सत्ता के महासंग्राम से पहले सियासी अस्त्र-शस्त्र परखने में जुटे दल
DASTAKTIMES|July 2021
भगवा खेमे की जीत सुनिश्चित करने को संघ ने कमर कसी, दी जिम्मेदारियां
संजय सिंह

उत्तर प्रदेश के सियासी महासंग्राम 2022 को लेकर राजनीतिक दल अपनी सेनाओं के साथ विधानसभा का किला फतेह करने की तैयारियों में जुट गए हैं। इसके लिए जिताऊ मुद्दे तलाशने से लेकर, संगठन की कमियां दुरुस्त करने और अपनी बेहतर छवि बनाने के लिए सियासी अस्त्र-शस्त्रों का प्रयोग भी शुरू हो गया है।

सत्तारूढ़ दल भाजपा की बात करें तो चुनाव में मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर उठ रहे सवालों और नेताओं की अनबन को जिस तरह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने सुलझाया है, उससे विरोधियों की बोलती बन्द हो गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी काशी दौरे के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफों के पुल बांधकर इस सम्बन्ध में स्पष्ट सन्देश दिया। भाजपा ने जहां मुख्यमंत्री योगी के नाम और काम के बलबूते चुनावों में उतरने का ऐलान किया है, वहीं उसकी ताकत बढ़ाने को संघ भी तैयारियों में जुट गया है। तस्वीर पूरी तरह से साफ हो गई है कि विधानसभा चुनाव के मुकाबले के लिए संघ और उसके आनुषांगिक संगठन पार्टी के पक्ष में सियासी पिच तैयार करेंगे। इसमें आम जनता की नाराजगी दूर करने से लेकर विपक्ष की खामियां खुलकर सामने लाने पर जोर होगा।

इस सम्बन्ध में संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले और सह सरकार्यवाह कृष्णगोपाल ने भाजपा सहित संघ के आनुषांगिक संगठनों के प्रमुखों के साथ राजधानी में गहन मंथन किया। कहा जा रहा है कि इसमें होसबोले ने स्पष्ट तौर पर कहा कि 2022 का विधानसभा चुनाव 2024 के लोकसभा चुनाव की तरह ही बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अपने-अपने क्षेत्र के कार्यकर्ताओं और लोगों के बीच जाकर योगी सरकार और भाजपा की छवि को बनाने का काम करें। वहीं कोरोना की दूसरी लहर के दौरान गांवों-शहरों में जो बात बिगड़ी है, उसे भी हर हाल में ठीक करना जरूरी है। बैठक में यह भी कहा गया कि अगर कहीं कोई उपयुक्त फीडबैक मिलता है, तो उसे उपयुक्त स्तर पर अवश्य बताया जाए, जिससे उस पर भी काम हो सके। कार्यकर्ताओं की नाराजगी हर हाल में दूर करने के भी निर्देश दिए गए हैं, इसके लिए उनके साथ संवाद-समन्वय पर जोर दिया गया है। संघ किसी भी कीमत पर नहीं चाहता कि चुनावी माहौल में उसके कार्यकर्ता रूठे रहें।

• 14.66 करोड़ कुल उत्तर प्रदेश में मतदाताओं की संख्या है

• 7.42 लाख कुल 18 से 19 की आयु के मतदाता शामिल है

• 6.74 करो कुल महिला मतदाता है शामिल

इसके साथ ही मोदी सरकार में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 की समाप्ति, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण प्रारम्भ होना, योगी सरकार में अयोध्या का दीपोत्सव, वाराणसी की देव दीपावली, बरसाने की होली जैसे मुद्दों को भी जनता के सामने प्रभावी रूप से रखा जाएगा। इस तरह संघ और उनके अनुषांगिक संगठन जनता और सरकार-संगठन के बीच की कड़ी बनने का काम करेंगे।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM DASTAKTIMESView All

परफेक्ट 10-एजाज पटेल

रेड-बॉल क्रिकेट में एजाज़ ने अपने बेहतरीन प्रदर्शन से लोगों को अपना मुरीद बना लिया लेकिन इसके बावजूद न्यूजीलैंड की टीम में जगह बनाना उनके लिए मुश्किल साबित हुआ।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

नव्य एवं भव्य काशी

काशी अब अपने पुराधिपति के नव-प्रांगण के कायाकल्प को लेकर रोमांचित और आह्लादित है और ऐसा हो भी क्यों न, शताब्दियों बाद इस विशाल प्रांगण में सूर्य की किरणें खुलकर अम्खेलियां कर रहीं हैं, स्वर्णिम आभा बिखेर रही है। मंदिर के स्वर्ण शिखर को छूकर विश्वनाथ धाम में निखरती किरणें ऐसा एहसास करा रही हैं मानो इस पावन पर्व पर स्वर्ग से उतरे नक्षत्र और देवी-देवता देवाधिदेव महादेव को नमन कर उनके दरबार में बैठ रहे हों। काशीवासियों का शिवत्व अपने चरम पर है। विश्वनाथ धाम की विशाल प्राचीर से जुड़े प्रवेश द्वार उस युग का आभास कराते हैं जब काशी पर आक्रांताओं की कुदृष्टि नहीं पड़ी थी। आदिकाल से गौरवमयी चिर चैतन्य काशी ने अपने भव्य इतिहास की सीढ़ियों पर पहला कदम रख एक और इतिहास रच दिया है। सर्वव्यापी शिव के धाम के दिव्य स्वरूप ने पीढ़ी-दर-पीढ़ी सुनाई जाने वाली बाबा दरबार की भव्यता को जीवंत कर, मूर्त रूप देकर काशीवासियों के मन की वीणा के तारों को कुछ इस तरह झंकृत किया है कि उससे निकला राग शताब्दियों तक गूंजता रहेगा।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

मोदी के मास्टर स्ट्रोक से खेतों की ओर लौटे किसान विपक्ष को किया चारों खाने चित्त

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे किसानों को गाड़ी से कुचल दिया गया था और कई किसान इस हिंसा कांड में मारे जा चुके थे, अब तक तकरीबन 700 किसानों की मौत हो चुकी है। किसान आन्दोलन की आड़ में विपक्ष ने मोदी सरकार पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ा। विपक्षी दलों को उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री मोदी की कार्यशैली है उसमें वह अपने पैर कमी भी पीछे नहीं घसीटेंगे। लेकिन मोदी ने मास्टर स्ट्रोक खेलते हुए एक झटके में विपक्ष का चारों खाने चित्त कर दिया। समझने की बात यह है कि मोदी सरकार द्वारा पारित किये गए तीन कृषि कानून थे क्या और उनमें क्या कहा गया था हालांकि कृषि कानूनों की થે वापसी निश्चित तौर पर आंदोलनकारी किसानों की बड़ी जीत है, जिन्होंने सरकार को बैकफुट पर आने को मजबूर कर दिया।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

देवभूमि में जीत का शंखनाद

देश की सियासत में पिछले सात वर्षों से जिस तरह मोदी के नाम का डंका बज रहा है, उत्तराखण्ड में भी लगातार उसकी गूंज सुनाई दे रही है। चुनाव दर चुनाव जीत दर्ज करती आ रही भाजपा के लिए सबसे बड़ी राहत यह है कि मोदी फैक्टर के साथ। युवा धामी कार्ड ने माहौल बदल दिया है और इसकी खलबली कांग्रेस खेमे में साफ देखने को मिल रही है। पार्टी चाह कर भी इसका तोड़ नहीं निकाल पा रही है। नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री का पद संभाला था और तब से उत्तराखण्ड में भी भाजपा अविजित स्थिति में है। वर्ष 2014 में पांचों लोकसभा सीटों पर जीत के साथ इसकी शुरुआत हुई, जबकि वर्ष 2017 के पिछले विधानसभा चुनाव में 70 में से 57 सीटें हासिल कर भाजपा ने कदम आगे बढ़ाए। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में फिर पांचों सीटें भाजपा की झोली में। इन सभी चुनावों में मोदी ही भाजपा का सबसे बड़ा चेहरा रहे। कांग्रेस के लिए यही चिंता का सबसे बड़ा सबब है कि लोकसभा से लेकर विधानसभा चुनाव तक उसका मुकाबला हमेशा मोदी से ही होता आया है। इस बार मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस मुख्यमंत्री बदले जाने को बड़ा मुद्दा बनाने में लगी थी। लेकिन, मुख्यमंत्री धामी जिस तरह से काम कर रहे हैं और उनकी कार्यशैली की विरोधी भी तारीफ करने में पीछे नहीं हैं, उससे कांग्रेस की रही सही उम्मीदें भी चकनाचूर हो गई हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने अचानक तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर डाला। इसके बाद मुख्यमंत्री धामी तूफानी बैटिंग करते नजर आए। उत्तर प्रदेश से पांच रुपये अधिक गन्ने की कीमत कर दी। यही नहीं अगला कदम देवस्थानम बोर्ड को भंग करने का उठा दिया। ऐसे में ऐन मौके पर कांग्रेस की पूरी चुनावी रणनीति की हवा निकल गई।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

देशी गर्ल, विदेशी प्रोमोशन

फिल्म की दुनिया

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

चीन का पाकिस्तान को 'तुगरिल' का तोहफा,भारतीय नौसेना भी तैयार

पाकिस्तान और भारतीय नौसेनाओं के बीच बहुत बड़ा अन्तर है। दुनिया भर की सेनाओं की ताकत का विश्लेषण करने वाली ग्लोबल फायर इंडेक्स वेबसाइट के अनुसार भारत के पास वर्तमान में 285 युद्धपोत हैं। कुछ ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत के पास वर्तमान में 17 पनडुब्बियां हैं। इनमें 16 डीजल से और एक परमाणु ऊर्जा द्वारा संचालित है। जबकि पाकिस्तान के पास डीजल से चलने वाली नौ पनडुब्बियां हैं। फ्रिगेट की तुलना की जाये तो भारत को पाकिस्तान पर बढ़त हासिल है। लेकिन, अगर चीन के लिहाज से देखें तो स्थिति काफी अलग है।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

सौन्दर्य सृजन कला का मूल कर्म

शरीर इन्द्रिय मन आत्मा के संयोग को आयु कहते हैं। ध्यान देने योग्य बात यह है कि आयु में शरीर और आत्मा दोनों सम्मिलित हैं। मन और इन्द्रिय तो शरीर का भाग है ही लेकिन आत्मा को अधिकांश विद्वान अलग मानते हैं। अजर अमर बताते हैं। चरक संहिता में सबको द्रव्य कहा है। यहाँ 9 द्रव्य कहे गये हैं। पहला आकाश है। दूसरा वायु, तीसरा अग्नि है। चौथा जल, पाँचवा पृथ्वी, छठवां आत्मा है, सातवां मन है, आठवां काल है और नौवां दिशा। आत्मा को महाभारत के गीता वाले अंश में अजर, अमर, अविनाशी कहा गया है।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

कबिरा खड़ा बाजार में -बिन खर्ची सब सून

कर्णधार हरियाणा लोक सेवा आयोग के डिप्टी सक्रेटरी, अनिल नागर को स्टेट विजिलेन्स द्वारा 18 नवंबर, 2021 को गिरफ्तार कर नागर तथा उसके सह-आरोपियों से 3.5 करोड़ रुपये की रिश्वत राशि बरामद करने के बाद सरकार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सात दिसम्बर को सेवा से बर्खास्त दिया है। परंतु प्रदेश की विपक्षी पार्टियां केवल डिाटी सेक्रेटरी को बर्खास्त करने भर से संतुा नहीं हैं और गहन जांच की मांग कर रही हैं ताकि अन्य बड़ी मछलियों की संलिप्तता भी उजागर हो सके ।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

अलविदा जनरल

जनरल बिपिन रावत कई महत्वपूर्ण रणनीतिक आपरेशन का हिस्सा रहे। बालाकोट में आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद के ठिकानों पर हमला कर उन्हें नष्ट करने के दौरान बतौर थलसेनाध्यक्ष उन्होंने रणनीति बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। याद हो कि कश्मीर के पुलवामा में एक हमले में केंद्रीय सुरक्षा बल के 40 जवानों की शहादत के बाद भारतीय सैन्य बलों ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर बालाकोट में आतंकी कैपों को नेस्तनाबूत किया था। इस आपरेशन के समय जनरल रावत दिल्ली में साउथ ब्लाक के अपने आफिस से कमान संभाल रहे थे। इसके अलावा 2015 में देश की पूर्वोत्तर सीमा से लगे पड़ोसी देश म्यांमार में भी आंतकरोधी आपरेशन में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। उन्हें पूर्वोत्तर में उग्रवाद को नियंत्रित करने के लिए भी जाना जाता है।

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021

अब पंजाब में 'ये मुफ्त-वो मुफ्त'

दिल्ली की तर्ज पर केजरीवाल ने वादा किया है कि इंजीनियरिंग, मेडिकल, रेलवे, आईएएस या किसी भी अन्य परीक्षा के लिए कोचिंग की पूरी फीस पंजाब में सरकार बनने पर सरकार वहन करेगी। सीएम केजरीवाल ने बच्चों की शिक्षा के मामले में अन्य कई घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि अगर कोई एससी समुदाय का बच्चा उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए विदेश पढ़ने जाना चाहेगा तो उसका खर्च भी सरकार उठाएगी। महिलाओं को भी 1000 प्रतिमाह देने का वादा करके केजरीवाल ने बड़ा दांव चला है

1 min read
DASTAKTIMES
December 2021
RELATED STORIES

Building a Work of Art

To celebrate the release of the 2022 Indian Chief the legend-ary motorcycle company got together two of the world’s most sought after builders, Paul Cox and Keino Sasaki, to customize a bike for celebrated tattoo artist Nikko Hurtado.

10+ mins read
Inked
Summer lifestyle 2021

Good player, great teammate, but expendable

Right after the Jets lost to Kansas City, 35-9, Nov. 2, it was announced they traded linebacker Avery Williamson to Pittsburgh, along with a 2022 seventh-round pick, in exchange for a 2022 fifth-round pick.

7 mins read
NY Jets Confidential
December 2020

India Election Body Struggles With Scale Of Fake Information

When India’s Election Commission announced last month that its code of conduct would have to be followed by social media companies as well as political parties, some analysts scoffed, saying it lacked the capacity and speed required to check the spread of fake news ahead of a multi-phase general election that begins April 11.

4 mins read
AppleMagazine
April 5, 2019

India At A Crossroads

India is known as the land of contradictions, and recent events do little to undermine that reputation.

6 mins read
Reason magazine
January 2019

Congress's Soft Hindutva Is Leaving The BJP Uneasy

The Congress’s soft hindutva is leaving the BJP uneasy ahead of the assembly elections

3 mins read
THE WEEK
November 04, 2018

MODI-YOGI FACTOR WILL BRING GOOD RULE IN UP, SAYS NAQVI

During the 'Chaupal Par Charcha' event in the Rampur district of Uttar Pradesh, Union Minister Mukhtar Abbas Naqvi on Sunday said that the 'MY factor' (Modi-Yogi factor) in the state is a guarantee of security and prosperity of people and that it will provide good governance in the state. 

2 mins read
The Daily Guardian
January 24, 2022

Caste, religion and other factors that will decide UP

Religion and caste are the biggest determining factors in the voting preferences of people in India, more so in Uttar Pradesh. It is a fact that out of political compulsions, BJP uses the religious card to woo Hindus, while other political parties use appeasement to garner Muslim support.

5 mins read
The Daily Guardian
January 24, 2022

Bengal DMs skip PM's virtual meet amid IAS cadre rules row

The conspicuous absence of the officials stirred a controversy and the opposition (BJP) alleged that the absence of all 22 DMs from the meeting was because it was an instruction by the ‘political bosses’ in the state.

2 mins read
The Daily Guardian
January 24, 2022

BJP rewinds '17 script to pin Akhilesh, plays up Kairana exodus, Yadav rift

Turning Kairana Into Saffron Wave Epicentre?

2 mins read
The Times of India Mumbai
January 24, 2022

It's A ‘Head-On' Fight With BJP, Says AAP's Goa CM Face

TERMING the Goa Assembly election as a “head-on” fight with the ruling BJP, Aam Aadmi Party’s chief minister face in the coastal state, Amit Palekar, sounded confident of winning more than 23 seats for comfortably forming the next government.

2 mins read
The New Indian Express Chennai
January 24, 2022