों को प्रभावी सुरक्षा मुहैया नही उपलब्ध करा सकते। इसी कड़ी में सीआईएसएफ से निजी सुरक्षा एजेंसियों को प्रशिक्षण देने की जिम्मेदारी लेने पर विचार करने को भी कहा गया है।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

भीमताल : मशरूम क्रांति का नया पड़ाव

उत्तराखंड के पर्वतीय ग्रामीण क्षेत्रों से पलायन रोकने के लिए मशरूम की खेती को एक बड़े समाधान के रूप में देखा जा रहा है। इसीलिए नैनीताल के मुख्य विकास अधिकारी डॉ. संदीप तिवारी का कहना है कि गांवों से पलायन रोकने के लिए मशरूम उत्पादन, पॉलीहाउस योजना, बागवानी, मत्स्य पालन समेत अन्य योजनाओं से लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

ट्रेडिशनल मेडिसिंस के क्षेत्र में बजता भारत का डंका

डब्ल्यूएचओ ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन, विश्व में अपनी तरह का पहला केन्द्र है, जिसका 19 अप्रैल, 2022 को जामनगर में उद्घाटन किया गया। इस केन्द्र का लक्ष्य पारंपरिक चिकित्सा की क्षमता को तकनीकी प्रगति और साक्ष्य - आधारित अनुसंधान के साथ एकीकृत करना है। जामनगर इसके आधार के रूप में कार्य करेगा और इस नए केंद्र का उद्देश्य विश्व को शामिल करना और उसे लाभान्वित करना है।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

चारधाम यात्रा श्रद्धालुओं के आतिथ्य को तैयार धामी सरकार

यात्रियों को देवभूमि में दिल खोलकर स्वागत हो और उन्हें किसी प्रकार की कोई असुविधा न हो, इसके लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अधिकारियों को सभी व्यवस्थाएं समय पर दुरस्त करने के निर्देश दिए हैं। यात्रा से जुड़ी सभी तैयारियों पर मुख्यमंत्री स्वयं नजर बनाए हुए हैं। अब तक एक लाख से अधिक यात्री चारधाम यात्रा के लिए अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

मुस्लिम तुष्टीकरण - राज्य सरकारें हिन्दुओं को घोषित कर सकती हैं अल्पसंख्यक

हाल ही में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम 1992 चर्चा में रहा क्योंकि हाल ही में एक याचिका दायर करके केंद्र सरकार द्वारा अल्पसंख्यकों को दर्जा देने के अधिकार पर चुनौती पेश की गई है और ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि हाल ही में केंद्र सरकार ने इस बात पर विचार करना शुरू किया था कि जिन राज्यों में हिंदुओं की संख्या काफी कम हो गई है वहां पर हिंदुओं को अल्पसंख्यक घोषित कर दिया जाए, इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को 4 सप्ताह का समय देते हुए इस बारे में स्पष्टीकरण देने को कहा है।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

सियासत की नयी तस्वीर गढते धामी उत्तराखंड की राजनीति में नए युग का आगाज

धामी के बहाने सिर्फ भाजपा ही नहीं, उत्तराखंड की सियासी तस्वीर बदलने जा रही है। प्रदेश की राजनीति में भुवन चंद खंडूरी, भगत सिंह कोश्यारी, विजय बहुगुणा, हरीश रावत, हरक सिंह, दिवाकर भट्ट, काशी सिंह ऐरी का युग अब लगभग खत्म सा हो गया है। रमेश पोखरियाल निशंक, त्रिवेंद्र सिंह रावत, अजय भट्ट, मदन कौशिक, सतपाल महाराज और गणेश जोशी की सियासी पारी भी ढलान पर है। राज्य की सियासत को हर कहीं अब नए नेतृत्व की दरकार है। वैसे भी भाजपा रणनीतिक रूप से तमाम राज्यों में नए नेतृत्व पर फोकस कर ही रही है। इसी क्रम में उत्तराखंड में भी भाजपा का सियासी दौर बदल रहा है।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

जीरो टॉलरेंस और सुशासन हमारी प्रतिबद्धता : धामी

उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी नई पारी में बदले - बदले से नजर आ रहे हैं।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

जम्मू कश्मीर के लिए 20 हजार करोड़

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांबा में 3100 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनी बनिहाल काजीगुंड सड़क सुरंग का उद्घाटन किया। कुल 8.45 किलोमीटर लंबी यह सुरंग सड़क मार्ग से बनिहाल और काजीगुंड के बीच की दूरी को 16 किलोमीटर कम कर देगी और यात्रा में लगने वाले समय में लगभग डेढ घंटे की कमी ला देगी।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022

गांधी परिवार का विकल्प है ही कहां!

कांग्रेस के पास बहुत सीमित विकल्प ही उपलब्ध हैं। ऐसे में प्रशांत किशोर की बातों को आत्मसात करना उसके लिए पार्टी के लोग एकदम हितकर मानते हैं। प्रशांत किशोर चुनाव विशेषज्ञ हैं और उन्होंने कांग्रेस के हालातों पर गहराई से अध्ययन कर अपने प्रस्ताव तैयार किए हैं। वे सोनिया गांधी व दूसरे नेताओं के समक्ष इन्हीं प्रस्तावों पर प्रजेंटेशन भी दे चुके हैं। कांग्रेस के साथ दिक्कत यह है कि विभिन्न राज्यों में उसका वोट बैंक उसके पास से तेजी से खिसक रहा है। उत्तर प्रदेश इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। उसे उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव में कूल दो सीटें और 3 प्रतिशत से भी कम वोट मिले हैं।

1 min read
DASTAKTIMES
May 2022
RELATED STORIES

TRIPLE PLAY

CARRYING THESE 3 TYPES OF KNIVES IS A WINNING COMBINATION

6 mins read
American Outdoor Guide
May 2022

DIVER DOWN

5 GREAT AMERICAN SNORKELING SPOTS

6 mins read
American Outdoor Guide
May 2022

EASY CARRY

THIS NEW SLING PACK FROM ALPS OUTDOORZ DOES MORE THAN TALK TURKEY

5 mins read
American Outdoor Guide
May 2022

SCREAMING FOR ATTENTION

PACK WHAT YOU'LL NEED TO SIGNAL FOR HELP IF YOU GET LOST OR INJURED

7 mins read
American Outdoor Guide
May 2022

BUSHCRAFT BEDS

GET OFF THE GROUND AND INTO COMFORT WITH THESE DIY WILDERNESS BEDS

5 mins read
American Outdoor Guide
May 2022

Bet On It

A Silicon Valley-backed startup wants to bring Wall Street-style trading to the outcome of events. Some regulators say that’s a terrible idea

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Killer Heat Is Here

The record temperatures ravaging India are a warning of global catastrophes to come

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Opening the Spigot

Conservatives want to limit social media companies’ power to control content

5 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Expanding Access to Mind Expansion

Companies offer guided drug trips on jungle retreats, at city clinics, and in your living room

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Europe's Travel Rebound Wobbles

A staffing crisis at airlines, airports, and even the Chunnel left some operators overwhelmed

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)